आंटी को ट्रैन में पटाया और उनके घर जाकर सेक्स किया-1

(Aunty ko train me pataya aur unke ghar jakar sex kiya-1)

हाय फ्रेंड्स
ये मेरी पहली कहानी है और 100% सच पर आधारित है ,

मेरा नाम सैम है गुजरात भरूच का रहने वाला हु, मेरी उमर 24 साल की है , दिखने में अच्छा 5,4 hight है
आपका ज्यादा वक़्त ना लेते हुवे कहानी पे आते है ,

ये कहानी मेरी ओर हेतल आंटी की है , अभी कुछ ही दिनों पहले में सूरत गया हुवा था मेरे कंप्यूटर के पार्ट्स लेने , में वापस लौट रहा था तो स्टेशन पर मेरी नज़र एक आंटी पर पड़ी, वो दिखने में काफी सुंदर और हॉट थी वो अकेली है थी में उन्हें देख रहा था तभी हमारी दोनो की नज़रों एक हो गयी,

तो उन्होने मुजे नोटीस किया के वो मुजे देख रहा है,

आंटी की ऊमर 37 साल थीं, दिख ने फटका, ब्रेस्ट यही कही 38 कमर 34 और बैक साइड 40 की आसपास ,

मेने आंटी को देखा और पानी लेने चला गया, फिर ट्रेन आ गयी तो में ट्रेन में थोड़ी देर बाद चढ़ा , मेने रूट छोटा था फ़ीर भी मेने टीसी को पैसे देकर resrvastion करा लिया था, में मेरी सीट पर जाते ही दिखता हु के वही आंटी मेरे बिल्कुल सामने वाली सीट पर थी, मेने उन्ह स्माइली दी उन्होंने बी दी, करिब 3 बजे थे दोपहर के, ओर मेरे पास मेरे कंप्यूटर का थोड़ा सा समान था, ओर में आंटी को देख रहा था,

थोड़ी देर बाद आंटी ने बात स्टार्ट की मुझसे पूछा कहाँ जाने वाले हो, मेने कहा भरुच, उन्होंने भी कहा में भी भरुच ही जा रही हु, तो मैने उनसे पूछ लिया के आप भरूच में रहते है, तो उन्हों ने कहा हा,

उन्होंने मुझसे पूछा के कंप्यूटर का काम करते हो मेने बोला नही, मेरा कंप्यूटर का पार्ट ख़राब होगया था तो नया लेने आया था, उन्हों ने मुजसे पूछा के फिट तुम्ही करो गए तो मैने बोला मुजे आता है सबकुछ, तो उन्हों ने मुजे कहा मेरे कंप्यूटर में विंडोज का प्रोब्लेम है तुम ठीक करड़ोगे, में कहा के देख ना पड़े बाद में ही कह सकता हु, ऐसे बातो सो मन मे तो लडूं फूटने लगे क्योंकि उन्होंने कहा तुम मेरे घर आकर देख लेना, तो मैने बोला ठीक है, पर आंटी स्वभाव की काफी स्ट्रीक थी तो मुजे लगा अपनी कोई डाल नही गले गि,

में आंटी को देखता रहता ओर वो बी सब नोटीस कर रही थी, मेरे पेनट की अंदर हालत खराब हो रही थी,

फिर स्टेशन आ गया और ओर हम बाहर निकले आंटी बोला स्टेशन के बाहर वैट करो में आती हु, तो में वहा 5 मिनीट तक इन्तिज़ार करता रहा, बाद में एक लाल कलर की गाड़ी मेरे पास आई और रुकी तो गाड़ी के कांच नीचे उतर रहा थे तो मैने देखा के आंटी थी, गाड़ी में वो ड्राइव कर रही थी, मुजे कहा आओ बेठो, तो में आगे सीट पर बैठ गया,

मेने आंटी से पूछा अंकल घर पर है, तो उन्हों ने कहा नही, वो ऑफिस होंगे, तो मैने पूछा ओर कोन कोन है आपके घर मे तो आंटी ने मुस्कुराते हुवे कहा तुम बोहत हैं बोहत फिकर है, मुजे लगा के आंटी मतलब समझ गए पर आंटी आगे कुछ बात नही की,

गाड़ी एक रेसिडेंसीय मे आयी तो, आंटी ने बोला कांच ऊपर करलो यह पर सब लोग पुराने खयालो वाले क्या से क्या सोचेंगे, मेने कांच ऊपर करलिया तभी आंटी ने गाड़ी एक घर के बाहर खड़ी करदी, मुजे कहा गाड़ी से मत निकल ना जबतक में ना कहु, तो मैने बोला ठीक है, मेरे मन मे सवाल उठने लगे के आंटी कही फसा तो नही देंगी, फिर आंटी घर का गेट खोल ओर गाड़ी में आकर गाड़ी घर के बाहर खड़ी करदी, ओर वो गाड़ी से निकल कर गेट बंद करने चली गयी, ओर गेट बंद करने के बाद स्माइल देते हुवे कहा अब बाहर आ जाओ, तो में गाड़ी से बहार निकल आंटी ने घर का मैन गेट खोला और अंदर आने को कहा, मेने घर देखा काफी अच्छा और मस्त बगलौ था,

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

पर ऐसा लग रहा था अपनी कोई डाल नही गलगे यहाँ, फिर आंटी ने मुजे कंप्यूटर रूम दिखाया ओर कहा इस मे प्रॉब्लम है देखलो में अभी आती हु, तो में कंप्यूटर देखा काफी अच्छा और नया था और हार्डवेर बी काफी अछे थे, मेने स्टार्ट किया तो स्टार्ट हो गया , तो में हेतल आंटी के वैट करने लगा ये पूछ ने के लिए के इस मे क्या खराबी है, मेने 5 मिनीट वैट किया वो नही आई,

में उन्हें घर मे देखने गया कि कहा है वो तो मैने किचन देखा वहा नही थी, उसके बगल वाला कमरे का डोर थोड़ा खुला हुवा था, तो मेंने अंदर देखा के आंटी टॉवेल में थी और कपड़े बेद पर पड़े हुवे थे, उन्के पैरो के देख रहा था सफेद दुध जैसे ओर वेक्स किये हुवे थे, आंटी की फिटनेस देख कर कोई भी ये नही केह सकता के आंटी के उम्र 37 साल होगी, वो बोहत फिट ओर टाइट दिखती टी सायद हर रोज कसरत करती होगी, आंटी सच मे उस वक़्त बोहत ही ज्यादा खूबसूरत लग रखइ थी, उन्होने टॉवेल निकला और ब्रा पहने ने लगी उनके बूब्स बोहत ही मस्त ओर अकदम टाइट थे और उनका बेक साइड बी बोहत ही टाइट था,

में मन मे सोचने लगा के जा कर अभी हग करलू पर अंजान जगह थी तो में रिश्क बी नही ले सकता था, ओर मुजसे रहा बी नही जा रहा था तो में वहा से निकलकर कंप्यूटर रुम में चला गया और थोड़ी देर में हेतल आउंटी वहा आ गयी, तो मैने पूछा क्या खामी है ये ठीक चल रहा है, तो उन्हों ने कहा थोड़ी देर वैट करो, फिर अचानक कंप्यूटर स्क्रीन बलु हो गयी ओर एरर मैसेज आ गया, तो उन्हों ने कहा ये दिक्कत आती है, में समझ गया और कहा के फॉर्मेट करना होगा ड्राइव में प्रॉब्लम है ,

तो उन्हों ने कहा करदो, मेने कहा वक़्त लगे गया इस मे, तो उन्हों ने कहा कोई बात नही कितना वक़त लगे गा, मेने कहा एक घंटे के आस पास, तो उन्होंने कहा ठीक है करदो, तो मैने काम स्टार्ट किया वो मेरे बाजू में बैठी टी उनहोने ब्लैक टीशर्ट ओर ब्लैक लैंग्गीस पहनी थी, एकदम माल लग रही थी, फिर उन्होंने पूछा चाय पीवोगे में है करदिया ओर वो दो कप चाय ले आयी हम बेथ कर चाय पी रहे थी उन्होने मुजसे पूछा कोन कोंन है घर मे ,

मेने अपने बारे में बताया और मेने उनसे पूछा आप कितने लोग हो तो वो कहने लगी के एक लड़का है वो उसके अंकल के घर बैंगलोर में पढ़ाई करता है और एक लड़की है वोबी हॉस्टल में रहती है, मुने पूछा अंकल क्या करते है, उन्हों ने कहा वो मैनेजर है फार्मा कंपनी में , तो मैने पूछा आप हाउस वाइफ तो उन्हों ने कहा नही, में टिचर हु पढ़ाती हु, तो मैने कहा ओ ऐसा है,

तो वो मुजसे पूछने लगी तुम क्या करते हो मेने कहा में डिज़ाइनर हु ओर ज्यादातर बाहर की कन्ट्री का काम करता हु, तो इम्पोरिस हुवी ओर कहने लगी wow तो कोनसी डिग्री है तुम्हरे पास, मेने कहा मेरे पास 11 डिग्रीस है , उन्होने कहा क्या बात है इतनी सी उम्र में इतनी सारी डिग्री तो मैने कहा मुजे जो पसंद आता ही वो कर्ता रहता हूं,

तभी उन्होने अचानक से कहा मेरे रूम के पास क्या कर राहै थे, तो डर गया सच मे मुजे दर लगने लगा तो में दबी आवाज में कहा के में आपको ढूंढ़ रहा था, तो उन्होंने कहा ढूंढ लिया तो कुछ बोला कुँए नही, तो मैने कहा सायद आप कपड़े बदल रही थी तो मैने कुछ ना बोल ना ठीक समजा, तो फिर वहा खड़े खड़े क्या देख रहे थे, तो मेरी बोलती बंद हो गए , में कुछ बोला नही वो कहने लगी कुछ तो बोलो, मेने सॉरी कहा, ओर कंप्यूटर से खड़ा होने लगा, वो केहने लगी अरे कोई बात बेठो तब बी में वहासे निकलने लगा तो उन्हों ने मेरा हाथ पकड़ लिया और