बड़ी बहन के बूब्स का गिफ्ट-2

Badi behan ke boobs ka gift-2

फिर मैंने उसकी इलास्टिक वाली सलवार उतारी. तो उसने एकदम से अपनी सलवार ऊपर खींची, तो मैंने कहा कि में पेंटी नहीं उतारूंगा, सिर्फ़ पैर पर किस करने के लिए उतार रहा हूँ. तो उसने अपने हाथ ढीले कर दिए. अब वो सिर्फ़ अपनी पेंटी में मेरे सामने थी.

में उसे किस करता हुआ उसकी चूत को उसकी पेंटी के ऊपर से किस कर रहा था. अब में उसकी पेंटी उतारने लगा, तो तब भी उसने मुझे रोक दिया. फिर मैंने कहा कि मुझे एक बार देखना है और प्लीज एक बार अंदर से किस करने दो, में सेक्स नहीं करूँगा.

फिर उसने कहा कि नहीं, तो मैंने कहा कि ओके. फिर मैनें उसको उल्टा किया और उसकी पीठ पर किस करने लगा. अब वो अपनी आँखें बंद करके उल्टी लेटी थी. फिर में किस करता हुआ उसका हाथ अपने लंड पर ले गया और अपना लंड मेरी अंडरवेयर के ऊपर से उसके हाथ में दिया, तो उसने अपना हाथ मेरे लंड पर से हटा लिया. फिर मैंने अपना अंडरवेयर भी निकाल दिया.

अब मेरा लंड टाईट था और बेकरार भी था. फिर मैंने उसका हाथ दुबारा से अपने लंड पर रखा, तो उसने मेरे लंड को पकड़ लिया, लेकिन वो मूव नहीं कर रही थी. फिर मैंने अपना एक हाथ उसके हाथ पर रखा और मूव करने लगा और फिर उसे सीधा किया, तो वो देखती ही रह गई.

तब उसने कहा कि तुम जवान हो गये हो, ये कितना हार्ड और कितना बड़ा है? फिर मैंने कहा कि इसे हिलाओ और फिर में उसके बूब्स को सक करने लगा. तो उसने कहा कि क्यों हिलाऊँ? और ये इतना गर्म क्यों है? तो मैंने कहा कि ये तुम्हें देखकर गर्म है, तुम हिलाओगी तो मुझे मज़ा आएगा.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  दीदी का सील टूटते हुए देखा 1

फिर वो बहुत धीरे-धीरे मेरे लंड को हिलाने लगी और में उसके बूब्स को सक करता हुआ उसकी चूत पर आया और उसकी पेंटी तेज़ी से उतारने लगा. फिर उसने मुझे रोका, लेकिन अब उसकी पेंटी आधी उतर चुकी थी. तो मैंने कहा कि यह गलत बात है तुमने मुझे देख लिया है और मुझे नहीं देखने दे रही हो, प्लीज देखने दो ना, कुछ नहीं होगा, में भी तो नंगा हूँ.

वो सीधी होकर लेट गई तो मैंने उसकी पेंटी निकाल दी. अब वो मेरे सामने पूरी नंगी थी, तो तभी मैंने कहा कि वाउ क्या खूबसूरत शेप है? और अपना हाथ लगाकर कहा कि ये तो बहुत मुलायम है. फिर उसने शर्माकर अपनी चूत पर अपने हाथ रख लिए. फिर में उसकी जांघो से किस करता हुआ उसके हाथों पर किस करने लगा और उसके हाथ हटाकर उसकी चूत पर टच किया, तो वो गीली हो रही थी.

अब में उसको धीरे-धीरे रगड़ने लगा, तो उसने मुझे खींचकर अपने गले लगा लिया और में अपने लिप्स उसके लिप्स पर रखकर ज़ोरदार किस करने लगा था. अब में समझ गया था कि ये गर्म हो चुकी है. अब में उसके लिप्स पर किस कर रहा था और मेरा लंड उसकी गीली चूत को टच कर रहा था. फिर मैंने अपना एक हाथ ले जाकर उसकी दिशा सही की और ज़ोर लगाने लगा.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

उसकी आअहह निकली और वो एकदम से चौंक गई तो उसने कहा कि नहीं बस अब. अब मुझे पता था कि वो गर्म हो चुकी है, लेकिन डरती है कहीं प्रेग्नेंट ना हो जाए. फिर मैंने कहा कि बहुत मज़ा आ रहा है, एक बार अंदर करने दो, प्लीज.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  चाचा की लड़की दक्शु की बुर की चुदाई

फिर उसने कहा कि नहीं तुम्हारे पास कंडोम नहीं है और ये सही नहीं है. अब में समझ गया था कि इसका भी दिल लंड डलवाने का कर रहा है. फिर मैंने कहा कि में बाहर डिसचार्ज करूँगा प्रॉमिस. तो उसने कहा कि अगर तुमसे ग़लती हो गई तो में बर्बाद हो जाऊंगी.

फिर मैंने कहा मुझे तुम्हारी इज्जत का ख्याल है, हम बहन भाई है किसी को कभी शक नहीं होगा और में प्रॉमिस करता हूँ कि में बाहर डिसचार्ज करूँगा, हम दोनों घर में सेक्स के खूब मज़े लेंगे और जब दिल चाहे जैसे चाहे एक दूसरे के साथ इन्जॉय कर सकेंगे. अब वो काफ़ी समझ चुकी थी. फिर मैंने उसे अपनी बाँहों में ले लिया और किस करना शुरू किया.

अब वो भी मेरा साथ दे रही थी, शायद उसका भी दिल कर रहा था इसलिए वो मेरा साथ देने पर मजबूर थी और फिर मैंने उसे गारंटी भी दी थी कि कुछ नहीं होगा और में सब संभाल लूँगा.

फिर मैनें थोड़ी क्रीम अपने लंड पर लगाई और थोड़ी उसकी चूत पर भी लगा दी, उसकी चूत बहुत टाईट थी. फिर मैनें अपना लंड उसकी चूत पर सेट करके थोड़ा ज़ोर लगाया, तो उसकी चीख निकल गई, लेकिन मैंने अपनी स्पीड आहिस्ता की. फिर जब उसका दर्द कुछ कम हुआ, तो में ज़ोर-जोर से उसे चोदने लगा, वाउ क्या मज़ा आ रहा था?

फिर कुछ देर बाद हम दोनों डिसचार्ज हो गये और डिसचार्ज के वक़्त मैंने अपना पानी बाहर निकाल दिया. उस वक़्त वो डॉगी स्टाइल में थी, तो मैंने अपना सारा वीर्य उसकी गांड पर गिरा दिया था जिससे उसने एक सुख की सांस ली.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  सगे भाई बहन सिड्यूस करके चूत मरवाई-2

हम दोनों ने साथ में बाथ लिया, अब वो बहुत खुश थी. फिर उसने कहा कि तुम बहुत मजबूत और स्मार्ट हो और फिर उसके बाद ये सिलसिला चलता रहा. फिर उसकी शादी हो गई, अब जब भी वो घर पर मिलने आती है, तो हम दोनों खूब इन्जॉय करते है और अब वो डरती नहीं है. दोस्तों मैंने सिर्फ़ एक बार जब उसकी गांड मारी थी, तो तब उसे बहुत दर्द हुआ था, जो उसने बर्दाश्त किया था, लेकिन बाद में उसने कुछ नहीं कहा था. अब तो शादी के बाद उसका जिस्म भर गया है, अब मुझे उसके बूब्स दबाने में और भी मज़ा आता है और हम दोनों खूब सेक्स करते है.

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!