बहन की बुर में भाई का लंड-2

(Bahan Ki Bur Me Bhai Ka Lund -2)

लवलीन बोली- बोल ना… किसी कुड़ी नूँ चोदया के नई? मैंन्नू चोदेंगा अज्ज तूँ? अपणी भैन दी फ़ुद्दी मारेंगा?
लवलीन पंजाबी बोलने लगी थी।

मैं तो लवली का बातें सुन कर स्तब्ध सा रह गया, तब भी कुछ नहीं बोला तो लवलीन ने अपनी टी-शर्ट को ऊपर उठा दी, बोली- देख ओये अपणी वड्डी भैन दे चूच्चे ! फ़ड़ लै ऐन्ना नूँ…

अपनी सगी बड़ी बहन को पहली बार ब्रा में देखना क्या होता है… काश मैं आपको बता पाता…
लवलीन की पर्पल ब्रा और उसके अन्दर उसके मस्त गोल चूचे देख कर मेरा सिर भन्ना गया, लौड़े में खून का दबाव बढ़ गया और मेरे मुँह में अपनी बहन के चूचों को चूस लेने के लिए पानी आ गया लेकिन मैं जल्दबाजी नहीं करना चाह रहा था क्योंकि हो सकता था कि ये लवलीन की चाल हो मुझे फ़ंसाने के लिये…

लेकिन जब लवलीन अपने घुटनों के बल नीचे बैठ गई और मेरे लण्ड के ऊपर अपने गुलाबी होंठों से चुम्मियाँ लेने लगी तो मेरे मन का वहम गायब हो गया।

लवलीन का ये रूप मेरे लिये बिल्कुल अलग था, घर में तो वो सीधी-सादी भोली-भाली लड़की बन कर रहती थी और इस वक्त वह बाथरूम में वो अपने नंगे भाई का लौड़ा पकड़ कर चुम्मियाँ ले रही थी, मैंने भी सोच लिया- बहन है तो क्या… इसका यह रूप देख कर तो लगता है कि अब तक ना जाने कितने लौड़े गड़प चुकी होगी यह… अब तक नहीं भी चुदी होगी तो आह नहीं तो कल इसे चुदना ही है… चोद दे जसप्रीत… चूत ही तो है ना… चोद दे अपनी बहन को !

लवलीन मेरे लंड के चुम्मे लेने के साथ साथ अपने चूचे भी मसल रही थी, मैंने सोचा कि चलो, इसे कर लेने दो अपने मन की, गर्म हो जाने दो इसे थोड़ा… फिर मैं इसे लेता हूँ अपने लौड़े के नीचे…

लवलीन कोशिश कर रही थी मेरे लौड़े को पूरा अपने मुँह में लेने के लिए लेकिन वो उससे नहीं हो रहा था। मैंने अपने लण्ड को उसके होंठों से निकाला और लौड़े को उसके गालों के ऊपर थपथपाने लगा।
लौड़े से मेरा पानी और उसका थूक उसके गाल पर लग रहा था।
लवलीन ने फिर से अपने भाई के लौड़े को अपने मुख में भर लिया, मैंने उसका सिर अपने हाथों में पकड़ा और उसके मुँह में धक्के देने लगा।
लवलीन अपने चूचे पकड़ कर मसल रही थी, उसका मुँह मेरे लौड़े को खूब मज़ा दे रहा था। मैंने उसके मुँह को और भी जोर जोर से चोदना शुरु कर दिया और वो भी अपने होंठों से मेरे लौड़े को दबा कर मस्त मज़ा दे रही थी।
तभी मेरे लौड़े ने अपनी औकात दिखा दी, इसकी गर्मी निकल गई, एक एक कर के मेरे लंड ने 5-6 पिचकारियाँ मारी, मेरा वीर्य लवलीन के मुँह में ही निकल गया।

आधा वीर्य तो लवली के गले में उतर गया और बाकी का उसने सिंक में थूक दिया।

वो खड़ी हुई और अपनी टीशर्ट, कैपरी उतारने लगी, वो अंदर पर्पल पेंटी में थी, उसने ब्रा का हुक खोला, पहली बार मैंने उसकी गुलाबी चूचियाँ पूरी नंगी देखी। मैंने उससे पहले अपनी मेड सविता की चुदाई की थी लेकिन ऐसी गोरी गुलाबी खड़ी चूचियाँ मैंने सिर्फ़ इन्टरनेट पर ही देखी थी।

लवलीन ने बाथटब का सारा पानी बहा दिया और वो उसके अन्दर लेट गई, उसने अपनी टाँगें बाथटब की साइड के ऊपर रख कर फैला दी, वो बोली- आ जा ओये जसप्रीतया अपनी भैन दी कच्छी लाह के फ़ुद्दी चट्ट !

मैं तो लवली की गुलाबी चूत को देखने की कल्पना मात्र से पागल हुआ जा रहा था, उसको चाटने के विचार से तो सच में पागल हो जाऊँगा।

मैं लवलीन के पैरों के बीच में जाकर बैठ गया और उसकी पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत पर हाथ फ़ेरने लगा।

तभी लवली बोली- भैन दे लोड़या… अपणी भैण दी फ़ुद्दी नूँ नंगी तां कर लै !

मैंने घबरा कर फ़ट से उसकी पैन्टी उतार दी।
तब वो बोली- हुण्ण वेख लै अपनी भैण दी फ़ुद्दी !

लवली की चूत एकदम साफ़ थी, फ़ूली हुई थी, मैं चूत के ऊपर अपनी चार उंगलियाँ फेरने लगा, लवली की चूत गर्म थी और मस्त गीली हुई पड़ी थी।

लवलीन अपनी आँखे बन्द करके अपने होंठों को दांतों तले दबाने लगी और बोली- जल्दी कर जसप्रीत, चाट ना मेरी चूत… मुझसे अब रहा नहीं जा रहा है।

मैंने अपने होंठों से लवलीन की चूत पर एक मस्त चुम्मी ली और फिर अपनी जीभ निकाल कर चूत के ऊपर घिसने लगा।
लवलीन अपने चूचे दबाने लगी और उसने अपनी टाँगें और फैला दी।
मैंने उसकी चूत की दरार में अपनी जीभ घुसाई और ऊपर नीचे हिलने लगा। लवलीन की ‘आह आहह…’ निकलने लगी और वो मेरे सिर को पकड़ के अपनी चूत पर दबाने लगी।

मैं तो जैसे स्वर्ग में था और लवलीन अपने चूतड़ ऊपर नीचे हिला कर अपनी चूत मेरे मुख पर घिसने लगी। लवलीन काफ़ी चुदासी हुई पड़ी थी, उसकी चूत पानी पर पानी बहाये जा रही थी।

मेरा लंड एक बार फिर से टाईट हो गया था।

लवलीन ने तभी मेरे हाथ को पकड़ा और बोली- चल जसप्रीत मेरे भाई, कमरे में चल कर मुझे चोद दे, अब मुझ से जरा भी नहीं जा रहा है।

मैंने उस हाथ से सहारा दिया, लवलीन खड़ी हो गई और मैं उसे खींच कर कमरे में ले गया।
वो एकदम से जाकर बिस्तर पर अपने घुटने मोड़ कर जांघें फ़ैला कर लेट गई, मैंने उसके दोनों घुटने पकड़ कर और फ़ैला दिये, ऐसा करने से उसकी चूत के जो होंठ चिपके हुये थे, वो खुल गये और अन्दर से गुलाबी लाल कच्चा मांस सा दिखाई देने लगा।

मैंने अपनी एक उंगली उसकी फ़ुद्दी के छेद में घुसाई, तो लवली बोली- लया वीरे, मैंन्नूँ वी मेरी फ़ुद्दी दा स्वाद वखा दे!

लवली की चूत से निकली अपनी वो अपनी मैंने अपनी बड़ी बहन के होंठों पर लगा दी, लवली ने बड़े जोश से उसे चाटा।

फ़िर मैंने अपने लण्ड को उसकी चूत के छेद के ऊपर सेट कर दिया, लवलीन को शायद चरमसुख मिला मेरे लौड़े के उसकी चूत को छूने से… उसने अपनी आँखें बंद की और थोड़ सा आगे होकर ऊपर को धक्का लगा दिया।
साथ ही मैंने एक हल्का झटका दिया और अब मेरा आधे से कुछ कम लंड उसकी चूत में था। लवलीन के मुख से आह निकली और उसने अपने दोनों हाथों से मेरे कन्धे पकड़ कर अपने ऊपर दबा लिया। ऐसा करने से मेरा लौड़ा उसकी गीली गर्म चूत में पूरा घुस गया।

फ़िर उसने अपने चूतड़ों को ऊपर को उछाला और बोली- चोद जोर जोर से मुझे जसप्रीत… निकाल दे मेरी चूत का पानी !

मैंने लवलीन की कमर को पकड़ा और उसकी चूत के अन्दर कभी धीरे कभी तेज झटके देने लगा।
लवलीन ने अपने हाथों से सिर के नीचे का तकिया पकड़ लिया और वो अपने कूल्हों को आगे पीछे करने लगी।
मुझे बहुत ही मजा आ रहा था लवलीन की ऐसी चुदाई करने में…

लवलीन भी पूरी मस्ती में आ गई थी अपने भाई का लंड अपनी चूत में लेकर, वो अपनी गांड हिला हिला कर चुदती रही और मैं भी अपनी सेक्सी बहन को अपने लंड का मज़ा देता रहा।

लवलीन की 8-10 मिनट ऐसी चुदाई के बाद और मेरा काम अब तमाम होने की कगार पर था, मैंने लवलीन के कान में कहा- मेरा निकलने वाला है, क्या करूँ?

‘जल्दी निकाल मादरचोद… अपने बच्चे का ही मामा बनेगा क्या! मेरे मुँह में निकाल दे अपना माल…’ लवलीन हंस कर बोली।

मैंने फच से अपना लौड़ा लवलीन की फ़ुद्दी से निकाला और उसके मुँह से एक बड़ी आह निकली। लवलीन ने अपना हाथ अपनी फ़ुद्दी में घुसा लिया और उसे मसल्ने लगी, मैं उसके चेहरे के पास अपना लण्ड ले गया, लवलीन ने अपना मुँह खोला और वो बेताबी से मेरे लौड़े को चूसने लगी, मेरे वीर्य के निकलने का इन्तजार करने लगी।

तभी एक पिचकारी छूटी और मेरे वीर्य से उसका मुँह भर गया। लवलीन ने मेरे वीर्य को अपने मुँह में थोड़ी देर झकोला, चलाया और फिर वो एक घूंट में उसे पी गई।
वो अब भी अपनी फ़ुद्दी को अपने हाथ से सहला रही थी, शायद उसका पानी अभी तक नहीं निकला था, उसे पूरा मज़ा देने के लिये मैं उसकी जांघों के बीच में आकर उसकी फ़ुद्दी को चाटने लगा और 2-3 मिनट बाद लवली का बदन अकड़ गया और वो अपने चरमसुख को पा गई।

मैं उसकी बगल में ही लेट गया और हमें नीन्द आ गई। कुछ देर बाद लवली के फ़ोन की घन्टी बजने पर हमारी नीन्द खुली।
हमारी मेड सविता का फ़ोन था।
लवली ने बात की तो वो पूछ रही थी कि कोई काम ना हो तो वो सो जाये। लवली ने उसे सो जाने को कहा और अपने कपड़े पहनने लगी और बोली- भाई, आगे भी मुझे अपने लंड का स्वाद देते रहना…
मैं हंस पड़ा और हम लोग कपड़े पहन कर खाना खाने बाहर आ गये।

Loading...