बेटी की बुर ने सेक्स का दुःख दूर किया-2

(Beti Ki Bur Ne Sex Ka Dukh Dur Kiya-2)

मैंने खड़ा होकर अपने कपड़े निकाल दिए और फिर बैॅड पर लेट गया। खुशबू ने खड़ी होकर अपने कपड़े निकाल दिए और खड़ी हो गई। मैं उसका संगमरमरी बदन देखकर पागल होने लगा। उसके बूब्ज़ ऐसे लग रहे थे जैसे आईसक्रीम के दो कपों के ऊपर हल्के गुलाबी रंग की गोल गोल टॉफियां लगी हों। उसका चेहरा जन्नत की हूर जैसा लग रहा था। मुझे लग रहा था कि मुझ से खुश होकर अल्लाह ने मेरे लिए जन्नत की हूर भेज दी हो। मैं खुशबू का कामुक बदन देखकर होश भूलने लगा। उसका बदन देखकर लग रहा था जैसे खुदा ने उसे बहुत फुर्सत में बनाया होगा। उसका एक एक अंग ऐसे तराशा हुआ था जैसे सेक्स की मूर्ति हो। उसके बड़े-बड़े बूब्ज़ और चूतड़ देखकर मेरे मुंह में पानी आ गया।

खुशबू बिल्कुल नंगी होकर मेरे साथ लेट गई और अपने होंठ मेरे होंठों से लगा दिए। उसके होंठ मक्खन जैसे मुलायम और अंगूर जैसे रसीले थे। उसके नर्म और रसीले होंठों का स्पर्श पाकर ही मेरा लंड तन गया। खुशबू ने मेरा नीचे वाला होंठ अपने होंठों में लेकर चूसने लगी और मैं मदहोश होने लगा।

मैंने खुशबू का सिर जोर से पकड़ लिया और जोर जोर से होंठ चूसने लगा। वो भी जोर से चूस कर मेरा साथ देने लगी। हम एक-दूसरे के मुंह में जीभ डालकर जीभ चूसने लगे और होंठों को काटने लगे। खुशबू बहुत गर्मजोशी से मेरा साथ देने लगी। मेरे होंठों को चूसते चूसते वो मेरा लंड हिलाने लगी। बहुत सालों बाद मेरे लंड को किसी लड़की का स्पर्श नसीब हुआ था और मुझे लगा मैं झड़ने वाला हूं।                “बेटी की बुर ने सेक्स”

मैंने ये बात खुशबू को बोली तो उसने मुझे जल्दी से खड़ा कर दिया और लपक कर मेरे लंड को हाथ में ले लिया। खुशबू मेरा लंड को तेज़ी से हिलाने लगी और बार बार मेरे लंड के टोपे को चूमती। मैंने जल्दी से अपना लंड खुशबू के मुंह में दे दिया और उसके मुंह में धक्के मारने लगा। वो मेरे लंड को ऐसे चूस रही थी जैसे बहुत बड़ी रंडी हो। मेरा लंड खुशबू के मुंह की गर्मी ज्यादा देर नहीं झेल पाया और उसके मुंह में वीर्य उगल दिया। मैं बैॅड पर बैठ गया और खुशबू बाथरूम में मुंह साफ करने चली गई।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  जवान बेटी की चुत को मिला पापा का का मोटा लंड

मैं बैॅड पर बैठा अपने मुरझाए लंड को देखने लगा और खुशबू के बारे में सोचने लगा। जिस तरीके से वो मेरा लंड चूस रही थी उससे लग रहा था खुशबू बहुत बार चुदाई कर चुकी है। तभी खुशबू नंगी मेरे पास बैठ गई और मेरी पीठ सहलाने लगी। मैंने खुशबू से कहा बेटी जो मैं तुमसे पूछने जा रहा हूं उसका सच्च सच्च जवाब देना और मैंने अपनी कसम भी दी।                            “बेटी की बुर ने सेक्स”

खुशबू ने कहा मुझे आपकी और अल्लाह की कसम है मैं झूठ नहीं बोलूंगी। मैंने कहा ये बात ऐसी है कि कोई बाप अपनी बेटी से नहीं पूछता। खुशबू के चेहरे पर एक मुस्कान सी आ गई और बोली बाप बेटी का रिश्ता तो उसी वक्त खत्म हो गया था जब हम दोनों एक-दूसरे के सामने नंगे हुए थे। अब आप मेरे मालिक हो और मैं आपकी रखैल। आप जो पूछना चाहते हो बेझिझक पूछो और मैं बेझिझक जवाब दूंगी।

मैंने खुशबू से पूछा कि क्या तुमने पहले कभी सेक्स किया है तो उसने हां बोल दिया। मैंने उससे पूछा किस के साथ किया है। उसने कहा आप गुस्सा हो जाओगे तो मैंने अल्लाह की कसम खा कर कहा गुस्सा नहीं करूंगा। मुझे लगा खुशबू का किसी लड़के के साथ चक्कर होगा, उसके साथ करती होगी लेकिन उसका जवाब सुन कर मैं हैरान हो गया और सोचने लगा कि एक ऐसी लड़की जिसकी शराफ़त की कसम पूरा मुहल्ला खाता है वो इतनी चुद्दकड़ है। यह कहानी आप HotSexStory.xyz पर पढ़ रहे है..

जिस लड़की की मिसाल मुहल्ले वाले अपनी बेटियों को देते हैं वो इतने मर्दों से चुद चुकी है। उसने बोला पापा मैंने दो प्रोफेसर, कॉलेज के प्रिंसिपल व उसके तीन दोस्त, उसकी कॉलेज की बस के ड्राइवर व कंडक्टर, चार लड़कों और कॉलेज के पास के दो किताबों के दुकानदारों से सेक्स किया है। मुझे एक बार बहुत गुस्सा आया लेकिन मैंने खुद पर काबू किया। मैंने उससे पूछा कि उसने इतने मर्दों से संबंध क्यों बनाया।                                                  “बेटी की बुर ने सेक्स”

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  Father Daughter Sex Story – पापा ने कल पूरी रात मुझे चोदा

उसने कहा कि पहली बार उसने परीक्षा में ज्यादा नंबर लेने केलिए अपने एक प्रोफेसर से सेक्स किया था। उस प्रोफेसर ने उसको कई बार चोदा और एक दिन उसने अपने साथी प्रोफेसर से उसको चुदवा दिया। थोडे़ दिन बाद ये बात प्रिंसिपल को मालूम हो गई और उसने खुशबू को कॉलेज से न निकालने के इवज में चोदा।

उसके बाद वो उन तीनों की रखैल बन गई और उसे अलग अलग लंड लेने का चस्का लग गया। जब भी कोई अच्छा मर्द उसको दिखाई देता है तो वो फिसल जाती है। उसकी आग तब तक शांत नहीं होती जब तक वो उस मर्द से चुदाई नहीं करती। मैं उसकी बातें सुनता हुआ उसका चेहरा देख रहा था। अब मुझे खुशबू में अपनी बेटी नहीं एक गर्म रंडी दिख रही थी जो मेरा बिस्तर गर्म करने वाली थी।

मैं खुशबू के बारे सोचने लगा और मुझे अब समझ आई कि खुशबू का प्रिंसिपल उसकी इतनी तारीफ क्यों करता है। मुझे लगा था मेरी बेटी बहुत लायक है तभी इतनी तारीफ होती है लेकिन अब मालूम हुआ कि उसका प्रिंसिपल खुशबू के की चूत का दीवाना है तभी तारीफ करता है। मैं सोचते-सोचते पिछली बातों में खो गया।                                            “बेटी की बुर ने सेक्स”

जब खुशबू ने मेरे मुरझाए लंड को पकड़ कर मेरी गाल को चूमते हुए बोला क्या हुआ पापा तब मेरी सोच की लडी़ टूटी। मैंने कहा कुछ नहीं बेटा सोच रहा था मेरे बेटी कितनी चालू है। इससे पहले मैं कुछ और बोलता, खुशबू ने अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिए और मेरा लंड अपने हाथ से हिलाने लगी। मैं अपने होंठों पर खुशबू के नर्म व रसीले होंठों का और अपने लंड पर खुशबू के कोमल हाथ का स्पर्श पाकर मदहोश होने लगा।

खुशबू मेरे होंठों को बहुत प्यार से चूमते हुए मेरे लंड को हिलाने लगी। मैंने अपने हाथों से खुशबू के बूब्ज़ पकड़ लिए और उसके होंठों को चूमते हुए खुशबू के बड़े-बड़े, गोल, तने हुए और मुलायम बूब्ज़ दबाने लगा। उसकी बदन की गर्मी से मेरा लंड फिर से खड़ा होकर चुदाई केलिए तैयार हो गया। मैंने खुशबू का सिर अपनी गोद में रख लिया और हम एक-दूसरे के होंठों को चूमने लगे। हम दोनों काफी गर्म हो गए और एक-दूसरे के होंठों के मुंह में खींच खींच कर चूसने लगे।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  मासूमियत ने पापा से चुदवाया

तभी खुशबू ने अपनी जीभ मेरे मुंह में धकेल दी और मेरी जीभ को चाटने लगी। मैं एक हाथ से खुशबू के बूब्ज़ दबाते हुए उसकी जीभ को चूसने लगा। हम दोनों एक-दूसरे के मुंह में जीभ डालकर घुमाने लगे और एक-दूसरे की जीभ का रस चूसने लगे। हम एक-दूसरे के होंठ चूम कर, दांतों से होंठों को काटकर और जीभ को एक-दूसरे के मुंह में डालकर रसपान करने लगे। हम पर इतनी मस्ती छा गई थी कि सब कुछ भूल कर चूमा चाटी कर रहे थे।                                    “बेटी की बुर ने सेक्स”

खुशबू ने मेरी गोद में सिर घुमा लिया और मेरे लंड को मुंह में ले लिया। उसके नर्म रसीले होंठों का स्पर्श पाकर और उसके मुंह कई गर्मी महसूस करके मेरा लंड और भी फड़फड़ाने लगा। मैं खुशबू के बूब्ज़ मसलते हुए लंड चुसाई का मजा लेने लगा। मेरी बीवी की मौत के बाद आज मेरा लंड पहली बार किसी लड़की के छेद का मजा ले रहा था वो भी मेरी अपनी चुद्दकड़ बेटी के छेद का। इतने सालों बाद किसी लड़की के मुंह में लंड डालने से मुझे बहुत सकून मिल रहा था। मैंने खुशबू को बैॅड पर लेटा दिया और उसके नाजुक, मुलायम और चिकने पेट को चूमने और चाटने लगा। वो नीचे लेटी हुई मचल रही थी। जब मैं उसकी नाभि में जीभ डालकर चाटने लगता तो खुशबू मस्ती में मचलती हुई मेरे बाल नोचने लगती।

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!