भाभी के बड़े दूध ने किया पागल 1

Bhabhi ke bade dudh ne kiya pagal-1

हेल्लो दोस्तो,

मेरा नाम करण है, मैं जयपुर राजस्थान का रहने वाला हूँ।

मेरी उम्र 23 साल है और मैं दिखने में स्मार्ट और थोड़ा-बहुत सुन्दर हूँ। indian devar bhabhi xxx मेरा कद 5 फीट 6 इंच के करीब है।

सभी की तरह मुझे चुदाई का बहुत शोक है।

यह यहाँ पर मेरी पहली कहानी है, उम्मीद करता हूँ कि आपको पसंद जरुर आएगी।

कहानी मेरी और मेरी किरायेदार भाभी की है।

एक बात मैं आपको बता दूँ, मैं पढ़ने में थोड़ा होशियार हूँ।

बात उस समय की है जब मैं बारहवीं कक्षा में पढ़ता था और मेरी उम्र करीब 18 साल थी।

मैंने अपनी जवानी में कदम रखा ही था।

मेरे बोर्ड के एग्जाम थे तो babi ki chudai मैं मेरे घर से दूर हमारे प्लाट में रहता था, उस प्लाट में सिर्फ किरायेदार ही रहते थे।

मेरा पूरा परिवार हमारा जो घर है वहाँ रहता था। मैं सिर्फ पढ़ाई और एग्जाम की वजह से प्लाट पर अकेला रहता था।

चूँकि हमारा प्लाट घर से करीब 2 या 3 किलोमीटर दूर ही था इसलिए fuk me कोई परेशानी नहीं थी।

मैं रोज घर आया-जाया करता था, सिर्फ रात को प्लाट पर ही रुकता था।

एक दिन सन्डे था, रोज़ की तरह मैं प्लाट पर ही था। उस समय हमारे प्लाट में सिर्फ एक ही किरायेदार था और तीन कमरे खाली पड़े थे। जिनमे से एक में मैं पढ़ाई करता था और दो कमरे खाली थे।

उस दिन वो हमारे प्लाट पर कमरा देखने आये।

उनका पति, दो बच्चे और खुद भाभी आईं। उन्होंने कमरा देखा bhabhi ki chdai और रहने के लिए हाँ कर दी।

भाभी का पति करीब 30 साल का था और भाभी करीब 27 की होगी, उनका एक लड़का करीब छे साल का था और एक लड़की करीब चार साल की होगी।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  दिल्ली की घरेलू बीवी की गांड फाड़ी-1

क्या बताऊँ यारों, भाभी तो बहुत ही सुन्दर थी। उनको देखकर मेरा क्या किसी का मन भी उनको चोदने का ही करेगा।

उनका फिगर 36-32-38 का तो होगा। मैं तो बस उन्हें देखते ही रह गया।

खैर, उनके पति से मैंने किराये की बात की और वो लोग उसी दिन हमारे प्लाट पर शिफ्ट हो गए।

थोड़े ही दिन में मेरी उनके पति से अच्छी पहचान हो गई।

मैं बहुत मॉडर्न टाइप का लड़का हूँ इसलिए उनके पति से मेरी chudai with bhabhi अच्छी पहचान हो गई। धीरे-धीरे उनकी पत्नी यानी भाभी से भी अच्छी जान-पहचान हो गई।

उनके पति को जब पता चला कि मैं थोड़ा पढ़ने में तेज हूँ तो उन्होंने मुझे कहा कि करण, मेरे बच्चों को भी पढ़ा दिया करो।

मैंने तुरंत हाँ कर दी, अब जब भी मैं शाम को पढ़ने बैठता तो उनके बच्चों को भी थोड़ा-बहुत पढ़ा दिया करता था।

लेकिन मेरे मन में हमेशा भाभी के बारे में ही विचार चलते रहते थे।

उनके वो मोटे-मोटे चूतड़ देखकर मेरा तो हमेशा दिमाग ही ख़राब हो जाता था। मैं अक्सर उनके चुचों को देखा करता था।

एक दिन जब वो बाथरूम में कपड़े धो रही थीं तो उन्होंने उनकी साड़ी कमर पर बांध ली, मैं स्कूल से जब प्लाट पर आया तो सीधे ही मेरी नजर उनके चुचों पर गई।

उन्होंने जैसे ही मुझे देखा वो बोलीं – तुम आ गए करण, तुम चलो dever and bhabhi sex में तुम्हें खाना दे देती हूँ।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

अब तक हमारी अच्छी जान-पहचान हो गई थी और मेरे परिवार वाले भी उन्हें अच्छे से जानने-पहचाने लगे थे।

इसलिए एक दिन ऐसे ही भाभी ने मेरी मम्मी से कहा दिया था कि वो मेरा खाना भी बना दिया करेंगी।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  देवर के लंड से मिटी चूत की भूख

मेरी मम्मी ने भी उनका अपनापन देखकर हाँ कर दी थी। तब से दोपहर का खाना में उनके पास ही खाया करता था।

खैर, मैंने मेरे कमरे में आकर तब तक कपड़े उतारकर टीशर्ट और पजामा पहन लिया था तभी भाभी उसी हालत में जैसे वो कपड़े धो रहीं थीं, मेरे कमरे में खाना लेकर आई तो उनके बड़े-बड़े चुचे मुझे साफ दिखाई दे रहे थे।

क्या करूँ मुझसे रहा नहीं गया और मैं उन्हें बड़े ध्यान भाभी की च**** से देखने लगा। तभी भाभी ने कहा – क्या देख रहे हो?

मेरा ध्यान एकदम से हटा और मैंने घबरा कर कहा – कुछ नहीं?

लेकिन वो सब समझ चुकीं थीं, उन्होंने बिना कुछ कहे, मुझे खाना दिया और वापस जाकर बाथरूम में कपड़े धोने लगीं।

खाना खाने का होश अब मुझे कहाँ था, मेरा लण्ड तो फुफ्कार रहा था तो मैंने तभी मेरे कमरे में ही हस्तमैथुन किया और फिर खाना खाकर सो गया।

शाम को भाभी ने मुझे उठाया और चाए पिलाई और फिर मैं और उनके बच्चों को पढ़ाने लगा।

मैं आपको बता दूँ कि उनके पति एक निजी कंपनी में काम hindi sexy bhabhi ki chudai करते थे और इस कारण वो महीने में 15 दिन ही घर आते और बाकी दिन बाहर ही रहते थे।

जब रात को उनके पति आए तो मैं पढ़ रहा था तो उन्होंने पूछा – पढ़ाई कैसी चल रही है?

मैंने कहा – बस भैया, ठीक ही चल रही है, और वो अंदर चले गए।

फिर खाना लाकर मेरे पास बैठकर खाने लगे, थोड़ी देर बाद मैं, भैया और desi mast bhabhi तीनों छत पर चले गये।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  ठंडी रात में भाभी की चुदाई

करीब 11 बजे तक हम वहाँ बैठकर बातें करते रहे, फिर सोने के लिए नीचे आ गए।

मैं बैठकर पढ़ने लगा और वो दोनों अपने कमरे में चले गये।

करीब 11:30 बजे जब मैं पढ़ रहा था तो मैंने कुछ हल्की सी आवाज़ महसूस की।

वो आवाज़ भैया-भाभी के कमरे से आ रही रही थी क्योंकि उनका कमरा मेरे बगल में ही है तो मैंने जाकर दरवाजे के छेद से देखा तो भैया उनकी भाभी चुदाई कर रहे थे।

मेरा लण्ड फिर से खड़ा हो गया, मैं फिर से वहीं हस्तमैथुन करने लगा।

उफ़… क्या बताऊँ दोस्तो, भाभी बिल्कुल नंगी होकर भैया से चुदाई के मज़े ले रहीं थीं।

बिना कपड़ो के bhabhi ki fucking तो वो बिल्कुल परी जैसी लग रही थी, उनका गोरा बदन एकदम दूध जैसा सफेद था और चमक रहा था।

उनके बड़े-बड़े दूध देखकर मैं तो जैसे पागल हुआ जा रहा था। करीब दस मिनिट के बाद भैया ने एक जोरदार पिचकारी मारी, जो भाभी के बड़े-बड़े दूध पर जाकर गिरी।

मैं भी अपनी चरम सीमा पर था लेकिन उसी वक्त भाभी दरवाजे की तरफ बढ़ीं।

तो दोस्तो, क्या आप जानना नहीं चाहेंगें कि फिर क्या हुआ?

क्या भाभी ने मुझे हस्तमैथुन करते रंगे हाथों पकड़ लिया या मैंने भागने में कामयाब रहा…

जानने के लिए प्रतीक्षा कीजिये अगले भाग की…

लेकिन हाँ तब तक अपने सुझाभों से मुझे अवगत जरूर कराएं…

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!