भाभी की ठुकाई

(Bhabhi ki thukai)

मै अपने मामा के यहां रहता था। मामा के यहां कुल 4 लोग थे। मामा, मामी और उनकी बेटी रचिता ,जो की 27 साल की थीं। और मै भी साथ में रहता था

ये कहानी मेरे पड़ोस में रहने आयी भाभी की है। उनकी उम्र 29 साल के आस पास है। उनके पति रेलवे में नौकरी करते है । उनकी उम्र 37 – 38 साल के आस पास होगी।
उनका शरीर बहुत ही सुन्दर है। बॉडी एक दम फिट है। गांड़ हल्की हल्की उठी उठी और साड़ी में भी उनकी गांड़ का अंदाज़ा लगाया जा सकता है। उनके पति दो तीन दिन बाद आते थे। वो जिस मकान में रहती है उसके छ्त और मेरी छ्त मिलती थी। मेरे उम्र उस समय 22 साल के आस पास थी। उनके पति मुझसे बात करते रहते थे और उनकी गैर मौजूदगी में उनके घर का सामान भी लाया करता था। भाभी की बुआ का घर एक मोहल्ला छोड़कर
था। तो अधिकतर वो भाभी के साथ रहती थी जब भी उनके पति बाहर जाते थे। जब भी वो मुझसे कोई सामान मंगवाती ,मै बाज़ार से लाकर दे देता था।
बुआ के सामने भाभी हमेशा पूरा पल्लू सर तक रखती थी। उनके जाने के बाद पल्लू हटा लेती थी।

एक दिन मै कुछ सामान देने गया तो घर में सिर्फ वही अकेली थी और चावल साफ़ कर रही थी। उनका ब्लाउज से उनका उपर का दूध का दर्शन हो रहा था। मेरी तो जैसे नजर उनके ब्लाउज पर टिक गई। भाभी मुझसे बात कर रही थी लेकिन मेरी नजर बार बार उनके दूधो पर फिसल रही थी। भाभी भी इस बात को अच्छे से समझ रही थी।
वो मुझसे कुछ देर बात करती रही फिर मै घर चला गया।
अब वो मुझसे तभी समान मंगवाती थी जब वो अकेली होती थीं। ब्लाउज को इस तरह पहनकर बैठती जिसके उनका ऊपर का सीना ज्यादा खुला खुला रहता। वो मुझसे इधर उधर की बाते करती रहती। मै एक एक घंटे तक बाते करता रहता। कुछ दिनों बाद मैंने उनसे ऐसे ही पूछ लिया कि आपकी शादी आपसे उम्र में बड़े आदमी से कैसे हो गई। तो उन्होंने बताया कि उनके पति ने दहेज नहीं लिया और नौकरी भी अच्छी थी इसलिए मेरी शादी कर दी गई।
हम दोनों ही धीरे अच्छे दोस्त बन गए थे।

कुछ दिनों बाद मै उनके घर गया तो वो नहा रही थी उन्होंने ने मुझे बैठने को कहा जब वो बाहर आयी तो मैंने देखा कि भाभी ने सूट पहना था। लेकिन अंदर ब्रा या पैंटी नहीं पहना था। उनका शरीर गीला था इसलिए सूट से उनका दूध और गांड़ साफ़ साफ़ नजर आ रहे थे। मेरा लन्ड पूरा खड़ा था। मन तो कर रहा था आज इनको खूब चोदु। भाभी बोली तुम बैठो मै चाय बनाती हूं।

मै भी उनके बाथरूम में गया और अपनी चड्डी उतार कर अपने जेब में रखली । और वह जब मै भाभी के सामने गया तो मेरा लन्ड पैंट से साफ साफ तना दिख रहा था।
भाभी ने कई बार मेरे लन्ड को देखा अब वो बोली की जब तक चाय बन रही है अंदर बैठते है । थोड़ी देर बाद भाभी बोली मेरा फोन बहुत हैंग कर कर के चलता है ।
मैंने कहा- अच्छा, लाइए मै सही कर दूंगा।
उन्होंने अपना फोन दिया मैंने भी सेटिंग में जाकर फोन सही कर दिया। भाभी अंदर चाय छानने गई थी ।
तो मै तब तक उनकी फोटो गैलरी में जाकर ऐसे ही देखने लगा। जैसे मैंने फोटो गैलरी खोली ,पूरा फोल्डर भाभी की एक दम नंगी तस्वीरों से भरा पड़ा था।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  भाबी जी लंड पर हैं-2

अब मुझे लगने लगा भाभी ने मुझे जानबुझ कर मोबाइल दिया है। उनका पति बहुत अजीब लग रहा था उनके साथ नंगी फोटो में। भाभी बहुत सुंदर है। पति बुड्ढा लग रहा था। कुछ ही देर बाद भाभी आ गई और अब हम दोनों एक दूसरे को बहुत ध्यान से देख रहे थे। बिना ब्रा के कारण उनका दूध का काला हिस्सा सूट से साफ साफ दिख रहा था।
चाय ख़तम करते ही गेट खटकता है, भाभी देखती हैं कि बुआ जी आयी है ये देखकर भाभी थोड़ा घबरा जाती है। क्योंकि बुआ जी को उनकी गैर मौजूदगी में मेरा आना ज्यादा अच्छा नहीं लगता था। भाभी मुझसे कहती है कि तुम छत वाले कमरे में चले जाओ। अगर उन्होंने साथ में देख लिया तो बुआ जी तरह तरह की बाते बनाने लगेगी।

मै जल्दी जल्दी अपने जूते पहनने लगा। भाभी जल्दी जल्दी से अपनी ब्रा मेरे सामने ही पहनने लगी । उसने जैसे ही अपना सूट ब्रा पहनने के लिए ऊपर किया ।मेरा लन्ड पैंट को चीरने लगा। उसने मुझे ब्रा का हुक बंद करने के लिए बुलाया मैंने हुक बन्द करने के बाद उनके गाल पर किस कर लिया। वो बोलीं – प्लीज़ अभी जाओ।
मै जैसे जाने लगा तो उन्होंने पैंटी पहनने के लिए सलवार नीचे किया, और बोली तुम खड़े क्यों हो जल्दी जाओ।
मै – मेरे सामने पहनो। उन्होंने ने जैसे ही सलवार नीचे छोडी , मै भाभी की गोरी गांड़ देख कर दीवाना सा हो गया। मस्त गोल गोल गांड़ थी। मै भाभी को देख देख कर पागल हो रहा था।
भाभी गेट खोलने चली जाती है।
बुआ – क्या कर रही थी। बहुत देर लगा दी।
भाभी – नहाने गई थी बुआ जी।
बुआ जी – आज खाना ना बनाना । एक शादी में जाना है,तो तुम भी चलना।
फिर बुआ जी चली गयी।

जैसे ही भाभी ने गेट बंद करके अंदर आयी। वैसे ही मैंने उनको कसकर बाहों में जकड़ लिया।
भाभी एक दूध को सलवार के ऊपर से ही दबाते ही भाभी की चीख निकाल गई। भाभी के सारे कपड़े कर पूरा नंगा कर दिया। उनके चूतड़ को अपने हाथ से कसकर दबाया। फिर वो अपने पति का कंडोम लेकर मेरे लन्ड पहना दिया फिर दिन भर चोदा और चोदने के वीडियो बनाए। फिर हम दोनों नंगे ही बेड पर सो गए। दिन के 1 बजे होंगे। भाभी ने खाने के लिए मैगी बनाई। मै उनको बेड से देख रहा था। पूरी नंगी खड़ी थी किचेन में।
फिर थोड़ी देर बाद मैंने भाभी को चोदा।
अब मौका देखकर मै उनको अक्सर चोदने लगा। और 6 महीने से चोद रहा था ।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

अक्सर उनके घर जाया करता एक दिन मैंने भाभी से पूछा कि अच्छा बताओ की आप कितने लडको के साथ सेक्स कर चुकी हो। या फिर आपके पति और मैंने ही चोदा है।
तब वो हसने लगी।
मेरे बहुत कहने पर वो बोली सबसे पहले वो दूर के एक रिश्तेदार से चोदी गई थी ।
वो लड़का भाभी के दूर का ममेरा भाई लगता था।
दूसरी बार – कॉलेज में एक लड़के से प्यार हो गया था।
तीसरी बार – पति से।
चौथी बार मेरे साथ सेक्स किया था।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Bhabhi ki pyasi chut-2

मैंने कहा – तुम्हारे तो मज़े चार लोगो ने लिए है।
भाभी – जब लड़के शादी के बाद और पहले रण्डी चोदने जा सकते है।तो लड़कियां क्यों नहीं कर सकती।

मैंने कहा – मै हस कर बोला मतलब अभी और लड़कों का भी चांस हो सकता है।
भाभी – तुम्हे क्या करना है जान कर।
मैंने कहा – आपको और मज़े करने हो तो बोलना।
एक दोस्त है मेरा, क्या आप उसके साथ करोगी।
भाभी – तूने मुझे रण्डी समझा है क्या?
दुबारा ऐसी बाते मुझसे मत करना।

मै अपने दोस्त को अपने और भाभी की ठुकाई के वीडियो दिखता था। कुछ दिन बाद मैंने भाभी से बहुत कहा तो वो मेरे दोस्त से वीडियो चैट पर बात करने को तैयार हो गई।
मेरा दोस्त लैपटॉप पर वीडियो चैट करने के लिए आ गया।
भाभी ने उसको अपने दोनो दूध और चूत्त दिखाई । मेरा दोस्त मुठ मारने लगा। ऐसा कई दिनों तक चला। मेरे दोस्त भाभी को चोदने के लिए पागल हो रहा था।
मैंने कहा – भाभी नहीं मानेगी।
दोस्त ने कहा – दस या बीस हजार भी दूंगा। प्लीज जुगाड करवा दो ।
कुछ दिनों बाद भाभी से मैंने पूरी बात बताई। उस दिन भाभी ने कुछ नहीं बोला।
दो दिन के बाद भाभी का फोन आया ।
भाभी – अस्सी हज़ार , अपने दोस्त को बता देना।
मैने अपने दोस्त को बताया ।
वो बोला कि केवल चालीस हज़ार ही है। कुछ जुगाड करवा दे ,इतने में ही।

मैंने उससे चालीस हजार ले लिए।
भाभी से मैंने कहा – मुझे पैसे मिल गए है । कब का टाइम बताऊं।
भाभी – कल सुबह 8 बजे से लेकर शाम को 7 बजे तक।
घर की जगह होटल बुक कर लेना।
अगली सुबह मेरा दोस्त होटल पहुंच गया।
भाभी भी आ गई। मै भी उसी कमरे में था। मै उन दोनों की चुदाई देखना चाहता था।
भाभी के साड़ी उतारने के बाद मेरा दोस्त भाभी पर टूट पड़ा।
कभी दूध को रगड़ता, पीता। तो कभी गान्ड में हाथ को मारता । आधे ही घंटे में वो चोद कर थक गया। उसने जल्दी जल्दी दो राउंड मारे।
फिर वो बैठ कर दारू पीने लगा।
अब वो नशे में था।
मेरे दोस्त ने भाभी से कहा – भाभी मेरी गोलियों को धीरे धीरे अपने मुंह में रखकर चूसो।
भाभी भी उसकी गोलियां चूसने लगी। फिर लंद चूसने। लगी।
भाभी को लग रहा था उसने अस्सी हजार दिए है। इसलिए वो उसकी हर बात मान रही थी।
दोपहर 1 बजे
मेरे दोस्त ने खाना ऑर्डर किया।
मेरे दोस्त ने कहा – भाभी जब वो खाना देने कमरे मे आएगा। तुम बिल्कुल नंगी बेड पर लेटी रहना। और चादर से अपने शरीर पर ढकना। मै वेटर की शक्ल देखना चाहता हूं।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  देवर जी पेल दो लंड मेरी तड़पती चूत में

भाभी ने वैसा ही किया। वेटर जब खाना देने आया तो मेरे दोस्त ने वेटर से इशारे में बेड की तरफ देखकर पूछा कैसा माल है। वेटर मुस्कुराने लगा।
मेरा दोस्त नशे में था। अचानक उसने चादर खीच दी।
भाभी पूरी नंगी वेटर के सामने थी। वो अपने दूध और चूत
अपने दोनो हाथो से छुपाने का प्रयास कर रही थी।
तभी मै भी अपने दोस्त को रोकने लगा।
मेरा दोस्त दारू के नशे ने चिल्लाने लगा। कि उसने पैसे दिए है। मै इसको जिसके सामने चोदु।
मैंने सोचा कोई और ना आ जाए शोर शराबा सुन कर।
मैंने भाभी से कहा – कोई अगर आ गया तो बवाल हो जाएगा। वो जो कह रहा है कर दो।
मेरे दोस्त ने वेटर से कहा – इसके दूध और गान्ड देख कितनी मस्त है ।
दोस्त ने भाभी को बुलया और चोदना शुरू कर दिया।
वेटर भी गरम हो गया उसने भाभी के दूध पर हाथ रख दिया। और दोनों दूध को सहलाने लगा।
मेरा दोस्त दारू के नशे में सो गया।
वेटर को मैंने तुरंत जाने को कहा। वेटर को भाभी के दूध दबाने से ही संतोष करना पड़ा।
भाभी ने जल्दी जल्दी ब्लाउस साड़ी पहनी और घर जाने लगी। शाम के 8 बज बज़ गए थे ।
भाभी ने मोबाइल देखा तो उस पर उनके पति के बहुत सारी मिस कॉल पड़ी थी।
वो घबरा रही थी क्योंकि घर पर ताला पड़ा था।
मैंने उनको रिक्शा पकड़वा दिया।

आस – पड़ोस में भाभी और मेरे बारे में लोग तरह तरह की बातें करने लगे।
भाभी ने अब मुझसे दूरी बना ली। अब हम लोगो ने मिलना बन्द कर दिया। भाभी के पति को, मेरे और भाभी की कुछ फोटो साथ में मिली थी। इसलिए उनके पति ने उनको तलाक तक देने की बात कही लेकिन बुआ जी और सबके कहने पर भाभी और उनके पति के बीच सब कुछ ठीक हो गया।
उनका पति मुझसे नफ़रत करने लगा।
यहां तक की जब भी वो मुझे देखता तो मेरी ममेरी कजिन रचिता के बारे उल्टा सीधा बोलता । रचिता 27 साल की थीं।
भाभी का पति बोलता कि रचिता के गान्ड बहुत मस्त है।
उसके दूध दबाने है।
और किसी को ये सब नहीं पता था। मामा के घर की मरम्मत हो रही थी। तो मामी ने रचिता को भाभी के घर घर नहाने के लिए भेज दिया। कुछ दिनों तक रचिता वहीं नहाने जाती थी। भाभी के पति ने एक दिन रचिता की नंगी नहाने की तस्वीरें भेजी । मै समझ गया कि उसने कैमरा लगाया होगा। उसने बहुत से वीडियो भेजे। मैंने रचिता को वहां जाने से मना कर दिया।
लेकिन जो वीडियो मुझे भाभी के पति ने भेजे वो बहुत मस्त थे। रचिता की गान्ड और दूध बहुत ही सुन्दर लग रहे थे। मैंने भाभी को सब बताया उसके बाद उन्होंने सब डिलीट कर दिया। लेकिन मै वो सब वीडियो डिलीट नहीं कर सका और उनको देख कर मज़े करने लगा।

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!