भाभी को भाइयों ने मिलकर चोदा-2

Bhabhi ko bhaiyo ne milkar choda-2

उनको पाने का सपना आज सच होने की वजह से वो बहुत खुश थे. अब राजू ने आगे बढ़कर भाभी को गर्दन पर एक किस करना शुरू करते हुए उसने भाभी की ब्रा के हुक भी खोल दिए और ब्रा के खुलते ही अब दुनिया के सबसे सुंदर बूब्स जिसके गुलाबी कलर के निप्पल उस हल्की रौशनी में चमकने लगे थे.

दीपक ने बिना समय खराब किए भाभी के एक बूब्स को अपने मुहं में ले लिया और वो उसको ज़ोर ज़ोर से चूसने लगा, जिसकी वजह से पूरे कमरे में उसके बूब्स चूसने की आवाज़ के साथ साथ भाभी की सिसकियों की आवाज भी आ रही थी.

अब वो दोनों बहुत गरम हो गए थे और तभी राजू ने बिना देर किए भाभी की पेंटी में अपना एक हाथ डालकर उसको नीचे सरका दिया और उसने अपना हाथ भाभी की चूत पर रख दिया.

अब दोनों ने भाभी को बेड पर लेटा दिया और राजू ने अपने सभी कपड़े खोल दिए और भाभी कहीं होश में आकर पूरे खेल का मज़ा खराब ना कर दे. इससे पहले उसने एक बार भाभी की चूत को मारना ही सही समझते हुए अपना पांच इंच का लंड भाभी की गुलाबी और टाइट चूत के मुहं पर रख दिया, जो उस हल्की रौशनी से बिल्कुल लाल और मस्त कामुक लग रही थी और फिर उसने धीरे धीरे अपना लंड भाभी की चूत की गहराईयों में डाल दिया और उसने भाभी के होंठो को चूसते हुए धक्के देने शुरू कर दिए और अब भाभी को शायद दर्द की वजह से होश आने लगा था और उसका कुछ नशा कम होने लगा था और इसलिए वो थोड़ा सा विरोध करने लगी.

वो कहने लगी कि राजू तुम यह क्या कर रहे हो, प्लीज़ यह सब ग़लत है और में तुम्हारी भाभी हूँ, प्लीज़ ऐसा मत करो, लेकिन में अब नहीं रुका, क्योंकि मुझे बहुत अच्छी तरह से मालूम था कि अगर में आज भाभी की चुदाई नहीं कर पाया तो मुझे कभी भी दोबारा ऐसा चुदाई का मौका नहीं मिलेगा.

फिर मैंने उनसे कहा हाँ भाभी बस हो गया, बस थोड़ी सी देर और बस प्लीज़ होने वाला है और मैंने इतना कहकर अपने धक्को की स्पीड को पहले से ज्यादा बड़ा दिया था और उधर दीपक ने भाभी के एक बूब्स को अपने मुहं में और दूसरे बूब्स को अपने हाथ में ले रखा था. वो दोनों बूब्स को पूरे जोश में आकर उनको निचोड़ रहा था.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Ek Dost Ki Biwi Ko Dusre Dost Ke Saath Choda

दोस्तों अब भाभी को इतना तो एहसास हो ही गया था कि वो दोनों आज उनको बिना चोदे नहीं छोड़ने वाले है. फिर इसलिए भाभी ने उनसे कहा कि हाँ प्लीज ठीक है तुम मेरे साथ सब कुछ कर लो, लेकिन तुम अपना पानी मेरी इस चूत के अंदर मत निकालना वरना मुझे बाद उसकी वजह से बहुत पेशानी होगी. तुम्हे मज़ा आएगा और मुझे उसकी सज़ा भुगतनी पड़ेगी. तुम ऐसा कोई भी काम मत करना कि में किसी को अपना मुहं भी ना दिखा सकूं.

राजू ने कहा कि भाभी इसमें ही तो असली मज़ा है और अगर डर डरकर सेक्स किया तो वैसा मज़ा उसमे कहाँ है? प्लीज़ में आपको गर्भनिरोधक गोली खिला दूँगा. उससे सब कुछ ठीक हो जाएगा, बस आज आप यह सब कुछ होने दो किसी भी बात के लिए हमें मना मत करो, लेकिन वो अब भी उनसे आग्रह करती रही ओह्ह्ह्हह् भाभी आह्ह्ह्ह में अब झड़ने वाला हूँ. बस ओह्ह्ह्हह मेरी जान और फिर ज़ोर की स्पीड से गहराई तक राजू का वीर्य भाभी की चूत में समा गया और वो भाभी के गरम नंगे जिस्म से पूरे दस मिनट तक चिपका रहा और अब भाभी भी पूरे होश में आ गई थी, इसलिए वो उससे कहने लगी कि राजू तुमने मेरे मना करने के बाद भी यह क्या कर दिया? तुमने मुझे आज कहीं का नहीं छोड़ा और वो चिल्लाते हुए ज़ोर से सिसकारियां लेने लगी.

उन दोनों ने भाभी को दिलासा दिया और उनको बहुत बार समझाया कि यह जो कुछ भी आज हमारे बीच में हुआ है इसके बारे में हम कभी भी किसी को नहीं बताएगे और तब जाकर उनकी वो बातें सुनकर भाभी कुछ शांत हुई और भाभी का वो गोरा सेक्सी नंगा बदन देखकर मेरा लंड एक बार फिर से चुदाई के लिए तनकर खड़ा हो गया. अब भाभी ने यह सब देख लिया था और फिर दीपक भाभी के पास गया और उसने भाभी को अपनी बाहों में लेकर तुरंत हग कर लिया और वो भाभी को लीप किस करने लगा और अब भाभी भी कुछ देर बाद गरम होकर उसका साथ देने लगी थी.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

अब दीपक ने बोला कि भाभी में जब भी आपकी गांड देखता था मेरा दिल तुम्हारी गांड में अपना लंड डालकर उसमें धक्के मारने का करता था, लेकिन मुझे कभी भी ऐसा कोई मौका नहीं मिला और आज में सबसे पहले आपकी गांड ही मारूँगा. में इसमे सबसे पहले अपना लंड डालूँगा. फिर भाभी उसकी बातें सुनकर डर गई. वो कहने लगी कि नहीं दीपक प्लीज यह तो आज तक मैंने उनको भी मतलब अपने पति को भी नहीं छेड़ने दी, प्लीज़ नहीं, तुम इसका पीछा छोड़ दो.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Delhi Ki Chudasi Ladki Ko 3 Log Milkar Shant Kar Paye

उसी समय दीपक बोला कि भाभी अब आप यह सब नाटक करना बंद करो. यह मेरा सपना है प्लीज़ आज आप मुझे इसके लिए मना मत करो. फिर वो बोली कि हाँ ठीक है, लेकिन तुम्हे जो कुछ भी करना है तुम आराम से करना प्लीज. फिर दीपक ने भाभी के मुहं से उनकी हाँ सुनकर कहा कि हाँ ठीक है भाभी और फिर उसने बहुत सारा तेल अपने लंड पर लगाया और बहुत सारा तेल उसने भाभी की गांड के छेद पर भी लगाकर उनकी गांड को बहुत चिकना कर दिया और फिर उसने अपना खड़ा लंड भाभी की गांड के छेद पर टिका दिया.

दोस्तों उनकी गांड इतनी गोल गोरी और सुंदर थी कि उसको देखकर बस मज़ा ही आ जाए. उनकी गांड का छेद भी हल्का गुलाबी रंग का था. फिर दीपक ने धीरे धीरे अपना लंड भाभी की गांड में डालना शुरू ही किया कि वो दर्द से करहाने लगी और वो कहने लगी उफफ्फ्फ्फ़ माँ में मर गई प्लीज इसको तुम अब आईईईइ बाहर निकालो, नहीं तो में आज मर ही जाउंगी स्सीईईईईईई मुझे बहुत दर्द हो रहा है प्लीज अब बाहर करो इसको, तुम्हे क्या मेरी बात समझ में नहीं आती. में तुमसे क्या कह रही हूँ? बंद करो यह सब मुझे नहीं करना.

फिर भाभी की चीख, पुकार उनके दर्द को देखकर अब दीपक ने अपने धक्के पहले से ज्यादा हल्के हल्के धक्के लगाने शुरू कर दिए और वो लगातार अपने लंड को अंदर बाहर करता रहा और जब उनका दर्द दीपक को कम महसूस हुआ तब दीपक ने एक हल्के से झटके के साथ अपने लंड को थोड़ा सा और आगे सरका दिया, जिसकी वजह से अब भाभी भी मज़े करने लगी थी और बस आखरी धक्के में दीपक का पूरा लंड भाभी की गांड के अंदर चला गया.

अब दीपक ने धीरे धीरे से अपना लंड आगे पीछे करना शुरू कर दिया और दीपक ने भाभी की गांड को लगातार ज़ोर से धक्के दे देकर लाल कर दिया और उधर राजू ने अपना लंड भाभी के मुहं में डाल दिया और उधर दीपक ने भाभी के कूल्हों को कसकर पकड़कर अपने लंड को उसने जोर लगाते हुए पूरा जड़ तक अंदर डाल दिया और फिर उसने ज़ोर के धक्के के साथ अपना पूरा माल भाभी की गांड के अंदर ही निकाल दिया जो अब लंड के अंदर बाहर होने की वजह से बाहर निकलकर बहने लगा और उनकी गोरी जांघो पर टपकने लगा. दोस्तों उस रात को हम दोनों भाईयों ने मिलकर अपनी सेक्सी भाभी के साथ कई बार सेक्स किया.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  दो लड़कियों को एक साथ रंग लगा के चोदा

फिर हम तीनों थककर नंगे ही सो गए और उसके बाद सुबह हम सभी ने साथ में बाथरूम में जाकर नहाने के भी मज़े लिए, लेकिन नहाना खत्म होने से पहले दीपक ने भाभी से कहा कि भाभी में आपके मुहं में भी अपना लंड डालकर चुदाई करना चाहता हूँ आप वैसे भी नहा रही हो प्लीज़ मेरा लंड अपने मुहं में डाल लो.

भाभी बोली कि अब तुम मेरे साथ पहले ही सब कुछ तो कर ही चुके हो तो तुम तुम्हारी इस आखरी इच्छा को भी तुम पूरा कर लो और फिर हम दोनों ने सबसे पहले भाभी को उनके सर से लेकर पैर तक अपने पेशाब से नहला दिया और नहाते नहाते भी हमने कभी उनके मुहं में तो कभी उनकी चूत में और कभी पीछे से एक बार चुदाई के मज़े किया.

दोस्तों बस जब से लेकर अब तक कहीं भी कभी किचन में, कभी सीड़ियों पर, कभी गार्डन में, कभी छत पर, कभी बालकनी में, घर के हर एक जगह हर कोने में हम भाभी को अपने लंड से धक्के देकर चोदते रहते है और हर बार वो हमारा पूरा पूरा साथ देती है. उनको भी हमारी चुदाई से बहुत मज़ा आता है. अब वो हर बार हमारी चुदाई से पूरी तरह से संतुष्ट रहती है और हम सभी मिलकर सेक्स के बड़े मज़े करते है.

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!