भाभी को दो बच्चों की माँ बनाया-4

Bhabhi ko do bacho ki maa banaya-4

फिर मैंने अपनी स्पीड को और भी बढ़ा दिया और फुल स्पीड में चोदता रहा. करीब दो मिनट के बाद हम दोनों एक साथ झड़ने लगे और एक दूसरे से लिपट गए. बीस मिनट की चुदाई के बाद हम दोनों एक साथ झड़ गए और कुछ देर एक दूसरे से लिपट कर ऐसे ही लेटे रहे और फिर कुछ देर बाद रवीना ने उठकर मेरे लंड को चूसना शुरू कर दिया और वो एक बार फिर से मेरा लंड खड़ा करके बोली कि आजा मेरे कुत्ते चोद इस कुतिया को.

इस बार मैंने उससे कहा कि तू अपने दोनों पैरों से मेरी कमर को पकड़ ले और जैसे ही उसने मेरी कमर को पकड़ा में उसे अपने हाथों से उठाकर खड़ा हो गया और उसे हवा में उठाकर धीरे से धक्के देकर चोदने लगा और वो मेरे होंठो को चूसने लगी और अब कुछ देर बाद में उसे पूरी स्पीड से चोदता रहा. उसे अपनी चुदाई में बहुत मज़ा आ रहा था.

रवीना : ओह पीयूष उईईईईईई आह्ह्ह्हह्ह काश तू सच में मेरा पति होता अहह्ह्ह्हह्ह पीयूष चोद मुझे, हाँ इसी तरह चोद अपनी इस कुतिया को, वाह मज़ा आ गया उफ्फ्फफ्फ्फ़ थोड़ा और ज़ोर से चोद.

में : हाँ तेरा पति तो में आज बन ही गया हूँ, अब तेरा पूरा टाईम पति ना सही में तेरा पार्ट टाईम तो हूँ ही और उसे हवा में उठाकर ही चोदता रहा मैंने महसूस किया कि उसकी चूत बिल्कुल नई जैसी एकदम टाईट थी और इसी तरह उसे 10-12 मिनट चोदने के बाद मैंने उसे दीवार के सहारे लगा लिया और हवा में उठाकर ही चोदता रहा.

रवीना : ओह पीयूष हाँ और ज़ोर से धक्का देकर चोदो मुझे अह्ह्ह्हह हाँ ऐसे ही चोदते रहो मुझे.

फिर करीब 25-30 मिनट के बाद में झड़ने ही वाला था कि तभी उसे मैंने नीचे लेटाकर फिर से हल्के हल्के धक्के देकर उसकी चूत में झड़ गया.

रवीना : ऑश पीयूष मुझे तुम आज अपनी गर्भवती बना दो इतना चोदो मेरी चूत को यह फट जाए, में तुम्हारे होने वाले बच्चे की माँ बनना चाहती हूँ, प्लीज़ मुझे तुम अपना एक बच्चा दे दो ओह्ह्ह्ह आह्ह्ह्ह और चोदो मुझे तुम बहुत अच्छा चोदते हो अह्ह्ह्हह्ह यार थोड़ा और अंदर जाने दो.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  भाभी ने स्टडी के साथ सेक्स में भी हेल्प किया-2

में : में तो अब बहुत थक गया हूँ यार.

रवीना : क्या थक गया? ऐसी गांड रोज रोज चोदने को मिलती है क्या? जो तू इतनी जल्दी थक गया. अभी तो सिर्फ़ तूने मेरी चूत ही मारी है, मेरी गांड क्या कोई पड़ोसी मारेंगे?

में : ओह तो खड़ा कर ना मेरे लंड को मेरी जान.

रवीना : हाँ यह हुई ना बात असली मर्दों वाली.

अब में बेड पर लेट गया और वो मेरे लंड को थूक थूककर गीला करने लगी और फिर चूसने लगी और फिर पता नहीं उसे अचानक से क्या हुआ वो अपना पर्स देखने लगी और पर्स में से उसने एक वोड्का का हाफ निकाल लिया और उसे खोलकर नीट ही पीने लगी.

में : अरे यह क्या नीट ही क्यों पी रही हो?

रवीना : में अकेली थोड़ी ना नीट पियूंगी, तुझे भी तो पिलाऊंगी.

फिर अपना मुहं वोड्का से बाहर करके उसने मेरे पास आकर मुहं खोलने का इशारा किया और मेरे मुहं खोलते ही अपने मुहं की सारी वोड्का को उसने मेरे मुहं में डाल दिया और में भी पी गया, इस तरह हमने पूरा हाफ पी लिया और थोड़ा सा उसने मेरे लंड पर गिरा दिया और फिर मेरे लंड को चूसने लगी और फिर से उसने मेरी गांड में उंगली को डाल दिया.

में : गांड मारनी है या अपनी मरवानी है?

रवीना : अरे पागल इससे तेरा लंड खड़ा जल्दी हो जाएगा और शुक्र है कि मेरे पास लंड नहीं है वरना में आज तुझे चोद देती.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

में : ओह नहीं नहीं में तुम्हारी गांड को चोदना चाहता हूँ.

रवीना : हाँ अब ठीक है में अब तुम्हारी गांड नहीं मारूंगी.

अब मेरा लंड तनकर खड़ा हो गया और मुझे थोड़ा सा नशा चढ़ने लगा और अब तक रवीना को भी बहुत नशा हो गया फिर मैंने उसे अपने सामने झुकाया और फिर उसकी गांड को चाटने लगा और करीब 10-15 मिनट चाटने के बाद जब उसकी गांड थोड़ी ढीली हो गई तो मैंने थूक थूककर उसे चिकनी कर दिया और फिर अपना लंड उसकी छोटी सी गांड में धीरे धीरे देकर डालने लगा. नशे में उसे भी दर्द कम हो रहा था, लेकिन मुझे अब और भी ज़्यादा मज़ा आ रहा था दो मिनट के बाद जब मेरा पूरा लंड उसकी गांड में चला गया तो मैंने धीरे धीरे से अपने लंड को अंदर बाहर करना शुरू किया और उसे चोदने लगा.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  भाभी की चुदाई भैया की अनुपस्थित में

रवीना : अहह्ह्ह्ह उफ्फ्फफ्फ्फ़ पीयूष हाँ चोदो मेरी वर्जिन गांड को.

में : आह्ह तभी में कहूँ कि तुम्हारी गांड इतनी टाईट क्यों है? तुमने गांड कभी मरवाई ही नहीं क्या?

रवीना : ओहह्ह्ह्ह आईईई मेरे पति ने कोशिश तो कई बार की, लेकिन अहह मादारचोद धीरे धीरे कर.

में : ओह्ह्ह नहीं अब तो स्पीड और भी तेज़ होगी.

फिर मैंने उसकी कमर को कसकर पकड़ लिया और अपनी स्पीड को बढ़ा दिया और उसे मस्त धक्के देकर चोदने लगा 5-7 मिनट तो उसे थोड़ा दर्द हुआ, लेकिन फिर उसे भी मज़ा आने लगा जिसकी वजह से वो भी मज़े से सिसकियाँ लेकर चुदने लगी. अब मैंने उसके बाल पकड़कर उसे पीछे से ऊपर उठाया और उसके होंठो को किस करने लगा और साथ ही साथ उसे चोदता रहा, लेकिन अब तक मेरे लंड की भी हालत खराब थी और 2-3 जगह से कट गया था, लेकिन नशे में हम दोनों को बस मज़ा ही आ रहा था और दर्द का कुछ भी पता नहीं था.

में उसे चोदते वक़्त उसके चूतड़ों पर थप्पड़ भी मार रहा था जिसकी वजह से उसके दोनों चूतड़ लाल हो गए थे और उसे आधे घंटे तक कुतिया बनाकर चोदने के बाद मेरा वीर्य उसकी गांड में निकल गया और में थककर बिल्कुल चूर हो गया था और उसके ऊपर ही गिर गया. मैंने उसकी गांड में अपना लंड डालकर ही रखा हुआ था और हम दोनों को पता ही नहीं चला कि हम बातें करते करते ना जाने कब सो गए. फिर सुबह उठकर हम दोनों ने एक बार और नहाते हुए सेक्स किया और फिर हम नाश्ता करके उस होटल से अपने घर के लिए निकल गए.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  नई शादीशुदा भाभी की चूत

सुबह भी कोहरा तो बहुत था, लेकिन दिन होने की वजह से बहुत साफ साफ दिखाई दे रहा था फिर हम कुछ देर के सफर के बाद अंबाला उसके घर पर पहुंचे तो में उसके कहने पर घर के अंदर चला गया. तो उसने मेरे लिए कॉफी बनाई और जब वो कॉफी बना रही थी में उसे पीछे से हग किए हुए था और बहुत आराम से उसके एक एक बूब्स को दबा रहा था.

रवीना : क्यों कल सारी रात तो खेले हो इनसे, क्यों दिल नहीं भरा क्या?

में : क्या कभी दिल कहा भरता है ऐसी ऐसी चीज़ों से जानेमन?

रवीना : कल रात को तेरी बहुत मलाई निकल गई है में अब अगले सप्ताह दोबारा 6-7 बार फिर से तेरी गरमी जरुर निकालूंगी.

में : वाह क्या सच?

रवीना : हाँ बिल्कुल सच.

फिर उसने मुझे किस किया और कहने लगी कि कॉफी बन गई है, चलो बाहर पीते है और कॉफी पीने के बाद मैंने रवीना को किस किया और हग किया उसके बाद में वहां से उसका मोबाईल नंबर लेकर चला गया. फिर अगले सप्ताह फिर से उसकी चुदाई हुई और सप्ताह में 2-3 बार हो ही जाती थी. फिर उसके कुछ महीनों बाद मैंने उसे अपने दो बच्चों की माँ बना दिया, लेकिन अब भी में जब कभी मौका मिलता है तो उसकी चुदाई जरुर करता हूँ.

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!