भाभी को उसके पति के साथ मिलकर चोदा-2

Bhabhi ko uske pati ke saath milkar choda-2

कुछ देर बाद उसकी गोरी गोरी जाँघो पर भी मैंने साबुन लगाया और उसकी वाह क्या मस्त भरी हुई जांघे थी और अब में उसके पूरे बदन पर अपने हाथ को फेरने लगा और मसलने लगा. उसके पूरे बदन को मैंने साबुन के झाग से भर दिया. अब अमित और भाभी वो दोनों मिलकर मेरे बदन पर साबुन लगाने लगे और भाभी मेरी छाती पर साबुन लगाने लगी और अमित मेरे लंड पर साबुन लगा रहा था और साबुन लगाने के साथ साथ भाभी मेरी छाती को भी चूमती जा रही थी.

अब हम तीनों पूरे साबुन और झाग से भरे हुए थे और में भाभी को आगे से अपनी बाहों में लेकर अपना बदन उनके बदन से घिस रहा था और अमित पीछे से भाभी को चिपककर उससे अपना बदन घिस रहा था. भाभी अब बहुत ही कामुक हो चुकी थी और वो मुझसे बोल रही थी कि प्लीज अब मुझसे रहा नहीं जाता. डाल दो अपना पूरा लंड मेरी इस प्यासी चूत में और मुझे जमकर चोदो. मेरी आग को बुझा दो में कब से यह मज़े लेने के लिए तरस रही हूँ.

फिर हम तीनो ने एक दूसरे के ऊपर पानी डालकर साबुन को निकालकर अपना बदन साफ कर लिया और फिर उसके बाद भाभी ने मेरे और अमित के लंड पर तेल लगाना शुरू किया और दोनों लंड को बहुत सारा तेल लगाकर मालिश करके एकदम चमकाकर चिकना कर दिया. फिर अमित ने एक जोरदार धक्का देकर भाभी की गांड में अपना पूरा लंड डाल दिया, उसके दर्द की वजह से भाभी के मुहं से एक जोरदार चीख निकल गयी ऊऊईईईई माँ मर गई.

अमित बेड पर सीधा लेट गया और भाभी उस पर उसका लंड गांड में डालकर सीधी सो गयी और अब मैंने भी एकदम सही मौका समझकर अपना पांच इंच लंबा मोटा लंड zarine khan ki nangi photo भाभी की चूत में डाल दिया. उसके बाद में अपनी तरफ से उनको धक्के मारने लगा था, जिसकी वजह से भाभी अब दो दो लंड के एक साथ मज़े ले रही थी.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  सेक्स का इन्वेटेशन दिया सविता भाभी ने-2

फिर में अपने लंड को धीरे धीरे उनकी चूत में अंदर बाहर करने लगा शायद दस मिनट के बाद अमित खड़ा हुआ और अब हम दोनों ने अपना लंड भाभी की चूत में एक साथ डाल दिया, जिसकी वजह से भाभी की चूत तो जैसे फट ही गयी थी वो दर्द से तड़पकर आवाज़ निकाल रही थी आह्ह्हह्ह ऊऊईईईईईईइ माँ मेरी चूत फट जाएगी अब हम दोनों का लंड भाभी की चूत में एक साथ उनको चुदाई के मज़े दे रहा था और थोड़ी ही देर के बाद अमित ने अपना सफेद पानी निकाल दिया. उसके बाद वो ठंडा होकर अपने लंड को बाहर निकालकर दूर हटकर बैठ गया और अब में भाभी के ऊपर चड़कर अपने दोनों हाथों से उनके बूब्स को ज़ोर ज़ोर से दबा रहा था और उसकी चूत में ज़ोर ज़ोर से और बहुत तेज गति से अपने लंड को लगातार अंदर बाहर कर रहा था.

कुछ देर बाद भाभी भी झड़ गयी और वो एकदम शांत हो गयी और उन्होंने मेरा लंड भी अब अपनी चूत से बाहर निकाल दिया और उसके बाद वो मेरा लंड अपने हाथ में लेकर उसकी मुठ मारने लगी और धीरे धीरे उसको सहलाने लगी. फिर उनके कुछ देर मुठ मारने के बाद मैंने भी अपने लंड का बहुत सारा सफेद पानी एक ज़ोर की पिचकारी के साथ बाहर निकाल दिया, जो उसके हाथों में था और अब अमित ने मुझसे कहा कि आज हम तीनों पूरा दिन ऐसे नंगे ही रहेगे.

मैंने कहा कि हाँ ठीक है और उसके बाद अमित ने अपने कपड़े पहनकर बाहर जाकर घर के दरवाजे को बाहर से ताला लगा दिया, जिसको देखकर कोई भी हमें परेशान ना करे उसके बाद वो पीछे के दरवाजे से वापस अंदर आ गया. अब भाभी वैसे नंगे ही किचन में जाकर हमारे लिए चाय बना रही थी. उनको देखकर मेरा लंड तो एक बार फिर से तनकर खड़ा हो गया.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  दीदी को ग्रुप में चोदा एक साथ तीन तीन लंड दीदी के चूत में

अमित ने मेरे खड़े लंड को देखकर कहा कि यार मुझे लगता है कि तेरा लंड तो चुदाई के नाम का बहुत भूखा लगता है, देखो यह तो फिर से तनकर खड़ा हो गया और फिर अमित ने मुझसे कहा कि यार मुझे कभी कभी अपनी गांड मारने का मन भी होता है, तुम्हारा लंड तो बहुत अच्छा दमदार है मुझे लगता है कि इससे मुझे बड़ा मज़ा आएगा.

फिर मैंने उनको कहा कि हाँ मुझे भी कभी कभी किसी लड़के की गांड मारने का मन होता है और इतने में भाभी हमारे लिए चाय लेकर आ गयी और भाभी सीधी मेरी गोद में आकर बैठ गयी, जिसकी वजह से मेरा तनकर खड़ा लंड अब उसके दोनों कूल्हों के बीच में सेट हो गया और वो चाय बनाने लगी. फिर हम तीनों ने एक साथ में बैठकर चाय पीना शुरू किया और साथ में कुछ नाश्ता भी किया.

उस समय भाभी मेरी गोद में बैठे बैठे ही मुझे खिला रही थी और में अपने एक हाथ से भाभी के बूब्स को दबा भी रहा था. फिर चाय खत्म करने के बाद अब हम तीनो बेड पर नंगे ही लेटकर टीवी देखने लगे. उस समय भाभी हम दोनों के बीच में लेटी हुई थी.

अमित और में उसके दोनों तरफ लेटे हुए थे और हम दोनों उस समय भाभी के गोरे सेक्सी बदन से खेल रहे थे और भाभी हम दोनों के लंड से उस काम को करने के साथ साथ हम तीनों सेक्स बातें भी कर रहे थे. फिर भाभी ने कहा कि मुझे तो किसी का लंड चूसने में और अपनी चूत को चटवाने में सबसे ज्यादा मज़ा आता है, अब मैंने उनसे कहा कि मुझे तो बूब्स के निप्पल को चूसने में और चूत का रस पीने में बड़ा मज़ा आता है. अब अमित ने कहा कि मुझे बूब्स को दबाने में बड़ा मज़ा आता है, लेकिन मुझे किसी के लंड को देखने में भी बड़ा मज़ा आता है और मेरे उस लंड को अपने मुहं में पूरा अंदर लेकर उसको चूसने का मन भी करता है.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  अकेली भाभी की मस्त चुदाई

तभी भाभी ने मुझसे कहा कि अमित और मैंने पिछले कई दिनों से सेक्स नहीं किया था और वैसे उसका लंड अब ठीक तरह से खड़ा ही नहीं होता था, इसलिए हम दोनों को चुदाई का वैसा मज़ा नहीं मिल रहा था और इसलिए हम दोनों ने बैठकर बात करके तुम्हे यहाँ पर हमारे साथ वो मज़े मस्ती करने के लिए बुलाया है, लेकिन आज आप यहाँ पर आए तो झट से अमित का लंड भी तनकर खड़ा हो गया और उसने भी अपने लंड को मेरी चूत में डालकर अपनी तरफ से मुझे मज़े देने की पूरी पूरी कोशिश की है, जिसकी वजह से में बहुत खुश हूँ.

कहानी जारी है……

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!