भाभी को उसके पति के साथ मिलकर चोदा-3

Bhabhi ko uske pati ke saath milkar choda-3

अब में उनकी बातें सुनकर उठकर किचन में जाकर जेम की एक बोतल लेकर आ गया, मैंने अपने हाथ में बहुत सारा जेम लेकर भाभी की चूत पर वो जेम लगा दिया और उसके बाद में उल्टा होकर उनकी जेम लगी चूत को अपनी जीभ से चाटकर चूत के साथ साथ जेम का भी मज़ा लेने लगा था. फिर अमित ने उठकर मेरे लंड पर बहुत सारा जेम लगा दिया उसके बाद अब अमित और भाभी दोनों ही किसी भूखे जानवर की तरह मेरे लंड को चूसने चाटने लगे थे वाह मुझे क्या मस्त मज़ा आ रहा था वो दोनों किसी लोलीपोप की तरह मेरे लंड को लगातार बारी बारी से चूसे जा रहे थे.

फिर कुछ देर बाद में बिल्कुल सीधा लेट गया और अब अमित मेरे लंड को उसकी गांड में डालने की कोशिश करने लगा था. वो मेरे लंड को अपने एक हाथ से पकड़कर उसके ऊपर धीरे धीरे नीचे बैठने लगा था, लेकिन मेरा मोटा लंड इतने आराम से उसकी गांड में नहीं गया.

भाभी ने अपने हाथ में बहुत सारा तेल ले लिया और उसको उन्होंने मेरे लंड पर लगाकर बिल्कुल चिकना कर दिया और उसके बाद उन्होंने थोड़ा सा तेल लेकर अमित की गांड पर भी उसको लगाकर वैसा ही चिकना कर दिया. अब अमित मेरे सामने एक कुत्ते की तरह बैठ गया और मैंने एक जोरदार धक्का देकर जबरदस्ती अमित की गांड में अपने लंड को डालना शुरू किया. पहले तो मेरे लंड का सिर्फ़ टोपा ही उसकी गांड में गया था, लेकिन फिर उसके बाद मैंने दोबारा ज़ोर का धक्का दे दिया, जिसकी वजह से मेरा पूरा लंड उसकी गांड में घुस गया.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Aunty ne bhabhi ki chudai karwai

दोस्तों अब में अमित की गांड में अपने लंड को धक्के देकर उसकी गांड मार रहा था और भाभी अमित के दोनों पैरों के बीच में लेकर उसका लंड अपने मुहं में लेकर उसको चूस रही थी और अमित मुझसे बोल रहा था आह्ह्ह्ह उफफ्फ्फ्फ़ वाह मुझे बहुत मज़ा आ रहा है, हाँ पूरा अंदर तक घुसाओ डाल दो पूरा हाँ और तेज तेज धक्के दो तुम बहुत अच्छा कर रहे हो हाँ ऐसे ही करते रहो और थोड़ी ही देर के बाद अब अमित ने अपना पूरा वीर्य भाभी के मुहं में निकाल दिया जो बाहर तक निकलकर बहने लगा था और अब भाभी ने अमित का पूरा लंड चाटकर चमकाने और वीर्य को अपने गले से नीचे गटकने के बाद अपना मुहं भी अब वो साफ करने लगी.

मैंने उसकी निप्पल पर भी जेम लगा दिया और में दोनों बूब्स को भी बारी बारी से चाटकर मज़े लेने लगा. मुझे उसका वाह क्या मस्त मज़ा आ रहा था. फिर मैंने जेम को पूरा चाटकर खत्म करने के बाद अब उसके पूरे बूब्स पर दोबारा जेम लगा दिया और में दोबारा उनको चाटने लगा. उसके बाद मैंने उसकी नाभि पर भी बहुत सारा जेम लगाया और फिर मैंने अब अपना पांच इंच लंबा मोटा लंड भाभी की चूत में डाल दिया. अब भाभी को मैंने बेड पर एकदम सीधा लेटाकर में बेड से नीचे उतरकर खड़ा होकर खड़े खड़े ही धक्के देकर भाभी की चुदाई करने लगा.

मैंने भाभी की दोनों जांघो को अपने हाथों से बड़ी मजबूती से पकड़ रखा था, जिसमें हम दोनों को बहुत मज़ा आ रहा था और में लगातार तेज तेज धक्के लगाता रहा और भाभी के मुहं से उन तेज जोरदार धक्को को खाकर आह्ह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ माँ यह कैसा चुदाई का दर्द है आईईइ यह तो बड़ा ही मज़ेदार है वाह तुम तो बहुत काम की चीज हो और तुम्हे पूरी तरह से मज़े देकर चुदाई करने की कला का पूरा पूरा ज्ञान है, हाँ ऐसे ही तुम मुझे धक्के देकर चोदते रहो, वाह तुम्हारे इन धक्को का कोई जवाब नहीं है.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  पड़ोसी भाभियों को जमकर बजाया–4

अब उसको कुछ देर धक्के देने के बाद में बेड पर सीधा लेट गया और भाभी तुरंत ही मेरे ऊपर चड़कर बैठ गयी. भाभी ने मेरे लंड को अपनी चूत के ठीक निशाने पर रखकर वो लंड पर एक ही बार में बैठ गई, मेरा लंड भाभी की चूत में पूरा गहराई तक पहुंच गया और उसके बाद वो अब लंड को अपनी चूत में लिए हुए ऊपर नीचे होने लगी और मुझे अपना लंड उनकी चूत में अंदर बाहर होता हुआ साफ साफ नजर आ रहा था.

साथ साथ भाभी के उछलने से उनके बूब्स भी उछल रहे थे. दोस्तों शायद बीस मिनट ऊपर नीचे होने के बाद वो अब झड़ चुकी थी और मैंने भी अपना वीर्य उनकी चूत में निकाल दिया था.

भाभी मेरे ऊपर से नीचे उतर गई और वो पूरी पसीने से गीली होकर ज़ोर ज़ोर से सांसे ले रही थी वो मेहनत करने की वजह से बहुत थक चुकी थी और फिर उसके बाद हम तीनों वैसे ही पूरे नंगे ही बेड पर लेट गये, में उस समय भाभी की निप्पल को अपने मुहं में लेकर उनको चूसते चूसते ही ना जाने कब सो गया. मुझे पता ही नहीं चला. फिर हम तीनों शाम के करीब पांच बजे उठ गये और अब मुझे वापस अपने घर भी जाना था इसलिए मैंने उन दोनों से जाने की आज्ञा ली और भाभी उसी समय मेरी बाहों में आकर मेरे होंठो पर किस करने लगी.

उन्होंने मुझे शायद दस मिनट तक लंबा किस किया और उसके बाद वो मुझसे अपनी चुदाई से बहुत खुश होकर उनकी इतनी मस्त मज़ेदार चुदाई करने के लिए धन्यवाद देने लगी. तब मैंने उन दोनों को भी मुझे उनकी सेवा करना का इतना अच्छा मौका देने के लिए धन्यवाद कहा और मैंने उनसे कहा कि आप लोगों के साथ मुझे यह सब करके बहुत अच्छा लगा आपने मेरा पूरा पूरा साथ दिया और अमित ने मुझसे कहा कि हम लोग फिर किसी दिन एक बार फिर से चुदाई का विचार जरुर बनाएगें तब तुम्हे हम जरुर याद करेंगे, प्लीज तुम हमारे बुलाने पर जरुर आ जाना और में उनको अपनी तरफ से कभी भी बुलाने पर आ जाने की बात कहकर वहां से निकल गया और में कुछ देर बाद अपने घर पहुंचकर उस मजेदार चुदाई के बारे में सोचने लगा.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  दोस्त और उसकी पटाखा बीवी की चुदाई

//समाप्त//

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!