भाई ने बीबी की चुत चोदकर गर्भवती किया- भाग 2

Bhai ne biwi ki chut chodkar garbhvati kiya- Part 2

मैंने भी दो तीन बार मुठ मारी और सो गया रात भर मै सपने में मालिनी को मनु के द्वारा अलग अलग आसनो में चुदाते देखा सुबह देखा तो मेरा बिस्तर मेरे वीर्य से भरा पड़ा था मुझे स्वप्नदोष हुआ था और मेरा वीर्य काफी ज्यादा गिरा था. उसके बाद दो तीन दिनों तक मैं मालिनी की चैट देख नहीं पाया, फिर तीसरे दिन मैं घर को रवाना हो गया उस समय कोरोना के कारण लॉकडाउन लग गया और मैं शायद १-२ महीने के लिए घर पर ही रहने वाला था तो मैंने पूरा बैग पैक कर लिया, जब मैं घर गया तो मुझे देख कर मालिनी खुश नहीं हुयी और जब मैंने बताया की अब १-२ महीने मैं यही रहूँगा तो उसका चेहरा उतर गया, वो पूरी तरह उदास हो गयी.

हालांकि वो मुझे दिखने के लिए बनावटी हँसी हँस रही थी. हर बार की तरह जब रात के समय मैंने मालिनी को नंगी किया और खुद नंगा हुआ तो उसने अपनी टाँगे फैला कर चुत खोल दी. मैंने गौर किया की उसकी चुत के ओंठ पूरी तरह फ़ैल गए है, मनु की जबरदस्त चुदाई के कारन उसकी चुत बहुत बड़ी हो गयी थी जिसे अब भोसड़ा बोला जा सकता था, मैंने जब अपने लंड का आकलन किया तो पाया की मै उसको चोदूंगा तो मेरा लंड तो उसकी चुत की दीवारों को भी नहीं टच कर पायेगा, जैसे तैसे मैंने उसकी चुत में लवड़ा डाला और हिलाने लगा लवड़ा इतनी आसानी से चला गया, मुझे मनु की ये बात याद आ गयी जब उसने बोला था की मुंबई में तेरी चुत का भोसड़ा बना दूंगा. जैसे तैसे मैंने अपना पानी निकाला.

मालिनी पूरी टाइम निढाल सी पड़ी रही न कोई एक्सप्रेशन न ही कोई ख़ुशी, मुझे ये देख कर अपने आप पर बहुत गुस्सा आया मैं अपनी बीबी से बहुत प्यार करता था और उसे दुःख में नहीं देख सकता था मेरा मन होने लगा की मैं वापस चले जाऊ, पर क्या करू मैं जा नहीं सकता था क्योकि मोदी ने २० दिन का लॉकडाउन लगा दिया था, घर पर सिर्फ मैं, मेरी माँ और मेरी बीबी ही थे मेरी बहन और मेरी बच्ची मेरी बड़ी बहन के घर गए थे और लॉकडाउन के कारन उनके यहाँ २० दिनों तक आने के कोई उम्मीद भी नहीं थी, चूँकि हम लोग दिनभर घर पर ही रहते थे तो मेरी बीबी और मनु का काम जम नहीं पा रहा था, वो दोनों मेरी उपस्थिति में कुछ नहीं कर पा रहे थे, मालिनी तो जैसे तैसे मुझ से चुद रही थी पर मनु की बीबी मायके गयी थी और उसके भी आने की उम्मीद नहीं थी इस कारण मनु का लंड चड्डी में ही फड़फड़ाता रहता था न तो वो मालिनी की चुत मार पा रहा था और नहीं बीबी की चुदाई कर पा रहा था. मालिनी मुझसे चुदती जरूर थी पर वो ख़ुशी उसके चेहरे पर नहीं होती थी और न की वो मुझसे झड़ पाती थी. जब भी मनु घर पर आता तो वो दोनों एक दूसरे को बड़ी ललचाई नजरो से देखते थे और कभी कभी अकेले में एक दूसरे को किस या फिर मनु मालिनी के स्तन दबा देता था.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  रूचि का बलिदान

ऐसे ही लॉकडाउन के ५ – ७ दिन बीत गए, एक दिन मेरे मामा के यहाँ से फ़ोन आया की मेरे नानाजी की हालत बहुत ख़राब है और डाक्टर ने ७-८ दिन की मोहलत दिया है और वो मम्मी को बहुत याद कर रहे है, हम तीनो जाने की तैयारी में लग गए अचानक मेरे दिमाग में आयडिया आया की क्यों न मालिनी को मनु के साथ यहाँ रख कर मैं और मम्मी ही चले जाये, वहा पर हमें कम से कम 8-10 दिन लग सकते थे, चूँकि घर में और कोई नहीं था तो यदि मैं मालिनी और मनु को एक साथ रखता तो मनु मालिनी को चोद चोद कर उसकी चुत का चुराड़ा मचा देगा साथ ही मालिनी भी काफी तृप्त जाएगी. मैंने अपनी माँ कहा – माँ यदि हम तीनो ही यहाँ से चले जायेंगे तो घर का ख्याल कौन रखेगा? मनु भैया ज्यादा से ज्यादा रात में रह सकते है, पर दिन में कोई न कोई तो होना ही चाहिए, माँ बोली तो क्या करेंगे अभी तो तेरे और मालिनी के अलावा घर में कोई भी नहीं है, तेरे को तो चलना ही पड़ेगा मैं ड्राइवर के साथ १६ घंटे का सफर नहीं करुँगी.

एक काम करते है मालिनी यहाँ मनु के साथ रह सकती. वैसे भी उसकी बीबी तो है नहीं तो मालिनी मनु की सारी जरूरतों को पूरा कर देगी (माँ के बोलने का मतलब खाने-पिने, कपड़े धोने आदि से था) मैं मन ही मन खुश हो गया, मेरा प्लान काम कर गया था, अब मालिनी मनु से बिना किसी रोकटोक के खुल के चुद सकती थी. उस दिन मैंने ई पास के लिए अप्लाई कर दिया वो एक दिन बाद का मिला, दोफहर में माँ भोजन करके सो गयी, मालिनी बेडरूम में पैकिंग कर रही थी मैं उसके पास गया और बोला मालिनी एक बुरी खबर है, तुम हमारे साथ नहीं चल पाओगी, तुम्हे यहाँ मनु भाई के साथ १० दिन रहना पड़ेगा, मालिनी बहुत खुश हुई, वो अपनी ख़ुशी दबाती हुयी बोली ठीक है कोई बात नहीं तुम आराम से आओ मैं और भैया यहाँ रह जायेंगे.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  गेंदामल हलवाई का चुदक्कड़ कुनबा-25

उतने में मनु भी घर आया मैंने ये बात उसे भी बताई तो वो भी बहुत खुश हुआ, मैंने मनु को बोला -“भैया मैं ई पास का प्रिंट ले कर आता हूँ, माँ भी सो गयी है तो आप मालिनी के साथ ५-१० मिनट पैकिंग में मदद करो” ये बोल के मैं बहार निकल गया हालाँकि मैंने प्रिंट पहले ही ला चूका था, पर मैं देखना चाहता था की ये दोनों मेरे जाने के बाद १० दिन का क्या क्या प्लान करते है, मैं जाने लगा तो मालिनी को मनु ने धीरे कहा आज से १० दिन रोज नए रिकॉर्ड (मालिनी के झड़ने के) बनाने और तोड़ने के लिए तैयार रहना, १५ वाला तो कल ही तुड़वाउंगा ये कह कर उसकी गांड को हलके से दबा दिया मालिनी ने भी मनु के लंड को हलके से दबा कर अपनी सहमति जताई.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

मेरे बेडरूम की एक खिड़की स्टोर रूम की तरफ खुलती थी जहा हमेशा अँधेरा ही रहता था, वहा हम लोगो ने अपना पुराना (कबाड़, टुटा फूटा ) सामान रखा हुआ था उस ओर बेमतलब कोई नहीं जाता था, मैं चुपचाप बिना आवाज किये स्टोर रूम में घुस गया और वहा एक ख़राब कुर्शी पर बैठ कर खिड़की की पतली सी झिरी से अंदर झाँकने लगा, बेडरूम में लाइट होने के कारन मुझे सारा नजारा साफ साफ दिखाई दे रहा था, बल्कि उनकी आवाज भी साफ साफ सुनायी दे रही थी. मेरे जाते ही मनु ने मालिनी को तुरंत अपनी बाहो में जकड लिया, वो उसके माथे, गाल और ओठों पर बुरी तरह किस करने लगा, मनु – ” मेरी जान आज पुरे ४ दिन हो गए तुझे चूमे हुए. मालिनी – ” हाँ मेरी जान और ये चार दिन मेरे लिए चार बरस बराबर है” मालिनी भी मनु को चूमने लगे दोनों पागल प्रेमी एक दूसरे में गुथ्थम गुथ्था हो कर प्यार कर रहे थे. मालिनी – “जान अब तुम्हारे बगैर मेरा एक पल भी बरसो के समान है.

अब तुम मुझसे कभी भी दूर मत होना”, मनु – “नहीं जान अब ये तुम्हारा मनु तुमसे कभी दूर नहीं होगा, भले ही मैंने विणा और मेघना की सील तोडा और उन्हें कई बारे चोदा पर प्यार तो मै तुमसे ही करता हूँ. मालिनी -” जान कल से मैं सिर्फ तुमसे ही चुदवाउंगी, उस चूतिया से मै कल के बाद कभी भी नहीं चुदवाउंगी, जान मै तुमसे आज कुछ मांगना चाहती हूँ, तुम मुझे मना मत करना, वरना मैं जिन्दा नहीं रहूंगी. मनु ने तुरंत मालिनी के मुँह पर हाथ रख दिया और बोला -” जान जिंदगी से भी बढ़कर कोई चीज है तो मुझसे मांगकर तो देखो, आइंदा कभी भी अपनी जान देने की बात मत करना क्योकि ये जिंदगी तुम्हारी नहीं मेरी है.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  एक साथ चार माल की चुदाई का मजा पाया-7

और मैं इसे ऐसे ही नहीं जाने दे सकता” मालिनी – “सॉरी जान! मैं चाहती हूँ की तुम प्रॉमिस करो की कल से तुम मेरी पति होंगे, मैं तुम्हारी दूसरी पत्नी बनूँगी जबकि वो चूतिया सिर्फ लोगो की नजरो में ही मेरा पति रहेगा, अब से मेरे सारे छेदो पर सिर्फ और सिर्फ तुम्हारा हक़ है, मैं पहले ही कह चुकी हूँ, की अब सिर्फ तुमसे ही चुदवाउंगी, कल हम लोग घर में ही शादी करेंगे मैं सिर्फ तुम्हारी ही रहूंगी, इन १० दिनों में और आने वाली सारी उम्र तुम ही मेरे पति रहोगी, पति पत्नी के सम्बन्ध भी अब हमारे बिच ही बनेंगे और हां जान मैं ये भी चाहती हूँ की तुम मेरे पेट में अपना बीज डाल दो, मैं अब तुमसे ही अपना बच्चा जनना चाहती हूँ, इन १० दिनों में कोई गर्भ निरोधक गोली नहीं खाउंगी, मैं अब तुमसे ही गर्भवती होना चाहती हूँ ये कहते हुए वो मनु को जोर जोर से चूमने लगी,

मनु बोला – मेरी शोना मुझसे इतना प्यार करेगी मैं तो जानता भी नहीं था, हम कल ही शादी करेंगे, मैं तुमसे वादा करता हूँ की १० दिनों के अंदर ही तुम गाभिन हो जाओगी, ऐसा कह कर मनु मालिनी का गाउन उतारने लगा, मालिनी ने मनु को मना करते हुए कहा – जान सिर्फ आज सब्र कर लो कल से मैं तुम्हारी हूँ, मनु ने अपने हाथ रोक दिया और कहा – डार्लिंग मैं तुमको अपने बच्चे की माँ जरूर बनाऊंगा, पर आज तुम गोली खाके आखिर बार उस चूतिया से चुद लेना और झूट मुठ के मजे लेते हुए उसका पानी अपने अंदर गिरवा देना जिससे तुम पर वो मादरचोद कभी शक भी नहीं कर पायेगा, इसके बाद दोनों अलग जो गए, अब कुछ देखने सुनने को कुछ रहा नहीं तो मैं भी घर आ गया. दोस्तों कहानी जारी है और इसका तीसरा भाग भी इसी तरह उत्तेजित करने वाला है, आप अपनी प्रतिक्रिया मुझे इस मेल id भेजने की कृपा करे [email protected]

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!