बीवी की चूत चुदाई उसके भाई से -2

(Biwi Ki Chut Chudai Uske Bhai se-2)

अब तक आपने पढ़ा..
मैं बोला- डिंपल अब कुछ देर मेरा लंड भी चूसो न..

अब वो हम दोनों के लंड को पूरे मस्ती से चूस रही थी। कुछ देर मेरा और कुछ देर उसका..
हम दोनों ने उसके एक-एक मम्मे को पकड़ रखा था। एक को मैं सहला रहा था और दूसरे को राजीव ने थमा हुआ था।
मैंने बोला- चलो बिस्तर पर चलते हैं।

इस तिकड़ी चुदाई का अब असली मजा आने वाला था इस मजे को मैं दूसरे हिस्से में लिखूँगा.. तब तक चूत में उँगलियाँ और लौड़े को मुठ्ठी में हिलता रहना चाहिए।

अब आगे..

फिर बिस्तर पर डिंपल ने उसका लंड और चूसना शुरू किया.. मैंने डिंपल की चूत को चाटना शुरू किया। मैं उसकी चूत को दोनों हाथों की ऊँगलियों से खोल कर जीभ अन्दर डाल कर चूस रहा था।
वह मचलने लगी.. और उसकी चूत से पानी आने लगा। नमकीन पानी ने मेरी जुबान की स्पीड बढ़ा दी और मैंने जीभ को और अन्दर तक डाल कर चाटना शुरू किया।

अब राजीव की सिसकारी निकलने लगी- आहह.. डिंपल.. मेरी जान डिंपल.. चूस्स्स लो मेरी जान अहन्न.. डिंपल… मजा आ रहा है।
डिंपल भी इस आवाज को सुन कर लंड को और पूरा मुँह में लेकर चूसने लगी, उसकी चूत पानी छोड़ रही थी और मेरा पूरा मुँह उसके पानी से भर गया था।

फिर इधर राजीव ने अपना माल छोड़ा और उसने लंड को बाहर खींच लिया और बाहर ही अपना माल छोड़ने लगा।
उधर डिंपल की चूत ने भी एक साथ खूब पानी छोड़ा। दोनों एक बार खाली हो गए।
राजीव अब डिंपल को प्यार से किस कर रहा था और दोनों के होंठ चिपके हुए थे। दोनों पूरे मनोयोग से किस कर रहे थे। राजीव के हाथ डिंपल के चूतड़ों को सहला रहे थे। डिंपल के दोनों हाथ उसकी पीठ पर थे और वह उसे अपनी ओर खींच रही थी।
यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !

इस नजारे को देख कर मेरा लंड खूब टाइट हो रहा था। मैंने नीचे बैठ कर राजीव के लंड को हिलाना शुरू किया और दूसरे हाथ से डिंपल की चूत के कोने को सहलाना शुरू किया।

दोनों में फिर से गर्मी आने लगी। राजीव का लंड करीब छह इंच का था और मोटा भी था। मैंने उसके टोपे की चमड़ी को पीछे खींचा और अपनी मुठ्ठी में भर कर लौड़े को हिलाने लगा।

अब मेरा मन उसके लंड को चूसने का कर रहा था.. और फिर मैंने भी उसके लंड को अपने मुँह में ले लिया।
यह देख कर डिंपल बोली- हाँ चूस लो.. तुम्हारा तो मन भी था राजीव का लंड लेने का..
राजीव तो मजे से पागल था।

मैं बोला- डार्लिंग मैं तुम्हारे लिए तुम्हारे भाई के लंड को तैयार कर रहा हूँ और अब यह तुम्हें चोदेगा और उसके बाद मैं तुम्हें चोदूँगा.. राजीव आओ आज मिल कर तुम्हारी बहन चोदें..

डिंपल ने बिस्तर पर लेट कर अपनी टाँगें खोल दीं और चूत पर थपकी देते हुए बोली- आ जाओ दोनों.. और मुझे चोदो.. देखती हूँ तुम दोनों के लंड में कितना दम है?

यह सुन कर राजीव ने अपना लंड डिंपल की चूत पर लगाया.. दोनों हाथों से उसके मम्मों को पकड़ा और जोर का धक्का मारा। उसका लंड डिंपल की चूत में अन्दर तक घुस गया।

डिंपल ने एक मादक ‘आह्ह..’ करते हुए बोला- चोद.. घुसा दे.. पूरा घुसा.. चोद बहनचोद.. मुझे.. चोद.. पूरा लंड पेल कर चोद..
मैं डिंपल की तरफ आया और लंड उसके मुँह में दे दिया और बोलो- तुम इसको भी चूसो..
राजीव डिंपल को दनादन पेल रहा था, दोनों की मस्त आवाजें निकल रही थीं.. फच.. फच.. थप.. थप..
मादक और कामुक आवाजें कमरे में गूंज रही थीं।

डिंपल ने दोनों टाँगें उठा कर उसकी पीठ को पकड़ लिया और राजीव और जोर से पेलने लगा।
मैं बोला- राजीव अब तुम इसको अपना लंड चुसवाओ.. और मैं इसकी चूत चोदता हूँ।
मैंने डिंपल को कुतिया के पोज में पलटा और वह अपने घुटनों पर आ गई।

राजीव ने उसके मुँह के सामने आ कर उसको लंड चुसवाने लगा और मैं पीछे से उसकी चूत में लंड पेलने लगा।
मैं उसको पीठ से पकड़ कर उसकी चूत में लंड पेल रहा था और उसकी गाण्ड देख कर मेरा लंड टाइट हो चला था और अन्दर तक उसकी चूत में जा रहा था।

चुदते हुए बीच-बीच में डिम्पल हमें उकसा रही थी- चोदो जोर से.. मादरचोद.. लंड में दम नहीं रहा..क्या.. खूब जोर से चोदो..
उसकी चूत पानी पर पानी छोड़ रही थी।
मैंने बोला- डिंपल डार्लिंग.. दोनों लंड एक साथ लोगी क्या?
वह मना कर रही थी.. पर मैं राजीव को बोला- आ जाओ.. आज इसकी चुनौती को पूरा करते हैं।

अब मैं नीचे बैठ गया और डिंपल को अपनी गाण्ड मेरे लंड पर लगा कर बैठने को बोला.. पर लंड उसकी गाण्ड में अन्दर नहीं जा रहा था।

फिर राजीव को मैंने बोला- बाथरूम से वैसलीन की डिब्बी ले आओ।
वह वैसलीन लाया और मैंने खूब सारी वैसलीन उसकी गाण्ड में अन्दर तक लगा दी।
फिर मैंने अपने लंड को उसकी गाण्ड पर लगाया और बोला- जान मेरी तरफ मुँह करके धीरे-धीरे मेरे लौड़े पर बैठो।
वो मेरे लौड़े पर बैठने लगी। अब धीरे-धीरे लंड उसकी गाण्ड में अन्दर जाने लगा।

मैं उसको किस कर रहा था और वह लंड के ऊपर जोर लगा रही थी। अब मैंने उसे घूम जाने को बोला और उसकी पीठ मेरी तरफ हो गई और आगे राजीव अपना लौड़ा हिलाते हुए उसका इंतजार कर रहा था।

अब राजीव ने उसे मेरे ऊपर धकेला और मैंने उसके दोनों मम्मों को हाथ बढ़ा कर पकड़ लिया।

अब उसकी चूत राजीव के लिए इंतज़ार कर रही थी। उसने उसके चूत पर लंड लगाया और पेलना शुरू किया।

अब डिंपल की आवाजें की सिसकारी भरी आवाजें आने लगीं- धीरे.. बहनचोद.. एक मादरचोद पहले ही मेरी गाण्ड में घुसा है..
पर राजीव का लंड तो तना हुआ था और उसने दो ही झटकों में पूरा लौड़ा चूत के अन्दर पेल दिया।
अब वह हमारे बीच में सैंडविच जैसी फंसी थी और उसके दोनों छेदों में हमारे लंड घुसे थे।

मैंने राजीव को बोला- शुरू करो.. और भाई वाला प्यार दिखाओ।
फिर राजीव ने अपनी बहन की चूत में जोर से लंड को पेलना शुरू कर दिया।
वह लंड को पूरा बाहर निकाल कर और फिर पूरा अन्दर पेल रहा था। हर झटके पर डिंपल उसके लिए गाली निकालती थी.. और वह उसे और जोर से चोदता था।

मैं धीरे-धीरे नीचे से हिल रहा था.. और डिम्पल की चूत से पानी बहना शुरू हो गया।
अब ‘फच.. फच.. छप.. छप..’ की आवाजें आने लगीं।

राजीव ने चरमानन्द की सिसकारी भरनी शुरू की- आह.. मैं छूटने वाला हूँ..
डिंपल बोली- बहन के लण्ड.. मेरा तो पहले से ही पानी निकल रहा है.. आजा. और मैं एक बार फिर से जाने वाली हूँ.. और जोर से चोद.. भैनचोद.. जोर से जोर से.. आह्ह.. जोर से..
राजीव ने अपनी स्पीड बढ़ा दी.. और दोनों ने एक-दूसरे को कस कर पकड़ लिया और चिपक गए।
अब दोनों का पानी छूटने लगा और उसी समय मेरे लंड ने भी पानी छोड़ना शुरू कर दिया।

इस तरह हम तीनों का पानी एक साथ निकला.. और कुछ देर हम तीनों ऐसे ही पड़े रहे।
फिर मैंने अपने लंड को साफ़ किया और बोला- अब मेरी बारी.. तुम दोनों मिल कर मेरा लंड खड़ा करो और मैं तुम्हें चोदूँगा।

दोनों ने मेरे लंड को सहलाना शुरू किया। एक बार डिंपल लंड को चूसती और एक बार राजीव चूसता।
थोड़ी देर में मेरा लंड खड़ा हो गया और मैंने बोला- डिंपल अब एक बार फिर तुम्हारी चूत पानी छोड़ेगी।
डिंपल बोली- तो मैंने कब मना किया है.. आ जाओ और चोद दो मेरी इस निगोड़ी चूत को..
वह बिस्तर पर रण्डियों के जैसे टाँगें पसार कर लेट गई।

मैंने भी उसकी दोनों टांगो को उसकी छाती से मोड़ कर लगाया और उसकी चूत में लंड पेलना शुरू किया। मैं उसे खूब जोर से चोद रहा था और पेले जा रहा था..और बहुत देर पेलने के बाद मैं और डिंपल दोनों ने पानी छोड़ दिया और मैं उसके ऊपर गिर गया।

यह हमारा एक और मजेदार सेक्स अनुभव था और हम तीनों ने खूब मजा लिया।

Loading...