बीवी की एक कामुक दोस्त को चोदा-3

Biwi ki ek kamuk dost ko choda-3

वो धीरे धीरे गहरी गहरी और लंबी लंबी सांसे ले रही थी, जिससे उसके बूब्स बड़े ही आराम से ऊपर नीचे हो रहे थे और मुझे उन्हे देखकर ऐसा लग रहा था कि उसके बूब्स कभी भी ब्लाउज को फाड़कर बाहर आ जाएगें और थोड़ी देर हम लोग ऐसे ही एक दूसरे को देखते हुए खोए हुए बिल्कुल शांत बैठे रहे फिर आख़िर में रुची ने अपनी चुप्पी तोड़ी.

रुची : में कॉफी बनाकर लाती हूँ.

में : छोड़ो ना, रहने दो कॉफी क्या करना है? अभी तो पी थी.

रुची : क्यों क्या हुआ? चलो कोई नहीं, में समझ गई?

में : क्या समझ गई?

रुची : यही कि तुम नहीं चाहते कि में तुम्हारे सामने से उठकर कहीं भी जाऊँ.

में : हाँ, तुमने बिल्कुल ठीक ही समझा.

रुची : तुमको ऐसे मज़ा मिल रहा है ना, क्या चाहते हो खुलकर बताओ? तुम्हारे दिमाग में क्या है और में तुम्हारी बीवी को कभी कुछ नहीं कहूँगी तुम मुझसे कुछ भी कह सकते हो और तुम मुझे पर पूरा विश्वास कर सकते हो.

में : (अपने लंड को मसलते हुए) क्या बोलूं? बस यही है कि तुम बहुत सेक्सी लग रही हो.

रुची : क्या और भी देखना चाहते हो? में जो ड्रेस लाई हूँ वो में अभी तुमको पहनकर दिखाती हूँ.

तो यह कहकर रुची ने शॉपिंग बेग का सामान टेबल पर रख दिया, उसमें दो ब्लाउज एक काला और एक लाल कलर का था, लेकिन एक काली बिकिनी टाईप थी.

रुची : चलो में तुम को यह काला ब्लाउज पहनकर दिखाती हूँ.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  चुदाई का संदेशा

में : चलो ठीक है.

दोस्तों यह बात कहकर रुची ने वो काला वाला ब्लाउज उठाया और अंदर बेडरूम में चली गई और जब वो वापस आई तो उसके जिस्म पर साड़ी नहीं थी, उसने सिर्फ़ पहले वाला पेटीकोट पहना हुआ था और काले कलर का नया वाला ब्लाउज पहना हुआ था.

रुची : क्यों मुझ पर कैसा लग रहा है यह ब्लाउज?

में : (लंड मसलते हुए) बहुत ही हॉट, सेक्सी.

रुची : अब यह लाल वाला पहनकर आती हूँ.

में : ठीक है.

दोस्तों रुची जब लाल कलर का ब्लाउज पहन कर आई तो वो पीछे से पूरा खुला हुआ था और थोड़ा साईज़ की वजह से वो बंद नहीं हो रहा था.

रुची : देखो ना यह ग़लत आ गया है मुझसे तो यह बंद ही नहीं हो रहा.

में : चलो छोड़ो ना इसे, तुम दूसरा पहनकर देखो.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

रुची : दूसरा क्या? यह बिकिनी है क्या तुम सही में चाहते हो कि में यह तुम्हारे सामने पहनकर दिखाऊँ? रूको में अभी यह पहन कर आती हूँ, तुम्हारे लिए तो में पूरी नंगी भी हो सकती हूँ.

दोस्तों सच कहूँ तो रुची जब वो बिकिनी पहनकर आई तो में सोफे से उठकर अपना लंड पकडकर खड़ा हो गया और फटी आँखों से उसके बदन को घूरने लगा और पेंट के ऊपर से अपना लंड सहलाने लगा.

में : वाह तुम बहुत सेक्सी लग रही हो और अब में तुमको घूरना कंट्रोल नहीं कर सकता.

रुची : हाँ वो तो मुझे दिख ही रहा है जिस तरह से तुम मुझे देख रहे हो.

में : हाँ और क्या?

रुची : वो क्या है? (रुची ने मेरे लंड की तरफ इशारा किया जिसे में सहला रहा था)

हिंदी सेक्स स्टोरी :  दोस्त की बहन प्रिया की चुदाई-1

में : सॉरी और फिर मैंने लंड से अपना हाथ हटा लिया.

रुची : सॉरी बोलने की क्या ज़रूरत है करते रहो में कुछ नहीं कहूंगी.

में : क्या करता रहूं?

रुची : वही जो इतनी देर से मुझे देखकर कर रहे हो और मसलते रहो अपना लंड मुझे देखकर. मुझे पता है कि में बहुत सेक्सी हूँ और अब इस समय हम दोनों यहाँ पर बिल्कुल अकेले है तो फिर ले लो मज़े, किसने रोका है तुमको कुछ भी करने से.

में : तुम अभी बोलकर गई थी कि मेरे लिए नंगी हो सकती हो.

रुची : हाँ ठीक है, लेकिन में पहले से ही आधी नंगी हूँ, अब पहले तुम अपने कपड़े उतारो और अगर में अपने हाथों से तुम्हारे कपड़े उतार दूं तो? मुझे तुमको नंगा करने में बहुत मज़ा आएगा.

में : तुम मेरे साथ कुछ भी करो में कुछ नहीं कहूँगा.

रुची : चलो फिर बेडरूम में चलते है.

में : ठीक है.

फिर बेडरूम में जा कर रुची ने एक एक करके मेरे सारे कपड़े उतार दिए और में अब उसके सामने सिर्फ़ अंडरवियर में था और फिर रुची ने अपनी ब्रा को भी उतार दिया और एक तरफ उछाल दिया फिर वो मेरे पास आई और मेरे लंड को अंडरवियर के ऊपर से ही पकड़ कर मसलने लगी. मैंने रुची को अपनी तरफ खींचा और अपने होंठो को उसके होंठ पर रख दिए और किस करने लगा और मैंने उसको एक लंबा किस दिया. मेरी पकड़ बहुत मजबूत थी मेरा और रुची का हग अब और भी टाईट होता जा रहा था मैंने रुची के होंठ, गाल, गर्दन और बूब्स के ऊपर किस करना शुरू कर दिया.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  बीवी की एक कामुक दोस्त को चोदा-2

में : आ जाओ रुची, ले लो मेरा लंड, में तुम को हमेशा से चाहता था. मुझे कब से तुम्हारी लेनी थी, लेकिन आज मौका मिल ही गया. तुम्हारा बहुत धन्यवाद मुझे यह मज़ा देने के लिए, तुम बहुत अच्छी हो, में तुमसे बहुत प्यार करता हूँ रुची.

अब रुची ने अपने आप को पूरी तरह मुझे सोंप दिया. में उसके पूरे शरीर पर हाथ फेर रहा था और उसे जोश में आकर उसके पूरे शरीर पर किस कर रहा था मेरे मन की इच्छा आज सच हो रही थी और अब मुझे किसी बात की परवाह नहीं थी. तो मैंने अपना एक हाथ रुची के बूब्स पर रख दिया और धीरे धीरे दबाना करना शुरू किया और ब्लाउज के ऊपर से उसके निप्पल ढूंढने लगा.

आगे की कहानी अगले भाग में-

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!