बॉयफ्रेंड के साथ पहली रात-1

Boyfriend ke sath pahli raat-1

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम गौरी है और मेरी उम्र 23 साल है. मेरे फिगर का साईज 32-26-30 है और में दिखने में बहुत सेक्सी हूँ. मुझे देखकर बहुत से लड़के मुझे लाईन मारते है, लेकिन में उन्हें आगे नहीं बढ़ने देती, क्योंकि मेरा एक बहुत अच्छा दोस्त है और वो ही मेरे लिए सब कुछ है. दोस्तों में इस वक्त एक प्राइवेट कम्पनी में नौकरी कर रही हूँ और मेरा एक बॉयफ्रेंड है जिसका नवीन है, वो एक बहुत बड़ा बिजसमेन है, वो 26 साल का है.

दोस्तों हम दोनों के रिश्ते को पूरे तीन साल हो चुके है, लेकिन हम आज तक एक साथ रात को सोए नहीं, हाँ हमारे बीच किस और दूसरे काम उनके घर पर ही होते रहते है, लेकिन मुझे बहुत अच्छी तरह से पता है कि जो मज़ा रात को है वो दिन में नहीं है. तो दोस्तों में आज आप सभी को मेरे साथ हुई एक सच्ची बात बताने जा रही हूँ जिसने मेरा पूरा सोचने समझने का नजरिया ही बदल दिया, मेरे जीने का हर एक तरीका उस घटना के बाद बिल्कुल बदल सा गया और आज में वही आप सभी को बताने जा रही हूँ और में उम्मीद करती हूँ कि इसको पढ़कर आप सभी को बहुत मज़ा आएगा, क्योंकि यह मेरी साथ हुई एक सच्ची घटना है कोई झूटी कहानी नहीं है और वैसे भी सेक्स तो सभी करते है, लेकिन हमारे बीच जो उस रात को हुआ में उसे सेक्स नहीं बल्कि हमारा एक दूसरे के लिए प्यार कहती हूँ और अब उस बात की तरफ आगे बढ़ती हूँ.

एक दिन मुझे अपनी कम्पनी के एक जरूरी काम के सिलसिले में दिल्ली जाना पड़ा, दोस्तों उस वक्त मेरा और नवीन का एक छोटी सी बात को लेकर झगड़ा चल रहा था और वैसे हर किसी के बीच ऐसा छोटा मोटा झगड़ा होता रहता है, ठीक वैसा ही हमारे बीच हुआ था. में अकेली उसे बिना बताए दिल्ली चली गई, लेकिन जब यह बात नवीन को पता चली तो वो भी मेरे पीछे पीछे दिल्ली भाग आया और फिर उसने मुझे फोन करके में जिस होटल में रुकी हुई थी उस होटल का नाम पता पूछा और अब वो वहीं पर अपना एक दूसरा रूम लेकर रुकने लगा.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  BHABHI Aor uss ki Sister Behani DIDI ko saari raat choda-11

कुछ देर के बाद जब में अपने रूम से बाहर निकली तो मैंने अचानक से उसे अपने रूम के बाहर खड़ा हुए पाया और में उसे देखकर बहुत हैरान हो गई, दोस्तों मुझे उसके इस तरह अचानक से बिन बताए मेरे सामने आने पर बिल्कुल भी विश्वास नहीं हो रहा था क्योंकि मैंने ऐसा कभी सोचा भी नहीं था कि वो मुझसे मेरी होटल का पता पूछकर इस तरह से ठीक मेरे सामने आकर खड़ा हो जाएगा? मैंने उससे बहुत आशचर्यचकित होकर पूछा क्यों नवीन तुम यहाँ कैसे? तो उसने कहा कि हाँ मैंने सोचा कि हमारे बीच का यह झगड़ा कब तक चलेगा अब इसे यहीं पर खत्म हो जाना चाहिए, में बस अब उसे यहीं पर खत्म करने आया हूँ और अब मैंने सोचा कि चलो ठीक है जो होगा देखा जाएगा, दोस्तों वो मेरी हर एक बात का जवाब मुस्कुराकर दे रहा था.

मैंने उसे अंदर बुलाया चाय, पानी पिलाया और उसके कुछ देर बाद हम दोनों अपनी बातें खत्म करके फिल्म देखने निकल गये. उसने मुझे वहां पर बहुत बार किस किए और इसके बाद हमारी लड़ाई पूरी तरह यहीं पर खत्म हो गई थी और हम हंसी ख़ुशी वहां से एक दूसरे के हाथ पकड़े अपने होटल में पहुंच गए और रात को हम दोनों अपने अपने होटल रूम में चले गये, तभी अचानक से रात के करीब 12.30 मेरे रूम का दरवाजा किसी ने खटखटाया और जब मैंने दरवाजा खोलकर देखा तो वो नवीन था.

मैंने उससे पूछा कि क्या हुआ? तो उसने मुझसे कहा कि में बहुत देर से सोने की कोशिश कर रहा हूँ, लेकिन पता नहीं क्यों मुझे नींद नहीं आ रही है? मैंने उससे कहा कि चलो अंदर आ जाओ, हम बैठकर बातें करते है. तो हम दोनों एक साथ बेड पर लेट गये और हमने अपनी बातें शुरू की और फिर कुछ देर बाद बातों ही बातों में एक बार फिर से हमारे बीच झगड़ा हो गया, में सो गई और जब में सुबह उठी तो मैंने देखा कि नवीन ने मुझे अपनी बाहों में भरा हुआ था और उसका एक हाथ मेरी गर्दन के नीचे से होता हुआ मेरी छाती पर था और उसका दूसरा हाथ मेरे पेट से होता हुआ मेरी कमर पर था.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  मुंबई में मारी पूजा की गाण्ड

वो मुझसे पूरी तरह से लिपटकर सोया हुआ था और उसका मेरे लिए यह सब प्यार देखकर मेरा सारा गुस्सा पिघल सा गया और फिर हम दोनों ने पूरा दिन एक साथ हंसी ख़ुशी बिताया. दोस्तों अब बात आती है उस रात की उस रात हमारे बीच क्या हुआ जिसके बाद मुझे नवीन पर गुस्सा आ रहा था, लेकिन बाद में वो तुरंत प्यार में बदल गया? दोस्तों में जैसे ही बाथरूम से नहाकर बाहर निकली तो मैंने देखा कि नवीन की निगाहे मुझसे बिल्कुल भी हटने को तैयार नहीं थी, वो मुझे लगातार भूखी नजरों से देखे जा रहा था और फिर उसने मुझसे मुस्कुराकर कहा कि क्या बात है आज तुम बहुत सेक्सी दिख रही हो? दोस्तों मैंने उस वक्त बिना बाह की हॉट मेक्सी जो कि ज्यादा बड़े गहरे गले की थी और उसमे से मेरे बड़े बड़े बूब्स बाहर आने को बेकरार थे. में बिना कुछ बोले ही बेड पर जाकर लेट गई और और मैंने ए.सी चालू करके पास ही पड़ी एक चादर ओढ़ ली.

तभी नवीन ने मुझसे कहा कि इसे अपने इस जिस्म के ऊपर से हटाओ प्लीज, मुझे आज तुमको जी भरकर देखना है, मैंने कहा कि नहीं तुम अब यह सब बंद करो और बिल्कुल चुपचाप सो जाओ. अब हम दोनों सोने लगे, करीब रात के 1.30 बजे में बहुत गहरी नींद में थी और फिर मुझे कुछ ऐसा महसूस हुआ कि में बिल्कुल हैरान रह गई क्योंकि जब मेरी नींद खुली तो मुझे महसूस हुआ कि नवीन की उंगलियां मेरी पेंटी के ऊपर से मेरी चूत को छू रही है, लेकिन तब भी मैंने अपनी आखें बंद रखी और उसे ऐसा दिखाया कि में बहुत गहरी नींद में सो रही हूँ, थोड़ी देर बाद उसकी हिम्मत और जोश दोनों ही बढ़ने लगे और अब उसने मेरी पेंटी को एक साईड से थोड़ा ऊपर किया और अब वो अपनी उंगलियां धीरे धीरे मेरी चूत के ऊपर नीचे सहलाने लगा, लेकिन में अभी भी चुप रही क्योंकि मुझे उसके हाथों से मेरे बदन को छूना बहुत अच्छा लगा.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  माँ और अंकल की मिलन रात-1

मुझे बहुत मज़ा आ रहा था इसलिए में वैसे ही पड़ी रही और मज़े लेती रही. फिर उसने दूसरे हाथ से उस चादर को हटा दिया और मुझे घूर घूरकर देखने लगा, मुझे देख वो अब गरम हो गया और उसने एक हाथ से मेरी पूरी पेंटी को नीचे सरका दिया और अब वो हल्के हल्के हाथों से अपनी एक ऊँगली से मेरी चूत को सहलाने लगा. तभी अचानक से उसका दूसरा हाथ मेरे बूब्स पर पड़ा और अब वो मेरे बूब्स को दबाने लगा, अब उसने मेरी मेक्सी को ऊपर से खोलकर थोड़ा नीचे सरका दिया और वो मेरी ब्रा के ऊपर से ही मेरे बूब्स को ज़ोर ज़ोर से दबाने निचोड़ने लगा, लेकिन कुछ देर बाद उसे ऐसा करने से ज्यादा मज़ा ना आने के कारण उसने मेरी ब्रा को भी खोल दिया.

में अब बहुत शरमा रही थी, लेकिन में फिर भी वैसे ही चुपचाप पड़ी रही और अब उसने मेरा एक बूब्स अपने एक हाथ से मसलना ज़ोर से दबाना शुरू कर दिया कुछ देर यह सब करने के बाद उसने अपने होंठो से मेरे एक बूब्स के निप्पल को चूसना शुरू करते हुए मेरी चूत के अंदर हल्की सी ऊँगली को अंदर डालकर धीरे धीरे करते हुए उसने दो इंच ऊँगली को अंदर कर दिया और अब अपनी ऊँगली को आगे पीछे करके उसने मेरी चुदाई को शुरू कर दिया था और में मचलने लगी, लेकिन अब मुझसे सोने का नाटक और नहीं हो पा रहा था तो में आहे भरने लगी और अपने एक हाथ से उसकी पेंट से उसके लंड को बाहर निकालकर उसे रगड़ने लगी तो उसने मुझे एकटक नजर से देखा और फिर ज़ोर से मेरे एक बूब्स पर ज़ोर से काट लिया जिसकी वजह से में बहुत ज़ोर से चीखी चिल्लाई आईईईईइ आआअहह.

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!