चाची का सेक्सी जिस्म और मेरे लन्ड की हवस–2

Chachi ka sexy jism aur mere lund ki hawas-2

चाची– आईईईई आईईईई आह आह ऊंह ओह आह आह ऊंह।
मैं चाची की गर्दन को अच्छी तरह से चूम रहा था।चाची गरम होकर हिचकोले खा रही थी।
चाची– आह आह ओह ओह ऊंह आह ओह।
तभी मैंने चाची के बूब्स को छोड़ा और चाची की गरम गरम चूत में हमला कर दिया। अब मैं चाची की चूत को अच्छी तरह से रगड़ने लगा। अब चाची बहुत ज्यादा मचलने लगी।
चाची– आईईईई आईईईई आईईईई ओह ओह आह आह आह ओह। उन्हहह।
धीरे धीरे मै स्पीड बढ़ाते हुए चाची की चूत को दोनों हाथों से कुरेदने लगा। अब चाची की गांड़ फटने लगी। अब वो बहुत ज़ोर ज़ोर से सिसकारियां भरने लगी।

चाची– आईईईई आईईईई आईईईई आई आई ओह ओह ओह ओह ओह आह आईईईई।
मैं ज़ोर ज़ोर से चाची की चूत को खोद रहा था।चाची दर्द से तड़प रही थी।।मुझे चाची की चूत को खोदने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था।मेरे दोनों हाथों की उंगलिया चाची की चूत की खुदाई करने में लगी हुई थी।चाची बुरी तरह से तड़प रही थी।
चाची– आईईईई आईईईई आईईईई आईईईई आईईईई आई ओह ओह ओह।
चाची की चूत बुरी तरह से गरम हो चुकी थी।तभी मैंने चाची को सोफे पर पटक दिया और मै फटाफट चाची के सेक्सी जिस्म पर चढ गया। अब मैंने चाची को मेरी पकड़ में अच्छी तरह से दबोच कर चाची के रसीले होंठो को मेरे प्यासे होंठो में फंसा लिया और फिर दे दना दन चाची के होंठो को चूसना शुरू कर दिया।

मैं चाची के होंठो को बुरी तरह से चूस रहा था।चाची भी आज बुरी तरह से चुदासी होकर मेरे होंठो को खा रही थी।हम दोनों चुदाई के नशे में बुरी तरह से डूब चुके थे।पूरे हॉल में होंठो को चूसने की आवाजे आने लगी।ऊंह आउच पुच्छ पुच्छ पुच्छ आह ऊंह आउच पुच्छ पुच्छ पुच्छ पुच्छ पुच्छ पुच्छ पुच्छ की आवा से हॉल गूंज उठा।हम दोनों भूखे जानवरो की तरह एक दूसरे के होंठो को खाए जा रहे थे।मेरे पूरे जिस्म का दबाव चाची के सेक्सी जिस्म पर पड़ रहा था।फिर हमने बहुत देर तक होंठो को चूसा।
अब मैं चाची की गर्दन पर किस करने लगा।मुझे सी की गौरी चिकनी गर्दन पर किस करने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था।तभी चाची ने मुझे बाहों में घे लिया और मेरी पीठ को कोमल कोमल हाथो से सहलाने लगी। चाची मदहोश होकर नाखूनों को मेरी पीठ को गढ़ाने लगी। अब तक चाची बहुत ज्यादा गरम हो चुकी थी।लेकिन आज मै चाची को बुरी तरह से पिघलाना चाहता था इसलिए मैंने चाची की गर्दन पर बहुत देर तक किस किए।
अब मै चाची के बूब्स को टूट पड़ा और भाव विभोर होकर चाची के गाजराए अमरूदों को अच्छी तरह से दबाने लगा।चाची दर्द से करहाने लगी।
चाची– आईईईई आईईईई आई आई आह आह आह आईईईई।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  गर्लफ्रेंड की माँ की चुदाई की

मैं ताबड़तोड़ बल्लेबाजी करते हुए चाची के अमरूदों को दबा रहा था।कुछ ही में मैंने चाची के अमरूदों के बगीचे को तहस नहस कर दिया। अब मैं चाची के मस्त शानदार अमरूदों को चूसने लगा।मुझे चाची के अमरूदों को चूसने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था।आज चाची बिना कोई नखरे दिखाए अच्छी तरह से मुझे अमरूद खिला रही थी।चाची गरम होकर मेरे बालो में हाथ डालकर सहला रही थी। कल हुई चुदाई के बाद आज चाची चुदवाने के लिए फूल मूड में थी।आज चाची ज़रा सा भी दिखावा नहीं कर रही थी।

मैं चाची के बड़े बड़े बूब्स को अच्छी तरह से चूस रहा था। मैं चाची के बड़े बड़े बूब्स को बड़ी मुश्किल से मुंह में भर रहा था।बीच बीच में मै चाची के मस्त बूब्स को काटने भी लगा जिससे चाची एकदम उछल पड़ती थी।उनकी सिसकारिया फुट पड़ती थी।

कुछ ही देर में मैंने चाची के बूब्स को अच्छी तरह से चूस डाला था। अब चाची की चूत की बारी थी। अब मैं चाची की चूत तक सरका और फिर चाची की दोनो टांगो को फैला कर हवा में लहरा दिया। अब चाची की गरम गरम चूत मेरे लन्ड के सामने थी।चाची की चूत का नज़ारा देखते ही मेरा लन्ड चाची की चूत मांगने लगा।फिर बड़ी मुश्किल से मैंने लंड को समझाया। अब मैं चाची की चूत पर टूट पड़ा और चाची की दोनो जांघो को पकड़कर भूखे शेर की तरह चाची की गरम गरम चूत को चाटने लगा।मुझे आज चाची की चूत को चाटने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था। मैं जल्दी जल्दी चाची की चूत को चाट रहा था। अब चाची भी फूल मूड में आकर मेरे बालो में हाथ डालने लगी।आज चाची को भी चूत चटवाने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था।
चाची– आह आह आह ऊंह आह ऊंह ओह आह ऊंह।ओह ओह।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  मौसी को रात में पापा ने पेला दिन में मैंने ठोका–1

मैं पागल सा होकर चाची की चूत को अच्छी तरह से पिघला रहा था।तभी मैंने चाची की चूत में मेरी जीभ घुसा दी और मै चाची की चूत के दाने को रगड़ने लगा। अब तो चाची की गांड़ फटकर हाथ में आ गई।वो बुरी तरह से मचलने लगी और ज़ोर से मेरे सिर को चूत पर दबाने लगी।
चाची– आह आह आह आईईईई आईईईई ओह आह आह आह आईईईई।
अब चाची से मेरी जीभ का प्रहार सहन करना मुश्किल हो रहा था।वो बुरी तरह से तड़प रही थी।
चाची– आईईईई आईईईई आई ओह ओह ओह ओह।
मैं चाची की चूत चाटने का पूरा मज़ा ले रहा था।कुछ देर बाद मुझे महसूस होने लगा कि चाची अब किसी भी टाइम झड़ सकती हैं।

तभी मैंने चाची की चूत को चाटना छोड़ा और चाची की चूत की दोनो पंखुड़ियों को फैलाकर उनके बीचोबीच मेरा लंड सेट कर दिया। अब मैंने चाची की दोनो टांगो को अच्छी तरह से पकड़ा।चाची अजीब सी नज़रों से मेरे लन्ड की ओर देख रही थी। तभी मैंने ज़ोरदार धक्का लगाया और मेरा लन्ड ज़ोरदार धक्के के साथ चाची की चूत के गुलाबी दाने को रगड़ता हुआ सीधे चाची की चूत के गर्भ गुफा में उतर गया।लंड चूत में घुसते ही चाची दर्द से चीख पड़ी।
चाची– आईईईई ओह आईईईई ऊंह ओह आईईईई।

चाची दर्द से तड़पने लगी। मैं दे दना दन चाची को चोदने लगा।चाची दर्द से तड़पते हुए चेहरे को इधर उधर पटकने लगी। मैं गांड़ हिला हिलाकर चाची को सोफे पर पटक कर चोद रहा था।मुझे चाची की मखमली चूत को चोदने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था।मेरा लन्ड घापाघप चाची की चूत में अंदर बाहर हो रहा था।मेरे हर एक धक्के के साथ चाची का दर्द बढ़ता जा रहा था। मैं चाची को पूरी गांड़ की ताकत लगाकर चोद रहा था।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  मामीजी एक रजाई के चक्कर में चूत ठुकवा बैठी–2

थोड़ी सी देर में ही मेरे लन्ड ने चाची की हालत खराब कर दी।उनसे मेरे लन्ड का कहर नहीं झेला जा रहा था।इधर मेरा लन्ड आज फूल मूड में था।आज मै चाची को अच्छी तरह से बजाना चाहता था।वैसे तो मैं कल ही चाची की चूत का भोसड़ा बना चुका था लेकिन फिर भी मेरे लंड में चाची की चूत के लिए कसक बाकी थी।आज मै चाची को अच्छी तरह से चोदकर मेरे लन्ड की कसक मिटाना चाहता था।

कहानी जारी है…………..
आपको मेरी ये कहानी कैसी लगी मुझे मेल करके जरूर बताएं– [email protected]
Rohit

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!