चाची का सेक्सी जिस्म और मेरे लन्ड की हवस–3

Chachi ka sexy jism aur mere lund ki hawas-3

अब तक मेरे लन्ड के लगातार धक्कों चाची पानी पानी हो चुकी थी।तभी चाची की चूत ने अमृतधारा बहा दी।चाची बुरी तरह से पसीने पसीने हो चुकी थी। अब मेरे लन्ड के हर एक धक्के के साथ फ्फच्च फ्फ्सचछ फ्फ्फच फ्फ्फच्च की आवाजें हॉल में गूंजने लगी। मै खचाखच चाची को अच्छी तरह से बजा रहा था। मेरा पूरा लन्ड चाची की चूत को नाप रहा था। मेरे लन्ड की गोठिया चाची की चूत को टच कर रही थी।
अब मैंने चाची की जांघो को छोड़ा और फिर चाची को अच्छी तरह से मेरी बाहों में कस कर चाची को चोदने लगा। अब चाची ने तृप्त होकर मुझे बाहों में भर लिया और मेरे लन्ड के हर एक शॉट को अच्छी तरह से चूत में लेने लगी। मैं गांड़ हिला हिलाकर मेरी वंदना चाची को चोदे जा रहा था।मुझे मेरी चाची को चोदने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था। अजब गजब नज़ारा था यारो जिस चाची को कभी मैंने चोदने के बारे में नहीं सोचा था आज उसी चाची को में सोफे पर पूरी नंगी करके चोद रहा था।कल तो चाची चुदाने में बहुत ज्यादा नखरे दिखा रही थी लेकिन आज तो चाची बिंदास होकर मेरे लन्ड को चूत में ले रही थी।

हम दोनों चुदाई के नशे में चाची भतीजे के रिश्ते को भूल चुके थे।लंड चूत भी पता नहीं क्या क्या करवाता है यारो।लेकिन अब जो हो रहा था सब अच्छा लग रहा था। चाची भी आज फूल मूड में मगन होकर चुदाई का आनन्द ले रही थी और मैं भी मस्ती में डूबकर चाची की चूत में गोते लगा रहा था। हम दोनों अकेले जिस्म को एंजॉय करने का एक शानदार मौका मिल रहा था। आज चाची मेरी ज़रूरत को और मै चाची की जरूरत को अच्छी तरह से समझ रहा था।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  मारवाड़ी आंटी चोदकर माल पिलाया-1

बामबम चुदाई से चाची बुरी तरह से थक चुकी थी। मैं फिर भी चाची को चोदने में कोई कसर नहीं छोड़ रहा था।मेरा लन्ड पूरा चाची की चूत की चासनी में डूब रहा था।तभी चाची फिर से झड़ गई। फिर से हॉल में फचा फ़ाच की आवाजे ज़ोर ज़ोर से गूंजने लगी। अब मेरा लन्ड भी पिघलने वाला था।कुछ ही में मैंने चाची की चूत में मेरे लन्ड का पानी भर दिया और मै चाची के सेक्सी हॉट जिस्म पर ही ढेर हो गया।

चाची को बुरी तरह से चोदकर मै थोड़ी देर तक चाची के सेक्सी जिस्म के ऊपर ही पड़ा रहा। हम दोनों के जिस्म पूरी तरीके से पसीने भीग चुके थे।मेरा लन्ड अभी भी चाची की चूत में ही फंसा हुआ था।फिर मैं होश सम्हाल कर चाची के सेक्सी जिस्म पर से उठा। चाची को देखकर लग रहा था कि अभी भी चाची की चूत की आग ठंडी नहीं हुई है।
अब मैंने चाची को उठाकर दीवार के सहारे खड़ा कर दिया। अब मैं फिर से चाची के मस्त रसीले होंठों को चूसने लगा।मुझे चाची के होंठो को फिर से चूसने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था।चाची भी पूरी गर्म होकर मेरे होंठो को चूसने में लगी हुई थी।पूरा हॉल फिर से आउच पुच्छ पुच्छ पुच्छ आउच पुच्छ पुच्छ की आवाजो से गूंज उठा। तभी मैंने चाची की गरमा गरम चूत में मेरी उंगलियां पेल दी और जल्दी जल्दी चाची की चूत को उंगलियों से चोदने लगा।मेरी उंगलियां चूत में अंदर तक पूरी घुस रही थी।चाची दर्द से तड़प रही थी लेकिन चाची के होंठ मेरे होंठों में दबे होने की वजह से कुछ नहीं बोल पा रही थी। मैं ज़ोर ज़ोर से चाची की चूत की बखिया उधेड़ रहा था। चाची बुरी तरह से मचल रही थी।कुछ देर बाद मैंने चाची के होंठो को छोड़ दिया।तभी चाची की सिसकारियां फुट पड़ी।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  चुदाई का मज़ा भी और पैसे भी मेरी तो बल्ले बल्ले

चाची– आईईईई आईईईई आईईईई आईईईई ओह ओह आईईई ओह रोहित बहुत दर्द हो रहा है।आह आह आह।
मैं– ओह चाची दर्द में ही तो मज़ा मिलता है।आह आह आपकी चूत बहुत गर्म हो रही है।आह आह आह।
चाची– ओह ओह आह आह रोहित।आईईईई प्लीज मत कर ना।मेरी जान निकल रही है।
मैं–ओह चाची आज तो आपकी जान ही निकालनी है।आह ओह चाची।बहुत मज़ा आ रहा है।आह आह आह
चाची– आईईईई आईईईई आह ओह रोहित।प्लीज बाहर निकाल ले ना।मुझसे सहन नहीं हो रहा है।आह आह आह
मैं–ओह चाची करने दो ना।बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था।आज तो मैं आपकी चूत ही फाड़ दूंगा।आह आह आहआह।
चाची– ओह रोहित अब बस भी करो ना।आह आह आह आईईईई आईईईई।
मैं– आज तो मैं आपकी चूत फाड़कर ही मानूंगा।ओह चाची बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा है।आह आह।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

मुझे चाची की चूत कुरेदने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था। मैं फूल स्पीड से चाची की चूत को खोद रहा था।चाची दर्द से तड़प रही थी।
चाची– ओह रोहित मत कर ना।मेरी जान हलक में आ गई है।आईईईई।
मैं– नहीं चाची आज तो मैं नहीं मानूंगा।
तभी मैंने चाची को पलट दिया और अब चाची की भारी भरकम गुद्देदार मजबूत गांड़ मेरे लन्ड के सामने आ गई।तभी मैंने चाची को पीछे से अच्छी तरह से कस लिया और चाची दीवार से सहारे चिपक गई। अब मैं फिर से चाची की चूत के परखच्चे उड़ाने लगा।चाची बुरी तरह से सिहर उठी थी।
चाची– आईईईई रोहित।ऊंह मर गई मैं तो। आज तो तू मेरी जान निकाल रहा है।ऊंह आईईईई ओह आह।
मैं– ओह चाची आप बहुत ज्यादा सेक्सी माल हो।मुझे तो बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा है।आह आह।
चाची– आईईईई आईईईई आईईईई प्लीज रोहित अब तो चूत में से उंगलियां निकाल ले।बहुत दर्द हो रहा है यार।
मैं– नहीं चाची आज तो मैं आपकी चूत का पूरा मज़ा लूंगा।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  बुआ की चूची और चूत

तभी मैं चाची की चूत को फिर से फूल स्पीड में कुरेदने लगा।चाची बुरी तरह से चिल्लाने लगी।इधर मेरा लन्ड भी चाची की गांड़ में दस्तक दे रहा था।थोड़ी ही देर में चाची की हालत बिगड़ने लगी।कुछ देर बाद वो आईईईई आईईईई आह आह आह करती हुई कांपने लगी। अब मैं समझ चुका था कि चाची जाने वाली है।तभी कुछ ही मिनटों में चाची की चूत में से गाढ़ा माल बाहर निकल आया और मेरे हाथ में भर गया।चाची बूरी तरह से पसीने में भीग चुकी थी।फिर मैंने पूरा गरमा गर्म माल चाची की चूत और जांघो पर रगड़ दिया। मैं फिर से चाची की चूत को सहलाने लगा।
चाची– रोहित अब तो प्लीज मान जा।
मैं– बस चाची थोड़ी देर और।
फिर मैंने थोड़ी देर और चाची की चूत को अच्छी तरह से सहलाया।चाची बुरी तरह से पानी पानी हो चुकी थी।

अब मैं चाची के दोनो बूब्स को दबाकर चाची की पीठ पर किस करने लगा।चाची चुपचाप दीवार से सटकर किस करवाने लगी।मुझे चाची की छरहरी पीठ पर किस करने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था। अब चाची भी धीरे धीरे फिर से फॉर्म में आने लगी और सिसकारियां भरने लगी। अब मैं नीचे बैठ गया और चाची के मस्त शानदार चूतड़ों को सहलाने लगा।

कहानी जारी है…………..
आपको मेरी ये कहानी कैसी लगी मुझे मेल करके जरूर बताएं– [email protected]
Rohit

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!