चाची का सेक्सी जिस्म और मेरे लन्ड की हवस–5

Chachi ka sexy jism aur mere lund ki hawas-5

मैं– ओह चाची आप एकदम मस्त माल हो।आह फूल मज़ेदार।
चाची– तेरे चाचा ने तो कभी मुझे ऐसा नहीं कहा।
मैं– चाचा कैसे कहे? उनको तो टाइम ही नहीं है।
चाची–वो तो मुझे अच्छी तरह से चोदते भी नहीं है। इन दो दिनों में ही मुझे चुदाई का भरपूर मज़ा मिला है।
मैं– चाची,अब मैं आपको ऐसा मज़ा हमेशा ही देता रहूंगा।
चाची– हां मज़ा देते रहना। अब जल्दी से काम निपटा दे।
मैं– अब इतनी भी क्या जल्दी है चाची।मै तो आराम आराम से करूंगा।
अब मैं फिर से चाची की गीली चमचमाती हुई पीठ चूमने लगा।फिर धीरे धीरे नीचे आते ही चाची की मस्त शानदार गांड़ को किस करने लगा।चाची के दोनो गौरे चिट्टे चूतड़ों पर पानी की बूंदे साफ साफ नजर आ रही थी।फिर मैं चाची के चूतड़ों को मसल मसल कर पूरा मज़ा लेने लगा।तभी मैंने चाची की गांड़ के सुराख में उंगली घुसा दी।उंगली घुसते ही चाची बिदक गई।
चाची– रोहित प्लीज उसमे मत डाल।बहुत दर्द हो रहा है।

मैं– मै तो आपकी गांड़ में उंगली करूंगा। अब तो मुझे पूरा हक है।
चाची–हक तो तेरे चाचा का है तूने तो उनकी प्रोपर्टी पर कब्जा जमा लिया है।
मैं– ऐसा ही समझ लो चाची।
फिर मैंने थोड़ी देर तक चाची की गांड़ में उंगली करने का फूल मज़ा लिया।चाची को दर्द के मारे बुरी तरह से झल्ला उठी थी।
अब मैं खड़ा हो गया और चाची से मेरा लन्ड चूसने के लिए कहा। अब चाची नीचे बैठकर आराम आराम से मेरे लन्ड को चूसने लगी। मैं चाची के गीले बालो को सहलाने लगा।
मैं– ओह चाची आह आह ओह मज़ा आ रहा है।आह बस ऐसे ही चूसती रहो।आह आह।

चाची लपक लपककर मेरे लन्ड को चूस रही थी। मैं भी पूरा लंड चाची के मुंह में दे रहा था।
मैं– ओह चाची आप तो पक्की खिलाड़ी निकली।आह आह और चूसो मेरे लन्ड को।आह आह आह।
चाची अच्छी तरह से लंड चूसने की पूरी पूरी कोशिश कर रही थी।मुझे चाची को लंड चुसाने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था। चाची को लंड चूसते हुए बहुत टाइम हो गया था।
फिर मैंने चाची के सिर को पकड़ा और दे दना दन चाची के मुंह को चोदने लगा। अब तो चाची को सांस लेना भी मुश्किल हो गया था।फिर थोड़ी देर तक मैंने चाची को मुंह को ऐसे ही चोदा।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Bua Ko Patake Choda

अब मैंने चाची को छोड़ा और शावर को फिर से चालू कर दिया।हम दोनों फिर से अच्छी तरह से भीग गए।फिर मैंने चाची के बालो में सेंपु लगाई और फिर उनके पूरे जिस्म को साबुन से अच्छी तरह से रगड़ा।मैने चाची के बूब्स और गांड़ पर बहुत देर तक साबुन से रगड़ा।फिर चाची को अच्छी तरह से नहला दिया।
अब चाची ने भी मेरे जिस्म को साबुन से अच्छी तरह से रगड़कर मेरे लन्ड को साबुन के झाग में धो दिया।फिर उन्होंने मेरे लन्ड को अच्छी तरह से रगड़ा। अब चाची ने मुझे नहला दिया। अब हम दोनों अच्छी तरह से नहा चुके थे लेकिन मेरे लन्ड की हवस अभी भी बाकी थी। अब मैंने चाची को बाथरूम के फर्श पर निचे पटका और चाची की दोनो मजबूत टांगो को कंधे पर रखकर मेरे लन्ड को चाची की चूत के मुहाने पर रख दिया। अब मैंने छपाक से जोरदार धक्का लगाया और पूरा का पूरा लन्ड चाची की रसीली चूत में पेल दिया।चाची फिर से दर्द से तड़प उठी।

चाची– आईईईई ओह आईईईई।
अब मैं दे दना दन चाची को बाथरूम में चोदने लगा। मैं गांड़ हिला हिलाकर चाची को बुरी तरह से चोद रहा था।चाची फिर से बुरी तरह दर्द से झल्ला रही थी।मेरा लन्ड चाची की चूत की गहराई से उतर कर उनकी चूत को नाप रहा था।
मैं– ओह चाची आह आह आपकी चूत तो बहुत ज्यादा रसीली है।आह आह ओह ओह चाची।
चाची– लेकिन तू रसीली चूत को बहुत ज्यादा दर्द दे रहा है।आह आह आह आह आईईईई।
मैं– दर्द दूंगा तभी तो मज़ा आयेगा चाची।
चाची– लेले मज़ा मेरी रसीली चूत का।
मैं– हां मेरी प्यारी चाची।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Meri Hot Mausi-1

अब मैंने चाची की टांगो को छोड़ दिया और चाची को बाहों में भरकर चाची की चूत में लंड पिरोने लगा।मेरा लन्ड खचाखच चाची की चूत को ढीला कर रहा था।चाची मेरी पीठ पर हाथ फेरते हुए चुदाने का पूरा मज़ा ले रही थी।धीरे धीरे मै पसीने पसीने होने लगा।तभी चाची की चूत ने माल उड़ेल दिया और मेरा लन्ड चाची की चूत के रस में भीग गया। अब मेरे लन्ड के हर एक धक्के के साथ ही बाथरूम में फाच फ्फ़ाच फ्फ्फाच फ्फच्छ की आवाजे आने लगी। मैं चाची के बूब्स को रगड़ता हुआ चाची की चूत का भोसड़ा बनाए जा रहा था।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

चाची– ओह रोहित अब और कितना चोदेगा। अब तो छोड़ दे मुझे।
मैं– बस चाची थोड़ी देर और।
चाची– आज तो तूने चोद चोदकर मेरी हालत ही खराब कर दी है।आह आह आह आह।
मैं– तभी तो चुदाई का असली मजा आता है चाची।
अब मेरा माल भी निकलने वाला था।तभी कुछ ही पलों में मेरे लन्ड ने चाची की चूत में गरमा गर्म रस भर दिया।कुछ देर तक हम दोनों बाथरूम में ऐसे ही नंगे पड़े रहे।फिर थोड़ी देर बाद हम दोनों उठे।आज चाची की चूत गुलाबी से लाल सुर्ख हो चुकी थी।फिर हम दोनों बाथरूम से बाहर निकले।

चाची– रोहित,अब तू चुपचाप बैठकर पढ़ाई कर ले।तबतक मै खाना बना लेती हूं।
मैं– ठीक है चाची।
अजब गजब नज़ारा था यारो सोफे के आस पास हम दोनों के कपड़े बिखरे हुए पड़े थे।चाची और मै नंगे खड़े हुए थे।फिर चाची ने खुद के कपड़े उठाए और बेडरूम में जाकर दूसरे कपड़े पहने फिर मैंने भी कपड़े चेंज कर लिए।
अब मैं पढ़ाई करने लगा और चाची किचन में खाना बनाने लगी।लेकिन आज मेरा पढ़ाई करने में मन कैसे लगता? लंड को तो चाची की चमचमाती हुई चूत नजर आ रही थी।फिर क्या था।करीब आधे घण्टे बाद मै किचन में घुस गया और चाची को फिर से दबोच लिया।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  बगल वाले लड़के ने मुझे अपने मोटे लम्बे लंड से चोदा

चाची– क्या कर रहा है रोहित।मुझे खाना तो बनाने दे।
मैं– बना लो चाची।मै आपको कब रोक रहा हूं।
चाची–तो जा,और चुपचाप पढ़ाई कर।
मैं– नहीं चाची आज पढ़ाई में दिमाग नहीं लग रहा है।
चाची– तो फिर दिमाग कहां जा रहा है?
मैं– मेरा दिमाग तो सिर्फ आप में ही लगा हुआ है।
चाची– अब सब कुछ तो तूने लूट लिया ।अब क्या इरादा है?.

मैं– बस थोड़ी सी मस्ती और करनी है।
चाची– पागल हो गया है तू तो।
तभी मैंने चाची के इलास्टिक वाले पजामे में फिर से हाथ डाल दिया और चाची की गरमा गर्म चूत को रगड़ने लगा।
चाची– क्या कर रहा है रोहित,छोड़ मुझे।
मैं– आज तो आपको छोड़ने का कोई इरादा नहीं है चाची।
अब मैं चाची की चूत को सहलाता रहा और चाची खाना बनाती रही।
आपको मेरी ये कहानी कैसी लगी मुझे मेल करके जरूर बताएं– [email protected]

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!