चाची की चूत का बुखार-2

Chachi ki choot ka bukhar-2

फिर जब में अपने बाथरूम में जाकर नहा रहा था, तब मेरे विचारों में सिर्फ़ चाची ही आ रही थी, जिसकी वजह से मेरा लंड अब झटके मारने लगा था, उसी समय मैंने बाथरूम में उनके नाम की मुठ मारकर अपने लंड की प्यास को शांत किया और मुझे ऐसा करके जन्नत के जैसा मज़ा आया. उसके बाद में कुछ देर बाद बाहर आ गया.

एक दिन अंकल ने मेरे पापा से कहा कि अंकल के मामा जी की म्रत्यु हो गई है और उस वजह उनको उसी समय जैसलमेर जाना है, लेकिन अभी निशा के पेपर है, इसलिए में अकेला ही वहां पर जा रहा हूँ, प्लीज आप लोग प्रिया और नेहा का अपनी तरफ से पूरा पूरा ध्यान रखना, वैसे में दो दिन के बाद वापस आ जाऊंगा.

दोस्तों यह बात मेरी मम्मी ने मुझे बताई और उन्होंने मुझसे कहा कि तुम्हारे अंकल दो दिन के लिए बाहर गए हुए है, तो इसलिए तुझे आज रात को निशा और मेरी प्रिया चाची के घर पर उनके साथ ही रहना है, क्योंकि वो घर में अकेली रहेगी और फिर मुझे उनके मुहं से यह बात सुनकर बड़ा मज़ा आया और में खुश हो गया.

फिर मैंने मन ही मन में सोचा कि आज में अपनी चाची को जी भरकर देखूंगा, मुझे उनके पास पूरी एक रात रहने का मौका मिलेगा और किस्मत अच्छी रही तो में आगे कुछ उनके साथ कर भी सकता हूँ.

में खाना खाकर ख़ुशी ख़ुशी उनके घर पर सोने के लिए चला गया. दोस्तों में बता दूँ कि उनके घर में दो कमरे है, वहां पर पहुंचते ही चाची ने मुझसे कहा कि तू भी आज हमारे पास इस कमरे में ही सो जा, दूसरे कमरे में अकेला सो कर तू क्या करेगा, यहाँ रहेगा तो हम से बातें ही कर लेना, वैसे भी मैंने तेरा बिस्तर भी यहीं पर लगा दिया है.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  आंटी के भोसड़े में बेलन डालकर चोदा-2

मैंने उनसे कहा कि हाँ ठीक है और फिर में भी उनके पास ही लेट गया और हम सभी ने कुछ देर बातें करने के बाद हम सो गए और फिर देर रात को जब मेरी नींद खुली और में पानी पीने के लिए उठा, तो मैंने देखा कि चाची की साड़ी का पल्लू उनके बदन से नीचे गिरा हुआ था और उनके ब्लाउज के दो बटन भी खुले हुए थे, जिसमें से साफ साफ नजर आ रहा था कि उन्होंने अपने ब्लाउज के अंदर काली रंग की ब्रा पहनी हुई थी और उनके बूब्स बहुत ही बड़े एकदम गोरे थे, एकदम सीधा सोने की वजह से वो बूब्स बड़े गले के ब्लाउज से उभरकर बाहर आ रहे थे और उनका वो गोरा गोरा मुलायम पेट भी अब मुझे साफ दिखाई दे रहा था, जिसको में करीब दस मिनट तक लगातार घूर घूरकर देख रहा था और मेरा मन अपनी चाची के उस गोरे सेक्सी बदन को हाथ लगाकर महसूस करने का हो रहा था, उसकी वजह से मेरे होश उड़ चुके थे और मेरा दिमाग वो सेक्सी द्रश्य देखकर अपना काम करना पहले से ही बंद कर चुका था.

तभी अचानक से चाची की नींद खुल गई और उन्होंने मुझे अपने सामने खड़ा हुआ देखकर मुझसे पूछा कि प्रवीण तुम यहाँ क्या कर रहे हो, क्या तुम्हें नींद नहीं आ रही है? तुम्हें कुछ परेशानी है तो मुझे बताओ में उसको दूर कर देती हूँ. फिर में एकदम से डर गया और मैंने उनसे कहा कि नहीं मुझे कोई भी परेशानी नहीं है चाची, फिर में तो बस पानी पीने के लिए उठा था और अब में वापस बिना पानी पिये ही जाकर सो गया, लेकिन मुझे पूरी रात नींद नहीं आई और में सारी रात चाची के उस गोरे बदन के बारे में ही सोच रहा था और अब भी मुझे वो सब नजर आ रहा था.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  किरायेदार आंटी को अच्छी तरह चोदा-3

फिर सुबह जब में सोकर उठा तो मैंने देखा कि तब तक निशा अपने स्कूल जा चुकी थी और चाची उस समय रसोई में अपना काम कर रही थी और जब में उठा तो चाची ने मुझसे कहा कि प्रवीण में तेरे लिए चाय बना देती हूँ और जब चाची रसोई में जाकर मेरे लिए चाय बनाकर लाई, तब में अख़बार पढ़ रहा था और उस दिन शनिवार था और जब भी उस दिन रंगीन अख़बार आता था, उसमें फिल्मो की ख़बरे आती थी, उस अख़बार में उस दिन मल्लिका शेरावत की बहुत ही हॉट, सेक्सी फोटो छपी थी और में उस फोटो को बहुत ध्यान से देख ही रहा था कि तभी चाची भी आ गई और वो मुझसे पूछने लगी, क्या यह तेरी पसंद की हिरोईन है? तब मैंने उनको कहा कि नहीं और उसी समय उन्होंने मुझसे पूछा कि क्या तूने इसकी मर्डर फिल्म देखी है? और अब उनके मुहं से वो बात सुनकर मेरी हिम्मत थोड़ी बढ़ गयी.

फिर मैंने उनसे पूछ लिया कि क्या चाची आपने देखी है वो फिल्म? तब उन्होंने मुझसे कहा कि हाँ तेरे अंकल और मैंने एक बार उसकी वो फिल्म सीडी पर देखी है. फिर मैंने उनसे कहा कि चाची जी जहाँ तक मुझे अंदाजा है, यह तो बहुत ही गंदी फिल्म है और इस फिल्म में बहुत ही गंदे गंदे द्रश्य भी है.

फिर आंटी ने मुझसे पूछा कि प्रवीण क्या तेरी कोई गर्लफ्रेंड है? तब मैंने उनको कहा कि नहीं है और मैंने उनको कहा कि हाँ, लेकिन मेरे एक दोस्त की जरुर एक गर्लफ्रेंड है और वो उसके साथ हर कभी ग़लत ग़लत काम किया करता है. अब चाची ने मुझसे पूछा कि क्या ग़लत काम? क्या वो उसके साथ सेक्स करता है? उसी समय मैंने उनको कहा कि हाँ, तब उन्होंने मुझसे कहा कि यह कोई ग़लत काम होता है?

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Aryan Ek Sex Katha-2

और अब मैंने उनसे कहा कि चाची में समझता हूँ कि आप क्या कहना चाहती है, लेकिन मैंने आज तक किसी लड़की को एक बार छुआ भी नहीं है, लेकिन मेरा मन बहुत होता है कि में किसी लड़की को किस करूँ और उसको छूकर महसूस करूं और उसी समय मैंने चाची को कहा कि चाची आप मुझे बहुत ही अच्छी लगती है, प्लीज क्या में आपको सिर्फ़ एक बार किस कर दूँ, अगर आपको मेरी इस बात का बुरा ना लगे तो? दोस्तों मेरी उस बात को सुनकर पहले तो चाची ने मुझसे कहा कि नहीं तुम मेरे बेटे जैसे हो, यह तुम्हारा काम इसलिए मेरे साथ बिल्कुल ग़लत होगा, इसके लिए तुम अपनी कोई गर्लफ्रेंड बना लो. उसके बाद तुम उसके साथ जी भरकर किस करते रहना.

फिर मैंने दोबारा उनसे कहा कि चाची प्लीज सिर्फ़ एक बार आप मुझे किस करने दीजिए ना प्लीज, किसी को भी इसके बारे में पता नहीं चलेगा. दोस्तों पहले मना करने के बाद चाची ने कुछ देर सोचकर मुझे कहा कि हाँ ठीक है, लेकिन देख तू यह बात बाहर कभी भी किसी को बताना मत, वरना तेरे साथ मेरी बहुत बदनामी होगी और तू मुझे सिर्फ़ एक बार ही किस करेगा. फिर मैंने कहा कि हाँ ठीक है, मुझे आपकी सभी बातें मंजूर है और आप जैसा चाहती हो ठीक वैसा ही होगा. दोस्तों उस समय चाची ने नीले रंग की साड़ी पहनी हुई थी और वो हमेशा साड़ी इतनी टाईट पहनी थी कि उनके बूब्स उस ब्लाउज में और भी ज्यादा बड़े बड़े लग रहे थे और अब चाची अपनी दोनों आखें बंद करके मेरे पास बैठ गई.

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!