चाची को चोदकर बदला लिया

Chachi ko chodkar badla liya

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम राजवीर (राज) है और यह मेरा पहला सेक्स अनुभव है. अब में आपको मेरी पहली स्टोरी के बारे में बताने जा रहा हूँ. में आपका ज्यादा समय ख़राब ना करते हुए सीधा अपनी स्टोरी पर आता हूँ.

मेरा नाम राजवीर है, में इंजिनियरिंग स्टूडेंट हूँ और अभी IIIrd ईयर में हूँ, मेरी हाईट 5 फुट 10 इंच और मस्त बॉडी, क्योंकि में रोज जिम जाता हूँ और एक्सरसाईज़ करता हूँ, मेरी उम्र 22 साल है. मेरी फेमिली में मम्मी, पापा, में और मेरा बड़ा भाई है. मेरे मम्मी-पापा दोनों सरकारी जॉब में है और मेरा बड़ा भाई कॉलेज की पढाई कर रहा है और मेरे चाचा जी बिज़नेसमैन है और वो काम के सिलसिले में अक्सर बाहर ही रहते है, मेरी चाची हाउसवाईफ है और उनके 2 छोटे-छोटे बच्चे है एक 6 साल की लड़की और दूसरा 3 साल का लड़का है.

यह स्टोरी मेरी और मेरी चाची के पहले सेक्स अनुभव की है. अब में आपको मेरी चाची के बारे में बताता हूँ, उनका फिगर साईज़ 35-28-34 है और उनकी हाईट 5 फुट 3 इंच है और उनका कलर बहुत गौरा है, वो दिखने में बहुत खूबसूरत लगती है, उनकी उम्र 33 साल है. मेरा मेरी चाची की तरफ आकर्षण तो 18 साल की उम्र से ही हो गया था, जब एक बार मेरे उदास होने पर चाची ने मुझे गले लगाकर समझाया था, लेकिन तब मुझमें कुछ करने की हिम्मत नहीं थी, क्योंकि वो मुझे ज़रा सी बात पर डाट देती थी और मेरी शिकायत भी बहुत करती थी, जिसका में उनसे बदला लेना चाहता था. ये बात आज से 4 साल पहले की है, जब में अपने 12वीं बोर्ड परीक्षा की तैयारी कर रहा था. में जब स्कूल से घर आता तो तब घर में चाची के सिवा कोई नहीं होता था और में चाची के साथ टी.वी देखता था. उस वक़्त चाची के सिर्फ़ एक लड़की थी, जो सिर्फ़ 2 साल की ही थी और वो दोपहर में सोती रहती थी.

मेरी चाची की लेटकर टी.वी देखने की आदत थी और में उनसे काफ़ी घुले मिले होने के कारण चान्स लेने के लिए उनके कंधो पर बातों के दौरान अपना हाथ या सिर रख देता था, जिसको वो कई बार मना कर देती थी, लेकिन अब में चाची के बारे में सोचते हुए मुठ मारते-मारते थक चुका था और चान्स लेना चाहता था कि शायद मुझे चुदाई का कोई मौका मिल जाए इसलिए में चाची के सोने के बाद उनके बगल में सो जाता था और उनकी लड़की को चुपके से बीच में से हटाकर अपने दूसरी तरफ सुला लेता था. अब इस बात को चाची बहुत दिनों से नोटीस कर रही थी, लेकिन उन्होंने मुझसे कुछ नहीं कहा, जिससे मेरी हिम्मत और बढ़ गयी थी. फिर एक दिन ऐसे ही जब चाची सो गयी तो मैंने हिम्मत करके अपना हाथ उनके पेट पर रख दिया और उनके पेट से उनकी साड़ी को हटा दिया, लेकिन चाची ने कुछ नहीं कहा और मेरी तरफ पीठ करके सो गयी.

फिर मैंने चाची की पीठ पर किस किया और उनके पेट पर अपनी पकड़ मजबूत कर दी. फिर चाची करवट लेकर पीठ के बल सीधी लेट गयी तो मैंने उनका हाथ उठाकर अपने सिर के नीचे रखा और अपना सिर उनके बूब्स पर और एक हाथ उनकी कमर के नीचे और दूसरा हाथ उनके दूसरे बूब्स पर रखकर हल्के-हल्के दबाने लगा और अपने एक पैर को चाची की चूत के ऊपर रगड़ने लगा. अब मेरा लंड जो कि 7 इंच लंबा और 3 इंच मोटा है, चाची के पैर से टच हो रहा था और तभी चाची ने अपने होंठ मेरे होंठो पर रखकर हटा लिए. अब में समझ गया था कि चाची सो नहीं रही है.

फिर मैंने चाची का चेहरा पकड़कर अपनी तरफ घुमाया और उनके होंठो पर किस करने लगा, लेकिन चाची सोने का नाटक करती रही. फिर में धीरे-धीरे चाची के ब्लाउज के हुक खोलने लगा और उनके ब्लाउज के हुक खोलने के बाद में चाची के बूब्स को उनकी ब्रा के ऊपर से ही दबाने लगा. अब चाची के चहरे के भाव से साफ पता चल रहा था कि वो कितनी गर्म हो चुकी है.

फिर मैंने उनकी साड़ी को ऊपर से हटाया और उनके ब्लाउज में अपना हाथ डालकर उनकी ब्रा का हुक भी खोल दिया और फिर धीरे-धीरे उनके बूब्स चूसने लगा. अब वो अभी भी अपनी आँखें बंद किए हुए थी, लेकिन अब उन्होंने मेरे सिर के नीचे वाले हाथ से मुझे कसकर पकड़ लिया था. फिर मैंने उठकर रूम का दरवाजा लगाया और उनके पास आकर उनको अपनी गोद में उठाकर उनके ब्लाउज और ब्रा को उतार दिया.

अब वो मेरे सामने आधी नंगी पोज़िशन में थी और में अपने एक हाथ से उनका एक बूब्स दबा रहा था और दूसरे बूब्स को चूस रहा था और अपना दूसरा हाथ उनकी साड़ी के ऊपर से ही उनकी चूत पर फैर रहा था. अब वो मौन करने लगी थी ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओह, लेकिन उनकी आँखे अब भी बंद थी.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

फिर मैंने उनकी साड़ी ढीली की और उनके पेटीकोट के नाड़े को खोलकर उनकी दोनों चीज उनके पैर की तरफ से खींचकर उतार दी. अब उनके बदन पर सिर्फ़ पेंटी ही बची थी और अब में उनका भरा हुआ शरीर देखकर पागल हो रहा था. फिर मैंने उनकी पेंटी भी उतार दी और उनकी चूत एकदम क्लीन शेव थी जिसे देखकर में पागल हो गया था और उनकी चूत को अपने हाथ से रगड़ने लगा था. अब चाची अपने शरीर को मोड़ रही थी और सिसकारियाँ भर रही थी. फिर मैंने चाची की चूत के मुँह पर अपनी एक उंगली रखी और चाची के बोलने का इंतज़ार करने लगा. फिर आख़िरकार चाची ने कहा कि राज अब अपनी उंगली जल्दी से अंदर डाल भी दो और मत तड़पाओ और अपनी आँखे खोलकर मुस्कुराई. फिर मैंने एक झटके से अपनी दो उंगलियाँ चाची की चूत में अंदर तक डाल दी. चाची चाचा के पास ना रहने से कम ही चुदती थी, इसलिए उनकी चूत अब भी काफ़ी टाईट थी, जिससे उनको बहुत दर्द हुआ और वो जोर चिल्लाई आआआआआआआअहह, ऊऊऊऊऊऊऊओह माँ, राज थोड़ा धीरे करो, बहुत दर्द होता है और मेरी 2 महीने की प्रेंग्नेंसी भी है तो तब मुझे पता चला कि वो दुबारा प्रेग्नेंट है और फिर में धीरे-धीरे अपनी उंगली से उन्हें चोदता रहा. अब वो बोल रही थी आआहह राज बहुत मज़ा आ रहा है, ऐसा लग रहा है की जैसे मेरी चुदाई हो रही है, तब में उनकी चूत को साथ साथ चाटने भी लगा. अब वो बोले जा रही थी आआआहह राज पहली बार मेरी चूत को किसी ने चाटा है आआआअहह ऊऊऊहह बहुत मज़ा आ रहा है और तेज कर और फिर उन्होंने मुझे कसकर पकड़ लिया. अब में समझ गया था कि वो झड़ने वाली है तो में रुक गया. फिर वो जोर-जोर से चिल्लाने लगी आआआआआहह राजजजज प्लीज मत रुक साले, जल्दी कर ना. तब में अपनी दोनों उंगलियाँ उनकी चूत में डालकर अंदर बाहर करने लगा. अब मुझे उन्हें अपनी उंगली से चोदते-चोदते 30 मिनट हो गये थे और अब मेरा हाथ दर्द कर रहा था, लेकिन मुझे मज़ा भी बहुत आ रहा था और फिर थोड़ी देर में चाची झड़ गयी.

फिर मैंने अपने कपड़े उतारने शुरू कर दिए तो चाची मेरे लंड की मोटाई को देखकर डर गयी और कहने लगी कि राज में तेरी गर्लफ्रेंड थोड़ी ना हूँ, में तो तेरी चाची हूँ, तू मुझे नहीं चोद सकता है. फिर मैंने बिना कुछ कहे अपना लंड चाची के मुँह में देना चाहा, तो चाची ने मना कर दिया और फिर मैंने चाची को बेड पर पटककर उनके दोनों पैर फैलाए और अपना लंड उनकी चूत पर रखकर एक ज़ोरदार धक्का मारा. मेरा 4 इंच लंड चाची की चूत में घुस गया, जिससे चाची की चीख निकल गयी और वो चिल्लाने लगी आआआआआआअहह मम्म्मईईईईईईईईई साससललले, छोड़ दे मुझे, तेरा लंड बहुत मोटा है, में मर जाउंगी और उनकी आँख से आँसू निकलने लगे और वो मुझे अपने हाथ से धक्का देकर हटाने की कोशिश करने लगी, लेकिन मैंने उनके हाथ पकड़ लिए और अपने लंड को थोड़ा सा बाहर निकालकर दुबारा से एक ज़ोरदार शॉट लगाया तो मेरा लंड पूरा अंदर चला गया.

फिर वो रोते हुए बोली कि राज प्लीज़ देख में प्रेग्नेंट हूँ, प्लीज़ मुझे मत चोद, तेरा बहुत मोटा है, मेरी फट जाएगी. तो मैंने कहा कि मेरा क्या मोटा है? और तेरी क्या फट जाएगी? तो वो बोली कि तेरा लंड बहुत मोटा है और मेरी चूत फट जाएगी, हरामी छोड़ दे मुझे. फिर मैंने कहा कि साली खुद तो संतुष्ट हो गयी मादरचोद की औलाद और मेरा टाईम आने पर नखरे दिखा रही है, आज में तेरी चूत को सच में फाड़ डालूँगा और फिर में उसके ऊपर लेटकर अपने लंड को थोड़ा सा बाहर निकालकर फिर से पूरी ताक़त से अंदर डालते हुए उसे चोदने लगा. अब वो रोए और चिल्लाए जा रही थी कि मादरचोद तेरी माँ को अपने पति से चुदवाऊंगी, छोड़ दे मुझे कुत्ते, बहुत दर्द हो रहा है, में मर जाउंगी, ऊऊऊऊओह मम्मी बचाओ, हहहहरारारामी ने मारररर डाला रे, अब में तुझसे कभी नहीं चुदवाऊंगी.

फिर मैंने कहा कि साली कमिनी तू मुझे बहुत डांटती थी और मेरी शिकायत भी बहुत करती थी अब भुगत. फिर उसने कहा कि राज अब में तेरी शिकायत नहीं करूँगी, तू प्लीज़ थोड़ा धीरे-धीरे कर, मुझे बहुत दर्द हो रहा है, लेकिन में तो बदला लेना चाहता था, इसलिए मैंने चाची की एक बात नहीं मानी और चाची अपना सिर हिलाती रही और रोती रही. फिर करीब 30-35 मिनट के बाद में झड़ गया और फिर मैंने अपना सारा माल उनकी चूत में ही डाल दिया. उसके बाद मैंने कई बार चाची की चूत चोदी और उनकी गांड भी मारी. अब मेरा बदला पूरा हो गया था और अब चाची मुझसे नहीं लड़ती थी. अब उन्हें मेरे साथ बहुत मज़ा आता है और अब वो मुझसे चुदने को तैयार रहती है. अब वो कहती है कि में बहुत अच्छा फोर-प्ले करता हूँ, लेकिन अब वो दूर चली गयी है और अब में उनसे साल में एक या दो बार ही मिल पाता हूँ.

अगर आपको हमारी साइट पसंद आई तो अपने मित्रो के साथ भी साझा करें, और पढ़ते रहे प्रीमियम कहानियाँ सिर्फ HotSexStory.xyz में।