चुदाई के पल मैडमो के संग–2

Chudai ke pal madamo ke sang-2

कहानी के पहले भाग में आपने पढ़ा कि किस तरह से मैने महक मैडम और कल्पना मैडम को एक साथ चूत चुदाने के लिए मनाया।फिर स्कूल के हॉल में मैंने दोनों को नंगी कर कल्पना मैडम की चूत का पानी निकाल दिया। अब कहानी आगे…………………
अब मैंने कल्पना मैडम को छोड़ महक मैडम को बदोच लिया। अब मैं ब्रा के ऊपर से ही महक मैडम के टाइट बूब्स को दबाने लगा।मुझे महक मैडम ने कसे हुए बूब्स को दबाने,मसलने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था। मैं जल्दी जल्दी महक मैडम के बूब्स को मसल रहा था।महक मैडम सिसकारियां भरने में डूबी हुई थी।
महक मैडम– ओह मेरे सैंया,और ज़ोर ज़ोर से दबा ना।आह आह आह ओह मज़ा आ रहा है मेरे सैंया।आह आह आह आह और ज़ोर से दबा।

मैं– आह आह ओह ओह मेरी रण्डी,तेरे बूब्स बहुत ज्यादा टाइट टी। आज तो मैं उनको पूरा निचोड़ डालूंगा।
महक मैडम–आह आह आह आह ओह निचोड़ दे भैन्नन के लौड़े।आह आह बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा है।आह आह आह ओह ओह।
मैं– हां साली, भोसड़े वाली। निचोड़ रहा हूं।
तभी मैंने महक मैडम की ब्रा को खोल फेंका और कल्पना मैडम को भी सीधा कर लिया। अब दोनों मस्त माल के बड़े बड़े कसे हुए बूब्स मेरे सामने थे। अब मैं दोनों के नंगे बूब्स को जोर जोर से मसलने लगा।मुझे दोनों मैडमो के कसे हुए बूब्स को दबाने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था।मेरा लन्ड तूफान बनकर खड़ा हुआ था।
महक मैडम– आह आह आह ओह और ज़ोर ज़ोर से दबा ना। तेरे हाथो में ज़ोर नहीं है क्या साले भड़वे।
मैं– साली रण्डी। तू ऐसे नहीं मानेगी।

तभी मैंने महक मैडम पर बुरी तरह से धावा बोल दिया और उनके बूब्स को बुरी तरह से मसल डाला।महक।मैडम की एक ही बार में गांड़ फट गई।
महक मैडम– आईईईई आईईईई मर गई।आईईईई एईईईईईईईई ओह आह।
कल्पना मैडम– साली को अच्छी तरह से रगड़ दे।इसकी चूत में बहुत देर से मिर्ची लगी हुई हैं।
मैं– हां रण्डी। सही कहा तूने।
अब मैं चिते की जैसी फुर्ती से महक मैडम के बूब्स की हवा निकाल रहा था। महक मैडम की तो गांड़ फटकर हाथ में आ चुकी थी। वो ज़ोर ज़ोर से सिसकारियां भर रही थी। इधर कल्पना मैडम खड़े खड़े पूरा मज़ा ले रही थी।
मैं– लंड चूस ले भैन की लौड़ी।

कल्पना मैडम– लेे इधर दे दे तेरे लंड को।आज तो मैं इसका पानी निकाल दूंगी साले कुत्ते के पिल्ले,मादरचोद।
तभी कल्पना मैडम नीचे बैठ गई। अब मैं थोड़ा साइड में घूम गया जिससे कल्पना मैडम आसानी से मेरे लन्ड को मुंह में ले सके। अब कल्पना मैडम मेरे लन्ड को मसलने लगी और फिर लंड पकड़कर मुंह में डालने लगी। इधर मै महक मैडम के बूब्स को लगातार मसल रहा था। अब तक महक मैडम के बूब्स लाल पीले हो चुके थे।
कल्पना मैडम– आह आह मज़ा आ रहा है।तेरा लंड बहुत मोटा तगड़ा है मेरे सैंया।इस लंड से मै कितनी बाद चुद चुकी हूं फिर हर बार ये लंड मेरी जान निकाल देता है।
अब कल्पना मैडम मेरे लन्ड को मुंह में भर भरकर चूस रही थी।उन्हें मेरा लंड चूसने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था।वो मेरे लन्ड को पूरा मुंह में लपक रही थी।इधर अब मैने भी महक मैडम के कसे हुए बूब्स को मुंह में दबा लिया और ज़ोर ज़ोर से उन्हें चूसने लगा। वाह क्या नशा था महक मैडम के बूब्स में।मै तो पागल हुए जा रहा था। मैं जल्दी जल्दी महक मैडम के बूब्स को चूस रहा था।महक मैडम मेरे बालो में हाथ डालकर बूब्स चुसवा रही थी।
महक मैडम– आह आह ऊंह आह आह ऊंह आह बहुत अच्छा लग रहा है।आह आह आह ओह।और चूस मेरे बूब्स को भैन के लौड़े।चूस और चूस। आह आह आह आह ओह आह आह।
अब मैंने महक मैडम के बूब्स चूसते चूसते उनकी पैंटी में हाथ डाल दिया और ज़ोर ज़ोर से उनकी रसीली चूत को सहलाने लगा। अब मैडम की गांड फटने लगी। अब वो आह आह ऊंह आह ओह करने लग गई।
महक मैडम– आह आह ओह साले कुत्ते,हरामी। चूत को मत छेड़।बूब्स ही चूस लेे।

वो मेरे हाथ को चूत में से बाहर निकालने की कोशिश करने लगी।लेकिन मैं नहीं माना और अच्छी तरह से चूत को रगड़ने लग गया।
महक मैडम– आह आह ओह आह आह ओह कुत्ते कमीने, ऐसा मत कर ना।
कल्पना मैडम– इस साली रण्डी को आज अच्छी तरह से रगड़ डाल। ओह साले ये तेरा लंड आह आह मज़ा आ रहा है।आह आह।
मैं लगातार महक मैडम के बूब्स को चूसे जा रहा था।मुझे महक मैडम के कसे हुए बूब्स को चूसने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था।इधर मेरी उंगलियां महक मैडम की चूत को तेज गति से खोद रही थी।लगातार हो रहे हमले से महक मैडम की जान हलक में आ गई थी।
महक मैडम– आह आह आह ओह आह आह ओह आह आह।मेरी जान निकल रही है साले भड़वे आह आह।प्लीज चूत में से उंगलियां बाहर निकाल ले ना।

मैं– साली रण्डी, हरामजादी।तेरी गांड़ क्यो फट रही है।करने दे ना।
महक मैडम– मै झड़ जाऊंगी कुत्ते के मूत।
मैं– तो झड़ जाने दे ना।क्यो तेरी चूत में इतनी खलबली मची हुई है।
तभी मैंने महक मैडम के होंठो को मेरे प्यासे होंठो में फंसा लिया और ताबड़तोड़ बल्लेबाजी करते हुए महक मैडम के होंठो को खाने लगा।कुछ देर में ही मैंने उनके होंठों की लिपस्टिक उड़ा दी। अब मैने महक मैडम को तुरंत पलटकर दीवार के सहारे खड़ा कर दिया और पीछे से उनकी नंगी छरहरी पीठ को किस करते हुए उनकी चूत को बुरी तरह से मसलने लगा।महक मैडम अब बुरी तरह से छटपटाने लगी।कुछ देर में ही महक मैडम की हिम्मत जवाब दे गई और उन्होने कांपते हुए मेरे हाथो में गरमा गर्म लावा उड़ेल दिया। अब वो पानी पानी होकर दीवार से चिपक गई।फिर भी मै उनकी चूत को सहलाता रहा।
अब मैंने कल्पना मैडम को पकड़ा और उनके मुंह में लंड डालकर उन्हें बुरी तरह से बजाने लगा।मेरा पूरा लन्ड कल्पना मैडम के मुंह में आनंद के सागर में गोते लगा रहा था।मैडम के बूब्स ज़ोर ज़ोर से हिलते जा रहे थे। मैं फुल स्पीड में कल्पना मैडम के मुंह को चोद रहा था। पूरे हॉल में लंड के मुंह में जाने की आवाज़ गूंज रही थी।मैडम की गांड बुरी तरह से फटने लगी थी। मैं तो भयंकर तरीके से मैडम के मुंह में लंड डाले जा रहा था।

मैं– आह आह आह आह ओह आह रण्डी।मज़ा आ रहा है।आह आह आह ओह आह।
इधर महक मैडम धीरे धीरे होश सम्हाल रही थी।वो बुरी तरह से ढीली पड़ चुकी थी। तभी मैंने महक मैडम को भी उठाकर कल्पना मैडम के साथ फर्श पर बैठा दिया। अब मैं बारी बारी से दोनो के मुंह को चोदने लगा।मुझे दोनों मैडम के मुंह को चोदने में बड़ा मज़ा आ रहा था। ये मेरे लिए बहुत ज्यादा मज़ा देने वाला पल था। फिर कुछ देर बाद मेरा लन्ड अंतिम पड़ाव पर पहुंचने वाला था।तभी मैंने लंड को कल्पना मैडम के मुंह में ज़ोर से दबा दिया और आधा रस कल्पना मैडम के मुंह में भर बचा हुआ रस महक मैडम को पिला दिया।
अब मैं पसीने पसीने होकर फर्श पर ही लेट गया।तभी महक मैडम मेरे ठंडे पड़ चुके लंड को सहलाने लगी।वो मेरे लन्ड को पकड़ कर अच्छी तरह से मसलने लगी।फिर आराम आराम से उन्होने मेरे लन्ड को चूसना चालू कर दिया। अब मेरा लन्ड फिर। से मिसाइल दागने के लिए तैयार हो चुका था। अब महक मैडम मेरे लन्ड को अच्छी तरह से चूसने लगी।
महक मैडम– ऊंह आह ऊंह आह ओह आह आह मज़ा आ रहा है मादर चोद।ऊंह।

मैं– खाजा मेरे लन्ड को साली रण्डी,चुदक्कड़ कहीं की।
महक मैडम– हां साले मैडम की चूत के गुलाम।निचोड़ डालूंगी आज तेरे लंड को।
मैं– तो निचोड़ लें साली कुत्तिया।
तभी कल्पना मैडम पैंटी खोलकर मेरे मुंह पर चूत रखकर बैठ गई। अब वो चूत को मेरे मुंह पर रगड़ने लगी।
कल्पना मैडम– ओह आह आह ओह साले।चूस मेरी चूत आह आह आह।
अब मैं कल्पना मैडम की चूत को चाटने लगा। कल्पना मैडम की चूत बहुत ज्यादा गर्म और गीली थी। अब मैं लपालप कल्पना मैडम की चूत को चाटने लगा।

कल्पना मैडम– ओह हरामी कुत्ते।चाटता रहे।आह आह बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा है।आह आह आह आह आह ओह।
मैं लगातार कल्पना मैडम की चूत चाट रहा था और महक मैडम मेरे लन्ड की जान निकाल रही थी।
महक मैडम– आज आया है असली चुदाई का मज़ा।आज तो साले हम दोनों तेरी गांड़ फाड़ देंगे।
दोनो की दोनो हवस की पुजारिने मेरी जान निकाल रही थी।
कल्पना मैडम– और चूस साले। खाजा मेरी चूत को।आह आह ओह आह मज़ा आ रहा है।बस चाटता रहे मेरी चूत को।आह आह आह आह आह आह।
तभी कुछ देर बाद कल्पना मैडम उठकर मेरा लन्ड चूसने लग गई और महक मैडम पैंटी को फेंककर मेरे मुंह पर चूत रगड़ने लगी।
महक मैडम– साले कुत्ते मेरी चूत के दाने को रगड़।

तभी मै महक मैडम की चूत के दाने को रगड़ने लग गया।महक मैडम को गजब का मज़ा आने लगा।
महक मैडम– आईईईई आह आह ओह आह आह ओह आह ऐसे ही चाटता रहे मेरे सैया।आह आह मज़ा आ रहा है।आह आह और चाट अच्छे से चाट ना।
मैं महक मैडम की चूत के दाने को अच्छी तरह से जीभ से सहला रहा था।
महक मैडम– आह आह आह मज़ा आ रहा है।आह आह ओह मेरे कुत्ते।आह आह ओह आह।
कल्पना मैडम– ऊंह आह ओह क्या गजब का लंड है इसका एकदम शकरकंद जैसा।ऊंह आह आह।
इधर कल्पना मैडम मेरे लन्ड को चूस चूस कर पानी पानी कर रही थी।दोनो मैडम आज चुदाई का पूरा आनंद ले रही थी।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

कुछ देर बाद मैंने महक मैडम को मेरे मुंह पर से उठा लिया और अब मैंने उठकर महक मैडम पर धावा बोल दिया। अब मैने उन्हे फर्श पर पाटकर टांगो से लेकर होंठो तक अच्छी तरह से मसल डाला। अब मेरा चूत में खलबली मचाने के लिए तड़प रहा था। अब मैने महक मैडम को उठाकर बेंच पर लेटा दिया।
महक मैडम– भैन के लौड़े अब तो तू मेरी जान निकाल कर ही मानेगा।
मैं– हां साली मेरी रण्डी। गंडमरी। अब देख तू मेरे लन्ड का कमाल।
तभी मैंने महक मैडम की दोनो टांगो मेरे कंधो पर रख लिया और मेरे लन्ड के गरमा गर्म सुपाड़े को महक मैडम की चूत की फांकों के बीच रख दिया।
कल्पना मैडम– आज तो जान निकाल दे इस रण्डी की।
महक मैडम– साली कुत्तिया तेरी भी बारी आने वाली है।फिर देखना तू।
कल्पना मैडम– हां रण्डी।मुझे याद है।पहले तू तो चुद लेे।

महक मैडम– मुझे तो डर लग रहा है।ये तेरा इतना बड़ा लंड।ज़रा थोड़ा सा मेरे ऊपर रहम कर देना।मेरे पतिदेव।
मैं– रण्डी।रहम वहम छोड़।आज तो तेरी चूत फाड़नी है।
तभी मैंने ज़ोरदार शॉट के साथ पूरा लन्ड महक मैडम की चूत में उतार दिया।महक मैडम ज़ोर से चिल्ला उठी।वो दर्द से छटपटाने लगी।
महक मैडम– आईईईई भैन के लौड़े मार डाला तूने तो।आईईईई एईईईईईईई एईईईईईई मर गईं।आईईईई।
तभी मै बमाभम महक मैडम की चूत में ज़ोरदार शॉट लगाने लगा। महक मैडम की चिखों से पूरा हॉल गूंज उठा।मेरा लन्ड भयंकर तरीके से महक मैडम की चूत के चीथड़े चीथड़े बिखेर रहा था।वो भयंकर दर्द से तड़प रही थी।
महक मैडम– आईईईई मम्मी मर गई।आईईईई आईईईई ओह ओह आह आह आह आह ओह आह आईईईई।

मैं दे दना दन पूरी गांड़ का ज़ोर लगाकर महक मैडम को बजा रहा था। कल्पना मैडम आराम से बेंच पर बैठकर ताबड़तोड़ चुदाई का आनंद लें रही थी। मैं ताबड़तोड़ बल्लेबाजी करते हुए महक मैडम को चोदे जा रहा था।भयंकर चुदाई की वजह से महक मैडम की जान हलक में आ चुकी थी।वो ज़ोर ज़ोर से चीख रही थी।मेरा लन्ड महक मैडम की चूत के पाताल लोक तक पूरा प्रहार कर रहा था।
महक मैडम– आईईईई आईईईई ओह आह आह आह आह ओह आईईईई।
मैं– अब आया ना मज़ा साली रण्डी।आह आह ओह आह।आज तो तेरी चूत का कचूमर बना दूंगा।आह आह ओह लेे और चुद।
महक मैडम– आह्ह्हह्ह आह्ह् आहहह ओह ओह आईईईई आह्हह।

कुछ देर की खतरनाक चुदाई के बाद महक मैडम मेरे लन्ड का कहर ज्यादा देर तक नहीं झेल पाई और उन्होंने गरमा गर्म लावे की बौछार कर दी।मेरा मोटा तगड़ा लंड महक मैडम के गरमा गर्म लावे में भीग गया।महक मैडम पसीने पसीने हो गई।उनका पूरा जिस्म पसीने में लथपथ हो चुका था। अब मैने महक मैडम की टांगो को छोड़ा और उनके कसे हुए सेक्सी बूब्स को पकड़कर उन्हें फिर से बुरी तरह से बजाने लगा। अब पूरा हॉल फ्फैक्छ फ्फच् फ्सक फ्फेस फ्फाच् फ्फ़च की आवाजो से गूंज उठा। मैं उनको जमकर चोद रहा था।
महक मैडम अब बुरी तरह से पस्त होकर धीरे धीरे सिसकारियां भरने लगी।
महक मैडम– आह आह आह आह आह ओह आह आह।आज तूने वाकई में मेरी जान ही निकाल दी साले हरामजादे।

मैं– जान निकालने में ही तो मज़ा आता है मेरी रण्डी।
महक मैडम– हां मादरचोद तू तो बड़ा खिलाड़ी है ना।
मैं– बड़ी खिलाड़ी तो तुम हो,साली जगत की चोदी।
अब मैं महक मैडम के बूब्स को छोड़कर उनको बुरी तरह से मेरी बाहों में जकड़कर चोदने लगा।महक मैडम ने भी मुझे अपनी बाहों में घेरे में फंसा लिया और वो नाखूनों को मेरी पीठ पर खरोचने लगी। मैं गांड़ उठा उठाकर महक मैडम को चोदे जा रहा था।आज तो मैंने महक मैडम की जान ही निकाल दी थी। अब मैने फिर से स्पीड बढ़ा दी और पूरी जान लगाकर मैडम को पेलने लगा।
महक मैडम– आईईईई आईईईईईईई आईईईई धीरे धीरे डाल ना हरामजादे।आईईईई आज क्या मुझे मार ही डालेगा क्या? आह आह आह आह।
आज तो मैडम की गांड फटकर हाथ में आ चुकी थी। अब तक महक मैडम की हालत खराब हो चुकी थी।तभी महक मैडम एकबार फिर से पानी पानी होकर झड़ गई।उनका सेक्सी जिस्म पसीने में बुरी तरह से भीग गया। मैं अब भी मैडम को चोदता रहा।आज तो मेरा लंड महक मैडम की चूत का कचूमर बना चुका था।

अब मैंने महक मैडम को वही बेंच पर छोड़ा और दूसरी बेंच पर कल्पना मैडम को पटक दिया।
कल्पना मैडम– अब तू भैन के लौड़े मेरी जान निकालेगा।
मैं– हां साली, मेरी लंड पर गुलाम।
कल्पना मैडम– अब क्या करू,मेरे ही स्टूडेंट से मुझे चूत मरवानी पड़ रही है। अब तो कुछ नहीं किया जा सकता है,लेे भई आजा।मार ले तेरी मैडम की चूत।
मैं– हां मेरी प्यारी मैडम। ये तो बड़े सौभाग्य की बात है रण्डी कि एक स्टूडेंट अपनी मैडम की चूत मार रहा है।
कल्पना मैडम– हां मेरे चोदु।बड़े सौभाग्य की बात है।अब चोद ले तेरी रण्डी को।
तभी मैंने कल्पना मैडम की टांगे हवा में लहरा दी और मेरे लन्ड का सुपाड़ा मैडम की चूत के खांचे में रखकर ज़ोरदार धक्का लगाया।मेरा लन्ड एकबार में ही मैडम की चूत के झाड़ झंकाडो को तोड़ता हुआ सीधा मैडम की चूत के पैंदे में जा बैठा।मैडम बुरी तरह से बिलबिला उठी।वो बुरी तरह से चीखने लगी।
कल्पना मैडम– आईईईई आईईईई आई ओह आईईईई आह आह आह मर गई।आईईईई।

मैं दे दना दन कल्पना मैडम को चोदने लगा।मेरा लन्ड पूरा चूत के अंदर घुसकर उनकी चूत की बखिया उधेड़ रहा था।मै मैडम की चूत में ज़ोरदार शॉट लगा रहा था।
कल्पना मैडम– आईईईई मर गई।धीरे धीरे डाल साले कुत्ते हरामी।
मैं– भैन की लौड़ी चुप रह साली और लंड लेती रह।
कल्पना मैडम– मुझसे तेरा लंड नहीं झेला जा रहा है।साले हरामी।आह आह आह आह आईईईई।
मैं– कोशिश कर सब झेल लेगी तू।पहले भी तो तूने मेरे लन्ड को झेला है ना।
कल्पना मैडम– हां लेकिन हर बार तेरा लंड मेरी जान निकाल देता है।
तभी महक मैडम उठकर हमारे पास आ गई।
महक मैडम– अब आया मज़ा।चोद साली को।अच्छी तरह से बजा दे आज इसको।बड़ी इतरा रही थी इतनी देर से।

अब मैं कल्पना मैडम के बूब्स पकड़कर ज़ोर ज़ोर से मैडम को बजाने लगा।मैडम ज़ोर ज़ोर से चीख रही थी।पूरे हॉल में मैडम की चीखे गूंज रही थी।
खैर कुछ देर के भयंकर घमासान के बाद मैडम ने हथियार डाल दिए और उन्होंने मेरे लन्ड को अपनी चूत का गरमा गरम लावा पिला दिया।मैडम पसीने पसीने हो गई। अब लंड के हर एक धक्के के साथ हॉल में फॉचा फ्फच फॉ्छ फफाच्च की आवाज़ गूंजने लगी। मैं फुल मस्ती में कल्पना मैडम को चोद रहा था। अब कल्पना मैडम चुदाने का आनंद लेने लगी।
कल्पना मैडम– आह आह आह ओह आह आह ओह और चोद तेरी रण्डी को।आह आह आह ओह आह ओह।
मैं– हां रण्डी चोद रहा हूं।
कल्पना मैडम– आह आह आह आह ओह आह आह तुझसे चुदाने में बड़ा मज़ा आता है कुत्ते। तू चूत की पूरी गर्मी शांत कर देता है।आह आह आह आह फाड़ दे मेरी चूत को।
मैं– हां साली कमीनी, हरामजादी आज तो तेरी चूत को फ़ाड़ ही दूंगा।

तभी मै पूरे जोश से मैडम को बुरी तरह से चोदने लगा।मैडम फिर से चीख पड़ी और उन्होने फिर से मेरे लन्ड को चूत का गरमा गर्म रस पिला दिया। अब मैने कल्पना मैडम को बुरी तरह से मेरी बाहों में कस लिया और उनकी चूत को चोदते चोदते मेरे लन्ड का गरमा गर्म माल कल्पना मैडम की चूत में भर दिया। अब मैं पसीने पसीने होकर कल्पना मैडम के जिस्म पर ही पड़ गया।
महक मैडम हमें देख रही थी।
महक मैडम– साले कुत्ते तूने इस रण्डी की चूत में सारा माल डाल दिया और मेरी चूत को ऐसे ही खाली छोड़ दिया।
मैं– बस रण्डी अब तेरी चूत भरने की बारी है।बस थोड़ी रुक जा।
कहानी जारी है………. …
आपको मेरी ये कहानी कैसी लगी मुझे मेल करके जरूर बताएं– [email protected]

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!