चुदाई की आग में जल रही प्यासी की प्यास-2

Chudai Ki Aag Me Jal Rahi Pyasi Ki Pyas-2

बाहर आकर उसने टैक्सी बुक की और हम घर की तरफ चल दिए, थोड़ी ही देर में हम उसके घर पर पहुंच गये.
देखने में घर ज्यादा अच्छा नहीं था पर रहने लायक तो था ही, उसने गेट का ताला खोला और हम अंदर चले गये, उसने मुझसे बोला- अगर फ्रेश होना चाहते हो तो हो सकते हो.                                              “Pyasi Ki Pyas”
पर मैंने मना कर दिया तो वो खुद फ्रेश होने के लिए ऊपर जाने लगी, जाते जाते उसने पूछा- क्या पहन कर वापस आऊँ?
और मेरा जवाब सुन कर वो शरमा गई, मैंने बोला- मुझे तो बिना कपड़ों के ही अच्छी लगोगी, तो वो बिना कुछ बोले ऊपर चली गई!

अब मैं बिस्तर पर पड़ा हुआ उसका इन्तजार करने लगा और जब वो वापस आई तो मैं उसको देख कर दंग रह गया, वो एक जालीदार काला गाउन पहन पर सीढ़ियों पर से नीचे आ रही थी जिसमें उसकी गुलाबी ब्रा साफ़ साफ़ दिखाई दे रही थी.
वो आकर मेरे पास बैठ गई, उसके बदन की खुशबू मुझे मदहोश किये जा रही थी.

उसको पास से देख कर मेरा लंड फिर से तन कर खड़ा हो गया, उसकी नज़र मेरे लंड पर थी और मेरी नज़र उसकी चुची पर… अब मुझसे रहा नहीं जा रहा था, मैंने उसके रसीले होंठों पर अपने होंठ रख दिए और ऐसे चूसने लगा जैसे बच्चे लोलीपोप चूसते हैं… वो भी मेरा साथ पूरे जोश से दे रही थी, उसकी सांसे और धड़कन इतनी तेज हो गई थी कि मैं साफ़ साफ़ महसूस कर रहा था.                          “Pyasi Ki Pyas”

अब मेरा हाथ सरकते हुए उसकी चुची पर आ गया, मैं ऊपर से ही उसकी चुची दबाने लगा, उसके मुख से निकलने वाली सिसकारी की आवाज़ मेरे लंड के जोश को दुगुना करने का काम कर रही थी. मेरा हाथ तेजी से उसकी चुची को दबाने का काम पूरी मेहनत से कर रहा था क्योंकि ऐसे कामो में वो पूरी तरह माहिर था.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Dukhi Aurat or Beti ka fayda uthaya Choad kar

अब मैंने अपने होंठ उसके कंधे पर रखे तो जैसे ही काटने की कोशिश की, उसकी सिसकारी इतनी तेज निकली कि वो बेचैन सी हो गई.
आपको बताते चलूँ कि औरत के कंधे और कान की लटकन पर किस करने और काटने से उनके अंदर सेक्स की उत्तेजना काफी तेजी से जागृत होती है.

काफी देर उसके कंधों पर काटा पीटी करने के बाद मैंने उसके गाउन की डोरी खोल दी, अब वो सिर्फ ब्रा और पेंटी में थी, मैंने अपने होंठों से उसकी ब्रा कंधे पर से सरकाई और नीचे ले आया.
अब उसकी हाफ ब्रा कंधे से नीचे सरक गई थी जिसकी वजह से उसकी चुची बाहर निकल आई थी.                 “Pyasi Ki Pyas”

देर न करते हुए मैंने अपना मुँह उसकी चुची के रसपान में लगा दिया, चुची काफी टाइट थी, शायद उसका पति कभी चुची पर ध्यान नहीं देता था, पर जो भी था मैं उसके पति का आभारी थी जो उसने ऐसा ज़बरदस्त माल मेरे हवाले कर दिया था, मेरा मन उसकी चुची को छोड़ने का बिल्कुल नहीं हो रहा था पर उसकी चूत की आग बुझाना भी मेरी ही ज़िम्मेदारी थी, वो रह रह कर मेरा लंड अपने चूत पर रगड़ रही थी, जो साफ़ इशारा कर रहा था कि अब उसके चुदने का समय आ गया है.

मैंने उसको लंड चूसने का इशारा किया, पहले तो उसने मना किया पर थोड़ी रिक्वेस्ट करने पर वो मान गई, वो मुझे कुर्सी बिठा कर मेरे लंड को चूसने में लग गई.
मैं स्वर्ग का आनन्द ले रहा था… उसके हिलती हुई चुची और गूंगुगूं… करके लंड चूसने की आवाज़ मुझे चरम सीमा पर ले जाने की पूरी तयारी में थी, वो लंड चूसते चूसते अपनी चूत में उंगली भी कर रही थी.                                “Pyasi Ki Pyas”
मैंने उसको उठने के लिए तो वो झट से जाकर बिस्तर पर लेट गई और अपनी पेंटी उतार दी.

मैंने उसको अपने पास बुलाया और कुर्सी पर बैठे बैठे ही उसको लंड पर बैठने के लिए कहा, उसने जैसे ही बैठना चाहा, उसकी चीख निकल गई क्योंकि मेरा लंड मोटा और लम्बा है, अब वो उठी और नारियल तेल का डिब्बा ले आई, काफी सारा तेल उसने मेरे लंड और अपनी चूत पर लगाया और दोबारा चुदाई करने के लिए तैयार हो गई, अब धीरे धीरे उसने लंड पर बैठना चालू किया.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  SUNNY Leoni (Film Actress, Prn Star) ki Pyar Chudai

इस बार लंड आसानी से उसकी गुलाबी चिकनी चूत में प्रवेश कर रहा था, उसकी आँखों में आंसू थे पर मुझे नहीं पता कि वो दर्द के थे या ख़ुशी के…                                                                                                               “Pyasi Ki Pyas”
अब वो पूरी तरह से मेरे लंड पर थी, उसकी चुची के निप्पल मेरे मुँह में थे, अभी वो हिल नहीं रही थी, पर मैं उसकी चुची चूसने के काम में पूरी मेहनत से लगा हुआ था, बीच बीच में मैं उसके निप्पल को काट भी लेता था जिससे वो चिंहुक उठती थी, जो मुझे जोशवर्धक की तरह लगता था.

अब उसने धीरे धीरे हिलना शुरू किया, तेल लगे होने की वजह से उसकी चूत फच फच की आवाज़ कर रही थी. जैसे जैसे उसकी स्पीड बढ़ रही थी, फछ्ह फच फच की आवाज़ बढती जा रही थी साथ में उसकी आह उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह ह्ह्ह… चोदो मुझे… मेरी चूत फाड़ दो आज अपने लंड से… मुझे रंडी बना कर चोदो, आज मेरी आग बुझा दो… मेरी चूत फाड़ कर इसका भोसड़ा बना दो!
उसकी ऐसी आवाजें मुझे उसकी चुदाई करने में सहायता कर रही थी. मैंने उसकी चुची को चूस चूस कर लाल कर दिया था और मेरा लंड उसकी चूत पर ऐसी चोट मार रहा था कि उसकी चूत भी लाल हो गई थी.                                         “Pyasi Ki Pyas”

हिंदी सेक्स स्टोरी :  देसी दीदी की गाँव में की चुदाई

इतना चुदने के बाद उसका शरीर अकड़ने लगा जो साफ़ साफ़ बता रहा था कि वो झड़ने वाली है, उसके उछलने की गति कम होने लगी पर मेरा लंड अब भी तना हुआ था. जब उसने देखा कि लंड की आग अभी नहीं बुझी वो फिर से घुटने के बल बैठ कर लंड चूसते हुए गूंगुगु गूंगुगु आअह्ह आह्ह्ह की आवाज़ निकालने लगी, बीच में वो साँस लेने के लिए लंड मुँह से निकाल लेती और लम्बी साँस लेने के बाद फिर से चूसना शुरू कर देती.

अब मैंने उसको घोड़ी बनने के लिए कहा तो उसने अपनी भारी गांड मेरे लंड के सामने हाजिर कर दी.
मैंने अपना लंड उसके पीछे लगा के एक झटके पेल दिया, वो आगे की तरफ झुक गई और अपनी गांड आगे पीछे करके मजा लेने लगी.
अब मैं रुका हुआ था, वो अपनी मोटी गांड आगे पीछे कर रही थी और आह्ह हयेः ह्ह्ह्ह हुहुहुहुम्म कर रही थी और घच घच घच घच पूरे कमरे में गूँज रही थी. काफी देर तक चुदाई करने के बाद मैं झड़ने वाला था, उसने बोला- मेरे चूतड़ों पर निकालना!
मैंने चूतड़ों पर पिचकारी मार दी. उसकी चेहरे पर संतुष्टि की चमक दिखाई दे रही थी, मैं भी काफी खुश था.                 “Pyasi Ki Pyas”

फिर हम दोनों एक साथ नहाये, वहाँ भी मैंने उसकी चुची का रसपान किया, उसने मुझे अपनी चुची से मसाज किया, मैंने भी एन्जॉय किया.

उस दिन मैं उसके घर पर ही रहा और पूरी रात तरह तरह से चुदाई की… वो भी पोर्न देख देख कर नई नई पोजीशन बता रही थी.

उसके बाद भी हमने कई बार चुदाई की, उसकी कहानी मैं अगली बार सुनाऊंगा, फ़िलहाल के लिए विदा चाहूँगा.

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!