कॉलेज की लड़की की खिड़की खोली-1

Collage ki ladki ki khidki kholi-1

हैल्लो दोस्तों, में दीपक आप लोगों के सामने अपनी सच्ची घटना को लेकर आया हूँ और यह मेरी आज पहली कहानी है. वैसे में पिछले एक साल से लगातार  सेक्सी कहानियाँ पढ़ता आ रहा हूँ और मैंने इन कहानियों से आइडिया लेकर अपनी पहली चुदाई के मज़े लिए.

दोस्तों में भोपाल में एक कॉलेज का स्टूडेंट हूँ और मेरी उम्र 23 साल है. में यहाँ पर अपने एक बहुत पक्के दोस्त के साथ किराए का एक रूम लेकर रहता हूँ. मेरी लम्बाई 5.10 है और मेरे लंड का आकार पांच इंच है और में शुरू बहुत ही आशिक़ मिजाज़ का हूँ. फिर में अपने बेच की सभी लड़कियों से बहुत बातें हंसी मजाक किया करता था और मेरी क्लास में एक से बढ़कर एक पटाका माल थे और में उनकी चुदाई करना चाहता था, लेकिन आज तक मेरी यह मन की इच्छा अधूरी ही थी और इसलिए में उन लड़कियों के बारे में सोच सोचकर मुठ मार लिया करता था और ऐसा बहुत दिनों तक चलता रहा, लेकिन एक दिन मैंने मन ही मन सोचा कि अब मुझे अपने पप्पू के लिए कुछ तो करना ही पड़ेगा और तब मैंने यह बात सोचकर तय किया कि जब तक मुझे चुदाई के लिए कोई चूत नहीं मिलेगी, तब तक में मुठ नहीं मारूँगा.

फिर मेरे पेपर खत्म हो चुके थे और में इस बार में अपनी छुट्टियों में अपने घर चला गया और जब में वापस लौटकर आया तो मैंने देखा कि हमारे कॉलेज में अब नये चेहरे मतलब कि मेरे जूनियर आने शुरू हो चुके थे. फिर तभी मेरे दिमाग़ में उनको देखकर एक बहुत मस्त विचार आ गया कि में अपनी कोई भी जूनियर में से ही किसी को पटा लूँगा और अपने लंड की प्यास को बुझाऊंगा.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  बॉयफ्रेंड का मोटा लंड चूस चूस कर ठंडा किया

यह बात सोचकर मेरा मन अंदर ही अंदर बहुत ही खुश था और इसलिए में उस दिन के बाद से हर रोज़ अपने कॉलेज में अच्छी दिखने वाली सुंदर सेक्सी लड़कियों को देखने लगा और मेरी यह तलाश कुछ दिनों तक ऐसे ही चलती रही, लेकिन एक दिन उस भगवान ने मेरे मन की बात को सुन लिया और मुझे एक गुलाबी रंग के कपड़ो में मस्त सेक्सी पटाखा लड़की दिखी, उसके बड़े बड़े आकर्षक बूब्स को देखकर मेरा लंड तुरंत तनकर खड़ा हो गया और में उसको देखकर अपने आप पर बिल्कुल भी कंट्रोल नहीं कर पा रहा था. मेरे हिसाब से उसके बूब्स का साइज़ 34-26-36 होगा.

उस दिन मैंने उसको पहली बार देखकर ही मन ही मन में सोच लिया था कि अब में कैसे भी करके इस लड़की को पटाकर इसकी मस्त चुदाई करूंगा. फिर इस बात को सोचकर में अब हर रोज़ उस लड़की को देखने लगा और में मन ही मन बहुत खुश रहने लगा.

मुझे एक दिन पता चला कि वो मेरी ब्रांच की है और उसका नाम शिखा है, जो जबलपुर से यहाँ पर पढ़ने आई थी. एक दिन में अपने रूम की खिड़की से बाहर की तरफ झांककर देख रहा था कि तभी मुझे शिखा दिखाई दी और उसको देखकर मेरा तो मन एकदम मचल गया और में तुरंत अपने रूम से नीचे आ गया और में उसको घूर घूरकर देखने लगा.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

उसने भी मुझे देख लिया था, लेकिन उसने कोई भी विरोध नहीं किया और तब में उसके पास गया और मैंने उसको बताया कि में उसका सीनियर हूँ और उसको कोई समस्या हो तो मुझे तुम जरुर बताना, क्योंकि वो वहाँ पर नई थी और मैंने उसको अपना मोबाईल नंबर भी दे दिया. तभी उसने बातों ही बातों में मुझे बताया कि वो वही पास ही में किराए से एक रूम लेकर रहती है.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  प्रिया की नथ-1

दोस्तों उसके मुहं से यह बात सुनकर मुझे मन ही मन बहुत ख़ुशी हुई जिसका कोई ठिकाना नहीं था और अब मुझे अपना वो प्लान जिसमे में उनकी चुदाई के सपने देख रहा था, वो पूरी तरह से सफल होता नज़र आ रहा था. फिर हम दोनों ने वहाँ पर कॉफी पी और कुछ देर बातें करके हम दोनों लोग अपने अपने रूम में चले गये, लेकिन उसी पल से पूरे दिन और रात भर में बस उसी की चुदाई के सपने देखता रहा और इस वजह से मुझे उस पहली रात को नाइट फेल भी हो गया, लेकिन इस तरह से अब हमारी बातें धीरे धीरे बढ़ती चली गई और हम एक दूसरे के साथ बहुत हंसी मजाक, इधर उधर घूमना फिरना अपना बहुत सारा समय साथ में बिताने लगे, जिसकी वजह से हम दोनों बड़े खुश रहने लगे और में उसके हर एक काम को आगे बढ़कर किया करता और वो मुझसे बहुत ही कम समय में बहुत अच्छी तरह से घुल-मिल गई थी और अब मुझे ऐसा लगने लगा कि वो भी मुझे मन ही मन पसंद करती है, लेकिन शायद वो मुझसे यह बात कह नहीं पा रही है शायद उसके मन में कोई डर या संकोच था, इसलिए वो ऐसा कर रही थी.

दोस्तों मेरी अच्छी किस्मत से उन दिनों मेरे साथ में रहने वाला एक लड़का अपने घर पर किसी काम से कुछ दिनों के लिए गया हुआ था और इसलिए में रूम पर बिल्कुल अकेला था.

फिर में एक सेक्सी फिल्म को देख रहा था और तभी कुछ देर बाद मेरे मोबाईल पर शिखा का कॉल आया और उसकी सुरीली आवाज को सुनकर मेरे मन में ख़ुशी की लहर दौड़ पड़ी और वो मुझसे कहने लगी कि कल उसका टेस्ट है और उसको थोड़ा कुछ समझ नहीं आ रहा है तो उसने मुझसे मदद करने के लिए कहा, तो मैंने खुश होकर उससे कहा कि तुम दोपहर में दो बजे मेरे रूम पर आ जाओ, में तुम्हे सब कुछ बता दूँगा, लेकिन उसी समय उसने चकित होकर मुझसे पूछा क्या रूम में? तो मैंने उससे कहा कि हाँ, में अपने रूम में बिल्कुल अकेला ही हूँ क्योंकि मेरा वो दोस्त जो मेरे साथ रहता है वो अपने किसी जरूरी काम से अपने घर गया हुआ है और तब उसने मेरी पूरी बात को सुनकर कहा कि हाँ ठीक है और वो करीब पांच मिनट के बाद ही मेरे रूम में आ गई.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  सपना की सेक्सी चूत 2

दोस्तों सच कहूँ तो मुझे इस बात का बिल्कुल भी अंदाज़ा नहीं था कि वो मेरे कहते ही इतनी जल्दी आ भी जाएगी, इसलिए में अपने कंप्यूटर से उस सेक्सी फिल्म की सीडी भी नहीं निकाल पाया और मैंने दरवाजे पर किसी के खटखटाने की आवाज को सुनकर उठने से पहले तुरंत फिल्म को बंद कर दिया और में दरवाज़ा खोलने चला गया.

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!