दीपिका की योनि देख कर जवानी का जोश चढ़ा

(Deepika Ki Yoni Dekh Kar Jawani Ka Josh Chadha)

मैं जिस हॉस्पिटल में काम करता हूं उसी हॉस्पिटल में दीपिका भी काम करती है दीपिका और मैं बहुत अच्छे दोस्त हैं दीपिका का घर भी मेरे पड़ोस में ही है। हम दोनों सुबह साथ में हीं जाया करते हैं और शाम के वक्त साथ में हीघर आते हैं लेकिन कभी मेरी नाइट शिफ्ट में ड्यूटी होती है तो उस वक्त मैं दीपिका से नहीं मिल पाता था मैं और दीपिका जब पहली बार मिले थे तो हम दोनों बिल्कुल भी बात नहीं किया करते थे लेकिन धीरे-धीरे हम दोनों के बीच बातें होने लगी और अब मुझे दीपिका के साथ बात करना अच्छा लगता है। Deepika Ki Yoni Dekh Kar Jawani Ka Josh Chadha.

मैं जब भी दीपिका से बात करता तो मुझे ऐसा लगता कि जैसे वह मुझे बहुत ही अच्छे तरीके से समझती है। हम दोनों के बीच दोस्ती थी हमारे साथ जितने भी लोग काम करते थे वह सब लोग कहते थे कि तुम दोनों के बीच जरूर कुछ चल रहा है लेकिन मैंने कभी भी दीपिका के बारे में ऐसा नहीं सोचा और ना ही मैंने कभी अपने दिल या दिमाग में दीपिका के लिए ऐसा ख्याल पैदा किया हम दोनों बस एक अच्छे दोस्त है जो कि एक दूसरे को बहुत अच्छे से समझते थे।

दीपिका मुझे बहुत ही अच्छे से समझती थी इसलिए शायद वह मेरे सबसे ज्यादा करीब थी जब भी मुझे कुछ जरूरत होती तो दीपिका हमेशा मेरा साथ देती। कुछ ही दिनों बाद दीपिका का बर्थडे आने वाला था दीपिका ने मुझे कहा मैं ज्यादा लोगों को तो घर पर नहीं बुला रही हूं लेकिन तुम्हें घर पर जरुर आना है और मेरे कुछ फैमिली मेंबर ही होंगे। दीपिका मेरे बहुत ज्यादा नजदीक है इसलिए वह कभी भी मुझसे कोई चीज नहीं छुपाया करती थी हम दोनों कभी एक दूसरे से कुछ भी बात नही छुपाते थे इसी वजह से हम दोनों शायद एक दूसरे के ज्यादा नजदीक थे और मुसीबत के समय में दीपिका मेरे बहुत काम आती है। एक बार  मेरी बहन की शादी के समय दीपिका ने मुझे पैसे दिए थे वह हमेशा ही मेरी मदद के लिए आगे रहती है। मैं दीपिका के बर्थडे में उसके घर पर गया उस दिन पहली बार ही मैं उसके घर पर गया था उससे पहले मैं कभी भी दीपिका के घर नहीं गया था जब दीपिका ने मुझे अपने मम्मी पापा से मिलाया तो उनसे मिलकर मुझे बहुत अच्छा लगा वह लोग बहुत ही सीधे-साधे हैं।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Mein Aur Meri Girlfriend ki chudai

मैंने दीपिका को गिफ्ट दिया और उसके बाद मैं वहां से चला आया मैं ज्यादा देर तक दीपिका के घर पर नहीं रुका। अगले दिन दीपिका मुझे हॉस्पिटल में मिली तो वह कहने लगी कल तुम ज्यादा देर तक हमारे घर पर नहीं रुके मैंने उसे कहा तुम्हारे मेहमान आए हुए थे तो मैंने सोचा मैं घर चले जाता हूं। मेरा ज्यादा देर तक रुकना ठीक नहीं था क्योंकि सब लोग पूछते कि यह लड़का कौन है इसलिए मैंने सोचा कि मैं घर चले जाता हूं दीपिका कहने लगी ऐसी कोई बात नहीं है। उसी शाम हम लोग घर लौट रहे थे तो रास्ते में मेरी बाइक का टायर पंचर हो गया। मैंने दीपिका से कहा यार मेरी बाइक का टायर पंचर हो गया है यहीं आसपास में कहीं पंचर लगवा देते हैं लेकिन वहां कोई पंचर वाला नहीं था इसलिए मुझे अपनी बाइक को धक्का देते हुए करीब एक किलोमीटर आगे तक आना पड़ा तब जाकर मुझे एक पंचर वाला मिला। मैंने उससे अपनी बाइक के टायर में पंचर लगाया और फिर हम लोग घर आ गए उस दिन मुझे बहुत ज्यादा गहरी नींद आई और मैं सो गया।

अगले दिन मैंने देखा कि ऑफिस जाने में सिर्फ आधा घंटा ही बचा हैं तभी दीपिका का फोन आया वह कहने लगी मैं कब से तुम्हें फोन कर रही हूं तुम फोन ही नहीं उठा रहे हो। मैंने उसे कहा दरअसल मेरी आंख लग गई थी और मैं बस कुछ देर पहले ही उठ रहा हूं तो मैंने सोचा मैं तुम्हें फोन करुं लेकिन तब तक तुम्हारा फोन मुझे आ गया। दीपिका कहने लगी जल्दी से तुम तैयार हो जाओ मैं तो तैयार बैठी हूं मैंने दीपिका से कहा बस मैं 10 मिनट में तैयार हो जाता हूं। मैं जल्दी से तैयार हुआ और दीपिका के घर चला गया मैंने उसे वहां से रिसीव किया और उसके बाद मैं और दीपिका अस्पताल चले आए। एक दिन हमारे ऑफिस के स्टाफ में से एक लड़के ने मुझे कहा यार तुम दोनों के बीच में जरूर कोई चक्कर चल रहा है।

मैंने उसे कहा ऐसा कुछ नहीं है ना जाने ऑफिस में कितने लोग हमें इस बारे में कहते हैं लेकिन मैंने कभी भी दीपिका के बारे में ऐसा नहीं सोचा। वह मुझे कहने लगा लेकिन तुम तो दीपिका के सबसे ज्यादा नजदीक हो और तुम क्या एक दूसरे से प्यार नहीं करते? मैंने उसे कहा नहीं ऐसा नहीं है। वह लड़का कुछ समय पहले ही हॉस्पिटल में आया था और उसे कुछ ही समय जॉब करते हुए हुआ था। दीपिका को जब मैंने यह बात बताई तो वह कहने लगी मैंने तुम्हारे बारे में कभी ऐसा नहीं सोचा मैंने दीपिका से कहा मैंने भी कभी तुम्हारे बारे में ऐसा नहीं सोचा लेकिन मुझे क्या पता था हमारे बीच में प्यार हो जाएगा।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  Sabziwali Lund Ki Bhookhi Chudai Ka Maza Lene Lagi

जब हम दोनों के बीच प्यार हो गया तो अब मैं दीपिका के बिना एक पल भी नहीं रह सकता था जिस दिन भी वह काम पर नहीं आती तो मुझे बड़ा ही अजीब सा महसूस होता और मेरा मूड भी उस दिन ठीक नहीं रहता। मैंने दीपिका से कहा यार जिस दिन तुम मुझे दिखती नहीं हो उस दिन मुझे बड़ा ही अजीब सा महसूस होता है और मुझे ऐसा लगता है जैसे कि मेरे जीवन में कुछ कमी है। वह मुझे कहने लगी इतना प्यार करना भी अच्छा नहीं है तुम अपने काम पर ध्यान दो मैंने उसे कहा मैं तो अपने काम पर ही ध्यान दे रहा हूं लेकिन तुमसे मिले बिना भी मुझे बड़ा ही अजीब सा महसूस होता है। दीपिका मुझे कहने लगी मुझे भी ऐसा ही लगता है जिस दिन मेरी तुमसे बात नहीं होती या तुम से नहीं मिलती तो मुझे भी बहुत अजीब महसूस होता है।

हमारे रिलेशन की खबर हमारे स्टाफ में सबको पता चल चुकी थी और सब लोग हमें अब चिढ़ाया करते थे सब कहते की तुम दोनों जल्दी शादी कर लो लेकिन हम दोनों का शादी कर पाना इतना आसान भी नहीं था क्योंकि मैं कुछ समय और चाहता था और दीपिका को भी कुछ समय और चाहिए था। दीपिका ने यह बात अपनी बहन को भी बता दी थी और कभी-कबार मेरी बात उसकी बहन से भी हो जाया करती थी हमारा रिलेशन भी बहुत अच्छे से चल रहा था और हम दोनों एक दूसरे को समय दिया करते थे। दीपिका से मेरी फोन पर तो बात होती ही रहती थी वह मुझे मिल भी जाती थी। जब भी हम दोनों मिलते तो एक दूसरे को हमें देखकर जवानी का जोश पैदा हो जाता मैं कभी कभार दीपिका को चोरी छुपे किस कर लिया करता था।

एक दिन हॉस्पिटल में ही मेरे अंदर इतना जोश बढ गया कि मैंने दीपिका से कहा हम लोग बाथरूम में चलते हैं मैं उसे हॉस्पिटल के ही बाथरूम में ले गया और वहां पर मैंने उसके होठों को चूमना शुरू किया। हम दोनो आपे से बाहर हो चुके थे मैं भी अपने कंट्रोल से पूरी तरीके से बाहर हो चुका था मैंने जैसे ही दीपिका की योनि को अपनी उंगली से सहलाना शुरू किया तो वह मचलने लगी मैं बड़ी तेजी से उसकी योनि के अंदर उंगली डाल रहा था उसकी योनि से गिला पदार्थ बाहर निकलने लगा लेकिन उसकी योनि से हल्का खून भी निकल रहा था। मैंने जैसे ही उसकी योनि के अंदर अपने लंड को घुसाया तो वह चिल्ला उठी और कहने लगी मुझसे बर्दाश्त नहीं होगा लेकिन मैं उसे तेजी से धक्के मारता रहा। मैं जब उसे धक्के देता तो उसे भी बहुत मजा आता वह मेरा साथ अच्छी तरीके से दे रही थी मुझे बहुत मजा आ रहा था।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  टाईट चूत को फाड़ डाला

मैंने भी दीपिका को बहुत देर तक चोदा उसकी टाइट चूत की गर्मी को मैं ज्यादा समय तक बर्दाश्त ना कर सका और मेरा वीर्य पतन हो गया हम दोनों ने जल्दी से अपने कपड़े पहने और अपनी ड्यूटी पर आ गए। दीपिका मुझे कहने लगी मुझे बहुत दर्द हो रहा है मैंने उसे कहा कोई बात नहीं दीपिका सब कुछ ठीक हो जाएगा लेकिन वह बहुत घबराई हुई थी। उसके अगले दिन मेरा मन उसे देख कर मचलने लगा और मैं उसे दोबारा से बाथरूम में लेकर गया वहां पर मैंने उसे घोड़ी बनाकर दोबारा चोदना शुरू किया उसकी योनि से अगले दिन भी खून निकलने लगा। “Deepika Ki Yoni Dekh”

मैं उसे बड़ी तेज गति से धक्के मार रहा था मैंने उस दिन उसके साथ 5 मिनट तक संभोग किया और 5 मिनट बाद जैसे ही मेरा वीर्य पतन हुआ तो वह कहने लगी तुमने तो मेरी चूत ही फाड़ दी। हम दोनों अपने कपड़े पहन कर बाहर चले आए जब भी मेरा मन होता तो मैं दीपिका को हॉस्पिटल में चोदा करता था एक दिन मैंने उसे अपने घर पर बुला कर भी चोदा था। हम दोनों के बीच में प्यार तो बढ़ता ही जा रहा था लेकिन मुझे कई बार लगता कि शायद दीपिका और मैं एक दूसरे से सेक्स कर के ही खुश रहते है। “Deepika Ki Yoni Dekh”

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!