देसी कॉलेज गर्ल चुदाई मेरे घर पर आकर

(Desi College Girl Chudai Mere Ghar Par Aakar)

हेल्लो दोस्तो | आज आपको मैं कुछ सुनाने के लिए जा रहा हूँ | मैं एक ऐसा लड़का हूँ जिसकी कई गर्ल फ्रेंड है | चलिए अब मैं सुनाता हूँ की मैं क्या करता था जब मैं आवारा घुमा करता था | मैं अपने घर का एक लौता लड़का हूँ | मैं अपनी कई गर्ल फ्रेंड को चोदा करता था | जब मैं आवारा घुमा करता था | मेरे पास एक मोटरसाइकिल थी जो की मेरे पापा ने मुझे दिया था | मेरे पापा मुझे पेट्रोल के लिए रुपय दिया करते थे | गाडी पर जब पेट्रोल रहता था तब मैं गाडी से घुमा करता था | मैं अपना समय बिताने के लिए गुटके की दूकान पर खड़े हो कर बिताया करता था | जब मैं गुटके की दुकान पर खड़ा रहता था | तब मैं लडकियो को गुटके की दूकान के सामने से गुजरते हुए देखा करता था | एक दिन मैंने देखा की कुछ लडकिया झुण्ड बनाकर जा रही थी | उन लडकियो से पहले मेरा परिचय नही था | मैं रोजाना उन लडकियो को गुटके की दुकान के सामने से गुजरते हुए देखा करता था |

मुझे गुटका और सिगरेटे पीने का सौक है इसलिए मैं उस गुटके की दुकान पर खड़ा रहता था | गुटका खाने वाले कुछ लोग भी उस गुटके की दुकान पर मौजूद रहते थे | एक दिन मैं अचम्बे में पड़ गया क्योकि मैंने देखा की उन लडकियो का झुण्ड मेरे घर के बाहर खड़ा हुआ है | फिर कुछ समय के बाद मुझे मालूम चला की वो लडकिया मेरी बहन की सहेलिया थी | जब मुझे मालूम चल गया की वो लडकिया मेरी बहन की सहेलिया है तब उन में से एक लड़की को मैं घुरा करता था | क्योकि लडकियो की झुण्ड में से एक लड़की जब मेरे घर पर आती थी तब वो लड़की मुझको पलट पलटकर देखा करती थी | उस लड़की के पलट पलटकर देखने के कारण मैं उस लड़की को घुरा करता था |

कुछ महीने के बाद वो लड़की मेरी गर्ल फ्रेंड बन गयी | लेकिन ये कैसे हुए चलिए जानते है | जब वो लड़की मेरे घर मेरी बहन से मिलने के लिए आई थी तब उसे देखकर मैं अचम्बे में पड़ गया था क्योकि उस लड़की का देखने का अंदाज बिलकुल निराला था | वो मुझे ने केवल देखा करती थी बल्कि वो लड़की मुझे पलट पलटकर देखा करती थी | मेरी बहन ने उस लड़की से मेरा परिचय आमने सामने करवाया था | जब मेरा परिचय उस लड़की से हो गया तब उस लड़की ने मुझे एक अवसर दिया की मैं कुछ ऐसा कर सकू जिसके कारण वो लड़की आज मेरी गर्ल फ्रेंड है | जब मैंने उस लड़की को अपनी गर्ल फ्रेंड बना लिया था तब कुछ महीने के बाद मैंने उस लड़की को आसानी से चोद पाया | कुछ महीने तक मैं उस लड़की को सिर्फ घुरा करता था | लेकिन समय बीतने के बाद उस लड़की से मेरी मित्रता हो गयी | ये लडकीया अक्सर झुण्ड बनाकर ही घुमा करता थी |

उन लडकियो का झुण्ड एक दिन मेरे मित्र के घर के सामने खड़ा हुआ था क्योकि मेरे मित्र की बहन भी उन लडकियो की सहेली थी | कुछ साल के दौरान मैंने उन लडकियो के झुण्ड की लडकियो में से एक को भी नही छोड़ा और पट्टा लिया | एक के बाद एक लड़की से परिचय होने के बाद मैंने उन लडकियो को चोदा | एक दिन उन लडकियो में एक लड़की मेरे घर पर आई हुई थी | क्योकि मेरी बहन कोई सर्वे वाला कार्य कर रही थी इसलिए उस दिन वो लड़की मेरे घर पर आई हुई थी | उस लड़की को भी सर्वे वाला कार्य करना था |

मेरी बहन उस लड़की की सहेली बन चुकी थी इसलिए वो लड़की अक्सर मेरे घर पर आया करती थी | मेरी बहन और उसकी सहेली जिसे मैंने अपनी गर्ल फ्रेंड बनाया था | वो लड़की मुझे किसी वजह से कभी न कभी मेरे घर पर आ जाती थी | एक दिन जब वो लड़की मेरे घर पर आई हुई थी तब वो लड़की और मेरी बहन एक कमरे पर थे | उस दिन मेरी बहन ने मुझे बुलाया और मुझ से कहा की तुम्हे मुझे छोड़ने के लिए चलना है | मेरी बहन के ऐसा कहने पर मैंने अपनी बहन को हा कर दिया | फिर मेरी बहन कपडे बदलने के लिए उसके कमरे पर चली गयी | जब मेरी बहन कपडे बदल रही थी तब मैं उस लड़की से बात कर रहा था |

उस लड़की से बात करने के दौरान मैंने उस लड़की के विषय में काफी कुछ मालूम कर लिया था | अब जब भी वो लड़की मेरे घर पर आती थी तब वो लड़की मुझ से अवस्य बात किया करती थी | कुछ महीने तक तो मुझ से बात करने का सिलसिला मेरे घर पर चलता रहा | फिर एक दिन जब मेरी बहन कपडे बदल रही थी और मैं उस लड़की के साथ था तब मैंने उस लड़की के दूध को दबाना शुरु कर दिया | लेकिन उस लड़की के दूध दबाने पर उस लड़की को कोई फर्क नही पड़ा | उस लड़की ने मुझे फिर कहा की तुम अकेले में क्या कर रहे हो | उस दिन अकेले रहकर मैं उस लड़की के दूध को दबा रहा था | कुछ समय के बाद मैं उस लड़की की चूत के अन्दर अपना लंड डालने के लिए उसके कपडे को उतार दिया | फिर उसके चूत के अन्दर मैंने अपना लंड अन्दर डाल दिया | फिर कुछ समय के बाद मेरे लंड से वीर्य गिरने लगा |

जब मेरे लंड से वीर्य गिरने लगा तो मैं अपने हाथो से मेरे लंड से गिर रहे वीर्य को उस लड़की के बदन पर लगा रहा था | कुछ समय तक मैं अपना वीर्य उस लड़की के ऊपर लगाने के बाद मैंने उस लड़की को चोदना रोक दिया | जब मैं उस लड़की को चोद रहा था तब उस लड़की ने मुझे बताया की तुम्हारी दीदी आ सकती है इसलिए जब तुम फुर्सत पर रहेगो तब मैं तुमसे मिलने के लिए आ सकती हूँ | उस लड़की ने जब मुझ से कहा की मैं अकेले पर तुम से मिल सकती हूँ | तब मेरे पास एक मौका था की मैं उस लड़की को आसानी से चोद सकता हूँ | उस दिन मैंने उस लड़की से कहा की मेरी बहन आ सकती है इसलिए तुम कल आना और मैं तुमसे तब मिल सकता हूँ |

कल मैं तुम्हे घुमाने के लिए ले चलूँगा | अगला दिन हुआ तब वो लड़की मेरे घर पर आई हुई थी | उस लड़की से मैंने एक मिलना की जगह को तय किया था | मैं उस लड़की से एक ऐसी जगह पर मिला जहा पर कोई नही था | मैं उस दिन वहा पर मिला जहा कोई नही था | उस लड़की से मैंने कहा की तुम मुझे एक गार्डन पर मिलना | वो लड़की भी उस गार्डन पर आई हुई थी | उस लड़की से मिलने के लिए जो समय तय किया गया था वो लडकी उसी समय वहा पर आई हुई थी | उस लड़की से मैं एक गार्डन पर मिला था | गार्डन पर उस लड़की से मिलने के बाद मैं उस लड़की को लेकर एक वीरान जगह पर ले कर चला गया जहा पर कोई नही था फिर मैं वहा पर उस लड़की को चोदने लगा | “Desi College Girl Chudai”

कुछ समय तक मैं उस लड़की को चोदता रहा | उस लड़की को चोदने के लिए मैं उस लड़की को एक वीरान जगह पर ले कर गया हुआ था इसलिय वहा पर कोई नही था | उस लड़की को चोदने से पहेले मैंने उस लड़की के कपडे को उतारा फिर जब वो नंगी हो चुकी थी तब मैंने उस लड़की के दूध को दबाया | दूध जब दबा चूका था फिर मैंने उस लड़की के चूत को चाटना शुरु कर दिया | चूत को चाटने के बाद मुझे उस लड़की को चोदना था इसलिए मैंने उस लड़की के लंड पर अपना लंड डाल दिया | कुछ समय तक मैं उस लड़की के चूत में अपना लंड डालकर उस लड़की को चोदता रहा | फिर कुछ समय के बाद मेरे लंड से वीर्य बहना शुरु हो गया |

जब मेरे लंड से वीर्य बहना शुरु हो गया तो मैं थक गया | ऐसा करना मेरे लिए एक शानदार अनुभव था क्योकि मैंने अब तक कोई लड़की को नही चोदा था | उस दिन मैंने पहेली लड़की को चोदा था अपनी जिन्दगी में | कुछ महीने के बाद अन्य लडकिया भी मेरी बहन के पास आने लगी क्योकि उन्हे भी सर्वे वाला कार्य करना था | जब मेरी बहन सर्वे का कार्य करती थी तब कई लडकिया मेरी बहन से मिलने के लिए आया करती थी | क्योकि उन लडकियो से मुझे पहचान बनाना था इसलिए मैंने मौका का फयदा उठाया | मौके के फायदा उठाने के बाद जब कोई भी लड़की मेरे दीदी से मिलने के लिए आया करती थी तब मैं उन लडकियो से परिचय बना लेता था | जब मेरा परिचय उन लडकियो से हो जाता था तब मैं उन लड़की से वो करता था जिसके लिए मैं उन लडकियो से परिचय बनाया करता था |

मेरी दीदी की अगली सहेली को चोदने के लिए मैंने आखिरकार सफलता पा लिया | सफलता पाने के लिए मैंने पहले उस लड़की से अपना परिचय बना लिया जब मेरा परिचय उस लड़की से हो गया तब मैं उस लड़की को चोदा | मेरी दीदी की अगली सहेली भी मेरे घर आई हुई थी उसने अभी अभी सर्वे का कार्य करना शुरु किया | सर्वे का कार्य लडकियो के लिए था और मेरी दीदी काफी समय से सर्वे का कार्य कर रही थी इसलिए वो अन्य लडकियो की प्रमुख बन चुकी थी | जब वो अन्य लडकियो की प्रमुख बन चुकी थी तब मेरे घर पर लडकिया आया करती थी | उन लडकियो को अपना मित्र बनाने के बाद मैं उन लडकियो को चोदा करता था | एक दिन ऐसा आया की जब मुझे अगली लड़की को चोदना था |

उस दिन मेरे घर पर मेरी दीदी ही सिर्फ थी | इसलिए मेरी दीदी जब उस कमरे को छोडकर किसी वजय से बाहर चली गयी थी | तब मैंने उस लड़की को गले लगा लिया | जब मैंने उस लड़की को गले लगाया तो उस लड़की ने मेरे होटो को चूमा | वो लड़की भी उस दिन चुदाई करवाने के लिए तयार थी | मैंने उस लड़की को चोदने की योजना बना लिया था | लेकिन उस लड़की को चोदने से पहेल उस लड़की से परिचय करवाना अवश्यक था | उस दिन उस लड़की के दूध को मैंने दबाया तो मुझ से कहने लगी की आज तुम्हारी दीदी है इसलिए कभी अन्य दिन तुम मेरे घर पर आना मैं तुम को लेकर घुमने के लिए चलूंगी | उस दिन के बाद से उस लड़की के दिए हुए अवसर के कारण मेरा भाग्य खुल चूका था | अब मैं आज तक उस लड़की को आसानी से उसके होटो को चूम सकता हो | मेरी दीदी के सर्वे वाले कार्य करने से मुझे काफी फायदा हुआ और मुझे लडकियो का साथ मिलता रहता है |

 

Loading...