धोखा या प्यार या मज़बूरी

(Dhokha ya pyar ya mazburi)

मेरा नाम आशीष है और मेरी पत्नी का नाम रचना, हमारी शादी को १५ साल हो चुके है यह बात उस समय की है जब हमारे कोई औलाद नही थी चूँकि रचना तंत्र मन्त्र पर यकीन रखती थी तो मै भी उससे कुछ नही कहता था एक दिन मेरी सास ने कहा कि उनके कोई मिलने बाली है वो इलाज करती है तो उनको दिखा दो एक बार तो जब मै अपनी ससुराल गया तो रचना को लेकर उनके घर गया वहाँ पर उस महिला ने रचना को देखा और कहा कि आज दोपहर बाद आना अकेले तो मेरी पत्नी बोली नही मै इनके ही साथ आउंगी तो उसने कहा ठीक है और उसने मुझसे पूजा पाठ के लिए १००० रुपए ले लिए फिर हम लोग शाम को ४ बजे उसके घर फिर पहुचे तो वो अंदर बाले कमरे में थी जब हम दोनों पहुंचे तो उसने हम दोनों को बैठने के लिए कहा कुछ देर में उसने हम दोनों को एक गिलास में पीने के लिए कुछ दिया मैंने थोडा पिया उतने में ही मेरा सर चकराने लगा तो मैंने और नही पिया और चुपचाप वो पानी वही रखे एक लोटे में डाल दिया और फिर मैंने बेहोशी का नाटक किया और लेट गया रचना फ़ौरन मेरे पास आई और मुझे उठाने लगी।

तो वो औरत बोली चिंता मत करो यह अभी नही उठेगा २ घंटे बाद ही उठेगा तो रचना बोली क्यों तो वो बोली मै अभी तुमको अकेले बुलाने बाली थी क्योकि यह तुमको बच्चा नही दे सकता है मेरे यह दोनों पट्ठे तुझे खुश करेगे अभी और तू पेट से हो जायगी तो रचना ने मना किया तो वो बोली तुमको करना ही पड़ेगा अगर बच्चा चाहती हो तो यह दोनों कंडोम लगा कर करेगे मगर तुमको ऐसा आनंद मिलेगा जो तुमको अभी तक नही मिला है मेरी पत्नी मना करने लगी मुझे लगा चलो यह नही करेगी मगर वो औरत रचना को हर तरह से समझाने लगी और उसने उन दोनों लडको को पूरा नंगा कर दिया उनके लंड कम से कम १० ११ इंच के थे मुझसे लगभग दुगने मै तक डर गया था तभी उस औरत ने रचना के दोनों हाथो को उन दोनों के लंडो पर रखवाया वही वो पिघल गई और चुप हो गई लंडो पर हाथ चलाने लगी तो उन्होंने रचना को गोदी में उठाया और वही पर जो पर्दा लगी थी उसके पीछे ले गये ५ मिनट्स में ही एक लड़का रचना के सब कपडे ले कर बाहर आया और उस महिला से बोला आंटी यह लो कपडे सही करके रखो मेने देखा।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  चूत में बैगन खीरा दाल कर काम चला रही थी

उन कपड़ो में ब्रा और पैंटी भी थी तभी मुझे रचना की चीख सुनाई दी और बेड के हिलने की आवाज सुनाई देने लगी तो वो हंसने लगा और बोला मस्त माल है अच्छे से चोदेंगे फिर ३० मिनट्स बाद अंदर बाला लड़का बाहर आ गया उसका लैंड बिलकुल डाउन था फिर वो लड़का अंदर चला गया मुझे सिर्फ बेड की चीर्र चिर्रर्र और रचना की आःह्ह्ह अआहह्ह्ह ही सुनाई पड़ रही थी फिर कुछ देर बाद वो भी बाहर आ गया तो पहले बाला गया और रचना को गोदी में उठा कर नंगी ही बाहर ले आया फिर रचना को मेरे बगल में बैठालने लगा तो वो मना करने लगी नही यह मेरे पति है इनके सामने नही मगर वो नही माना और बोला अभी अंदर हम दोनों से चुद चुकी है।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

अब नखरे कर रही है और जबरदस्ती मेरे बगल में सुला दिया और खुद उपर लेट गया रचना का पूरा ध्यान मेरी ही तरफ था और वो लगातार चोदे जा रहा था ५ मिनट्स बाद ही वो महिला बोली अब रहने दो इसके पति के उठने का टाइम हो रहा है इसको जल्दी से कपडे पहनाओ तो रचना ने अपन कपडे पहने तो उसने कुछ देर में मुझे उठाया और बोली क्या हुआ तुम सो क्यों गये यहाँ बहुत कुछ हो गया मैंने कहा क्या तो वो बोली तेरी बीवी का चुदाई मैंने चोकने का नाटक किया तो उसने हम दोनों को कुछ फोटो दिखाई और कहा किसी से कुछ नही कहना मुझे एक साल के लिए किसी की तलाश थी जो अब पूरी हो गई है अब तुम दोनों एक साल तक हमारे लिए काम करोगे फिर तुम फ्री हम भी फ्री
आगे की कहानी अगले भाग में ……………..

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!