दीदी का रंडी बनने का सपना पूरा हुआ

(Didi Ka Randi Banane Ka Sapna Poora Hua)

नमस्कार दोस्तों, आज मैं आप के सामने बिल्कुल ही सच्ची कहानी लेकर आया हूं,  और उम्मीद करता हूं कि आप भाइयों और बहनों को मेरी यह सच्ची कहानी बिल्कुल पसंद आएगी. मेरा नाम राज है और मैं २१ साल का लड़का हूं, मेरे घर में मेरे मम्मी पापा और बहन रहते हैं. हम लोग एक अपार्टमेंट में रहते हैं और मेरे मम्मी पापा जॉब करते हैं, घर पर मेरी बहन रहती है जिसकी उम्र २५ साल है. मेरी बहन का फिगर ३४-२४-३३ है और उसका नाम निकिता है. वह दिखने में बहुत ही खूबसूरत है और सेक्सी भी हे. मैं हस्तमैथुन का आदी हूं और हर दिन मुठ मार ही लेता हूं, कभी बाथरुम तो कभी रात में अपने बिस्तर पर. मेरे घर में तीन बेडरूम है एक डाइनिंग और एक ड्राइंग रूम है और एक किचन हे. एक बेड रूम में मेरे मम्मी और पापा सोते हैं, दूसरे बेडरूम में मैं सोता हूं और तीसरे बेडरूम में मेरी बहन सोती है. Didi Ka Randi Banane Ka Sapna Poora Hua.

गर्मियों का दिन था और हम लोगों को एक शादी में कुछ दिनों के लिए जाना था. मम्मी पापा शादी में जाने की तैयारी कर रहे थे. फिर अचानक जाने से २ दिन पहले मेरी बहन ने कहा कि वह शादी में नहीं जाएगी क्योंकि उसको कुछ अपने स्टडीज से रिलेटेड प्रोजेक्टस पर काम करना है, तो फिर मम्मी पापा ने मुझसे कहा कि मैं भी अपने दीदी के साथ ही रहूंगा.. में भी मान गया, २ दिन के बाद मम्मी पापा सुबह ५ बजे ही घर से निकल गए, और मुझे और मेरी दीदी को समझा कर गये की ठीक से रहना और अजनबी से बातें ना करना, मैं दरवाजा बंद कर के अपने कमरे में आ गया और दीदी से बोला कि मैं सोने जा रहा हूं, उसके बाद मैं अपने कमरे में आ गया और सो गया..

मैं ९:३० बजे सुबह उठा और अपने कमरे से बाहर निकला. हमारे घर की नौकरानी काम कर रही थी और मेरी बहन किसी से फोन से बातें कर रही थी. फिर अचानक मेरी बहन ने फोन रख दिया और बाथरूम फ्रेश होने चली गई मैं, भी फ्रेश हो गया और नौकरानी भी चली गई थी. मेने दीदी से कुछ खाने को मांगा नाश्ते के लिए तो उस ने  दो थाली लगाइ एक खुद के लिए और मेरे लिए. और फिर हम टेबल पर एक साथ बैठ गए खाने के लिए. उस दिन दीदी ने शोर्ट टी शर्ट और हाफ पैंट पहना था, वह माल लग रही थी. तभी अचानक दीदी ने मुझसे कहा कि राज आज एक लड़की घर में आएगी, तो मैंने पूछा कौन? उस ने कहा कि उसकी एक फ्रेंड है रोशनी, और वह यहां पर कुछ काम से आ रही है. और कुछ दिन तक यहां पर रहेगी हमारे घर में.                                  “Didi Ka Randi Banane Ka Sapna”

फिर मैंने कहा कि ठीक है कोई बात नहीं. फिर २ घंटे के बाद डोर बेल बजी और मैं लेट खोलने गया मैंने गेट खोला तो देखा कि एक लड़की थी मुझे लगा कि वह रोशनी ही है दीदी की दोस्त.. मैंने उसे उस का नाम पूछा तो उसने अपना नाम रोशनी बताया. फिर मैंने उन को अंदर आने का इशारा किया.. फिर दीदी भी आ गई और अपने दोस्त के गले लग गई. फिर उनकी दोस्त दीदी के कमरे में आ गई और अपना सामान रखा और फिर हम दोपहर में खाना खाया और फिर मैं अपने कमरे में चला गया. और दीदी और उसकी दोस्त रोशनी अपने कमरे में. रोशनी दिखने में खूबसूरत तो नहीं पर सेक्सी और बोल्ड बिल्कुल थी.                               “Didi Ka Randi Banane Ka Sapna”

तभी कुछ देर के बाद मेरे कमरे में दीदी और उसकी दोस्त आई और मेरे सामने बैठ गई. दीदी ने मुझ से कहा कि राज रोशनी को शॉपिंग करना है, में उस के साथ मार्केट जा रही हूं और कुछ देर के बाद आऊंगी, फिर उसके बाद वह कपड़े बदल कर बाहर चले गए और मैं घर में अकेला था. तभी मैंने सोचा कि क्यों ना एक बार एक शानदार मुठ मारी जाए रोशनी के नाम जो कि दीदी की दोस्त थी. मैंने सोचा कि रोशनी के नाम की मुठ मारने के लिए क्यों न कुछ रोशनी की पैंटी और ब्रा का इस्तेमाल करूं.

में दीदी के कमरे में गया और रोशनी का बेग खोला. बेग देख कर में तो दंग रह गया.  बेग में गंदी वाली फिल्म के डीवीडी थे, कुछ गंदी मैगजीन थी और ८-१० पैकेट कंडोम के थे, मुझे लगा कि यह क्या है? तभी मैंने एक डीवीडी पर रोशनी की नंगी फोटो देखी और तब मुझे पता चला कि रोशनी एक रंडी है. मुझे दीदी पर आश्चर्य हुआ कि रोशनी दीदी की दोस्त कैसे बन गई? मैं पांच छह बार मुट्ठ मार कर अपने कमरे में आकर लेट गया. करीब ८ बजे दीदी और रोशनी घर पर आई, वह दोनों बहुत ही ज्यादा खुश लग रही थी. हमने खाना बाहर से ऑर्डर किया  और फिर एक साथ खाया. मैं बार बार रोशनी की तरफ ही देख रहा था और अपनी दीदी की तरफ भी.                 “Didi Ka Randi Banane Ka Sapna”

खाना खाने के बाद दीदी मेरे रुम में आई और बोली के राज आज रात तीन लोग हमारे घर आएंगे और कुछ दिनों तक घर पर ही रहेंगे. तो मैंने पूछा कि कौन लोग? तो दीदी ने जवाब दिया कि है वह मैं कल ही बताऊंगी. पर प्लीज तुम यह बात मम्मी और पापा को मत बताना. तो मैंने पूछा की पर वह लोग है कौन? तो दीदी ने मुस्कुराकर कहा कि तुम्हें सब पता चल जाएगा मेरे भाई. फिर कुछ ही देर के बाद घंटी बजी और करीब ५  लोग हमारे घर में आए. दीदी ने उन लोगों को बाहर के कमरे में बैठाया और खुद किचन में आकर चाय बनाने लगी. तो दीदी से मैंने पूछा किए कौन लोग हे तो दीदी ने सिर्फ स्माइल दिया. में उन लोगो के चेहरे की ओर देख रहा था. उनमें से एक आदमी की उम्र २५ साल की होगी दूसरे की ३४ तीसरे की ४०  और चौथे की ४१ और पांचवे की ४५ के आसपास. उनके पास बहुत ही बड़ा बेग था और काफी सामान था. फिर दीदी ने मुझे  बुलाया और अकेले में कहा कि राज आज की रात बहुत ही हसीन होगी और आज उसकी बहन एक रंडी बनने जा रही है..                                       “Didi Ka Randi Banane Ka Sapna”

में घबरा गया और पूछा कि दीदी तुम ऐसा क्यों कर रही हो? तो उसने मुझे एक किस करते हुए कहा कि भाई हवस बिना जिंदगी का मजा नहीं है. मैंने कहा कि मैं पापा को सब बता दूंगा, तो दीदी ने हंसते हुए कहा कि तुम मम्मी पापा को कुछ नहीं बताओगे  मैं चुप हो गया.. फिर दीदी ने मुझे कहा कि वैसे अगर तुम चाहो तो आज हवस में शरीक हो सकते हो. फिर दीदी रोशनी और बाकी पांच लोग दीदी के कमरे में चले गए, कमरे में सभी लोग काफी आवाज कर रहे थे पर हंस रहे थे. मैं दरवाजे के पास गया तो देखा कि इन की तैयारी ब्लू फिल्म बनाने की है.

में अपने कमरे में चला गया और पूरी तरह नंगा होकर बिस्तर पर लेट गया. रात काफी हो चुकी थी करीब १२ बज रहे होंगे, दीदी की चीखने की आवाज आई. मैंने देखा कि दीदी अपने कमरे में से बाहर दौड़कर कर आ रही थी, उस समय वह पूरी नंगी थी. और उसके शरीर से काफी बदबू आ रही थी. वह चीखते हुए बाथरुम में जा रही थी और बोली कि यह तुमने क्या कर दिया, आज में गई. फिर दीदी कुछ १५ मिनट के बाद बाथरुम से बाहर आई और अपने कमरे में चली गई. रात भर उनकी चुदाई और ब्लू फिल्म की शूटिंग चलती रही. मैं सुबह उठा करीब ८ बजे तो देखा कि रोशनी और दो लोग नंगे लेटे हुए थे.                             “Didi Ka Randi Banane Ka Sapna”

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

दीदी और बाकी के तीन लोग नजर नहीं आ रहे थे, मैंने रोशनी को नंगे ही जगाया और पूछा कि दीदी कहां है? रोशनी ने मेरे लंड पर जबर्दस्त अपने हाथ से मारा और मुझे गाली देते हुए बोला कि साला तेरी दीदी अब रखेल और रंडी हो गई है, जा कर कोठे पर देख.. मैं फिर रोशनी से पूछा कि प्लीज बताओ कि दीदी कहां है, तो रोशनी हसते हुए बोली कि अच्छा साले बताती हु लेकिन तुझे मेरी बात माननी पड़ेगी. उसने कहा कि तुम मेरे साथ टॉयलेट में चल.

में गया वो टॉयलेट की सीट पर बैठ गई और जोर जोर से अपने  पीले पीले माल निकालने लगी और फिर उसने कहा कि मैं उसकी गांड को चाटूंगा, मैंने वैसा ही किया और फिर उसने बताया कि दीदी एक ब्लू फिल्म सिनेमा हॉल में रात में ३ बजे गई है, मैं तुरंत उसे सिनेमा हॉल में गया तो देखा कि दीदी एक कमरे में १० लोगों के साथ लेटी हुई है, दीदी ने शराब भी पि थी. अगली कहानी सेश भागों में. मैंने वहां देखा कि दीदी और बाकी के लोग बेसुध होकर फर्श पर सोये हुए थे. किसी को वहां पर कुछ होश नहीं था, सभी सो रहे थे. मैं वहां से तुरंत अपने घर आ गया और डोर बेल बजाई तो पाया की रोशनी अपने बदन को ढक कर दरवाजा खोला.                              “Didi Ka Randi Banane Ka Sapna”

फिर मैं अंदर आ गया और अपने कमरे में चला गया. फिर मैं तुरंत अपने बाथरुम में फ्रेश होने गया तो देखा कि बाथरुम गंदी चीजों से भरा हुआ था, मैंने किसी तरह सोचा की टॉयलेट करूं लेकिन मेरी हिम्मत नहीं हुई. तो अचानक रोशनी ने मुझे कहा कि अगर मैं चाहूं तो उस के कमरे में चल कर टॉयलेट कर सकता हूं. तो मैंने पूछा कि कहां? तो उसने कहा कि उसके बेड पर वैसे भी काफी गंदगी है और अगर मैं चाहूं तो वहां पर ओपन में कर सकता हूं. मेरे पास दूसरा कोई ऑप्शन नहीं था इसलिए मैं नंगा होकर रोशनी के कमरे में जाकर बिस्तर पर हगने लगा, रोशनी नंगे खड़ी मुझे घूर रही थी, तभी वह मेरे पीछे आई और मेरे पैखाने को चाटने लगी. फिर मैं अपना लंड उसके मुंह में दे दिया और फिर उसको बड़े हरामी तरह से चोदने लगा. ना मैं उस समय कंडोम पहना था और ना ही उसने. उसने मुझे कहा कि जब मैं झड़ने लगूं तो अपना लंड उसकी चूत से निकाल लू,  मैंने कहा कि ठीक है..

पर जब मैं उसको चोदने लगा तो मेरा सारा रस उसकी चूत के अंदर चला गया पर उस समय हमें बिल्कुल ही ख्याल नहीं रहा और हम जमकर एक दूसरे के साथ मजे ले रहे थे. एक घंटा चोदने के बाद मैं फ्रेश हुआ और रोशनी भी. फिर रोशनी नहा कर कपड़े बदल कर मेरे पास आई और मुझे कहा कि उसे बहुत भूख लगी है, क्योंकि निकिता, मेरी दीदी का तो कोई पता नहीं था.. मेने उसे कहा कि अगर उसे खाना बनाना आता है तो किचन में जाकर बना ले. तो रोशनी ने कहा कि चलो होटल में जाकर खा लेते हैं और मैंने भी हा कर दिया.. फिर हम दोनों होटल में खाना खाने चले गए और खाने के बाद हमने सोचा कि निकिता के पास चलें. फिर हम उस सिनेमा हॉल में चले गए जहां पर मेरी दीदी को देखा था..  जब हम वहां पर पहुंचे तो देखा कि वहां कोई भी नहीं था, दीदी भी नहीं. बस वहां दीदी के फटे हुए कपड़े थे. रोशनी ने एक फोन लगाया और पता चला कि मेरि दीदी रेलवे स्टेशन के पास एक प्राइवेट रूम में कुछ लोगों के साथ चुद रही थी. रोशनी ने फोन रखने के बाद मुझे बताया कि मेरी दीदी आज कुल मिलाकर १८ लोगों से चूदी  है, मैं तो दंग रह गया..                 “Didi Ka Randi Banane Ka Sapna”

फिर में और रोशनी एक रेस्टोरेंट में गए और मैंने वहां पर रोशनी से उसके बारे में पूछा. रोशनी ने बताया कि वह एक रांड है और उसकी मुलाकात मेरी दीदी से ३ महीने  पहले हुई है. उसने बताया कि मेरी दीदी हमेशा से एक रंडी बनना चाहती थी और इसी दौरान वह मेरी दोस्त बन गई. रोशनी ने अपनी कहानी विस्तार में बताइ और रोशनी ने कहा की क्यों ना हम एक नया प्लान बनाये और मैंने कहा कि क्या? तो रोशनी ने कहा कि चलो आज हम एक पब्लिक टॉयलेट में चुदाई करते हैं. मैं भी मान गया और फिर हम एक छोटे से पब्लिक टॉयलेट में गए. टॉयलेट बहुत ही छोटा सा था और टॉयलेट का गेट एक टूटी हुई लकड़ी का था. टॉयलेट में सिर्फ एक     आदमी ही किसी तरह बैठ सकता था. जैसे ही हमने टॉयलेट का दरवाजा खोला तो देखा कि टॉयलेट की सीट पर गंदगी लगी हुई है. पर रोशनी ने कहा कि हम उसे साफ कर लेंगे. मैं टॉयलेट की सीट पर बैठ गया और रोशनी मेरे ऊपर, हमने अपने कपड़े उतार दिए थे.                           “Didi Ka Randi Banane Ka Sapna”