दीदी की सास की गांड फाड़ी-2

Didi ki saas ki gaand faadi-2

उनकी सास को में अच्छी तरह से देख रहा था वो गहरी नींद में सीधे एक लाश की तरह पड़ी हुई थी. उनको देखकर मेरी तो नियत खराब हो गई और में उसकी उभरी हुई छाती को देखकर में धीरे से आगे बड़ा और मैंने पास जाकर उनकी मेक्सी को उनकी जांघो तक चूत के ऊपर तक ले गया और अब में उनकी चूत को सूंघने लगा अफ्फ वाह क्या महक थी. जैसे पिछले 100 साल से कोई चूहा उस जगह पर मरा पड़ा हो मैंने करीब पांच मिनट तक उसकी सड़ी हुई चूत को सूँघा और मेरा लंड टनकर खड़ा होने लगा.

अब में अपना खड़ा हुआ लंड बाहर निकालकर हिलाने लगा और बीच बीच में उनकी चूत को सूंघने लगा करीब 10 से 15 मिनट के बाद मेरा माल गिरने वाला था. मैंने अपने एक हाथ में अपना सारा माल निकाल लिया और उनकी चूत पर लगा दिया अफफफफ हल्के हल्के बालों वाली चूत मेरे माल से पूरी गीली हो गई थी. में फिर थोड़ा सा ठंडा हुआ और करीब आधे घंटे के बाद उनकी चूत पर धीरे धीरे हाथ फेरना चालू किया, जिसकी वजह से मेरा लंड एक बार फिर से तन गया. मैंने सोचा कि आज जो भी होगा देखा जाएगा और आज तो में इसको जरुर चोदूंगा. दोस्तों में इतने नशे में था कि मुझे किसी भी बात का डर भी नहीं लग रहा था.

में बेड पर बैठा और मैंने उनके पैर धीरे धीरे अलग किए. दोस्तों उनका पैर भारी और मोटा था. उसको उठाने में मेरा हालत खराब हो गई थी. फिर मैंने अपने लंड को हिलाया और उनकी चूत पर टिकाकर धीरे धीरे चूत को सहलाता रहा था, लेकिन अब मुझसे रहा नहीं गया और मुझे सेक्स चड़ गया था.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  सास बोली बेटा आज तू मेरे साथ ही सुहागरात मना ले

मेरे लंड में जोश आ गया था. फिर इतने में मेरा माल उनकी चूत पर छप छप करके गिर गया और वो उठ गई और बोली कि कौन विशाल, क्या हुआ, तुम यह क्या कर रहे हो और तुमने यह क्या किया? तभी उन्होंने अपनी गीली चूत पर एक हाथ रखा और मुझसे कहा कि रूको में अभी तुम्हारी दीदी को बताती हूँ कि तुमने मेरे साथ यह सब क्या किया?

मैंने उनसे कहा कि में आपको मेरी दीदी की शादी के समय से ही बहुत पसंद करता हूँ और में आपको दिल से बहुत ज्यादा चाहने लगा हूँ इसलिए आज मुझसे आपको देखकर बिल्कुल भी कंट्रोल नहीं हुआ और आज मेरा आपके साथ संभोग करने का मन कर रहा था, इसलिए मैंने आपके साथ यह सब किया.

फिर उन्होंने मुझसे कहा कि तुम्हे थोड़ी सी भी शरम है कि नहीं? तुम अपने से इतनी बड़ी उमर की एक औरत के साथ चुदाई करोगे तो तुम्हारी तबीयत खराब हो जाएगी. अब मैंने बोला कि वो सब मुझे पता नहीं, लेकिन में आज आपको एक बार खुश करना चाहता हूँ. तभी उन्होंने मुझसे कहा कि मुझे सेक्स करने में कोई भी रूचि नहीं है तुम जाओ यहाँ से, लेकिन मेरा लंड थोड़ा थोड़ा फिर से खड़ा हो रहा था.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

मैंने उससे कहा कि प्लीज एक बार मुझे लगाने दीजिए जब मेरा माल गिर जाएगा तो में यहाँ से अपने आप चला जाऊंगा. अब वो मुझसे बोली कि चुपचाप बाहर जाओ यहाँ से, नहीं तो में तुम्हारी दीदी को बुला दूँगी. दोस्तों में तो उस समय नशे की हालत में था और उन्हे मनाने के लिए मैंने सब कुछ झूठ बोला, लेकिन वो साली मान ही नहीं रही थी. मेरे कुछ भी समझ में नहीं आया.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  अपने दामाद से चुदकर ही मुझको पुत्र रत्न [लड़का] मिला

अब में जबरदस्ती उसके होंठो को पकड़कर चूसने लगा और बूब्स को दबाने लगा. वो मुझे दूर हटा रही थी, लेकिन में नहीं सुन रहा था. उसे मैंने ज़ोर ज़बरदस्ती बेड पर लेटा दिया और अब में उसके ऊपर चढ़कर चूसने लगा और उसके बूब्स को दबाने लगा. वो बोलती रह गई प्लीज छोड़ दो मुझे विशाल में सब को बोल दूँगी. दोस्तों में भी उस समय नशे और पूरे जोश में था.

मैंने उनसे कहा कि हाँ जाओ बोल दो, लेकिन आज मेरी इतने सालों की प्यास तो बुझ ही जाएगी. मैंने अब उसकी मेक्सी को पूरा ऊपर उठाकर अपने लंड उसकी चूत के मुहं पर रगड़ना शुरू किया और अब में उसके दोनों हाथों को पकड़कर चूमने लगा. अब मेरा लंड गरम हो रहा था और वो अपने आपको मुझसे छुड़वाने की नाकाम कोशिश में लगी रही. मैंने अपने दोनों पैर से उसके दोनों पैर फैला दिए और लंड को उसकी चूत के निशाने पर रखकर एक ज़ोर का धक्का मार रहा था, लेकिन मेरा लंड साला अंदर ही नहीं जा रहा था. फिर में उठा और में अपनी दो उंगली उसकी चूत में डालकर गप गप आगे पीछे रहा था.

फिर वो बोल रही थी हे राम यह सब क्या हो रहा है छोड़ो मुझे आह्ह्हह्ह आह्ह्ह. फिर करीब दस मिनट तक ऊँगली को अंदर बाहर करने के बाद मैंने महसूस किया कि उसकी चूत पूरी गीली हो चुकी थी. मैंने झट से अच्छा मौका देखकर अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया और लंड फिसलता हुआ थोड़ा सा अंदर जा पहुंचा और वो ज़ोर से चीखने लगी अह्ह उफफ्फ्फ्फ़ मुझे बहुत दर्द हो रहा है में सह नहीं सकती, लेकिन मैंने कोई परवाह नहीं की और मैंने दोबारा एक जोर से धक्का देकर गप से अपने लंड को अंदर डाल दिया.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  मम्मी पापा और चाचा दोनों से चुदवाती थी!

उसके बाद मुझे उसकी चूत में गर्मी सी लग रही थी और में गप गप गप चोद रहा था. में इतने जोश में आ गया था कि मैंने उसकी मेक्सी और ब्रा दोनों को एक साथ ज़ोर से झटका देकर फाड़ दिए थे, जिसकी वजह से उसके दोनों 10-10 किलो के बूब्स अब बाहर आ गये थे और में दोनों बूब्स को एक एक करके चूसने लगा और अब उनकी चुदाई बहुत ज़बरदस्ती हो रही थी. में पागल कुत्ते की तरह उसकी चूत में अपने लंड को धक्के देखकर उसको चोद रहा था और वो भी कुछ देर बाद अब मान गई और मेरा पूरा साथ देने लगी थी.

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!