दीदी की सास की गांड फाड़ी-1

Didi ki saas ki gaand faadi-1

हैल्लो दोस्तों, में विशाल एक बार फिर से आप सभी चाहने वालों के सामने हाजिर हूँ. दोस्तों मेरी पिछली जितनी भी कहानियाँ है वो सभी एक सत्य घटना है. तो हुआ यह कि में मेरे घर वालों के बहुत कहने पर में अपनी दीदी के घर पर 03.03.2016 को पहुंच गया. वहां पर मेरी दीदी की ननद की शादी थी और वो एक विधवा औरत थी. उसकी शादी एक बार फिर से किसी और के साथ हो रही थी. में दीदी के घर पर पहुंचा तो मुझे देखकर सभी लोग बहुत खुश हुए.

मैंने सभी बड़ो के पैर छुए और जब में उनकी सास के पैर छूने गया तो वो उस समय सोफे पर बैठकर कुछ पेपर देख रही थी और मुझे उनकी मस्त गोरी उभरी हुई छाती दिख रही थी, इसलिए मैंने थोड़ा सा देखा जरुर था, लेकिन मैंने वैसा कुछ ग़लत नहीं सोचा. मैंने पैर छुए उन्होंने मेरे सर पर अपना एक हाथ रखकर मुझे आशिर्वाद दिया और फिर में दीदी से पूछकर फ्रेश होने चला गया. फ्रेश होकर जब में बाहर आया तो उस वक़्त दोपहर के एक बज चुके थे.

अब मैंने खाना खाया और सोफे पर बैठ कर अपने भांजे से बातें करने लगा तभी उसकी सास मेरे सामने से गुज़री, क्या बताऊँ दोस्तों? अगर आप मेरी जगह वहां पर होते तो उससे पकड़कर चोद देते. उसके बूब्स कम से कम 42 इंच का होगा और उसकी गांड बिरयानी के हांडी की तरह बड़ी और होंठ थोड़े हल्के गुलाबी कलर के थे. उसको देखते ही मेरा मन उनको अपने मुहं से लगाने का हुआ. फिर मैंने अपने भांजे से कहा कि में अभी वॉशरूम से आता हूँ और फिर मैंने बाथरूम में जाकर अपने लंड पर बहुत सारा शैम्पू लगाया और बहुत जमकर ज़ोर ज़ोर से अपना लंड हिलाया और उसकी सास को सोचकर में मुठ मारने लगा. मैंने सोचा कि में उसको बहुत जमकर चोद रहा हूँ और उसका दूध पी रहा हूँ.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  छोटे भाई की बीवी को चोदा-3

फिर 10 से 15 मिनट बाद मेरा माल गिर गया और अब में थोड़ा सा शांत हुआ में फ्रेश होकर बाहर आया तो मैंने देखा कि मेरी दीदी की सास मेरे भांजे से बातें कर रही है. में भी उनके पास में जाकर बैठकर उसे घूरने लगा और इतने में मुझसे उसने पूछा कि क्यों कैसे हो विशाल और तुम्हारा काम कैसा चल रहा है? तो मैंने कहा कि हाँ मम्मी जी सब ठीक है मेरा काम भी एकदम ठीक आप आपकी बताओ. फिर उन्होंने मुझसे कहा कि हाँ सब ठीक ही है, दोस्तों उनके पति की तीन साल पहले किसी बीमारी से म्रत्यु हो गयी थी.

अब तीन बज़ रहे थे और मुझे नींद आने लगी. में उठा और मैंने देखा कि पास का एक रूम खाली था और में उसमें जाकर सो गया. करीब 6 बजे मेरी नींद खुली तो मैंने देखा कि वो रूम मेरी दीदी की सास का था और मुझे दीदी की सास ने उठाया और में उठा. उन्होंने मुझसे कहा कि 6 बज गये है तुम अभी तक सो रहे हो. फिर मैंने उनसे कहा कि मुझे टाइम का पता ही नहीं चला में उठकर फ्रेश हुआ और मैंने अपनी दीदी से कार की चाबी ली और थोड़ा बाहर घूमने निकल पड़ा. घूमते घूमते मुझे दीदी की सास का ख्याल आया कि वो अगर मुझे एक बार मिल जाए तो मज़ा आ जाएगा और थोड़े दूरी चलने के बाद मैंने एक वाइन शॉप देखी में कार से नीचे उतरा और मैंने एक बियर और एक विस्की की बोतल खरीदी और उसको में कार में ही बैठकर पी गया.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  प्यारी सासू माँ मोहिनी का कमर दर्द-2

उसके बाद मैंने कार को स्टार्ट करके आगे बढ़ा लिए और फिर में करीब रात के दस बजे घर पर पहुंचा. में उस समय बहुत नशे में था, तो घर पर दीदी मुझे बोली कि विशाल क्या तूने पी है? मैंने उनसे कहा कि दीदी मेरा आज दिल किया प्लीज आप मुझे माफ़ कर दो. अब दीदी मुझसे बोली कि तू कभी नहीं सुधरेगा, चल फ्रेश होकर खाना खा और में चला गया कुछ देर बाद में फ्रेश होकर खाना खा रहा था, लेकिन दीदी की सास मुझे अब कहीं नज़र नहीं आ रही थी मैंने दीदी से पूछा कि दीदी मम्मी जी कहाँ है वो मुझे कहीं दिखाई नहीं दे रही है? तो वो बोली कि मम्मी जी अपने रूम में खाना खा रही है और मैंने उनका जवाब सुनकर कहा कि ठीक है.

अब में खाना खाकर अपने रूम में गया और बेड पर लेटकर मुझे ख्याल आया कि क्यों ना ब्लूफिल्म देखी जाए? अब मैंने एक ब्लूफिल्म को डाउनलोड किया और में वो देख रहा था, जिसकी वजह से मेरा लंड तनकर खड़ा हो गया था कि तभी मेरा भांजा आ गया और वो मुझसे बोला कि मामा जी क्या में भी यहाँ पर सो जाऊँ? तो मैंने कहा कि हाँ सो जाओ और वो मेरे पास आकर सो गया. मैंने ब्लूफिल्म को बंद कर दिया और करीब 11 बजे मेरी दादी आई वो उससे बोली कि समर चल बेटा अब तुझे सोना है.

फिर मैंने उनसे कहा कि समर तो मेरे पास सो गया है, उन्होंने कहा कि ठीक है और वो चली गयी. में बेड पर लेटा रहा कभी म्यूज़िक सुनता तो कभी गेम खेलता. ऐसे ही टाईम कुछ 12 बज रहे थे और मुझे पता नहीं था. तभी मेरे दिमाग़ में एक ख्याल आया क्यों ना चान्स मारा जाए? में उठा चुप के से बाहर गया देखा सभी लोग सो रहे थे. में धीरे से अपनी दीदी की सास के कमरे में चला गया और मैंने अंदर जाकर दरवाजा धीरे से लगा दिया उस समय रूम में नाइट लेम्प जल रहा था.

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!