डॉक्टरनी के साथ पंचतारा होटल में मस्ती-2

(Doctor ke Sath Five Star Hotel me Masti-2)

उसके बाद हम दोनों 69 की अवस्था में आ गये, मैंने पूरी आईसक्रीम उनकी चूत पर डाल दी, जीभ चूत के अंदर डाल कर चूत के साथ आइसक्रीम को खाने लगा, बीच बीच में चूत के दाने को भी लेकर अपने ओष्ठ से दबा डालता था, पकड़ लेता था तो उनकी आहें निकल जाती थी।

मैंने दो बार उनकी चूत का रस को पीया और अब मेरा भी होने वाला था। प्रियंका इस बार खुद अपने मुँह की गहराई तक मेरे लिंग को ले रही थी। मेरा पानी की धार जब छूटी तो वो इसके लिए तैयार नहीं थी, लिंग उनके गले में फंस गया, सारा पानी सीधे उनके गले में चल गया और वो उसे गटकने में कामयाब भी रही.

फिर वो उठी, मैं सोफे पर बैठा हुआ था तो मेरे निढाल लिंग को ही अपनी चूत की दोनों फांकों के बीच में लेकर बैठ गई और ऊपर नीचे होने लगी।
मैंने उनके बाल को सहलाते हुए पूछा- क्या हुआ है तुझे आज? मेरा सारा आज तुम निचोड़ लोगी क्या?
तो वो मेरे सीने पर अपना सर रखकर रोने लगी, बोली- मैं तुम्हारे बगैर मैं जी नहीं पाऊँगी। अब भी समय है, तुम्हारी पत्नी के साथ ही मैं तुझे स्वीकार करती हूँ, मैं तुम्हारी रखैल बनकर रहने को तैयार हूँ, लेकिन मैं तुम्हारे साथ रहूँगी। मैं तुझे अपना पति मान चुकी हूँ, तुम्हारे नाम का सिन्दूर माथे पर बिंदी के रूप में लगाती हूँ।

“जान, मैं सब जानता और समझता हूँ लेकिन मैं अपनी पत्नी जो कम पढ़ी लिखी है, उसे छोड़ नहीं सकता। उसे लगेगा कि मैंने उसे इसलिए छोड़ दिया क्योंकि वो मेरे लायक नहीं थी। मैं अपने घर… समाज को क्या जबाब दूँगा।”

बहुत समझाने के बाद मानी कि जब मेरी इच्छा होगी मैं तुम्हारे साथ आकर रह सकती हूँ।
मैं बोला- ठीक है।

फिर क्या… मैराथन चुदाई का नया दौर शुरू हो गया, वो उछल उछल कर मेरा लिंग चूत में ले रही थी।

करीब चार बजे भोर में जाकर सोई लेकिन मैंने एक बार भी नहीं पानी छोड़ा, मैं रूक रूक कर एनर्जी ड्रिंक लेता रहा। चार बजे उसे हचक के चोदा और सारा पानी उनकी चूत में डाल दिया, वैसे ही चूत में लिंग डाले सो गया।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  गेंदामल हलवाई का चुदक्कड़ कुनबा 7

सुबह करीब ग्यारह बजे नींद खुली तो देखा कि प्रियंका अभी भी गहरी नींद में सोई हुई हैं, उनका चेहरा एकदम से निश्छल और चहरे पर एक तेज चमक रहा था, उनके ओष्ठ में आइसक्रीम और मेरे बीज के सूखे कण लगे हुए थे। स्तन पर दांत और हाथों के अंगुलियों के निशान पड़े थे।

मैंने उनके ओष्ठ, स्तन और चूत को बारी बारी से चूमे, फिर बाथरूम को चला गया, फिर कॉफी बनाकर पी।

मैं सोफे पर अखबार के पन्ने उलट रहा था तो वो उठकर आई, मुझे चूमकर ‘आई लव यू…’ बोली फिर फ्रेश होने चली गई।

फ्रेश होकर आई तो मैंने पूछा- कैसा महसूस हो रहा है?
तो बोली- मैं अपने आपको तरोताजा महसूस कर रही हूँ।
फिर बोली- जान, रात तो मजा ही आ गया। तूने तो मेरी बुर और गांड के साथ साथ स्तन का भी भुरता बना दिया। मुझे यह चुदाई तो जीवन भर याद रहेगी लेकिन अफसोस कि ये वाइल्ड सेक्स आज भर ही तुम्हारे साथ कर पाऊँगी।

मैंने उसे कॉफी बनाकर दी और बोला- तौलिया हटाकर कपड़े डाल लो तन पर… दीवारों की भी आंखें होती हैं।
“तो क्या होगा? ज्यादा से ज्यादा शादी टूट जायेगी। तो तुम्हारे साथ जीवन बिताने का और मौका मिल जाएगा।”

मैंने उन्हें बोला- तुम इस दुनिया में अकेली लड़की होगी जो शादी से पहले शादीशुदा बॉयफ्रेंड से इस तरह बिना डर के चुद रही हो।

कॉफ़ी खत्म होने के साथ ही उन्होंने अपने शरीर से तौलिया हटा दिया और मेरा भी खींचकर शरीर से अलग कर दिया, मेरे लिंग को मुँह में लेकर चूसने लगी, फिर अपनी चूत मेरे मुंह पर रख कर बैठ गयी।

कुछ देर बाद प्रियंका डॉगी स्टाइल में हो गई तो मैंने अपना लिंग उनकी गांड में डाल दिया. तो उन्होंने मेरे तरफ देखा, फिर चुदाई में सहयोग करने लगी.
करीब दस मिनट बाद बोली- जानू, मेरी बुर को चोदो ना… बहुत खुजली हो रही है।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

मैंने प्रियंका की गांड से निकालकर लिंग को धोया और उनकी बुर में जोर से डाल दिया, वो आगे पीछे करके चुदवाने लगी। उनकी खासियत एक ही थी कि वह चुदाई में गाली का प्रयोग ना के बराबर करती थी।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  कड़ाके की सर्दी में मौसी और मामीजी को सरसो के खेत में पेला–3

फिर नीचे कारपेट पर लेटाकर एक पैर उठाकर उनकी चुदाई शुरू मैंने कर दी। करीब एक घंटे तक विभिन्न तरीकों से मैंने डॉक्टरनी साहिबा को चोदा और उनकी बुर में अपना पानी छोड़ दिया। फिर उन्हें गोद में उठाकर बिस्तर पर सुला दिया।
अब मैंने देखा कि उनकी बुर में थोड़ी सूजन आ गई है तो मैंने केतली में पानी गरम करके उनकी सूजी हुई बुर की सेंकाई की। जब मैं उनकी बुर की सेंकाई कर रहा था तो वो मेरे बाल गाल को सहलाये और चूमे जा रही थी।

फिर मैं बोला- जानू उठो, फ्रेश हो जाओ, थोड़ा बाहर घूम कर आते हैं हम लोग।
वो बोली- नहीं, आज मुझे कहीं नहीं जाना… केवल तुम्हारी बांहों में रहना है और चुदना है।

फिर मैं उन्हें गोद में उठाकर वाशरूम ले गया और बाथटब में डाल दिया और मैं भी उसमें एरोमा बाथ लेने लगा।

बाथ टब में प्रियंका मेरे लिंग से खेलने लगी, जब लिंग खड़ा हो गया तो वो लिंग को अपने बुर के अंदर डालकर चुदने लगी। उनके उछलने के कारण बात टब का पानी बाहर छलकने लगा।
“जान, तुम तो कभी सेक्स के लिए इतनी ज्यादा उतावली नहीं थी?”
तो वो बोली- ये छह माह मैंने कैसे गुजारे हैं, मैं ही जानती हूँ। अब मैं कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती, तुझसे अपने अंतिम क्षणों तक चुदना चाहती हूँ. बस तुम देखते जाओ और सिर्फ सहयोग करो।
दिन भर में डॉक्टर साहिबा ने कई बार अपना पानी निकाला। रात भर गांड और बुर की जमकर चुदाई चलती रही, वही चार बजे सुबह फिर मैंने अपने रस से उनकी बुर को भर दिया।
चोदते चोदते कब नींद आई पता ही नहीं चला.

मेरी नींद करीब 9 बजे खुली जब रूम सर्विस ने बेल बजाई तो मैंने प्रियंका को उनका नाइट गाउन पहनाकर उनके ऊपर चादर डाल दी, अपना नाइट गाउन शरीर पर डाल कर दरवाजा खोला।
जब तक वह कमरे की सफाई और केतली को बदलता, तब तक मैं फ्रेश होकर आ गया लेकिन प्रियंका अभी भी सोई हुई थी।
जब तक बाथरूम साफ किया, तब तक मैंने अपना गाउन बदल लिया।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  10 इंच के लोड़े से अपनी चूत चुदवाई!!

फिर मैंने दो गिलास हल्दी डालकर दूध का आर्डर किया।
थोड़ी देर में दूध आ गया। मैंने दूध पीया.

मैंने अपने जीवन में इतना सेक्स दो दिनों में नहीं किया था और स्खलित हुआ था।

आज इन मैम की शादी हैं ये आराम से चुदकर सो रही हैं।

मैंने उनके सर को अपनी गोद में लिया फिर उसे दूध पिलाने की कोशिश की, अर्धनिंद्रा में मैम ने दूध पी लिया।
फिर मैंने उनके ओष्ठ पर लगे दूध को अपने ओष्ठ से चूस कर साफ किया।

करीब ग्यारह बजे वो उठी, बोली- जानू, शरीर में बहुत दर्द हो रहा है.
तो मैं बोला- फ्रेश होकर आओ।
मैं बोला- नाइट गाउन हटा कर बिस्तर पर लेट जाओ, मैं मालिश कर देता हूँ।

फिर मैंने उनके शरीर के एक एक अंग की ढंग से मालिश की। चूत की तो गर्म पानी से सेंकाई करके फिर सरसों के तेल से मालिश कर दी थी कि चूत से रसधारा छूटने लगी थी.
तो बोली- इसे चुप कौन कराएगा?
मैं बोला- आपका पति।
तो वो बोली- अभी तो तू ही मेरा पति है, देख कब तक मैं तुमसे आज चुदती हूँ। एक बात जानते हो, मैंने अपनी शादी में किसी भी मित्र को नहीं बुलाया।
मैं बोला- मुझे पता है।

प्रियंका ने तो अंतिम विदाई के समय तक मेरे लिंग को चूसा और चूत चुदवाई। शादी की रस्मों के बाद आराम करने के बहाने से वो रूम में आ गई थी और चुदाई का एक दौर पूरा कर गयी थी.

अब शादी के बाद भी प्रियंका ज्यादातर अपनी विदेश यात्रा आज भी मेरे साथ ही करती हैं और जम कर चुदती हैं।

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!