दोस्त और उसकी पटाखा बीवी की चुदाई

Dost aur uski patakha biwi ki chudai

हैल्लो दोस्तों आपने पिछली कहानी में पढ़ा की मैंने अपने दोस्त की पत्नी को चोदने के चक्कर में मेरे दोस्त से मेरी चाची को ही चुदवा डाला था. मैंने मेरे दोस्त से कहा की मैंने अपना वादा पूरा कर दिया है अब तुम अपना वादा पूरा करो. मेरा दोस्त बोला कि जब तुम चाहो मैं अपनी पत्नी तुम्हारे हवाले कर सकता हूँ. मैंने उन्हें होटल में ले जाने का प्रोग्राम बनाया. हम तीनों ही होटल के लिए निकल पड़ें. 40 मिनट के सफ़र में हम शहर में पहुँच गए. फिर हम एक होटल में गए और एक कमरा बुक कर लिया. हमने खाने पिने का सामान लिया और अपने कमरे में जा पहुंचे. दोस्त ने अपनी पत्नी को मेरे साथ सेक्स करने के लिए कहा और वह कमरे से बाहर चला गया. अब कमरे में हम दोनों ही थे.

मैंने उससे कहा भाभी जी आप बहुत सुंदर हो. वो मुस्कुराने लगी. मैं धीरे धीरे उसके बूब्स सहलाने लगा, उसे बहुत मजा आ रहा था, इसका इजहार करने के लिए वो मेरे होठों को चूसने लगी. हम लगातार 15 मिनट तक ऐसा ही करते रहें. मेरा लंड अब पूरा तन चूका था तो भाभी ने उसे मेरी पेंट से अब बाहर निकाल लिया और चूसने लगी. कुछ समय तक उसे लंड चुसाने के बाद मैंने उससे कहा की मैं लेट जाता हूँ और तुम मेरी तरफ चूत करके मेरे ऊपर झुककर मेरे लंड को चुसो और मैं तुम्हारी चूत और गांड को चुसना चाहता हूँ. वो यह सुनकर बहुत खुश हो गई. फिर हमने अपने सारे कपड़े निकाले और बेड पर उसी पोजीशन में आ गए जो मैं चाहता था. वो मेरे उपर आकर मेरा लंड चूसने लगी और उसकी चूत मेरे मुंह के बिलकुल सामने थी, उसकी चूत की मनमोहक खुशबु ने मुझे उस पर झपटने के लिए मजबूर कर दिया.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  दोस्त ने बीबी को जमकर चोदा-2

मैं उसकी चूत को चाटने लगा. उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया जो मैं पी गया. फिर मैंने उसकी गांड को भी जमकर चाटा. वो मेरे लंड को चारों तरफ जीभ घुमाकर चाटने लगी. मुझे बड़ा मजा आ रहा था. कुछ देर ऐसा करने के बाद मैं भाभी की बूब्स को हाथों से सहलाने लगा, उसे बहुत मजा आ रहा था, मैंने उसके बूब्स को चुसना शुरू किया, वह मचलने लगी, कुछ ही देर में उसके बूब्स से थोडा – थोड़ा दूध निकलने लगा, मैं एक छोटे बच्चे की तरह उसका दूध पिने लगा, ऐसे में भी उसे बहुत मजा आ रहा था इसलिए उसने मुझे कसकर अपनी छाती से लगा लिया.

फिर मैंने भाभी का एक पैर उठाया और अपना लंड भाभी की चूत पर रगड़ने लगा. जिसकी वजह से भाभी की हालत अब बहुत खराब हो रही थी और वो अब ज़ोर ज़ोर से सिसकियाँ ले रही थी, प्लीज अब उह्ह्हह्ह्ह्ह मुझे और मत तड़पाओ ऊईईईईइ माँ आह्ह्ह्हह्ह मैं अब और नहीं सह सकती, प्लीज कुछ करो और वो मुझसे जल्दी अपने लंड को चूत में अंदर डालने को कह रही थी. मैंने धीरे धीरे लंड उनकी तड़पती हुई चूत के अंदर डालना शुरू किया और मेरा लंड धीरे धीरे फिसलता हुआ उनकी बैचेन चूत में चला गया और अब लंड चूत के अंदर जाते ही भाभी की साँसे धीरे धीरे तेज हो गई और उनकी आँखे भी कुछ बड़ी हो गई थी और अब भाभी के दोनों पैर मेरे कंधो पर थे और हाथ उनके बूब्स पर थे.

वाह दोस्तों वो क्या मस्त नज़ारा था? फिर मैं भाभी को ज़ोर ज़ोर से धक्के देकर चोदने लगा. जिसकी वजह से पूरे कमरे में पच पच की आवाजें आ रही थी और चुदाई के बीच बीच में भाभी की सिसकियों की आवाज के साथ साथ उनकी चीख भी मुझे सुनाई दे रही थी और फिर करीब 7-8 मिनट की चुदाई के बाद भाभी झड़ गई और अब उनकी चूत से बहुत सारा पानी निकल रहा था.
मैंने अचानक से अपना लंड चूत से बाहर निकाला और एक कपड़े के साथ लंड और चूत को साफ किया. उसके ऐसा करने से चूत दोबारा फिर से सूख गई थी और अब मैंने भाभी को घोड़ी बनाया और उनके पीछे से लंड को उनकी चूत में डालने लगा. भाभी ने हल्की सी चीख मारी और हंसने लगी और अब एक बार फिर से हमारा चुदाई का काम शुरू हो गया था. मैं पूरे जोश से भाभी को धक्के देकर चोद रहा था. भाभी तो मानो पूरी तरह से जोश में आ गई थी, वो बार बार अपनी गांड को पीछे की तरफ धक्का देकर लंड का पूरा अंदर लेने की कोशिश कर रही थी.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  सगी भाभी की चूत गाण्ड चुदाई

फिर कुछ देर की जोरदार चुदाई के बाद ही वो एक बार फिर से झड़ गई, लेकिन मैं अभी भी नहीं झड़ा था. भाभी मुझसे कह रही थी कि अब तो छोड़ दो मुझे जानू, मुझे बहुत दर्द हो रहा है, लेकिन मेरा लंड अभी भी बिल्कुल खंबे की तरह तनकर खड़ा हुआ था और मैंने भाभी की एक ना सुनी और ज़ोर ज़ोर से चोदने लगा. मैंने पीछे से भाभी के बूब्स मसल मसल कर बिल्कुल लाल कर दिए थे. मैं भाभी को ऐसे चोद रहा था कि जैसे कोई किसी रंडी को चोदता है. अब भाभी की आँख से आँसू निकलने लगे थे. मैं पीछे से चोदते हुए अब धीरे धीरे कुत्ते की तरह चोदे जा रहा था. तभी हे भगवान भाभी की तो चीखने चिल्लाने की आवाज अब बहुत बढ़ गई थी और उनकी आवाज बढ़नी भी थी, क्योंकि उनकी लगातार बहुत देर से इतनी जबरदस्ती चुदाई जो हो रही थी, करीब 35 मिनट की ताबड़तोड़ चुदाई के बाद मैं झड़ने वाला था. मैंने भाभी को ज़ोर से पकड़ लिया और कस कसकर धक्के मारने लगा.

भाभी हर एक झटके के साथ ज़ोर से चीखती चिल्लाती रही. फिर करीब 20-25 झटको के बाद मेरे लंड ने भाभी की चूत में अपना वीर्य डाल दिया. भाभी एकदम से झटपटाई और मेरे गर्म वीर्य ने भाभी की चूत में हलचल पैदा कर थी. मैंने कुछ देर बाद भाभी की चूत में से अपने लंड को बाहर निकाला और उठकर रूम के अटॅच बाथरूम में चला गया. भाभी एकदम सीधी होकर बेड पर लेट गई और उसकी चुदाई करके मैंने उनकी चूत को तो शांत कर दिया था और वो अब बहुत थक गई थी और ऐसे ही लेटी रही.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  भाभी की बड़ी गांड मारी

फिर थोड़ी देर बाद मैं बाथरूम से बाहर आया और मैंने भाभी को उठाया और उसे बाथरूम में जाने को कहा, लेकिन वो बड़ी मुश्किल से उठी, क्योंकि चुदाई की वजह से उसे चलने में भी बहुत दिक्कत हो रही थी. फिर हम दोनों बाथरूम में जाकर नहाने लगे. नहाते हुए भाभी ने मुझसे कहा की वह मुझसे अपनी छोटी बहन को भी चुदवाना चाहती है. यह सुनकर मैं खुश हुआ. नहाने के बाद उसने मुझसे मेरा मोबाइल नंबर लिया और कहा कि इस नंबर पर उसकी बहन का फ़ोन आएगा. तभी मेरा दोस्त भी वहां आ गया और हम सब अपने घर चले आए. मैंने भाभी की बहन को कैसे चोदा यह जानने के लिए अगला पोस्ट जरुर पढ़ें.

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!