दोस्त की बुआ ने गुलाम बनाया-2

Dost ki bua ne gulam banaya-2

अब में भी बेफ़िक्र था कि अब तो रात को यही सोना है जितनी चाहे पिला दो. अब स्वाती आंटी ने पूछा और बता बेटा तेरे तो बहुत सारी गर्लफ्रेंड होगी, क्योंकि तू इतना सुंदर और बॉडी बिल्डर है. फिर मैंने कहा कि हाँ आंटी एक दो है तो अब इतने में टी.वी. पर इंग्लिश गाना आ रहा था. अब स्वाती आंटी ने तीन पैग पी लिए थे तो इसलिए नशा होने लगा था. फिर आंटी उठी और अपनी गांड मटका-मटका कर नाचने लगी और में उनकी बेशर्मी देखकर हैरान रह गया कि बुढिया पूरी रंगीली है.

फिर उन्होंने मुझे भी उठा लिया तो मैंने बहुत मना किया, लेकिन वो नहीं मानी तो अब में मजबूरी में उसके साथ नाचने लगा. फिर अचानक से उसने वो किया जो कि में सोच भी नहीं सकता था, वो मेरी तरफ गांड करके झूमने लगी और अपने बड़े-बड़े चूतड़ मेरी जीन्स के ऊपर रगड़ने लगी. फिर मैंने चौंक कर बुआ की तरफ देखा तो उन्होंने आँख मारी और कहा कि बेटा अगर पैसे चाहिए तो आज हमको रोकना मत, क्योंकि उनके चेहरे पर उस वक़्त शैतानियत नाच रही थी.

फिर मैंने कहा कि आप मेरे दोस्त की बुआ हो, ये ग़लत है और आपके बच्चे भी मुझसे उम्र में बड़े है. फिर वो बोली कि बेटा तू डर मत, किसी को कुछ पता नहीं लगेगा, बस तू किसी से ज़िक्र मत करना. फिर मैंने दिल में सोचा कि जब इन रंडियों को शर्म नहीं है तो में क्यों शर्मा रहा हूँ? फिर मैंने कहा कि ठीक है बुआ आ जा तू भी. फिर वो भी खड़ी होकर हमारे साथ थिरकने लगी और अब स्वाती आंटी मेरे लंड को अपनी गांड से रगड़ रही थी और बुआ अपने बूब्स मेरी कमर और गांड पर पीछे से रगड़ रही थी.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Chacheri BAHEN ki Chut Chudai

फिर मैंने भी आंटी के बड़े-बड़े बूब्स को अपने हाथों से ज़ोर-ज़ोर से मसलना शुरू कर दिया था और बुआ मेरे लंड को जीन्स के ऊपर से सहला रही थी. फिर बुआ बोली कि ज़रा अपना लंड तो दिखा. फिर में झट से बिल्कुल नंगा हो गया और मेरा चिकना टोपा उन दोनों को सलामी दे रहा था.

अब बुआ ने और आंटी ने अपने कपड़े उतारे और हम तीनों बिल्कुल नंगे एक दूसरे के सामने थे. फिर बुआ ने शेम्पियन की बोतल निकाली और मेरे अंडो के पास उसे खोल दिया, मेरा लंड शेम्पियन से गीला हो गया था. फिर मैंने भी बोतल लेकर उन दोनों के शरीर की तरफ कर दी तो वो दोनों बिल्कुल गीली हो गयी थी और हम तीनों आपस में एक दूसरे से चिपक गये, कभी कोई किसी को चाटता तो कभी कोई किसी के बूब्स सक करता.

फिर बुआ और आंटी उठी और उन्होंने झुककर मेरी तरफ अपनी बड़ी सी गांड झुका दी और कहा कि आजा मेरे बच्चे हम दोनों की गांड चाट डाल. फिर मैंने बची हुई शेम्पियन उन दोनों रंडियो की गांड पर डाली और कुत्ते की तरह दोनों को चाटने लगा. में एक की गांड और चूत चाटता और दूसरी की गांड में उंगली करता रहा. अब हमारी मादक सिसकारियों से कमरे का माहौल गर्म हो गया था. फिर बुआ बोली कि तू बेडरूम में चलकर आराम से हमें चोद और में उन दोनों की मटकती हुई गांड को देखते हुए पीछे-पीछे चल पड़ा था.

फिर मैंने बेडरूम की लाईट चालू की और दोनों के बीच में लेट गया तो वो दोनों औरते जोंक की तरह मुझसे लिपट गई. अब में उनके भारी भरकम शरीर के बीच सैंडविच बन गया था. फिर बुआ बोली कि विक्की बेटा अब कंट्रोल नहीं हो रहा है तो अब तो चोद ही डाल. फिर स्वाती आंटी बोली कि चल बे लोड़े पहले दीदी को शांत कर दे और में सेक्स लीला देखूँगी और फिर मेरी बारी, वैसे भी ये मुझसे बड़ी है तो तेरे लंड पर पहला अधिकार इनका है.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  मम्मी की सहेली की रसभरी चूत-2

फिर मैंने अपना लंड हाथों में लिया और बुआ की टांगो के बीच में बैठ गया और में पहली बार इस उम्र की औरतों को चोदने जा रहा था. फिर मैंने अपना लंड उनकी चूत पर रगड़ना शुरू किया. फिर एक साँस में पूरा का पूरा 8 इंच का लंड उनकी चूत में उतार दिया तो वो कसमसा गई और मैंने धक्के मारना शुरू कर दिया. अब उनकी चूत बिल्कुल गर्म हो रही थी और पीछे से स्वाती आंटी भी मेरी गांड सहला रही थी और अपनी चूत में उंगली कर रही थी.

फिर वो अपने मुँह को बिल्कुल नीचे लाकर लेट गयी और मेरे आंड और बुआ की गांड को नीचे से चाटने लगी. वो बीच-बीच में मेरा गीला लंड बुआ की चूत से निकालकर चूस रही थी और कमरे में आवाज़े गूँज रही थी, फ़चह फ़चह पुच पुच आाईईई ओईईईई में मर गई मेरे राजा आआआआआअ मेरे राजा चोद और तेज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़ सीई आआआआआआआआईईई उईईईईईईईई उम्म्म्मममममममममममम. फिर वो ज़ोर से चिल्लाई, ये मेरी गांड क्या तेरा बाप मारेगा? फिर मैंने अपना लंड उनकी ढीली चूत से निकाला और उनकी टाईट गांड पर रख दिया और एक जोर से धक्का मारा तो मेरा लंड उनकी गांड में फिट हो गया था. अब वो कुत्तिया बनकर मुझसे गांड मरवा रही थी और चिल्ला रही थी, मार ले मार ले मेरी गांड मार ले, मेरा अच्छा बेटा, मेरा प्यारा लंड मजा आआआआ गया आाआईईई और तेज़ और तेज़ करो.

फिर 15 मिनट के बाद उन्होंने मेरा लंड वापस चूत में घुसा दिया और वो अपने चूतड़ो को नीचे से एक एक फुट तक उछालने लगी और नीचे से मुझे चोदने लगी, सस्स्स्स्स्स्सई अब में झड़ रही हुउऊुउउ आआआआआआ कहते हुए पिचकारी मारी और शांत हो गई. अब में सांस ले पाता इससे पहले स्वाती आंटी ने मुझे बेड पर धक्का दिया और मेरा गीला लंड अपने मुँह में लेकर पागल कुत्तिया की तरह चूसने लगी और बोली कि बेटा तेरा लंड तो वाक़ई में ताक़तवर है चल ज़रा अपनी स्वाती आंटी की चूत को भी चोद डाल और चूची खींचकर तोड़ दे प्लीज. अब वो मेरे ऊपर अपनी घुड़सवारी करने लगी और अब मेरा 8 इंच का लंड उनकी चूत के अन्दर ताबड़तोड़ चुदाई कर रहा था और उधर बुआ चुपचाप लेटी अपनी गांड में उंगली कर रही थी.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  चाचा चाची की चुदाई देखकर

फिर मैंने आंटी की गांड भी उन्हें खड़े करके मारी. फिर जब स्वाती आंटी झड़ गई तो बुआ बोली कि हमें अपने लंड के शेम्पियन से भी तो भीगो दो. फिर मैंने उन दोनों रंडियों को अपने पैरों के पास बैठाया और पिचकारी मारकर उनके गोरे-गोरे बोबो पर अपना पानी झाड़ दिया.

अब वो दोनों चुदक़्कड़ रंडियाँ मेरे लंड को आखरी हिस्से तक चूस रही थी. फिर पूरी रात मैंने उन दोनों को जमकर चोदा. फिर सुबह बुआ ने मुझे मेरे पैसे दिए और कहा कि जब तक चाहे तब तक पैसे रख और इनका कोई ब्याज नहीं है, बस में जब भी बुलाऊँ तभी आकर मुझे चोदना. फिर मैंने कहा कि में सारी ज़िंदगी आपकी सेवा में हूँ जब चाहे बुला लेना और में आपके पैसे दो महीने में दे दूँगा.

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!