दोस्त की धंदेबाज़ बीवी ने मुझे फ्री में चूत दी-1

Dost Ki Dhandhebaz Biwi Ne Mujhe Free Mein Chut Di-1

हेल्लो दोस्तों मैं किशोर आप सभी का HotSexStory.xyz में बहुत बहुत स्वागत करता हूँ। मैं पिछले कई सालों से इसका नियमित पाठक रहा हूँ और ऐसी कोई रात नही जाती जब मैं इसकी रसीली चुदाई कहानियाँ नही पढ़ता हूँ। आज मैं आपको अपनी स्टोरी सूना रहा हूँ। मैं उम्मीद करता हूँ कि यह कहानी सभी लोगों को जरुर पसंद आएगी। ये मेरी जिन्दगी की सच्ची घटना है। Dost Ki Dhandhebaz Biwi Ne Mujhe Free Mein Chut Di.

मैं बरेली में एक फाइनेंस कम्पनी में जॉब कर रहा था। मेरे साथ में कई लड़के थे जो साथ नौकरी कर रहे थे। हम लोगों का काम था की जादा से जादा लोगो को लोन देना और मुनाफा कमाना। कुछ दिनों बाद मेरी सूरज नाम के लड़के से अच्छी दोस्ती हो गयी। मैं उसके घर भी आने जाने लगा। सूरज शादीशुदा था और एक बस्ती में किराए पर कमरा लेकर रहता था। उसका पुस्तैनी घर तो गाँव में था। पर जिस तरह से सूरज की सिर्फ 12 हजार की सैलरी थी मुझे उसकी बीबी पर शक होता था। जिस तरह से वो महीने में 4 5 बार दिन शौपिंग पर जाती थी मुझे उसकी बीबी शारदा पर शक होता था। आये दिन शारदा कोई न कोई समान खरीदती रहती थी। पिछले महीने उसके बड़ा सा led टीवी लिया था और इस महीने उसके 30 हजार का फुल साइज फ्रिज ख़रीदा।

“यार सूरज!! इतना माल आ कहाँ से रहा है?? हर महीने तेरी बीवी कोई न कोई समान लेती रहती है। राज क्या है??” मैंने उससे एक दिन पूछा

सूरज मेरा सवाल सुनकर थोडा घबरा गया।                                                               “Dost Ki Dhandhebaz Biwi”

“नही यार! ऐसी कोई बात नही है। उसके पापा अक्सर पैसे भेजते रहते है। कस्टम में है इसलिए घूस भी खूब मिलती है” सूरज बोला

पर दोस्तों मुझे बार बार सूरज की बीवी पर शक होता था की ये कोई ऐसा वैसा काम जरुर करती है। एक दिन मैं सूरज के घर पर गया था। एक जवान आदमी शारदा से बैठे कर बात कर रहा था। शारदा ने मुझे बाहर ही कुर्सी दे दी और अंदर चली गयी। पुरे 1 घंटे बाद वो आदमी निकला। फिर शारदा मुझे अंदर घर में ले गयी और मीठी मीठी बाते करने लगी। उसके हाथ में 500 के 2 नोट थे।

“किशोर भैया !! आप तो कुवारे है पर चुदाई करने का दिल तो करता ही होगा आपका????” शारदा बोली

उसकी बात सुनकर मैं हैरान था। मेरे समझ में नही आ रहा था की क्या कहूँ। शारदा देखने में काफी गोरी चिट्टी और खूबसूरत औरत थी। हमेशा फैशन में रहती थी और हमेशा नए कपड़े पहनती थी। फिर मैं भी उससे खुल गया।

“भाभी चुदाई का मन तो बहुत करता है पर कहाँ कोई लड़की है जिसे चोद सकूं” मैंने कहा और मुंह बना लिया

सूरज की धंधेबाज बीवी हँसने लगी।

“बस इतनी सी बात है। किशोर भैया! पैसा फेंको और तमाशा देखो!” शारदा किसी धंधेबाज रंडी की तरह बोली। जिस तरह से वो पटर पटर बोल रही थी मुझे हल्का हल्का शक होने लगा की ये जरुर धंधा करती होगी। पर मैं मासूम और अनजान बना रहा।

“भाभी!! फिर तो दिलाओ मुझे किसी खूबसूरत लड़की की चूत” मैंने सूरज की बीवी शारदा से कहा

“अच्छा कडक माल चाहिए तो हजार लगेंगे और घिसा पिटा माल चाहिए तो 500 में हो जाएगा” शारदा कंधे और आँखें एक साथ मटकाकर बोली                                                                                                              “Dost Ki Dhandhebaz Biwi”

मैंने उसे हजार रुपये पर्स से निकालकर दे दिया।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

“भाभी कल मैं दोपहर 2 बजे तुम्हारे घर आऊंगा। तुम माल तैयार रखना” मैंने कहा

अगले दिन मैं वक्त पर पहुच गया था। सूरज ऑफिस में था। मैं उससे बहाना बनाकर उसके घर पर आ गया था। मैंने उसके घर के दरवाजे पर दस्तक दी तो शारदा पूरी तरह मेकअप में थी। उसके एक नई साड़ी पहनी थी। ओठो पर लाली और आँखों में काजल लगा रखा था। वो पान चबा रही थी।

“आओ आओ किशोर भैया!” शारदा हंसकर बोली और हँसने लगी। उसने दरवाजा अंदर से बंद कर दिया। कुण्डी लगा दी।

“भाभी मेरा माल नजर नही आ रहा है” मैंने कहा। मैं अच्छी तरह से जानता था की शारदा ही आज रंडी बनकर मुझसे चुदवाएगी। मुझे पता था।

“ये तुम्हारे सामने कैसी माल है??? बोलो पसंद आया की नही???” शारदा आँखें नचाकर बोली

“ओह्ह बेटीचोद!! भाभी तू धंधा करती है???” मैंने कहा और मुंह पर हाथ लगा दिया। मैं हैरान था।

“हाँ करना ही पड़ता है। क्यूंकि तेरा गांडू दोस्त है ना सूरज। वो इतना कम कमाता है की मेरी बिंदी तक नही खरीद सकता। इसलिए मुझे धंधा करना पड़ता है” शारदा बोली

“ठीक है भाभी आ जाओ बिस्तर पर। आओ गर्म करो आकर मेरा बिस्तर” मैंने कहा                           “Dost Ki Dhandhebaz Biwi”

शारदा मेरे पास आ गयी। दोस्तों मेरा शक अब यकीन में बदल गया था। मेरे दोस्त सूरज की बीबी शारदा धंधा करती थी। अब मुझे सब मालुम पड़ गया था। उसे हजार रुँपये तो मैं पहले ही दे चूका था। मैंने शारदा को बाहों में कस लिया और उसके होठ चूसने लगा। क्या कातिला माल थी वो। साड़ी ब्लाउस में वो एक सम्पूर्ण नारी लग रही थी। शारदा का चेहरा गोल था। रंग गोरा था और फिगर झक्कास था।

शारदा बहुत गोरी और सुंदर औरत थी। उसका बदन बहुत गोरा, भरा हुआ और सुडौल था। फिगर कमाल का था। बदन बिलकुल संगमर्मर की तरह चिकना और तराशा हुआ था। वो बहुत सेक्सी और हॉट माल थी। 34, 28, 30 का फिगर था उसका। छरहरा और बिलकुल फिट जिस्म था। शारदा की आँखें काली काली और बड़ी बडी थी। पलके तो बेहद खूबसूरत थी। वो 20 साल की एक जवान, आकर्षक नवयौवना थी। उसके ओठ, मम्मे, रेशमी काले बाल उसकी खूबसूरती बढ़ा देते थे। उसने साड़ी ब्लाउस पहन रखा था। बिलकुल इंडियन औरत लग रही थी वो। उसके काले रेशमी बाल खुले हुए थे और पंखे की हवा से उड़ रहे थे जिसमे वो और सेक्सी आइटम लग रही थी। उफ्फ्फ क्या भरा हुआ जिस्म था शारदा का।

उसकी लचकती छरहरी पतली कमर बहुत कामुक थी। उसने बहुत करीने से साड़ी और ब्लाउस पहन रखा था। ब्लाउस स्लीवलेस था और उसके गोरे गोरे हाथ हाथ कंधे तक मुझे दिख रही थी जिसमे वो बहुत सेक्सी माल लग रही थी। उसने बैकलेस ब्लाउस पहना था। शारदा की पूरी पीठ खुली हुई थी। उसकी चिकनी पीठ के मैं दर्शन कर रहा था। उसके मम्मे 34” के थे। बहुत बड़े बड़े गोल गोल और रसीले थे। कोई भी लड़का उसके नंगे बूब्स को अगर एक बार देख लेता तो उसे चोदकर ही मानता। शारदा इतनी खूबसूरत माल थी। वो अपने मम्मे आगे की तरफ और अपनी गांड मटका मटकाकर पीछे की तरफ निकाल कर चलती थी। उसके दूध मुसम्मी की तरह गोल गोल थे और दूर से ही चमकते थे।                                                                                                 “Dost Ki Dhandhebaz Biwi”

धीरे धीरे मैंने उसे बाहों में भर लिया और उसके रसीले होठ चूसने लगा। वो भी पूरा सहयोग कर रही थी। वो रोज 1 2 मर्दों से चुदवाकर अच्छा पैसा कमाती थी। आज मैं अपने दोस्त सूरज की धंधेबाज बीबी को चोदने वाला था। दोस्तों कुछ ही देर में हम दोनों गर्म हो गये। मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया और शारदा के उपर आ गया। उसने गहरे गले का ब्लाउस पहन रखा था। उसकी मलाई जैसी दूधिया चूची मुझे दिख रही थी। मैं जल्दी से उसके ब्लाउस में हाथ डाल दिया। शारदा ने बहुत कसा ब्लाउस पहना था पर मैं भी कम चोदू आदमी नही था। मैंने आखिर तिकड़म करके अपना हाथ उसके ब्लाउस में डाल दिया और उसके दूध दबाने लगा। सूरज की चुदासी बीवी शारदा  “ओह्ह माँ….ओह्ह माँ…उ उ उ उ उ……अअअअअ आआआआ….” करने लगी। उफ्फ्फ्फ़!! इतने सॉफ्ट दूध थे उसके। मैं जल्दी जल्दी दबाने लगा। शारदा सिसकने लगी। शारदा का दूध 34” के थे गोल गोल और बड़े बड़े। मैं जल्दी जल्दी दबाने लगा तो शारदा पागल होने लगी। कितने मुलायम और रसीले स्तन से उसके।                                                     “Dost Ki Dhandhebaz Biwi”

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!