दोस्त ने मेरी बीबी को घोड़ी बनाकर उसकी गांड मारी-2

Dost ne Meri Biwi ko Ghodi Banakar Uski Gaand Mari-2

बिलाल ने मालिनी को बेड पर पटककर पलटा दिया वो अपने काले खुरदुरे हाथो से मालिनी के कुल्हो को भींचने लगा, मालिनी जोर जोर से आआआआआआअह्हह्हह्हह्हह्हह ऊऊऊऊऊऊऊउम्मम्मम्मम्मम्मम्मम्ममह्हह्हह्हह्हह्हह्हाआआआ यीईईई इस तरह की आवाजे निकालने लगी, बिलाल ने अपनी जालीदार बनियान को निकाल दिया वो अब सिर्फ लुंगी में था उसका बड़ा सा लंड लुंगी में से साफ नजर आ रहा था, बिलाल ने मालिनी को सिने से लगा लिया मालिनी की बड़ी बड़ी चुचिया बिलाल की छाती से दबकर रह गयी, वो मालिनी के माथे पर चूमने लगा कुछ देर बाद उसने अपने भद्दे से ओंठो को मालिनी के कोमल गुलाब की पंखुरी के जैसे ओंठो से भिड़ा दिया वो अपनी गंदी सी जीभ मालिनी के मुह के अन्दर दाल रहा था, कुछ सुपारी और चबाये हुए पान के टुकड़े मालिनी के मुह के अन्दर जाने लगे वो जोर जोर से लेमनजूस की तरह मालिनी के ओठों को चूस रहा था और अपना गंदा सा लार उसे पिला रहा था, मुझे बड़ा आश्चर्य हुआ की मालिनी भी बड़े चाव से बिलाल के ओठों को चूस रही और उसका लार अन्दर गिटक रही थी. करीब १० मिनट तक ये उपक्रम चलता रहा.

मालिनी तो नंगी थी पर बिलाल अभी भी लुंगी पहने हुए था वो मालिनी के नंगे बदन को अपनी खुरदुरी जीभ से चाट रहा था, मालिनी आँखे बंद कर के अपने ओठो को दांतों से दबाकर सिसकारीया ले रही थी, मालिनी की ये चुदने कि चाहत आज उसे बिलाल जैसे हब्शी को भी आश्चर्यचकित कर रही थी, जिस बिलाल की सूरत और लंड को देखते ही रंडिया तक डर जाती थी आज मेरी बीबी उसके बदन के निचे थी, मुझे मालिनी पर गर्व था क्योकि वो अच्छे अच्छे चोदुओ का घमंड भी तोड़ रही था लेकिन बिलाल बिलाल ही था वो शहर के चोदुओ का आदर्श था.

बिलाल ने मालिनी की चुचियो को बड़ी ही बेरहमी से दबोच लिया और वो उसके निप्पल को दांतों में भर कर चुभलाने लगा वो जोर जोर से उसकी चुचियो को दबाते हुए उसके दूद दुहने लगा, गुनगुना सा ताजा मीठा दूध मालिनी की चूचो से निकल कर बिलाल के मुह में जाने लगा, वो बड़े चाव से उसे पि रहा था, मालिनी जोर जोर से सिस्कारिया ले रही थी आआआआआआआआअऊऊऊऊऊऊऊऔऊऊउ अय्य्य्यय्य्यय्य्य्य यीईईईईईईईईईईईईईए कमरे का माहौल चुदाईमय हो गया था बिलाल एक हाथ मालिनी के कुल्हे के निचे लेजाकर उसकी गांड में ऊँगली करने लगा, बिलाल के चूमने चाटने और गांड में ऊँगली करने से मालिनी के धैर्य ने जवाब दे दिया, उसका सारा शारीर ऐंठने लगा और वो हलके झटके देते हुए जोर जोर से चींखने लगी यीईईईईस्स्स्स उम्म्मम्म्म्मम्म्म्म येस्स्स्स मेssssssरिरिरिरिरीर जाआआअन येस्स्स्स बिलाल समझ गया की मालिनी का बाँध अब फूटने वाला है उसने तेजी से अपना सर निचे लेजाकर मालिनी की चुत के मुहाने पर रख दिया और उसी समय मालिनी की चुत ने गाढ़ा गाढ़ा चुत रस निकालना चालू कर दिया वो शानदार तरीके से झड़ने लगी.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  दोस्त की धंदेबाज़ बीवी ने मुझे फ्री में चूत दी-2

बिलाल ने मुह खोल कर मालिनी के माल का स्वागत किया मालिनी झटके देते हुए झड़ रही थी बिलाल का मुह चुत से लगा होने से मालिनी का सारा का सारा चुतरस बिलाल के मुह में जा रहा था, करीब ४०-४५ सेकंड तक मालिनी बिलाल के मुह में झडती रही, इतनी देर में उसने अपने माल से बिलाल के मुह को पूरा का पूरा भर दिया था, मालिनी का कुछ माल बिलाल के मुह से निकल रहा था जब बिलाल को तस्सली हो गयी अब चुत ने माल निकलना बंद कर दिया तो वो बड़े ही चाव से मालिनी का माल पिने लगा बिलाल ने भी मालिनी को झड़ा शुरुवात कर दि थी, मुझे अपने आप पर फिर से ग्लानी होने लगी क्योकि मैंने मालिनी को आज तक नहीं झड़ा पाया था, जबकि मेरे अलावा हर कोई उसे झड़ा रहा था.

अचानक बिलाल को क्या सुझा उसने मालिनी की गांड के निचे तकिया लगा दिया मुझे लगा शायद वो मालिनी को चोदने वाला है, पर उसने मालिनी की दोनों टांगो को विपरीत दिशा में फैलाया जिससे मालिनी की चुत खुल कर बिलाल के सामने आ गयी, मालिनी उस्मान से करीब तिन महीने से हर दिन लगातार चुद रही थी और लगातार चुदने के कारन मालिनी की चुत का चुदाई वाला छेद काफी बड़ा हो गया था.
बिलाल ने जैसे ही मालिनी की खुली चुत देखि तो वो देखता ही रह गया, चुत शानदार थी चुत के अन्दर अभी भी मालिनी का खुशबूदार माल थोड़ी मात्रा में था बिलाल ने पहले मालिनी की कमर को पकड़ा और उसकी चुत को सूंघते हुए अपनी खुरदुरी जीभ को नुकीली बना कर मालिनी की चुत के अन्दर घुसा दिया, मालिनी अपने ओंठो को दबाकर अपने सर को इधर से उधर पटकने लगी उसको फिर से चुदास चड़ने लगी, मैंने आप लोगो को पहले भी बताया था की मालिनी अपने फिल्ड की माहिर खिलाडी है, वो एक दिन में २०-२० बार तक झड़ती है, बस उसे अच्छे से झड़ाने वाला चाहिए.

बिलाल ने पहले मालिनी की चुत के बचे हुए माल को छत किया और जब उसका मन नहीं भरा तो वो अपनी जीभ से मालिनी को चोदने लगा, मैं जानता था की जीभ से चुत चोदना कोई आसन काम नहीं होता लेकिनं बिलाल काफी बड़ा चोदु था उसे ये काम बखूबी आता था.
मैंने आज तक मालिनी को जीभ से नहीं चोदा था मुझे चुत चाटना और गांड मारना अच्छा नही लगता था शायद यही कारण था की आज मालिनी को उस्मान और बिलाल से अपनी प्यास बुझाना पड़ रहा था.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  फ़ौजी फ़ौज़ में हम मौज़ में-2

बिलाल बुरी तरह मालिनी की चुत अपनी जीभ से चोद रहा था, मालिनी जोर जोर से आआआआआआआआअह्हह्हह्हह्ह उफ्फ्फ्फफ्फ्फ्फ़ एयाआआआआआआआअ आवाजे निकाल रही थी और करीब ५ मिनट में ही मालिनी का बदन फिर से अकड़ने लगा, मालिनी बुरी तरह बिलाल के मुह में फिर से झड़ने लगी बिलाल चटकारे ले ले कर मालिनी के माल को पिने लगा, बिलाल ने मालिनी के चुत से उसके माल की आखरी बूंद भी निचोड़ लिया, बिलाल ने मालिनी का माल छक कर पिया था और वो फिर चटकारे लगाने लगा, दूसरी बार झड़ने के बाद भी मालिनी के चेहरे पर थकान का नामोनिशान नही थी, वाकई मेरी बीबी एक बहुत बड़ी चुद्दकड़ बन गयी थी.

अब आगे…मालिनी के चुत से निकले माल को पिने के बाद बिलाल ने अपने ओठों पर लगाया और मालिनी से बोला – सच में उस्मान ने तेरे बारे में गलत नही कहा था की तेरे जैसी औरत मुश्किल से ही मिलती है, मैंने आज तक इतना स्वादिस्ट चुतरस मैंने आज तक नहीं पिया है, सच में तेरी चुत चोदने में बड़ा मजा आएगा, यदि तू मेरी बीबी रहती तो मैं अपना लंड तेरी गांड या चुत से कभी नहीं निकालता.
वो फिर बोला – चल अब बहुत हो गया अब मैं तेरी गांड मारूंगा, मुझे पूरा यकीं है की तु अपनी गांड में मेरा लंड ले लेगी.

ये बोलकर बिलाल ने अपनी लुंगी खोल दिया बिलाल भी अब मालिनी की तरह मादरजात नंगा हो गया था, जितनी मालिनी गोरी थी उतना ही बिलाल काला था, जितनी मालिनी कमसिन थी उतना ही बिलाल हब्शी था, लुंगी के खुलते ही बिलाल का औजार मालिनी के सामने आ गया, मालिनी उसे आश्चर्यचकित होकर देख रही थी क्योकि बिलाल का लंड लम्बाई में तो उस्मान के लंड के बराबर ही था पर उसकी मोटाई आश्चर्यजनक रूप से असामान्य थी मैंने भी लाइफ में अब तक इतना मोटा लंड नही देखा था वो करीब करीब ५.५” मोटा होगा (मेरा लंड पूरा तनने पर भी २.५ से ३ इंच लंबा होता था और मेरे लंड की मोटाई करीब करीब ०.५ इंच थी) विकराल लंड देखकर मालिनी के माथे पर पसीने की बुँदे छलक आयी, लेकिन वो मन ही मन खुश लग रही थी, सौभाग्य से आज उसे फिर से तगड़ी चुदाई नसीब होने वाली थी. लेकिन मैं सोच सोच के पगला रहा था की इतना मोटा लंड मालिनी की गांड में जाएगा कैसे हालांकि उस्मान से गांड मरा मरा कर मालिनी की गांड खुल चुकी थी फिर भी बिलाल का लंड काफी मोटा था.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  भाभी ने जीना हराम करके चुदाया

बिलाल ने अपने शानदार लंड को मालिनी के चेहरे के सामने लटका दिया, मालिनी ने उस काले मोटे लंड को अपने सिने से लगा लिया वो अपनी दोनों चुचियो के बिच उसे घिसने लगी वो उसे अपने चेहरे पर मलते हुए प्यार करने लगी बिलाल का जितना बड़ा लंड था उतने ही बड़े उसके गोटे भी थे मालिनी ने बिलाल के अन्डो को जोर से पकड़ कर दबा दिया, बिलाल के मुह से अआह निकल गयी मालिनी ने एक हाथ से लंड को ऊपर किया और बिलाल के गोटो को प्यार करते हुए मुह में लेने लगी वो बिलाल के गोटो की चमड़ी को अपने दांतों से खिंच खिंच कर बिलाल को जोश दिला रही थी, बिलाल अआह अहह की आवाजे कर रहा था.
बिलाल के गोटो को देखकर लग रहा था की इसमें जरुर १००-२०० ग्राम. गाढ़ा स्वादिस्ट हष्ट-पुष्ट बच्चे बनाने वाला वीर्य जमा होगा, यदि मेरी बीबी बिलाल से चुद कर बच्चा पैदा भी कर लेती तो मुझे ख़ुशी ही होती, क्योकि बिलाल का पानी दमदार लग रहा था.

अचानक बिलाल ने मालिनी के बालो को जोरो से पकड़ा और उसके मुह को अपने लंड पर लगा दिया मालिनी ने मुह खोल कर बिलाल के लंड का स्वागत किया मालिनी के मुह में बिलाल का लवड़ा समा नहीं पा रहा था फिर भी उसने किसी तरह अपने मुह के अन्दर तक लिया मालिनी की आँखे उबल कर बहार आ गयी बिलाल ने एक जोरदार शॉट मारा जिससे उसका लवड़ा मालिनी के गले तक चला गया लौड़ा इतना बड़ा था की ऐसा लग रहा था जैसे मालिनी ने कोई खूंटा अपने मुँह में डाल कर रखी है अब वो लौड़े के आगे पीछे करते हुए चूसने लगी, बिलाल सिसकारी लेते हुए मालिनी के सर को अपने हाथो से पकड़ कर उसका मुँह चोदने लगा, बिलाल जोर जोर से शॉट लगा रहा था, बिलाल ने मालिनी के मुँह को करीब एक घंटे तक चोदा फिर मालिनी लंड चूसते चूसते थक गयी थी पर वो इतने बड़े लंड को छोड़ना भी नहीं चाह रही थी.

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!