एक साथ चार माल की चुदाई का मजा पाया-8

Ek Sath Char Maal Ki Chudai Ka Maja Paya-8

चाकू नहीं कह रहा क्योंकि मीता की डबल रोटी इतनी टाईट थी कि तब शायद चीरा भी ठीक से न दिखता। इसीलिए पेन्सील कह रहा हूँ क्योंकि उसकी उस फ़ुली हुई डबल रोटी में चीरा दिख रहा था, लम्बा सा, करीब 4 ईंच का तो मुझे सामने खड़े हो कर दिख रहा था। मेरी पारखी नजरों ने भाँप लिया कि इसमे करीब दो ईंच का छेद होगा, वो दरवाज जो हर मर्द को स्वर्ग की सैर पर ले जाता है।उस चीरे से ठीक सटे ऊपर की तरफ़ काले बालों का एक गुच्छा सा बन रहा था। औसतन करीब आधा ईंच के बाल रहे होंगे, सब के सब एक दुसरे से सटे बहुत घने रूप से बहुत हीं कम क्षेत्र में, फ़ैलाव तो जैसे था हीं नहीं। अगर नाप बताऊँ तो 1 ईंच चौड़ाई और करीब 3 ईंच लम्बाई में हीं उगी थी अभी उसकी झाँट। इसके बाद के इलाके में जो बाल था उसको मैं झाँट भी नहीं कहुँगा…बस रोएँ थे जो भविष्य में झाँट बनने वाले थे।

मैंने बोला, “एक बार जरा अपने हाथ से अपनी बूर को खोलो न जरा सा।”

वो तुरन्त अपने दोनों हाथों से अपनी बूर की फ़ुली हुई होठ को फ़ैला दी। मैं भीतर का गुलाबी भाग देख कर मस्त हो गया।
तभी वो अपना कपड़ा उठा ली, “अब चालिए न दिखा दीजिए जल्दी से रागिनी दीदी का…कहीं माँ आ गई तो बस….।”

मेरा लन्ड वैसे भी गनगनाया हुआ था, सो मैंने रागिनी को पुकारा, “रगिनी….”।
हम लोग के नाश्ते की तैयारी कर रही थी। वो चौके में से हीं पूछा, “क्या चाहिए…?”
मैंने कह दिया, “तेरी चूत….आओ जल्दी से।”

रागिनी अब मुस्कुराते हुए आई, “आपका मन अभी भरा नहीं अभी तो रीना को चोदे हैं।”

मैंने मक्खनबाजी की, “अरे रीना तो भविष्य की रन्डी है जबकि तू ओरिजनल है…सो जो बात तुझमें है, वो और किसी में नहीं (मैंने जो बात तुझमें है तेरी तस्वीर में नहीं – गाने के राग में कहा)”।

रागिनी हँस पड़ी, “अरे अभी नास्ता-पानी कीजिए दस बज रहे हैं”

मैं अब असल बात बताया, “असल बात यह है रागिनी की मीता का मन है कि वो एक बार चुदाई देखे और बिन्दा के घर पर रहते तो यह संभव है नहीं सो….”।

अब रागिनी बिदकी, “हत…., वो अभी बच्ची है, उसकी उम्र हीं क्या है 13-14…. यह सब दिखा कर उसको क्यों बिगाड़ रहे हैं आप?”

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Maa Nei Apne Yaar Se Meri Choot Ko Thanda Karvaya-2

और रागिनी अब मीता पर भड़की, मीता का मुँह बन गया।

मैंने तब बात संभाली, “रागिनी, प्लीज मान जाओ…मेरा भी यही मन है। बेचारी अब ऐसी भी बच्ची थोड़े ना है, और फ़िर अब जिस माहौल में रह रही है….यह सब तो जानना हीं होगा उसको।”

रागिनी शांत हो कर बोली, “ठीक है…पर एक उम्र होती है इस सब की , और मीता अभी उस हिसाब से कम उम्र की है।”

मैं फ़िर से मीता की तरफ़दारी में बोला, “पर रागिनी तुमको भी पता है मीता से कम उम्र के लड़की को भी लोग चोदते हैं, यहाँ तो बेचारी को मैं सिर्फ़ दिखा रहा हूँ, अगर अभी मैं उसको चोद लूँ तो…? एक बात तो पक्का है कि वो अब तुम्हारे उमर के होने तक कुँवारी नहीं बचेगी। बिन्दा खुद हीं उसको चुदाने भेज देगी, जब रीना की कमाई समझ में आएगी। उसके पार तो दो और बेटी है। वैसे अब बहस छोड़ो मेरी बच्ची….मेरा भी मन है कि मैं उसको सेक करके देखाऊँ। तुम मेरी यह बात नहीं मानोगी मेरी बच्ची….” मेरा स्वर जरा भावुक हो गया था।

रागिनी तुरन्त मेरे से लिपट गई। आप ऐसा क्यों कहते हैं अंकल , मुझे याद है कि आप ने मुझे पहली बार कितना ईज्जत दी थी और मैंने प्रौमिस किया था कि आपके लिए सब करुँगी।”

फ़िर वो मीता को बोली, “आ जाओ कमरे में चलते हैं।”

कमरे में पहुँचते हीं मैंने रागिनी को बाहों में समेट कर चुमना शुरु किया और वो भी मुझे चुम रही थी। मैंने रागिनी को याद कराया कि उन सब को गए काफ़ी समय बीत गया है सो जल्दी-जल्दी कर लेते हैं, तो वो हटी और अपने कपडे उतारने लगी। मैंने अपने टॉवेल खोले। मैंने मीता को भी पूरी तरह नंगी होने को कहा.

वो बोली – क्यों?
मैंने कहा – चुदाई देखते समय दुसरे को भी नंगा रहना चाहिए.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

बेचारी मीता ने अपने बदन पर के एकलौते वस्त्र पेंटी को उतार दिया और नंगी खडी हो गयी.

रागिने ने मीता को दिखा कर मेरा लन्ड अपने हाथ में लिया और चुसने लगी। मीता सब देख रही थी। मैंने बताया, ऐसे जब लन्ड को चूसा जाता है तो वो कड़ा हो जाता है, जिससे की लड़की की चूत में उसको घुसाने में आसानी होती है। इसके बाद मैंने रागिनी को लिटाकर उसकी क्लीट को सहलाया और फ़िर मसलने लगा। रागिनी पर मस्ती छाने लगी। मैंने मीता को बताया कि ऐसे करने से लड़की को मजा आता है, तुम अपने से भी यह कर सकती हो, जब मन करे। फ़िर मैंने रागिनी की चूत में अपनी ऊँगली घुसा कर उअको बताया कि लड़की कैसे सही तरीके से हस्तमैथुन कर सकती है। मैंने देखा की मीता की चूत से पानी निकल रहा है. यानि इसे मज़ा आ रहा है. इसके बाद मैंने रागिनी की चूत में अपना लन्ड पेल दिया।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  होली के रंग चाची की सहेलियों के संग–4

रागिनी के मुँह से एक आह निकली तो मैंने कहा, “इसी “आह आह” को न तुम बोल रही थी कि दीदी रो क्यों रही थी…देख लो जब कोई लड़की चुदती है तो उसके मुँह से आह आह और भी कुछ कुछ आवाज निकलने लगती है, जब उनको सेक्स का मजा मिलता है। तुम्हारे मुँह से भी अपने आप निकलेगा जब तुम्हें चोदुँगा।”
यह कहने के बाद मैंने ने जोरदार धक्कम्पेल शुरु कर दिया। हस-हच फ़च-फ़च की आवाज होने लगी थी और मैं अपने लन्ड को एक पिस्टन की तरह रागिनी की चूत में अंदर-बाहर कर रहा था।

मीता पास में खड़ी हो कर सब देखी, और फ़िर मैं झड़ गया…रागिनी की चूत के भीतर हीं…. रागिनी भी अब शान्त हो गई थी।

मैं उठा और मीता से पूछा, “अब सीख समझ गई सब?”

उसके “जी” कहने पर मैंने कहा, “फ़िर चलो अब मुझे गुरु दक्षिणा दो..”।

मीता मुस्कुराते हुई पूछे, “कैसे…?”

मैंने मुस्कुरा कर कहा, “मेरे लन्ड को चाट कर साफ़ कर दो, बस…..”।

और घोर आश्चर्य…..मीता खुशी-खुशी झुकी और मेरे लन्ड को चाटने लगी। रागिनी सब देख रही थी पर चुप थी। मैंने मीता के मुँह में अपना लन्ड घुसा दिया और फ़िर उसका सर पीचे से पकड़ कर उसकी मुँह में लन्ड अंदर-बाहर करने लगा। एक तरह से अब मैं उस लड़की की मुँह मार रहा था और मीता भी आराम से अपना मुँह मरा रही थी। तभी बाहर से दरवाजा खटखटाने की आवाज आई। सब लोग आ गए थे।

मीता तुरन्त अपनी पेंटी ले कर किचेन में भाग गई फ़िर वहाँ से आवाज दी, “खोल रही हूँ…रूको जरा।”

मैं दो कदम में नल पर पहुँच गया एक तौलिया को लपेट कर। रागिनी कपड़े पहनने लगी। दरवाजा खुला तो सब सामान्य था। मैं नास्ते के बाद घुमने निकल गया। मैंने रागिनी और मीता को साथ ले लिया क्योंकि रूबी और रीना पहले हीं दो घन्टे के करीब चल कर थक गए थे।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Sex Ka Asli Maja-3

उस दिन मैंने तय किया कि अब एक बार रीना को सब के सामने चोदा जाए, और फ़िर इस जुगाड़ में मैंने रागिनी और मीता को भी अपने साथ मिला लिया। रागिनी ने मुझे इसमें सहयोग का वचन दिया।
घर लौटने के बाद मैंने दोपहर के खाने के समय कहा, “बिन्दा, अभी खाने के बाद दो घन्टे आराम करके रीना को फ़िर से चोदुँगा, अभी जाने में दो दिन है तो इस में 4-5 बार रीना को चोद कर उसको फ़िट कर देना है ताकि शहर जाकर समय न बेकार हो, और वो जल्दी से जल्दी कमाई कर सके।

रागिनी भी बोली, “हाँ अंकल, उसकी गाँड़ भी तो मारनी है आपको, क्या पता पहला कस्टमर हीं गाँडू मिल गया तो….”।

बिन्दा चुप थी, और थोड़ा परेशान भी कि वहाँ उसकी दोनों छोटियाँ भी थीं। मीता अब बोली, “दीदी, अब तो तुम्हारे मजे रहेंगे, खुब पैसा मिलेगा तुम्हें।”

मैं बोला, “हाँ एक रात का कम से कम 5000 तो जरुर मिलेगा रीना का रेट। सप्ताह में 5 दिन भी गई तो 25000 हर सप्ताह, या क्या पता कुछ ज्यादा भी।”
अब पहली बार रूबी कुछ प्रभावित हो कर बोली, “वाह …..5 दिन काम का महिने का 1 लाख….यह तो बेजोड़ काम है…हैं न माँ…”।

मैंने कहा, “हाँ पर उसके लिए मर्द को खुश करने आना चाहिए, तभी इसके बाद टिप भी मिलेगा। यही सब तो रीना को अभी सीखना है शहर जाने से पहले।”
बिन्दा चुप चाप वहाँ से ऊठ गई, मैं उसके जाते जाते उसको सुना दिया, “आज जब दोपहर में तुम्हारी दीदी चुदेगी, तब तुम भी रहना साथ में सीखना….साल-दो साल बाद तो तुम्को भी जाना हीं है, पैसा कमाने।”

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!