गर्लफ्रेंड के साथ सेक्स, सील तोड़ चुदाई

(Girlfriend Ke Sath Sex, Seal Tod Chudai)

दोस्तो, मेरा नाम समीर है.. मेरी उम्र 22 साल है.. मैं हरियाणा से हूँ. मेरा रंग थोड़ा सांवला है. मेरा लंड 6 इंच लम्बा और 2 इंच मोटा है. ये मेरी पहली चोदन कहानी है. मैं HotSexStory.xyz की कहानियां 5 साल से पढ़ रहा हूँ. आज मैं आपको अपनी सच्ची कहानी बताना चाहता हूँ.

यह बात कोई 2 साल पुरानी है. जब मैं 12वीं की परीक्षा पास करके नया नया कॉलेज जाने लगा था. कॉलेज में मेरे साथ मेरा दोस्त भी जाता था. उसकी एक गर्लफ्रेंड थी, जिसका नाम सुमन था. वो एक गर्ल कॉलेज में पढ़ती थी और दोस्त के साथ रहते रहते मेरी भी सुमन के साथ दोस्ती हो गई. जब मेरा दोस्त सुमन से मिलने जाता तो उसके साथ एक लड़की आती थी, जिसका नाम रिया (बदला हुआ नाम) था. पहले दिन में ही उससे हाय हैल्लो हुआ था, बस उसके बाद ना तो उसने बात की और ना ही मैंने.

इस तरह मेरे दोस्त के साथ साथ जाते जाते 3 महीने निकल गए. फिर मैंने एक दिन सुमन को बोला कि मेरी रिया के साथ बात करा दे.
उसने हाँ कर दी और बोली कि जब हम वापिस कॉलेज जाएं तो मेरे फोन पर कॉल कर लेना, मैं आपकी बात करा दूँगी.

मैं और मेरा दोस्त वापिस कॉलेज आ गए तो मैंने अपने दोस्त को बोला कि सुमन के फोन पर कॉल करके बोल कि समीर को रिया से बात करनी है.
दोस्त ने सुमन के पास कॉल करके बोला और फ़ोन मुझे दे दिया.
फिर सुमन ने रिया से बोला कि ले समीर से बात कर ले.
मैंने फ़ोन पर हैलो बोला, उसने हाय बोला.
वो बोली- कैसे हो?
मैं बोला- ठीक हूँ.
मैंने उसको बोला- तुम कैसी हो?
रिया बोली- मैं भी ठीक हूँ! कैसे फोन किया?
मैं तुतलाता हुआ सा बोला- रिया, तुम मुझे बहुत अच्छी लगती हो!
वो बोली- ओह हो… हाँ.. मैं हूँ ही अच्छी! तो अच्छी ही लगूंगी ना!

मैं बोला- तुम समझी नहीं यार… यार… मैं तुम्हें चाहता हूँ, तुमसे बहुत प्यार करता हूँ.
वो बोली- हम्म… तो ये बात है जनाब… फिर अब तक मेरे को बोला क्यों नहीं तुमने?
मैं बोला- बस मैं कहने से डरता था, कहीं तुम मना ना कर दो.
वो बोली- मैं भी तुम्हे पसंद करती हूँ समीर… प्यार तो मैं भी तुमसे करती थी, पर मेरा भी तुम जैसा हाल था, मैं तुमसे बोल न सकी.

मैं उससे बोला- अच्छा तो अब अपना मोबाइल नंबर दे दो मुझे, हम फोन पर बात कर लिया करेंगे.
वो बोली- मैं मोबाइल नहीं रखती.

बस उस दिन इतनी ही बात हुई और उसने फ़ोन काट दिया.

अगले दिन मैं और मेरा दोस्त उससे मिलने गए तो मैंने उसको नया मोबाइल खरीद कर दिया. अब तो मेरी रिया से रोज बात होने लगी. मैं कई कई घंटे… पूरी पूरी रात उससे बात करता.

एक दिन मैंने उससे पूछा- तुम्हारा कोई दूसरा बॉयफ्रेंड भी है क्या?
उसने मना कर दिया.
फिर ऐसे ही बात करते करते मैं उससे सेक्सी बात करने लगा कि कब मिलोगी? मुझे किस चाहिए.

अगले दिन वो और मैं एक रेस्टोरेंट में मिले और हमने खाना खाया. इधर पहली बार मैंने उसकी किस ली. इससे पहले मैंने किसी लड़की की किस भी नहीं ली थी. मेरा लंड खड़ा हो गया. बस मन कर रहा था कि साली को यहीं चोद दूँ, पर मजबूर था क्योंकि मैं रेस्टोरेंट में था.

कुछ देर बाद हम दोनों बाहर आ गए. मैंने उसको कॉलेज छोड़ा और अपने घर आ गया.
फिर रात को उसका कॉल आया तो मैंने उसको स्पष्ट बोल दिया- रिया डार्लिंग, मैं तेरे साथ सेक्स करना चाहता हूँ.
उसने मना कर दिया और बोली कि मैं जिसके साथ शादी करूँगी, उसी के साथ सब कुछ करूँगी.

इससे मेरा मन उदास हो गया. मैं सोच रहा था कि ये साली हाथ नहीं आने वाली है. मैंने गुस्से में फ़ोन काट दिया.

अगले दिन उसका कॉल आया और मैंने उसका कॉल नहीं उठाया क्योंकि मैं उससे बहुत गुस्सा था.
फिर मन नहीं माना तो मैंने उसको कॉल किया.
वो बोली- मुझसे गुस्सा हो क्या?
तो मैंने कहा- हाँ.
“क्यों?”
मैंने बोला कि अगर मेरे से प्यार करती है तो मुझसे मिल लेना वरना कोई जरूरत नहीं है. ये कह कर मैंने फिर से फ़ोन काट दिया.

फिर अगले दिन उसका कॉल आया और उसने मिलने के लिए हां कर दी. उस दिन मैं बहुत खुश था. मिलने का समय उसने मेरे ऊपर छोड़ दिया था.

अगले दिन मैंने उसको कॉल किया और बोला कि मुझे आज ही मिलना है.
वो बोली कि ठीक है मिल लेना.

मैंने अपने दोस्त की बाइक ली और उसके कॉलेज के सामने जाकर उसको कॉल किया, वो कॉलेज के बाहर आकर बाइक पर बैठ गई. मैं उसको मेरे दोस्त के रूम पर ले गया. वहाँ मेरा दोस्त भी था. फिर हम तीनों ने कुछ खाया और बात की.
पहले से तय कार्यक्रम के अनुसार मेरा दोस्त बोला- मैं जरा काम से बाजार जा रहा हूँ… मुझे देर हो जाएगी.

ये कह कर वो हम दोनों को रूम में अकेले छोड़ कर चला गया.

दोस्त के जाते ही मैंने रिया को अपनी बांहों में भर लिया और उस की किस लेनी शुरू कर दी. वो भी मेरा साथ दे रही थी. धीरे धीरे मैंने उसकी चूचियां दबानी शुरू क़र दीं. जब वो बहुत गरम हो गई तो फिर मैंने उसकी टी शर्ट निकाल दी, हालांकि वो बार बार मना कर रही थी लेकिन मैं रुका नहीं!

उसने अन्दर काले रंग की ब्रा पहन रखी थी. गोरे बदन पर काली ब्रा बड़ी मारू लग रही थी. मैंने उसकी पीठ पर से उसकी ब्रा का हुक खोला और उसकी ब्रा उतार दी. उसकी सेक्सी चुची अब मेरे सामने नंगी थी. मैंने पहले तो उसकी चुची पर बड़े प्यार से हाथ फिराया और फिर उन्हें हल्के हल्के दबाने लगा. रिया को मजा आ रहा था.
मैंने अपने होंठों उसे उसकी चुची पर चूमना शुरू किया और जब उसके एक निप्पल को अपने मुख में लिया तो रिया की सिसकारी निकल गयी. आनन्द के मारे वो बेकाबू हो रही थी.

फिर मैंने उसकी जींस भी उतार दी. वो मना करती रही, पर मैं नहीं माना. उसने चूत के ऊपर काले रंग की ही पैंटी पहन रखी थी. मैंने वो भी उतार दी.

अब वो मेरे सामने बिल्कुल नंगी थी, वो बहुत शरमा रही थी. मैंने भी अपने सारे कपड़े उतार दिए और बिल्कुल नंगा हो गया. मैं उसकी चूत की किस लेने लगा और वो बहुत गरम हो गई. मैं अपनी उंगली से उसकी चूत का दाना सहलाने लगा तो वो कामवासना से चुदास से पागल होकर बोली- समीर मुझे चोद दो, अब नहीं रुका जाता.. फाड़ दो मेरी चूत को.

मैंने उसको और तड़पाना जरूरी नहीं समझा. मैंने उसको लिटा कर अपना लंड उसकी चूत पर रखा और जोर का धक्का लगा दिया. मेरा लंड फिसल गया.. बार बार कोशिश करने पर भी लंड अन्दर नहीं जा रहा था.

फिर मैंने लंड की नोक को चूत के छेद पर सैट किया और जोर से धक्का दे दिया. मेरे लंड का टोपा अन्दर चला गया और रिया की जोर की चीख निकल गयी.
वो बहुत जोर से रोने लगी और बोली- समीर… प्लीज निकाल लो.. बहुत दर्द हो रहा है.

मैंने उसकी किस लेनी शुरू कर दी और धीरे धीरे वो नार्मल हो गई. फिर मैंने देखा कि उसकी चूत से खून निकल रहा है, मैंने उसको नहीं बताया. उसको बता देता तो वो डर जाती और फिर चोदने भी नहीं देती.

फिर मैंने एक और झटका मारा और मेरा पूरा लंड उसकी चूत में चला गया.
वो जोर जोर से रोने लगी.. बोली- निकाल लो बहुत दर्द हो रहा है.. मैं मर जाऊंगी. उम्म्ह… अहह… हय… याह…
मैंने उसको समझाया- पहली बार सेक्स करने में थोड़ा दर्द तो होता ही है.. बस एक बार थोड़ा झेल लो.. फिर तुझे बहुत मज़ा आएगा.
उसने कुछ नहीं कहा.

मैंने उसके दूध चूसने शुरू कर दिए और अब उसको भी मज़ा आने लगा. अब मैंने धीरे धीरे लंड आगे पीछे करना शुरू कर दिया. वो ‘आह आह आह आह..’ करने लगी और बोल रही थी- चोद डालो मुझे समीर आई लव यू…
मैंने भी उसको ‘आई लव यू टू..’ बोला और फिर धक्के लगाने लगा.

कुछ देर बाद मैंने उसको अपने ऊपर ले लिया और अब मैं नीचे और वो मेरे ऊपर थी. मैंने अपना लंड उसकी चूत पर सैट किया और धीरे धीरे पूरा लंड उसकी चूत में चला गया. वो मुझे जोरदार किस करने लगी. मैं भी उसका पूरा साथ दे रहा था.
दस मिनट बाद वो बोली- समीर मैं झड़ने वाली हूँ.. और जोर से चोदो मुझे.. आह आह आह आह मार डाला रे कमीने..

वो गाली देते हुए झड़ गई, लेकिन मैं नहीं झड़ा था. अभी फिर मैंने उसको उल्टा किया और पीछे से लंड उसकी चूत में डाल दिया.

उसको मज़ा आने लगा. मैंने उसको सीधा किया और एक ही झटके में लंड उसकी चूत में डाल दिया. उसने मेरी पीठ पर अपने नाख़ून गाड़ दिए. मैं उसको जोर जोर से धक्का लगा रहा था. वो ‘आह आह आह..’ करते हुए फिर से झड़ गई.

अब मेरा भी काम होने वाला था. फिर मैं भी 10-12 धक्कों के बाद उसकी चूत में झड़ गया. सच बताऊं तो दोस्तों बहुत मज़ा आया. फिर उसने देखा कि सारी चादर खून की भर गई थी, तो वो डर गई.

वो बोली- मुझे बाथरूम जाना है.

जैसे ही वो बाथरूम के लिए उठी तो उस से चला ही नहीं जा रहा था. मैंने उसको गोद में उठाया और बाथरूम में ले गया. वो मेरे सामने ही पेशाब करने लगी. मैं नंगा ही खड़ा खड़ा उसको देख रहा था. ये सब देखकर मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया.

मैंने टाइम देखा तो 2 बज गए थे, उसको घर भी जाना था. मैंने गर्म पानी करके उसकी चुत की सिकाई की और दोनों साथ साथ नहाये. अब वो अच्छे से चल पा रही थी. फिर मैंने उसको आईपिल की टेबलेट दी और उसको कॉलेज छोड़ दिया.

दोस्तों ये मेरी पहली पोर्न कहानी थी, आपको अच्छी लगी हो तो मुझे जरूर बताना आपके मेल का इन्तजार करूँगा.

Loading...