जैम लगाकर भाभी की चूत फाड़ी-2

Jam lagakar bhabhi ki choot fadi-2

उसकी नाभि बहुत गहरी, बड़ी और गोरी थी, उसको देखकर में हमेशा बड़ा चकित होकर उसको छूने की इच्छा अपने मन में रखता था और आज में वो सब पूरा करने जा रहा था. फिर मैंने अपनी जीभ को उसकी नाभि में पूरा अंदर डाल दिया, जिसकी वजह से हम दोनों को बहुत मज़ा आ रहा था. उसके बाद में अब धीरे धीरे ऊपर की तरफ बढ़कर चूमने, चाटने लगा.

अब मैंने उसकी गोरी उभरी हुई छाती पर पहुंचकर उसके मस्त गोल मुलायम बूब्स को अपनी जीभ से चाटा और तभी अपने एक हाथ से एक बूब्स की निप्पल को पकड़कर मसल रहा था और जोश में आने की वजह से उसके दोनों बूब्स की निप्पल तनकर खड़ी हो चुकी थी. फिर में कुछ देर बाद अब उसके दूसरे बूब्स पर अपनी जीभ को घुमा रहा था और बूब्स को चूस रहा था. फिर जीभ को घुमाने के बाद में अब उसकी निप्पल को अपने मुहं में लेकर चाटने लगा. तभी मनीष ने मेरा लंड अपने हाथ में ले लिया और वो मेरे लंड को धीरे धीरे सहलाने लगा, उसके साथ साथ मुझे भी बहुत मज़ा आ रहा था.

अब मैंने अल्पा की बिल्कुल साफ बिना बालों वाली चूत पर में अपनी जीभ को फेरने लगा और उसकी पूरी गरम गीली चूत को में अपना मुहं उस पर रखकर चाटने लगा और कुछ देर बाद अपनी जीभ को उसकी चूत में डालकर अंदर बाहर करने लगा, जिसकी वजह से अब तो अल्पा और भी जोश में आकर आवाज़ निकाल रही थी वो अहह्ह्ह उईईईईइ माँ मर गई और अब मनीष मेरा लंड अपने मुहं में लेकर चूसने लगी और अपनी जीभ से पूरे लंड को ऊपर से नीचे तक चाटने लगा और उसने मेरे पूरे लंड पर अपना थूक लगाकर उसको पूरा गीला कर दिया और फिर अपने मुहं के अंदर बाहर करने लगा.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  दोस्त की नई प्यासी दुल्हन की चुदाई-1

अब में उठकर रसोई में जाकर जैम की बोतल लेकर आ गया और मैंने अल्पा के बूब्स पर बहुत सारा जैम लगा दिया और उसके बाद मैंने उसकी चूत पर भी बहुत सारा जैम लगा दिया और अब मैंने देखा कि बूब्स पर लगे जैम को मनीष अब अपनी जीभ से कुत्ते की तरह चाटने लगा और में उसकी चूत के ऊपर लगे जैम के मज़े अपनी जीभ से चाट चाटकर लेने लगा था.

दोस्तों हमारे ऐसा करने से अल्पा को तो बहुत मज़ा आ रहा था और वो जोश में आकर सिसकियाँ लेते हुए कहने लगी थी, अहह्ह्ह्ह हाँ उफफ्फ्फ्फ़ और ज़ोर लगाओ, हाँ ऐसे ही चाटते रहो, वाह मज़ा आ गया तुम बहुत अच्छा कर रहे हो. फिर मैंने कुछ देर चूसने के बाद वो जैम की बोतल अल्पा के हाथ में पकड़ा दी, तो अल्पा अब अपने गोरे गदराए बदन पर जहाँ भी वो जैम लगाती, हम दोनों उसको चूसने लगते, वो लगती गई और हम दोनों चाटते चले गए. कुछ देर बाद उसने अपनी जाँघ पर जैम लगाया, उसके बाद अपनी निप्पल पर भी जैम लगाया. उसके बाद अपनी नाभि पर भी जैम लगाया और फिर उसने गांड पर जैम लगाया.

अब हम दोनों तो पागल कुत्तो की तरह जहाँ वो लगाती, उसको चाटने लगते और इस तरह से हमने उसके पूरे बदन को अपनी जीभ से चाट लिया था. अब मनीष ने मेरे लंड पर भी जैम लगाया और वो खुद ही मेरे लंड को चाटने लगी और फिर उसने अपने लंड पर भी जैम लगाया, तो अल्पा उसका लंड चाटने लगी और फिर उसने दूसरी बार अपने लंड पर जैम लगाया और मनीष ने अपना लंड मेरे मुहं में दे दिया. अब में भी उसका लंड चूसने लगा और अब मेरा लंड अल्पा चूस रही थी और में मनीष का लंड चूस रहा था, उसी के साथ में अपनी एक उंगली अल्पा की चूत में डालकर अंदर बाहर कर रहा था.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  Bhabhi ki gaand phadi-2

कुछ देर बाद मेरे ऊपर अल्पा चड़ गयी और उसने मेरा लंड अपने एक हाथ में पकड़कर अपनी चूत में डाल दिया. लंड एक ही बार में पूरा का पूरा अंदर चला गया और अब वो मेरे हाथ का सहारा लेकर लंड पर ऊपर नीचे होने लगी थी, मुझे उसकी चूत में अपना लंड अंदर बाहर होते हुए साफ साफ नजर आ रहा था. फिर उसने कुछ देर बाद अपनी गांड को थोड़ा सा बाहर निकला तो मनीष ने उसका इशारा समझकर तुरंत अपना लंड उसकी गांड में डाल दिया. अब में अपनी तरफ से उसको ज़ोर ज़ोर से धक्के देने लगा और अल्पा हम दोनों के लंड अपनी गांड, चूत में लेकर हमारे धक्को के मज़े लेकर अपने मुहं से आवाज़ निकाल रही थी, उईईईईईइ आह्ह्ह्ह माँ अब बस करो, वरना मेरी फट जाएगी, अहहह्ह्ह.

अब वो हम दोनों के लगातार धक्को की वजह से ज्यादा जोश में आकर मेरे ऊपर सीधी चड़ गयी और मैंने अपना पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया.

तभी मनीष ने अपने लंड को उसकी गांड से बाहर निकालकर उस पर बहुत सारा तेल लगा लिया, जिसकी वजह से उसका लंड एकदम चिकना हो गया और अब उसने भी अपने लंड को अल्पा की चूत में जबरदस्ती अंदर डाल दिया, लेकिन पहले सिर्फ़ उसके लंड का टोपा ही अंदर गया और फिर उसने ज़ोर से धक्का लगाया, तब जाकर पूरा लंड चूत के अंदर चला गया और दर्द की वजह से अल्पा के मुहं से बहुत ज़ोर से चीखने की आवाज़ निकल गई, ऊउईईईईइ माँ में मर गई, आईईईई उफ्फ्फफ्फ्फ़ यह तुम दोनों ने क्या किया आह्ह्ह्ह मेरी चूत फट गयी, प्लीज अब बाहर निकालो, मुझे बहुत दर्द हो रहा है, लेकिन अब हम दोनों अल्पा के दर्द की चिंता किए बिना उसकी एक ही चूत में अपना लंड डालकर अंदर बाहर करने लगे और थोड़ी देर धक्के देने के बाद मनीष ने अपना वीर्य अल्पा की चूत में ही निकाल दिया और उसके बाद उसने अपने लंड को भी दो चार धक्के देने के बाद चूत से बाहर निकाल लिया.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  पति कि कमिनापन के चलते मै किरायेदर से चुद गयी

अब में अल्पा के ऊपर चड़ गया और में उसको अपनी तरफ से ज़ोर ज़ोर से धक्के देने लगा. तब मैंने कुछ देर बाद महसूस किया कि अब अल्पा भी झड़ गई थी, उसकी चूत से चूत रस निकलने के साथ साथ वो धीरे धीरे शांत और ढीली होती चली गई. फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत से बाहर निकाला और अल्पा के मुहं में डाल दिया, तो वो मेरा लंड बड़े मज़े से चूसने लगी और मैंने भी कुछ देर उसके मुहं में धक्के देने के बाद अपना वीर्य उसके मुहं में ही निकाल दिया, जिसको अल्पा ने अपनी जीभ से चाट चाटकर चूसकर पूरा साफ कर दिया. उसके बाद हम तीनों ही थक हारकर एक एक करके वैसी ही हालत में गहरी नींद में सो गए.

दोस्तों सुबह मनीष और अल्पा ने बहुत खुश होकर मुझसे कहा कि यार कल रात जैसा मज़ा तो हमें हमारे अब तक के किसी भी खेल में कभी नहीं आया, तुम बहुत मस्त मज़े से सारे काम करते हो और तुम्हें इस खेल में बहुत कुछ आता है, तुम बहुत अनुभवी हो और फिर उसने कहा कि अब कभी जब भी तुम्हें मौका मिले तो हम लोग दोबारा मज़ा लेंगे और मैंने भी उनको अपनी तरफ से हाँ कहा.

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!