कहानी मेरे किरायदार की 1

(Kahani mere kiayedar ki 1)

मे सुयश फिर से मे घर की दुसरी कहाणी लेके .दीदी की शादी होणे के बाद घर मे अभी हम सिर्फ तीन ही लोग थे . पापा ने मेरे दादा जी को गांव से यहाँ इलाज के लिए लेके आ गए। दादा जी को सुनाई और बोलना नहीं आता था। सिर्फ दिख सकते थे। लेकिन कुछ लिख सकते नहीं थे दादा जी को मम्मी ने मेरा कमरा दे दिया था। मम्मी ने मुझे दीदी के कमरे में शिफ्ट कर दिया था। पापा ने ऊपर छत में स्टोर के लिए और एक छोटा १०*१० का कमरा बनाया था दीदी के शादी के वक्त अभी वो खाली पड़ा था उस में मेहमान के लिए छोटा टॉयलेट बाथरूम था अभी पुरे घर में हम चार थे। जिस में दादा जी ज्यादा हिलते डुलते नहीं थे। उनको मम्मी सब ऊपर लाकें देती थी। मम्मी भी उनकी जम के सेवा करती थी। ऐसे ही दिन गुजरने लगे थे। एक रविवार को में देर से सो के उठा तब निचे देखा। तो किसी के बोलने की आवाज आ रही थी। में जाके देखा एक हट्टा कट्टा लड़का बैठा था । तब मम्मी – बोली तुम्हारी दीदी का फोन आया था उसका एक दोस्त हे असल करके उसको माकन किराये पे चाहिए था बिचारा बड़ा मुसबित में हे। अभी शायद एम् ए कर रहा हे
पापा – देखो असलम बेटा में जात पात मानता नहीं लेकिन में तुम्हे सिर्फ मेरी बेटी की वजह से कमरा किराय पे दे रहा हु। अच्छा पढ़ो लिखो मम्मी पापा का नाम रोशन करो।

असलम -जी अंकल जी मेरा इस या अगले साल पास हो जावूंगा
पापा – अच्छी बात हे
असलम – और अंकल जी आपको बिलकुल चिंता मत कीजिये में बाकि मुसलमानो जैसा नहीं हुवा। में कभी नमाज नहीं पढता हु। और नहीं मेरे कभी फोटो घर पे लगा था हु। में मनाता हु की अल्ला हमारे अंदर हे। उसे अंदर से ही रहने दो। सिर्फ साल में एक दो बार नमाज पढ़ लेता
पापा – उतना चलेगा
मम्मी चाय लेके आ गयी
असलम – थैंक यू आंटी जी।

असलम – तो में कब से शिफ्ट कर सकता हु
पापा – पहले कमरा देख लो वह मेरे बूढ़े पिताजी उन्हें तकलीफ नहीं होनी चाहिए
असलम – है बिलकुल नहीं होगी। असलम पापा के साथ कमरा देखने गया। मम्मी की किचन में गई
असलम और पापा निचे आ गए
असलम ने पापा को ६ महीने का किराया एडवांस में दे दिया।
पापा – असलम तुम कल से शिफ्ट करो
धीरे धीरे असलम हमारे घर एडजस्ट होते गया। मुझे असलम वैसे ठीक ठाक ही लगा था। मम्मी ने भी घर पर रह कर बोर होने लगी थी। तो कभी कभी फोन पे चैट करती रहती थी। मम्मी के फोन में स्पाई अप्प होने के वजह से मुझे सब पता चलता था। धीरे धीरे असलम घर पे शराब की बोटले लाने लगा। कभी कभी असलम के घर पे अच्छी अच्छी कॉलेज की लड़किया आने लगी। मम्मी ने पूछा तो असलम कहने लगा ही। वो पढाई करने आती थी असलम के निचे मेरा कमरा होने की वजह से मुझे असलम की घर से सेक्स की आवाजे साफ सुनाई देती थी। असलम से मम्मी भी बहोत फ़्रनक्ली बात करती थी। मेने बार बार नोटिस किया जब भी मम्मी में मोस्टली फर्स्ट फ्लोर ही होता हु तो मुझे उनकी आवाज रोशनदान से सुनाई देती है।

वो मेरी मम्मी भी फ्रैंक है मम्मी कुछ स्पेशल बनती है तो खुद जाती है असलम देने ऊपर जाती थी मेने बहोत बार नोटिस किया है की जब भी मम्मी ऊपर कपडे सूखने जाती है तो जब वो झुकती है तो वो असलम उन्हें देख रहे रहता था और बहोत बार उनकी वीडियो भी निकलता था और मम्मी को पता नहीं चलता था. मम्मी अपनी ब्रा पैंटी भी ऊपर ले जाती है और खुले में सुखाने रख देती है और वो ब्रा पैंटी पर अपना सारा स्पर्म गिरा देता था ऐसा हमेशा ही होता है और मम्मी को पता नहीं चलता.फिर एक दिन मम्मी ऊपर कपडे सूखने गयी तो उन्हें घर के सीडी पे ३-४ सीडी मिली और मम्मी ने मुझे पूछा की किस की हे ये सीडी ? मेने कहा पता नहीं तो मम्मी बोली ऊपर असलम की होगी शायद. और मम्मी अपनी लैपटॉप पे वो सीडी देखने लगी और में लैपटॉप के सामने बैठा था पैर मुझे लैपटॉप की स्क्रीन नहीं दिख रही थी और मम्मी ने चलायी और 1-2 मिनट देखा और दूसरी लग्गा दी और फिर उससे भी 1-2 मिनट देखा और लैपटॉप बंद कर दिया और सीडी ले गयी मुझे कुछ पता नहीं चला की उन सीडी में क्या है.

फिर श्याम को मेने देखा की सीडी तो ऊपर असलम के रूम के पास ही पढ़ी है और मेने सीडी उठायी देखा तो उन में पोर्न थी तो मेने सोचा की तभी मम्मी ने वो सीडी ऊपर रख दी.२ दिन बाद में मम्मी के साथ ऊपर गया उस दिन बहोत सारे सारे कपडे थे तो में और मम्मी कपडे डाल रहे थे और वह असलम खड़ा था वो कॉलेज में पढता है अभी घर पर था और खिड़की के साइड से वो अपना मोबाइल लेके बैठा था और मम्मी की वीडियो ले रहा था इतने में मम्मी ने देख लिया और उस हड़बड़ाहट में इधर उधर देखने लगा मम्मी को ये बात अच्छी नहीं लगी और मम्मी पापा से बोलने लगी श्याम को की हम ऊपर वाले असलम को बोलते है की इस महीने के आखिरी से से यहाँ मत रहना तो पापा ने बोले की क्यों ऐसा क्या हुआ।

तो मम्मी ने बोलै की मुझे वो असलम ठीक नहीं है तो पापा ने बोलै की नहीं ऐसा नहीं है कुछ नहीं होगा. ऊपर उन असलम अलग एक रूम है और बाथ रूम और किचन अलग से है जो हमेशा खुले रहता है जैसे ही जीना चढ़ो सामने ही बाथरूम है में मम्मी के साथ उस दिन ऊपर गया और हम ऊपर से कपडे निचे लेने लगे तो मैंने देखा की मम्मी कुछ ढूंढ रही है फिर मम्मी उनके बाथरूम में जाने लगी में ने थोड़ा सा झक के देखता तो वह मम्मी की दो ब्रा लटक रही थी और मम्मी ने उससे स्मेल करके देखा और निचे ले आयी. मम्मी घर पे बोर होती थी तो मम्मी ने फेसबुक पे अपना अकॉउंट खोला था मेने देखा की मम्मी को असलम की फ्रेंड रिक्वेस्ट आयी हुई थी फिर मेने फोन छोड़ दिया और श्याम को देखा तो मम्मी ने रिक्वेस्ट एक्सेप्ट कर थी और कुछ कन्वर्सेशन भी थी आप को बताता हु।

असलम – है आंटी
मम्मी – हेलो असलमन
असलम – कैसी हो आंटी आप
मम्मी – अपर हो कर भी अभी तक तुम ने कभी पूछा नहीं
असलम – हाहाहा आप भी ना ऑन्टी . अभी कहा पे हु
मम्मी – कहा पे हूँगी। घर पे ना ?
उस के अगले दिन जब असलम का मेसेज आता हे में मम्मी को फोन देता हु
असलम -है ऑन्टी
मम्मी – हेलो असलम
असलम – आज कल आप ऊपर नहीं आते
मम्मी – नहीं आती हु कपडे सूखने
असलम – फिर आप दिखती नहीं हे
असलम – अच्छा आप दिखती नहीं हो
मम्मी – तुम कॉलेज गये होते हो तब उपर आती हूं
मम्मी – उस दिन मे उपेर आई थी तो मुझे बियर की बॉटले मिली थी।

असलम – हा आंटी वो तो ऐसे ही कभी कभी
मम्मी – राजेश के पापा ने देख ली तुम्हे निकाल देंगे
असलम – आप बताना नही उन्हे
मम्मी – क्यू
असलम – ऐसे ही बस मे आपके लिए चॉकलेट लेके दूंगा
मम्मी – अगर बड़ी वाली चॉकलेट हो तो ही
असलम – बिल्कुल बड़ी वाली दूंगा।।।दोनों हसते है
मम्मी – चलो जाती हू मे
असलम – बिज़ी हो क्या

मम्मी – नहीं तुम्हे कॉलेज में पढाई नहीं हे क्या
असलम – नाही कॉलेज में पढाई कोण करता हे सब घूमने फिरने के किये आते हे
मम्मी – अच्छा जी वैसे तुम्हारी कितनी गर्लफ्रेंड हे
असलम – अभी एक भी नहीं पहले थी
मम्मी – अच्छा जी
असलम – ऑन्टी जी हमारे कॉलेज में वैकेंसी निकली हे टीचर के लिए क्यों न आप टॉय करो
मम्मी – हम्म अच्छा आयडिया हे।
असलम – आप बोर भी नहीं होगी। और आप को भी ख़ुशी मिलेगी
मम्मी – अच्छा जी हमारे ख़ुशी का अच्छा ख्याल रख रहे हो आप
असलम – जी आप मौका तो दो
मम्मी – मौका तो देंगे देखते हे चलो में जाती हु राजेश के पापा आएंगे

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

फिर रात 9 30 बजे हम सब खाना खा रहे थे तो मम्मी का फोन बजा तो पापा ने बोलै की किसका है तो मम्मी ने देखा और कहा वैसे ही कालेज से हे मेने कॉलेज में टीचर के जॉब के लिए अप्लीकेशन किया था उस का कॉल हे। मम्मी खाना खाने के बाद मम्मी फोन पर लग गयी और 5 मिनट बाद छत पर चली गयी और में उनके पीछे गया तो देखा की वह असलम खड़ा है और वो मम्मी को चॉकलेट दे रहा है। वो मम्मी के साथ गप्पे मर रहा था फिर उसने मम्मी को बोला की टेरेस पे घूमते है मम्मी ने बोले की नहीं में जा रही और मम्मी निचे चली आयी।

कुछ दिन में मम्मी को कॉलेज से नौकरी के लिए बुलावा आया। मम्मी अभी कॉलेज ज्वाइन कर सकती थी मम्मी का कॉलेज का वक्त ८ से ४ होता था मम्मी कभी ऑटो रिक्साव से जाती और श्याम को 4 बजे ऑटो रिक्ष्य आती एक दिन सुबह असलम और मम्मी एक साथ निकलते है तो असलम कहता है आये मेरे साथ ही चल लो में बाइक पैर जा रहा हु तो मम्मी पापा की तरफ देखती है और मन कर देती है और कहती है की में चली जाउंगी उसके बाद श्याम को 4 बजे मेने देखा की असलम की बाइक कड़ी है और मम्मी उस से उतर रही है और डेली ऐसा होने लगा की मम्मी सुबह खुद जाती थी पर असलम के बाइक पे आती क्युकी आने के वक़्त में पापा नहीं होते थे।

एक दिन स्कुल से में बंक मर के मूवी देखने निकल गया था। मेने देखा की मम्मी और असलम वह खड़े थे मम्मी ने उस दिन ब्लैक टॉप और जीन्स पहनी थी काफी सेक्सी लग्ग रहे थे और में चुप के खड़ा हो गया क्युकी में उस दिन स्कूल की बंक पैर था उस टाइम 12 बजे का शो था मेने सोचा की 12 बजे कोनसा कॉलेज ख़तम होता है तो वो दोनों अंदर बैठ गए और में भी चला गया वो ऊपर से सेकंड से थर्ड रो में बैठे थे और हॉल १०% लोग नहीं थे क्युकी ये वर्किंग टाइम था इसलिए ज्यादा लॉग नहीं होते.में अपने दोस्त की कैप पेहेन के चुप चाप अकेले उनकी पीछे वाली रौ में चला गया और उनके पीछे जाकर बैठ गया और उन्होंने ध्यान नहीं दिया हॉल में काफी अँधेरा था ज्यादा कुछ नहीं दिख रहा था लेकिन ये पता चल रहा था की आस पास कोई बैठा है और क्या कर रहे है तो मुझे पता चल रहा था की वो दोनों बैठे है अगर वो पीछे मुड़ते तो उन्हें भी पता चल जाता की कोई बैठा है
फिर उसके बाद उनकी बात चित चालू हो गई

मम्मी – ज्यादा लोग नहीं है यहाँ पर
असलम – अच्छा हे न
मम्मी – कॉलेज का कोई आ गया तो तुम्हारे और मेरे हल ख़राब हो जायेंगे
असलम – डरो मत कोई नहीं आएगा यहाँ पे
मेने देखा की मम्मी और असलम वह बैठे थे मम्मी ने उस दिन ब्लैक टॉप और जीन्स पहनी थी काफी सेक्सी लग रही थे और फिर वो मम्मी के लिप्स पर किस करने लगता मम्मी – नहीं न मत करो। असलम – हम मूवी देखने थोड़ी न आये हे। मम्मी – नहीं ये सब ठीक नहीं लगता में तुम्हारी टीचर हु और मैरिड और शादीशुदा औरत हु – उस दिन कॉलेज में भी तो किस करे थे। मम्मी – तुम तो पागल हो उस दिन पीछे हाथ रख कर खड़े हो गए थे जब में अक्षय से बात कर रही थी असलम – मुझे मजा आ रहा था उस दिन तो मम्मी – किसी ने देखा न तो तुम्हे कॉलेज से निकल देंगे और मुझे भी – यहाँ तो कोई नहीं है और फिर वो मम्मी के लिप्स पैर किश करने लगता है और वो करीब 4-5 मिनट तक किस कर रहे थे और फिर मेने दोनों चेयर के बिच में छोटी से जगह में से देखा तो उसका एक हाथ मम्मी के बूब्स पैर था और वो दबा रहा था धीरे और बोल रहा था की आप बहोत सेक्सी हो आज भी आप 28 की उम्र तक की लगती हो.

उसका एक हाथ मम्मी के बूब्स पर था और वो दबा रहा था और बोल रहा था की आप बहोत सेक्सी हो मेरी क्लास में सभी बोलते है की माल हो आप और इवन गर्ल्स भी कहती है की आप बहोत सूंदर हो और फिर वो दबाने लगा अभी वो दोनों किस् कर रहे थे और असलम का हाथ मम्मी के टॉप के ऊपर से अंदर डाला हुआ था और दबा रहा थ फिर असलम ने मम्मी का टॉप ऊपर करने लगा और बूब्स के ऊपर तक ले गया और फिर ब्रा में से दोनों बूब्स भर निकल दिया और दबाने लगा फिर असलम मम्मी के बूब्स को चूसने करने लगा और दबाने लग्गा इतने में पीवीआर का वेटर आया और बोलै की सर आप कुछ लेंगे और उसने पीछे से बोला और जैसे ही वो आगे आया तो उसने देखा की मम्मी के बूब्स बहार है तो उसने कहा सर आप यहां ये सब नहीं कर सकते यहाँ मम्मी ने जल्दी जल्दी अपना टॉप निचे कर लिया।