कैसा यह प्यार है?

(Kaisa Yah Pyar Hai)

यह मेरी पहली स्टोरी है जिसके माध्यम से मैं अपनी बात सबके सामने रख रहा हूं। अगर आपकी कोई भी प्रतिक्रिया हो तो मेल करना। मुझे इन्तज़ार रहेगा। बात एक साल पहले की है जब मैं एक ट्रैनिंग के लिये जयपुर जा रहा था। माफ़ कारना दोस्तों, मेरा नाम राज है और मेरी उम्र 28 साल है।

मेरे साथ मेरी एक फ़्रेंड पूजा भी जा रही थी। पूजा मेरे साथ ही जोब करती है। हम दोनों जब जयपुर पहुंचे तो रात के 8 बजे थे। गरम मौसम के कारण पूजा ने एक हलका सा सलवार सूट पहना था। हम जब होटल पहुचे तो पता चला कि हम लोगों के लिये गलती से एक ही रूम रिजर्व था।

होटल के मैनेजर ने माफ़ी मांगी और कहा कि आज आपको काम चलाना होगा, कल से आपके लिये एक और रूम खाली हो जायेगा। पूजा के कहने पर मैं उसके रूम मे चला गया। हम जाकर सो गये। रात मे सोते हुये मेरा एक हाथ पूजा के चूतड़ों पर लगा। मेरी नींद खुल गयी। हम दोनों एक ही बेड पर थे। मैं बैचेन हो गया और मैने एक हाथ उसके चूतड़ के बीच मे लगा दिया। कुछ देर के बाद पूजा ने मेरा हाथ हटा दिया। दस मिनट के बढ मैने उसके लिप्स चूम लिये। पूजा भी बैचेन हो गयी और मेरे होटों को चूमने लगी। फिर मैने उसकी बिना बाल कि चूत को चाटा। और उसने मेरा लण्ड चाटा और चूसा। फिर मैने उसकी चूत मे लण्ड डालने के लिया कहा तो उसने मना किया और कहा कि मेरी गाण्ड मार लो।

तब मैने उसको डोगी स्टाईल मे ले कर उसके गाण्ड के छेद मे अपना थूक डाला जिसके बाद उसकी गाण्ड गीली हो गयी। फिर मैने अपना 8 इन्च का लौड़ा उसकी गाण्ड मे डाला। वो दर्द से रोने लगी पेर मैने स्पीड कम नही की। सारे रूम मे उसकी चीखें थी। कुछ देर के बाद उसको भी मजा अने लगा। जब मैं झड़ने लगा तो मैने सारा उसकी गाण्ड मे ही डाल दिया इस तरह हमे बहुत मज़ा आया। आपको ये कहानी कैसी लगी मुझे जरूर मेल करे। अगर कोई 25 से 35 साल क बीच की लड़की या औरत मुझे मेल कारना चाहे तो मुझे मेल करे।

मैं आज अपनी कहानी पहली बार भेज रहा हूं और उम्मीद है पसन्द कि आयेगी जिसमे मैने अपनी मम्मी और बहन को चोदा था साथ साथ पापा भी थे यानि कि पूरा घर ही चुदक्कड़ थ। बात उन दिनो कि है जब मैं 16 या 18 साल का हुआ करता था और मेरी बहन 14 साल की। उस दिन रात को पापा मम्मी कि चुदायी कर रहे थे और मैं पेशाब करने को उठा था तब मैने पापा के रूम से चीखने कि आवाज सुनी और मै जिज्ञासा शान्त करने को रूम कि तरफ़ बढ गया और जब पास गया तो तबियत हरी हो गयी।

मम्मी पूरी तरह से नंगी थी और रूम की लाईट जल रही थी जिससे उनकी चूचियां साफ़ नज़र आ रही थी और पापा उनको पीछे से चूतड़ मे धक्का लगा रहे थे और गाली बक रहे थे साली रण्डी इतनी बार गाण्ड मरवा चुकी है फ़िर भी चिल्लाती है मादरचोद आज तेरी गाण्ड फ़ाड़ दूंगा और पापा कस कस कर धक्के लगाने लगी मम्मी ऊऊ ओफ़्फ़फ ऊउफ़्फफ़्फ़ आआईई आआह्ह आआअह सीई कर रही थी और उनकी आंख से आंसू निकल रहे थे तब पापा ने अपने दोनों हाथ मम्मी की नीचे लटकी चूचियों पर रख कर दबाने लगे जिसे मम्मी को कुछ राहत मिली और वो धक्के लगाने लगी तब पापा उनकी गाण्ड मे खलास हो गये और तब मम्मी ने उनका झड़ा हुआ लौड़ा हाथ मे ले लिया और रगड़ने के बाद मुह मे रख कर चूसने लगी।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

बोली- राजा, आपका लौड़ा पीने मे मुझे बहुत मज़ा आता है।

पापा ने कहा- मेरी जान अकेले अकेले चाटने का मज़ा ले रही हो? यह तो गलत बात है, मैं भी तुम्हारी चूत का पानी चाटूंगा और फ़िर वो दोनों 69 कि स्थिति में लेट गये और फ़िर मम्मी ऊऊह्हह ऊऊऊ ऊऊऊओह्हह् आअहहह्ह आआअह्हह करने लगी और कुछ देर बाद ही दोनों का माल एक दूसरे के मुँह मे गिर गया और उसके बाद मैने अपने पापा के साथ मिलकर किस तरह से मम्मी और बहन की चुदाई की।

इसका जिक्र मैं अगली बार करुंगा।