कामवाली ने दूध पिलाकर चोदना सिखाया-1

Kamwali ne doodh pilakar chodna sikhaya-1

हैल्लो दोस्तों, मेरी कहानी कामवाली की hindi mein sexy chudai वाली, मेरा नाम मिंटू है और यह उस वक़्त की बात है जब में हाई स्कूल में था. हम लोग लखनऊ में रहते थे और हमारे घर में एक नौकरानी थी, जिसका नाम स्वीटी था और उसकी उम्र 33 साल, फिगर साईज 38-36-40 था, वो दिखने में बहुत सेक्सी थी, लेकिन उसका रंग सांवला था और चूचियाँ तो ऐसी थी कि दोनों हाथों में एक भी ना आए और हमेशा ऐसा लगता था, जैसे कहती हो आओ मुझे चूसो प्यारे, उसकी दो शादी भी हो चुकी थी, लेकिन उसके कोई बच्चा नहीं था, में बहुत नासमझ और शर्मिला था.

फिर एक दिन में अपने दोस्तों के साथ स्कूल जा रहा था तो मेरे दोस्तों ने कहा कि एक पिक्चर लगी है देखोगे? तो मैंने कहा कि नहीं. फिर वो बोले कि चल यार किसी को कुछ पता नहीं चलेगा और फिर वो मुझे पिक्चर दिखाने ले गये, जो कि ब्लू फिल्म पर बनी थी. अब वो पिक्चर मुझे अच्छी लगी और मुझे कुछ-कुछ होने लगा था. अब में औरतों की तरफ आकर्षित होने लगा था. में हमेशा सावित्री की तरफ नज़र बचाकर देखता था, लेकिन एक दिन सावित्री ने मुझे पकड़ लिया और कहा कि क्या देख रहे हो मिंटू? तो में बोला कि कुछ नहीं. फिर वो हँसी और अपना काम करने लगी, अब में डर गया था तो में उसकी तरफ भी नहीं देखता था.

फिर एक बार वो घर में 2 दिन तक नहीं आई, तो मेरी माँ ने मुझे उसके घर पर पता करने के लिए भेजा. फिर में उसके घर पहुँचा और घंटी बजाई तो मैंने देखा कि सावित्री ने दरवाजा खोला और सामने खड़ा था. फिर जब मैंने देखा कि वो सिर्फ पेटीकोट और ब्लाउज में थी, एक तो वो ग़रीब बाई थी और सेक्सी बहुत थी, उसका पेटीकोट सामने से फटा था, जिसमें से मुझे उसकी moti chut की झांटे साफ-साफ़ दिख रही थी. फिर उसने तुरंत अपना पेटीकोट ऊपर खींचा और मुझे अंदर आने को कहा.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  गर्लफ्रेंड के घर पर चुदाई

फिर में अंदर गया और पूछा कि तुम आ क्यों नहीं रही हो? तो वो बोली कि कुछ नहीं, उसका पति आया था और अब चला गया है तो कल से आऊँगी, तो तभी उसका पेटीकोट फिर से गिर गया और petticoat mein chut दिखने लगा  वो शर्मा गई. अब मेरी नज़र लगातार उसके बूब्स पर थी, क्योंकि वो काफ़ी बड़े थे और उसमें से उसकी निप्पल साफ़-साफ़ दिख रही थी, क्योंकि जब उसने ब्रा नहीं पहनी थी. फिर उसने मुझे बैठाया और अंदर चली गई और साड़ी पहनकर आई. अब में अभी भी उसकी चूची देख रहा था, तो तभी वो बोली कि कोई बात है क्या? तो तभी मेरे मुँह से निकल गया कि तुम्हारी टागों के बीच में इतने बाल क्यों है? तो वो हड़बड़ा गई और मुझे घूरने लगी.

अब में घबरा गया और बाहर निकल आया, अब में डर गया था कि कहीं वो मम्मी से ना कह दे. फिर में शाम को उसके घर पर गया और बेल बजाई, तो उसने दरवाज़ा खोला और मुझे देखकर अंदर बुलाया और बोली कि क्या है? तो मैंने बोला कि जो मैंने पूछा था, वो मम्मी से नहीं कहना.

फिर वो बोली कि कहूँगी, तो में डर गया और रोने लगा और वो हँसने लगी और बोली कि डरो मत, नहीं बोलूंगी. फिर उसने मुझे अपने पास बुलाया और बोली कि तुम मूवी देखने गये थे, तो क्या हुआ? तो में उसे देखता रहा. फिर उसने मेरे दोनों गालों को चूमा और बोली कि पिक्चर कैसी लगी थी? तो मैंने कुछ नहीं कहा. फिर वो मुस्कुराकर बोली कि कोई बात नहीं, बता तो दो और फिर उसने मेरे गाल को नोंचा. फिर मैंने कहा कि अच्छी थी, लेकिन कुछ समझ में नहीं आई, क्योंकि कुछ भी नहीं दिखा और मेरे दोस्त कह रहे थे कि वो sexy chudai film मतलब ब्लू फिल्म है.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  प्यासी भाभी निकली लंड की जुगाड़-2

फिर उसने मेरे चूतड़ पर थपकी दी और कहा कि अभी भी नहीं जानते हो कि उस पिक्चर में क्या था? फिर मैंने उसकी तरफ देखा और बाहर आ गया और फिर अपने घर चला आया.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

अगले दिन मम्मी सुबह तैयार होकर मौसी के यहाँ जाने लगी. फिर मुझसे बोली कि सावित्री जब आए तो बर्तन साफ करा लेना और खाना खा लेना, जब मेरी छोटी बहन स्कूल चली गई थी और भैया कानपुर गये थे. फिर मैंने स्कूल की किताब निकाली और पढ़ने लगा. हमारे घर के बाहर छोटा सा बगीचा था और मैंने उसमें फूलों के पौधे लगाए थे और बकरियाँ उसे खा जाती थी. तभी मुझे सावित्री की आवाज़ आई, मिंटू जल्दी आओ, मैंने बकरी पकड़ी है, दरवाजा बंद करो. फिर में तेज़ी से आया और दरवाजा बंद किया तो मैंने देखा कि बकरी के थन काफ़ी नीचे लटके थे और सावित्री बकरी को पकड़े थी.

फिर वो बकरी को पकड़कर अंदर ले आई और उसके मुँह पर कपड़ा बाँध दिया, ताकि वो चिल्लाए नहीं और मुझसे बोली कि मिंटू यहाँ आओ और मुझसे बोली कि ज़रा बर्तन साफ कर लूँ. फिर में उसके पास गया और पूछने लगा कि बकरी क्यों पकड़ी है? तो वो मेरी तरफ मुस्कुराकर बोली कि एक काम के लिए और फिर मेरी नज़र उसकी चूची पर पड़ी और ठहर सी गई. फिर उसने मेरी तरफ देखा और अपनी साड़ी खिसका दी, ताकि मुझे और साफ दिख सके. अब में खड़ा रहा, क्योंकि उसका ब्लाउज बगल से फटा था और उसमें से उसका बदन साफ़-साफ़ दिख रहा था.

फिर उसने जल्दी से अपना काम ख़त्म किया और मुझे देखकर बोली कि आओ और पकड़कर अंदर कमरे में ले आई. फिर वो नीचे बैठ गई और बकरी के थन सहलाने लगी और बोली कि लो दूध पिओगे? तो मैंने कहा कि बकरी का. फिर वो बोली कि नहीं तो क्या मेरा? फिर वो बकरी के थन चूसने लगी और बोली कि लो अब तुम पियो और मुझे अपनी गोद में बैठाकर दूध पिलाने लगी और मेरे गाल चूमने लगी. अब मुझको लगा था कि जैसे मेरा लंड टूट जाएगा, क्योंकि अब मुझे बहुत अच्छा लग रहा था.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Nakhre wali bhabi ke chut fadd de apne lund se

फिर उसने मुझसे पूछा कि मज़ा आया? तो मैंने कहा कि हाँ. फिर वो बोली कि आओ अंदर बेड पर चले, और फिर उसने वहाँ अपनी साड़ी उतार दी और ब्लाउज और पेटीकोट में आ गई. अब hindi sexy chodne wala मेरा लंड तन गया था और में उसे दबाने लगा था.

फिर उसने कहा कि क्या है? लाओ में देखूं, तो उसने झट से मेरी पैंट उतार दी और मेरी अंडरवेयर में से मेरे लंड को बाहर निकालकर देखने लगी और धीरे-धीरे मेरे लंड को सहलाने लगी. अब मेरे तो होश उड़ गये थे. फिर उसने मेरे लंड को अपने मुँह में लिया और चूसने लगी.

अब में हैरान था और बोला कि क्या कर रही हो? तो वो बोली कि तुम्हें पिक्चर समझा रही हूँ और फिर उसने मेरे लंड को कसकर दबाया और बोली कि मेरे राजा तुम लैडीस को बहुत घूरते हो, आज में तुम्हारी हर इच्छा पूरी कर दूँगी और फिर उसने मेरा हाथ अपनी बहुत बड़ी-बड़ी चूचियों पर रख दिया, तो मेरा लंड झटका खा गया, क्योंकि मैंने पहली बार किसी चूची को छुआ था.

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!