बचपन की सहेली ने चूत दिलवाई

(Bachpan Ki Saheli Ne Choot Dilwayi)

मैं लव कुमार फ़िर से अपनी कहानी को लेकर आया हूँ. मैं आपको याद तो हूँ ना? अरे वही जिसको आपने बहुत सारे मेल किये थे मेरी कहानी
बचपन की सहेली
पढ़ने के बाद!
अब आगे की कहानी पर आता हूँ, इस बार भी मेल करना!

मैं सीमा को 8-9 बार चोद चुका था. फिर एक दिन उसको ले गया था चोदने! काम शुरु हुआ और वो मेरा लण्ड चूत में ले रही थी, बोल रही थी- आअह्ह लव! चोदो जोर से आआ आआह्ह्ह!

ऐसा करते करते उसने मुझसे पूछा- किसी की मदद कर सकते हो मेरे लिए?

मेरा लंड उसकी फ़ुद्दी में घुसा हुआ था, वो बहुत मजे में ले रही थी, मैं भी उसे चोदते हुए बोला- हाँ, तुम्हारे कहने से मदद करूँगा, बोलो क्या मदद चाहिये, किसको चाहिए?

तो उसने बताया कि उसकी एक सहेली है जिसका पति किसी दूसरे देश में काम करता है और पिछले एक साल से घर नहीं आया. वो सहेली चुदाई के लिए तरस रही है, उसे लंड चाहिये पर वो बहुत डरती है. इसलिए मैं तुमसे मदद मांग रही हूँ.

मैंने कहा- इसमें मैं क्या मदद कर सकता हूँ?
उसने कहा- तुमको उसे भी अपना लंड देना होगा!
मैंने उसे कहा- क्या मैं सिर्फ़ सेक्स करने के लिए ही हूँ?
तो उसने कहा- मेरे लिए उसकी मदद कर दो!
और कहा- मुझे तुम पर विश्वास है इसलिए तुमसे मदद मांगी!

मैंने भी सोचा कि एक और चूत का इंतजाम हो रहा है तो मैं क्यों मना करूँ, इसलिए मैंने हाँ कर दी.
अगले दिन सीमा का फ़ोन आया, उसने मुझे कहा- दो दिन के बाद मिलना!
मैंने ओके कहा.

दो दिनों के बाद मैं सीमा से मिलने गया. हम पुराने वाले कमरे में मिलने वाले थे.
जैसे ही मैं वहाँ पहुँचा तो सीमा ने कहा- आज मैं कुछ नहीं करुँगी!
मुझे गुस्सा आया कि मुझे बुला लिया और कुछ नहीं करने को बोल रही है.
मैंने उस पर गुस्सा करना शुरू किया तो उसने कहा- मैं नहीं करुँगी पर कोई और है जो तुम्हारे साथ रहेगी!

तभी वो एक लड़की को अंदर से लाई. वो एक सुन्दर औरत थी, 28 साल उम्र होगी, वो ज्यादा गोरी नहीं थी और उसके दूध भी बड़े नहीं थे लेकिन मुझे वो बहुत पसंद आई क्योंकि उसके छोटे दूध एकदम नुकीले खड़े थे जो मुझे हर लड़की में आकर्षित करते थे. फिर उसकी आँखें बहुत सुंदर थी, पतले पतले गुलाबी होंठ और एकदम शरीफ सा चेहरा मुझे भा गया.

तभी सीमा ने मुझे तन्द्रा से जगाया- देखते रहोगे या कुछ करोगे भी? यही आज तुम्हारी साथी है!
और वो हमको अलविदा कह कर वहाँ से निकल गई.
तब मैंने उसका नाम पूछा, उसने बताया कि उसका नाम रीना है.
मैंने कहा- जैसे तुम्हारा नाम अच्छा है, वैसे ही तुम भी बहुत सुंदर हो!

वो मेरी बातों से शरमा रही थी और चुप थी.
मैंने बहुत कोशिश की कि वो बात करे मगर वो कुछ ना बोली. तब मैंने गुस्से में कहा- चलो अगर कुछ करना ही नहीं है, तो चलते हैं. उसने बोला- मुझे शर्म आ रही है, मैं अपने पति की ही रही हूँ आज तक!

मैंने कहा- आज मेरी भी बन जाओ!
तभी मैंने ठान लिया कि इतना गर्म कर दूँगा इसे कि को खुद बोलेगी- लव चोदो मुझे!

इतना सोचते ही मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए. पहले तो उसने कोई रिस्पांस नहीं दिया लेकिन मैं उसके होंठ चूसता रहा, एक हाथ उसकी कमर पर रख दिया, दूसरे हाथ से उसके हाथ को पकड़ लिया. अब उसे भी अच्छा लगने लगा, उसने धीरे धीरे अपने लबों को हिलाना शुरू किया. मैं रीना को चूमता रहा, वो भी मेरा साथ दे रही थी!

मैं उसके साथ प्रगाढ़ चुम्बन कर रहा था कि तभी वो अपने होंठ मेरे मुँह पर दबाये हुए मुझे धक्का देते हुए दीवार तक ले गई और फिर वो जोर शोर से मेरे होंठ चूसने लगी.
‘ऊऊ ऊऊम्म्म म्मा आअ ऊऊ ऊउम्म्म्म्माआ आआ!’
जैसे पता नहीं क्या हो गया था उसे!

उसको ऐसा करता देख मुझे भी जोश आ गया, मैंने उसको पकड़ा और पलट कर दिवार पर सटा दिया और अब उसकी गर्दन को चूमना शुरू कर दिया. मैं करते करते दोनों हाथों को कमर पर फ़िराते हुए उसके वक्ष पर ले आया और अब मेरे हाथ उसके स्तनों पर थे. उसके मुँह से एकदम च्च्च्च्च निकल पड़ी.

जैसे मैंने बताया कि उसके दूध नुकीले थे, मैं उसको पकड़ कर बहुत खुश था. मैंने उसके दोनों दूध पूरे मसल दिए.
उसकी आँखें बंद थी, वो सिर्फ मजे ले रही थी, आह ओओह्ह् आआह्ह ओओह्ह्ह्ह आआह्ह्ह ओओओह्ह कर रही थी. तभी मैंने उसका हाथ पकड़ा और उसे बिस्तर पर गिरा दिया, उसके ऊपर आकर उसको चूसना शुरू कर दिया.
मैंने उसको पूछा- कैसा लग रहा है?
वो कुछ नहीं बोली!
मैं उसका जवाब चाहता था इसलिए एकदम उसको छोड़ दिया. उसने मुझे देखा और सर हिला कर पूछा- क्या हुआ?
तो मैंने कहा- तुम कुछ बोल नहीं रही, तुमको मजा नहीं आ रहा!
उसने जवाब में कहा- मुझे ऐसा मजा कभी नहीं मिला इसलिए बातों में समय बर्बाद नहीं करना चाहती!
मुझे ऐसा जवाब मिलेगा, पता नहीं था.

तभी मैं फिर उसके ऊपर आया, उसका कमीज उतरना शुरू कर दिया और उसने अपने दोनों हाथ उठा दिए. मैंने उसकी कमीज उतार दी तो अब वो मेरे सामने लाल रंग की ब्रा में थी. ओओहओ! क्या मस्त लग रही थी वो!

वैसे मैंने सीमा के दूध ऐसे ब्रा में कई बार देखे पर ये नुकीले दूध ब्रा के ऊपर से बहुत बढ़िया दिख रहे थे जैसे दो नुकीले पहाड़ियाँ!
मैंने तो एक को दबाना शुरू कर दिया. दोनों बूब्स मेरे हाथों में कैद थे और मैंने जब उनको एकदम जोर से भींचा तो वो सीई ईईईईईईइ सीईईईईइ करने लगी, उसके मुँह से जोरदार आह्ह्ह निकल गई. उसकी आँखें बंद थी. मैंने बूब्स मसलते हुए उसके होंठों को फिर से चूसना शुरू कर दिया. वो भी मेरे होंठ चूसती रही, साथ ही मेरे हाथों से जो उसके दूध दब रहे थे, उसका मजा ले रही रही थी- आ आआ आअम्म आ आह्ह्ह! किये जा रही थी.

अब मैंने उसके बदन को चूमना शुरू किया, पहले उसकी गर्दन, फिर बूब्स के ऊपर, फिर उसके पेट पर उसकी नाभि पर आकर रुक गया. मैंने उसकी नाभि में उंगली डाली और थोड़ा कुरेदा, उसको शयद गुदगुदी हुई, वो एकदम पूरी काम्प गई, मैंने उसमें जीभ घुसा दी, वो आआम्म्म्म्म करती रही ओओह्ह्ह्ह आआआअह स्स्सीईई आआआम्म्म्म्म ही किये जा रही थी.

फिर मैं थोड़ा नीचे हुआ और उसकी सलवार को खोलने लगा और इजारबन्द खुलते ही मैंने एक झटके में उसकी सलवार पूरी निकाल दी. वो लाल रंग की ही पेंटी में थी. उसकी पेंटी चूत से चिपकी हुई थी और पेंटी का भीगा हुआ भाग पूरा चमक रहा था!
मैंने उसको पास जाकर सूंघा, हम्म! क्या महक थी! किसी को भी दीवाना बना दे!

लेकिन अभी मैंने बहुत कुछ करना था, मैंने उसकी जाँघ पर किस करना शुरू किया और ऐसे करते हुए दूसरी जांघ पर गया, मैं उसको बहुत तड़पाना चाहता था इसलिए उसकी चूत तक गया ही नहीं!
वो तड़प रही थी.

मैंने अपने सारे कपड़े हटा दिए, सिर्फ अंडरवियर में था मैं! वो मुझे देख रही थी! तभी मैंने उसका हाथ पकड़ा और अंडरवियर के ऊपर ही अपने लंड पर रख दिया. मुझे लगा था कि वो हाथ हटा लेगी लेकिन वो उसको सहला कर देखने लगी और एकदम लंड को पकड़ लिया. उसने ऊपर से ही मेरा खड़ा हुआ लंड हिलाना शुरू किया, मुझे मजा आ ही रहा था.

उसने मेरा अंडरवियर निकाल दिया और अब मेरा लंड उसके कब्जे में था. मैंने पूछा- कैसा लगा?
उसने कुछ नहीं कहा, मेरी ओर देखा और बस लंड हिलाती रही. वो थोड़ी देर तक मेरा लंड हिलती रही, मैं आअह ओह्ह करता रहा, मुझे लगा कही मेरा निकल ना जाये इसलिए उसको हटाया फिर उसके होंठ चूसने शुरू कर दिए.

फिर मैं उसके दूध दबाता हुआ उसकी टाँगों के बीच में आ गया, अब मैंने सीधे उसकी चूत पर मुँह रखा और जोर से किस करना शुरू किया, उसकी चूत को मुंह में ही घुसा चुका था. वो पूरी सिहर उठी, उसकी घुटी घुटी सांसें निकल रही थी. उसने मेरा सर पकड़ कर चूत पर दबाया और ऐसा लग रहा था वो मेरा सर अंदर ही घुसा लेगी लेकिन मेरी सिर्फ इस चूमाचाटी की वजह से वो झड़ गई, उसने इतना पानी निकाला कि मुझे तौलिये से साफ़ करना पड़ा. और थोडा उसकी चूत का रस बहुत टेस्टी था.

पता नहीं क्यों रीना मुझे सीमा से ज्यदा ही अच्छी लग रही थी हर चीज में! पर सीमा हमेशा बातें करती हुई चुदती थी जो मुझे बहुत पसंद था पर रीना तब से कुछ नहीं बोली थी.
पर कोई बात नहीं, इसके मुँह से सब बुलवा कर रहूँगा यह तो सोचा हुआ था.

अब मैंने देखा, वो रिलैक्स होकर लेटी थी, उसने मेरे लंड को अपने पैर से रगड़ना शुरू किया. मैंने उसका पैर हटा दिया और उसको उलटा किया. अब उसके चूतड़, उसकी गांड मेरे सामने थी. उसके दोनों कूल्हों को मैंने चूमा, फिर उसकी गांड में उंगली लगानी शुरू की. उसने अपनी गांड आगे कर ली जैसे मना कर रही हो कि वहाँ ना छुओ.

पर मुझे अच्छा लग रहा था, मैंने और आगे होकर उसकी गांड के छेद को छेड़ना शुरू किया. थोड़ी देर में वो भी गांड हिला कर मजे लेने लगी और कुतिया की तरह हो गई फिर उसकी पतले लिप्स वाली चूत दिखने लगी, मैंने उसकी चूत में उंगली करनी शुरू की, वो ऊऊहह आआह्ह करने लगी, मैंने सोचा अब समय आ गया, मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रखा और रगड़ना शुरू किया. मैंने उसे आखिरी मौका देने का सोचा, मैंने पूछा- डाल दूँ?
उसने सिर्फ हाँ में सर हिलाया पर कुछ बोली नहीं!

मैंने उसको सीधा किया, उसकी चूत पर किस किया, थोड़ा गीला किया और फिर से लंड को रगड़ना शुरू कर दिया पर अंदर नहीं डाला. वो अपनी कमर को आगे की और झटका देती रही, अब वो बुरी तरह चाह रही थी कि मैं लंड अंदर डाल दूँ.

मैं अपने लंड के टोपे को उसकी चूत की दरार में रगड़ता रहा, वो मेरा अंदर लेने के लिए तड़प रही थी. तभी सोचा कि अब आया है मौका, मैंने जानबूझ कर टाइम देखा और कहा- चलो रीना, बहुत लेट हो गया! अब हमको चलना चाहिये!
अब जाकर उसके मुँह से निकला- ‘क्या?’
मैंने कहा- हाँ चलो यार! जाना है.
वो तड़पने लगी और मुझसे लिपट कर बोली- मत जाओ मुझे ऐसे छोड़ कर! चोद डालो मुझे!
मैंने कहा- क्या फ़ायदा? तुम कुछ बोलती ही नहीं! ऐसा लग रहा है जैसे जबरदस्ती कर रहा हूँ.
तब रीना बोली- अब जैसे बोलोगे, वैसे करूँगी, चोदो, अब डालो अपना लंड मेरी प्यासी चूत में! बहुत टाइम से कुछ नहीं गया इसमें! ये बंद हो चुकी है, खोल दो इसको! आ जाओ मेरे राजा चोदो! आज वैसे करो जो तुम्हारा दिल करता है.
उसकी इन बातों से मेरे कान जैसे फट गये, मैंने सोचा नहीं था कि वो इतना सब बोलेगी.

अब मेरा काम हो गया था, वो खुल गई मुझ से! अब मैंने कहा- आज मुझ पूरी खोल देनी है तेरी! देख कैसे तेरे नीचे वाले हिस्से का भुरता बनाता हूँ.

मैंने उसको बेड पर गिरा दिया, अपने लंड को थूक से गीला किया, उसकी चूत भी गीली की, अब बस बारी थी एक धक्का लगाने की जिसके लिए हम दोनों उतावले थे.
फिर भी मैंने पूछा- तैयार हो?
उसने कहा- हाँ! अब डाल दो लंड!
मैंने हल्का झटका दिया, मेरा लंड फिसल गया.
वो फिर बोली- घुसेड़ो ना जल्दी!

अब मैंने उसको कमर से पकड़ा, उसकी आँखें बंद थी, चेहरा ऐसे बनाया था जैसे पता हो कि दर्द होगा, मैंने जोरदार झटका दिया, मेरे लंड का अगला गोल भाग चूत में पहुँच गया, वो दर्द सहन करती हुई बहुत हल्का सा चिल्लाई- आह ऊह आआ!
मुझे उसके दर्द का अहसास था क्योंकि उसकी चूत बहुत कसी हुई थी. मैंने थोड़ी देर रुक कर उसके बूब्स दबाये, अब एक और झटका लगाया.
अब वो बर्दाश्त ना कर सकी और चिल्ला उठी- निकाल लो बाहर! बहुत दर्द हो रहा है!

मैंने नीचे हाथ लगया तो पता लगा उसकी चूत से खून निकल रहा है.
मैंने कहा- अब काम हो चुका है तुम्हारा! थोड़ा और बर्दाश्त कर लो बस!
और उसके होंठ चूसता रहा, साथ ही सोचता रहा कि एक बच्चे की माँ है और खून?

पर मुझे चोदने से मतलब था. जब देखा, वो थोड़ी शांत है तो एक और झटका दिया मेरा पूरा लंड उसकी चूत में भर गया था, वो रो रही थी.
मैंने उसको कहा- बस अब पूरा अंदर है, तुम सहन करो!

उसने अपने दोनों होंठ दबाये हुए थे, मेरा लंड उसकी चूत ने पूरा कसा हुआ था! अब मैंने हल्का हल्का अंदर-बाहर करना शुरू किया. उसको अभी भी दर्द था, वो आअय्यीईई ओओओईईई करती रही.

मेरा लंड अब थोड़ा और चलने लगा, अब वो शायद थोड़ा ठीक थी, मैंने लंड आधा बाहर निकाल कर फिर झटका दिया, उसकी फिर चीख निकली- आआआआआआआअ मर गई! जालिम, तुमने मेरी चूत फाड़ दी!

मैंने उसकी बात नहीं सुनी और धीरे धीरे अंदर-बाहर करता रहा.
अब रीना को मजा आने लगा, वो बोलने लगी- अब तो फट गई, थोड़ा तेज करो!

अब मैंने जल्दी जल्दी करना शुरू किया, वो तो जैसे जन्नत में थी. उसकी आइ ओओओईईइ वाली आहें आअह्ह ओओह्ह में बदल चुकी थी, वो अब खुद भी हिल हिल कर मजे ले रही थी और अब बोलती रही- चोदो! चोदो! तुम बहुत मजा दे रहे हो! आआह्ह चोदो मेरे राजा! पूरे साल कुछ नहीं गया मेरी चूत में, आज तुम्हारा लंड अंदर लेकर बहुत ख़ुशी हुई! आह ओह राआजाआअ लव आआह्ह्ह्ह मैं गई! आह्ह!

मैं अभी शुरू ही हुआ था और वो बिखर गई. और अब मेरा लंड चपचपचप करने लगा वो ढीली पढ़ चुकी थी लेकिन मैं तो अभी मैदान में उतरा घोड़ा था, बस रेस में दौड़ता जा रहा था ‘आअह्ह आअह्ह यह्ह्ह’ बस अपना लंड अंदर-बाहर कर रहा था!

लो अब मेरी थकी हुई घोड़ी भी दोबारा तैयार थी, उसको देख कर सोचा कि आसन बदलूँ, उसको घोड़ी बना दिया और पीछे से अपना लंड अंदर किया.आआह्ह्ह! पूरा लंड अंदर जाते ही आहें भरने लगी- आआहह्ह लव चोदो अपनी कुतिया को!
मैंने उसको रोक और कहा- तुम मेरी घोड़ी हो!

15 मिनट की चुदाई के बाद वो फिर झड़ने वाली थी, उसकी चूत इतनी टाइट थी, मेरा लंड दर्द कर रहा था और जैसे वो चरम पर पहुँची, तेज तेज गांड आगे-पीछे करने लगी. मैंने भी झटकों को तेज किया दोनों आह्ह ओओह्ह आआआह्ह ओह कर रहे थे.

अचानक उसने मेरा लंड अपनी चूत में दबा लिया और मेरे 7-8 झटकों के साथ पानी छोड़ दिया.

आआह! अब मैं भी रेस से बाहर होने वाला था- आअह्ह ओओह्ह्ह आआअह्ह्ह ओओओह्ह्ह निकल गया लो!मैं उसकी चूत में बह गया, सारा पानी उसकी चूत में था, पूरी चूत भर दी उसकी और मेरा पानी उसकी चूत में से बह रहा था. वो लेट गई और मैं उसके ऊपर गिर गया. कुछ देर हम दोनों थके हुए ऐसे ही पड़े रहे, फिर वो मुझे किस करने लगी.

वो उठ कर बाथरूम गई और मूतने बैठ गई. मुझे भी साफ़ करना था तो मैं भी चला गया. वो मूत कर उठी तो उसकी गांड मेरी ओर थी, मैं पीछे से जाकर चिपट गया और बोला- मुझे भी साफ़ कर दो!
फिर उसने मेरा लंड धोया और मैंने उसकी चूत!

इस सब पर मेरा लंड खड़ा हो गया तो मैं कुछ और भी चाहता था, इसलिए पूछा- कैसा लगा?
तो बोली- अब से रोज चुदने आऊँगी तुमसे!
पर मैंने कहा- मैं नहीं चोदूँगा क्योंकि मुझे लंड चुसाना पसंद है जो तुम नहीं करती!

इतना कहने की देर थी, मेरा लंड उसके मुँह में था और मस्त चूस रही थी. उसने मेरा पानी भी पिया फिर पूछा- अब बताओ क्या ख्याल है?
मैंने कहा- तुमको रोज चोदने का!
वो बहुत खुश थी, हम दोनों साथ नहाये और फिर बाहर आकर कपड़े पहने!
मैं उसका बदन पाकर खुश था और वो मेरा लंड पाकर!
उसको चलने में थोड़ी तकलीफ थी तो मैंने उसको उसके घर के पीछे तक छोड़ दिया और जल्दी मिलने का वादा किया.

दोस्तो, इस तरह मेरी बचपन की सहेली ने मुझे चूत दिलाई. आप सबको मेरी कहानी कैसी लगी, जरूर ईमेल करना!और बहुत कुछ है जो आपको बताना है, पहले आपके ईमेल का इन्तज़ार रहेगा.

Loading...