कुंवारी भांजी को चोद चोद कर प्रेगनेंट कर दिया-2

(Kunwari Bhanji Ko Chod Chod Kar Pregnant Kar Diya-2)

गीतांजली“आआआआअह्हह्हह….ईईईईईईई.. .ओह्ह्ह्हह्ह…अई..अई..अई…. अई..मम्मी…..” करके चिल्ला रही थी। वो कसक रही थी। उसकी हालत बता रही थी की उसे भी मेरी तरह पूरा मजा मिल रहा था। मैंने उसके बाए दूध को पूरा का पूरा अंदर तक भर रखा था। मैं अपना मुंह चला चलाकर मजे से चूस रहा था। इतने मस्त रसीले आम मैं आजतक नही चुसे थे। फिर मैं उसका दायाँ दूध मुंह में भर लिया और मजे लेकर चूसने लगा। कुछ देर में मेरी भांजी ने खुद अपनी काली पेंटी निकाल दी।

“भांजी….आ लौड़ा चूस आकर!!” मैंने कहा और बिस्तर पर लेट गया।

“मामाजी….मुझे ये गंदा लगता है!!” गीतांजली बोली

“अरे भांजी शुरू शुरू में हर लौंडिया यही बात कहती है….पर धीरे धीरे उसको आदत हो जाती है…चल आ ना” मैंने कहा              Kunwari Bhanji Ko Chod

बेमन से गीतांजली मुझ पर झुककर मेरा लौड़ा हाथ में लेकर फेटने लगा। मुझे इस बात की बहुत खुसी थी की उसकी रसीली चूत की सील मैं ही तोडूंगा और उसका उदघाटन मैं ही करूँगा। बड़ा मुंह बनाकर गीतांजली ने मेरा मोटा ८ इंच का लौड़ा अपने मुंह में ले लिया और किसी तरह चूसने लगी। मैंने उसके दूध को हाथ से दबाने लगा और उसकी कुवारी निपल्स को मैं ऊँगली से मसलने लगा। धीरे धीरे ऐसा करने से उसे जोश चढ़ रहा था और वो चुदासी होती जा रही थी। कुछ देर बाद उसे लंड चूसने में मजा मिलने लगा और वो दिल लगाकर लौड़ा चूसने लगी। मेरा लौड़ा अब पूरी तरह से खड़ा हो गया था और बहुत ही सख्त हो गया था। गीतांजली के रसीले होठ मेरे लौड़े पर जल्दी जल्दी उपर नीचे दौड़े जा रहे थे। मैं जवानी का मजा उठा रहा था। मेरी भांजी ने करीब ४० मिनट मेरे लंड मुंह में लेकर चूसा और हाथ से उपर नीचे करके फेटा। फिर मैं उसके उपर लेट गया और उसकी चूत पर मैंने अपना मुंह रख दिया।

गीतांजली की चूत बिलकुल कुवारी और बालसफा थी। उसने अपनी झांटो को अच्छी तरह से बना रखा था। वैसे भी मुझे झाटों में बुर चोदना पसंद नही है। मैं बड़ी देरतक अपनी भांजी की चूत का दर्शन करता रहा। बताओ मेरे जीजा ने मेरी दी को चोद चोदकर गीतांजली की पैदा किया और आज वो भी चुदवाने जा रही है। कितनी अच्छी बात है ये, मैं सोचने लगा। मैने उसकी बुर पीने की शुरुवात उसके चूत के दाने को पीने से की। मैं सिद्दत से गीतांजली के चूत के दाने को पीने लगा।“……मम्मी…मम्मी….सी सी सी सी.. हा हा हा …..ऊऊऊ ….ऊँ..ऊँ…ऊँ…उनहूँ उनहूँ..” वो सिसकने लगी। मैंने अपनी भांजी के यौवन और जवानी को देखकर पूरी तरह से पागल हो गया था। मैं रीनी के चूत के दाने को पूरी तरह से खा जाना चाहता था। फिर मैं नीचे की तरह बढ़ गया और उसकी फुद्दी के होठ चूसने लगा। उफ्फ्फ…कुवारी अनचुदी लौंडिया की चूत के कुवारे होठ।                                                      Kunwari Bhanji Ko Chod

हिंदी सेक्स स्टोरी :  दीदी की सास की गांड फाड़ी-3

“……उई..उई..उई…. माँ….माँ….ओह्ह्ह्ह माँ…. .अहह्ह्ह्हह..” गीतांजली अपनी गांड उठाने लगी।“ मामा उ उ उ…चूसो चूसो…..और चूसो…मेरी चूत को….अच्छे से पियो मेरी बुर मामा जी” गीतांजली बोली। मुझे ये सुनकर खुशी हुई की उसे भी पूरा मजा मिल रहा था। मैं वासना की आग में इतना अंधा हो गया था की मैं अपनी खून की रिश्तेदार को आज चोदने जा रहा था। मेरे होठ रुकने का नाम नही ले रहे थे, मैं तो बस अपनी आँखे बंद करके गीतांजली की बुर को पिए ही जा रहा था। वो बार बार अपनी गांड हवा में उपर उठा देती थी।

फिर मैंने उसे जादा तड़पाना सही नही समझा। और अपना मोटा ८” का लौड़ा मैंने उसकी कुवारी चूत के दरवाजे पर रख दिया और जोर का धक्का मारा। पहली कोहिश में मुझे सफलता मिल गयी और मेरा लंड ३ इंच अंदर किसी ड्रिल मशीन की तरह अंदर घुस गया।“आऊ….. आऊ….हमममम अहह्ह्ह्हह….सी सी सी सी.. हा हा हा..” गीतांजली चिल्लाई। उसे काफी दर्द हो रहा था। मैं उसके दर्द को देखते हुए कुछ देर के लिए रुक और और ५ मिनट बाद मैंने फिर से एक करारा धक्का मारा और लंड सीधा चूत में ८ इंच अंदर।“……मामा उ उ उ उ ऊऊऊ ….ऊँ..ऊँ…ऊँ अहह्ह्ह्हह सी सी सी सी.. हा हा हा.. ओ हो हो….” गीतांजली जोर से चिल्लाई। मैंने नीचे नजर दौड़ाई तो मेरे लौड़े ने भांजी की चूत को फाड़के रख दिया था।                                                      Kunwari Bhanji Ko Chod

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  गाँव की गोरियाँ देसी छोरियां-1

मेरा लौड़ा गीतांजली की चूत के खून में सन चुका था। वो दर्द से तडप रही थी। मैंने उसके दर्द को कम करने के लिए रुक गया और उसके मुंह पर मैंने अपना मुंह रख दिया और उसके होठ चूसने और पीने लगा। उसके दर्द को देखते हुए मैं उसकी चुदाई कुछ देर के लिए रोक दी थी। ८ १० मिनट बाद मेरी भांजी का दर्द कम हो गया था मैं धीरे धीरे कमर हिलाकर उसे पेलने लगा। उसकी आवाजे मुझे दीवाना बना रही थी। वो उ उ की आवाज निकाले जा रही थी। धीरे धीरे मैं अपनी भांजी को तेज तेज भांजने लगा। गीतांजली ने अपनी जांघो को मोडकर घुटनों को उपर तक उठा लिया था। मैंने उसकी कमर को दोनों तरह से हाथ से पकड़कर उसे ठोंक रहा था।

“…उई उई उ उ उ……अअअअअ आआआआ… सी सी सी सी…. ऊँ..ऊँ…ऊँ” की तेज आवाजे वो लगातार निकाले जा रही थी। मैं भांजी की कमर को कसकर पकड़कर उसे सम्भोग का मजा दे रहा था। धीरे धीरे मेरा लौड़ा उसकी बुर में तेज तेज सरकने लगा। उसकी चूत अब खुल गयी थी और मेरे लौड़े को आराम से ले रही थी। मैं तेज तेज धक्के देने लगा तो गीतांजली के दूध बड़ी जल्दी जल्दी हिलने लगे, पर नीचे होने लगा। ये सब देककर तो मैं और भी जादा कामोतेज्जक हो गया और जल्दी जल्दी उसकी चूत में फटके मारने लगा।“उ उ ….अअअअअ आआआआ… मामा…सी सी …. ऊँ..ऊ.. फक माय पुसी!!…..फक इट रियली हार्ड मामा जी!!” गीतांजली किसी चुदासी कुतिया की तरह चिल्लाई।                                                                               Kunwari Bhanji Ko Chod

हिंदी सेक्स स्टोरी :  चाचा ने चूत में लंड का भोग लगाया-2

उसकी सिस्कारियां मुझे पागल कर रही थी। मैं बिना रुके तेज तेज उसे किसी रंडी समझकर चोद रहा था। गीतांजली की कमर बहुत पतली और सेक्सी थी, मेरे दोनों हाथों में आराम से आ रही थी। सच में उस जैसी कच्ची कली को चोदने का मौक़ा उपर वाला सिर्फ कुछ ही लोगो को देता है। इश्वर मेरे उपर महरबान था जो उस जैसी मस्त माल को चोदने का मौका उसने सिर्फ मुझे दिया था। मैं अपनी पूरी ताकत से गीतांजली की चूत से भीड़ गया और अपनी लंड रूपी तलवार मैं उसकी चूत में जल्दी जल्दी चलाने लगा। कुछ देर में मेरी भांजी गीतांजली अपनी गांड हवा में उपर उठाने लगी।“….आआआआअह्हह्हह… अई…अई…….ईईईईईईई  मर गयी….मर गयी…. मामा जी…..मैं तो आजजजजज!!” वो चिल्लाई। इसी बीच मैं तेज धक्के मारते मारते उसी बुर में ही झड़ गया और मैंने माल उसकी चूत में ही छोड़ दिया।

अपनी सारी ताकत खर्च करने के बाद मैं भांजी पर गिर गया और उसके होठ फिर से चूसने लगा।

“भांजी ….कैसी लगी मामा की ठुकाई???” मैंने हाफ्ते डापते हुए पूछा

“मस्ततत……!!!” वो बोली

इस महाचुदाई में हम दोनों के पसीने छूट गए थे। हम दोनों प्यार करने लगे। आधे घंटे बाद मेरा गीतांजली की गांड मारना का बड़ा दिल कर रहा था। मैंने उसे कुतिया बना दिया। बड़ी देर तक मैं उसकी चूत और गांड पीता रहा। फिर मैंने लंड में थूक लगाकर सवा घंटे गीतांजली की गांड मारी और गांड का छेद बड़ा कर दिया। उसे मैंने ६ दिन रगड़कर चोदा और इलाहाबाद वापिस लौट आया। १ हफ्ते बाद उसका फोन आया। उसके बताया की वो पेट से हो गयी है।                                             Kunwari Bhanji Ko Chod

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!