कुँवारी लड़की को पेला पढ़ाई में हेल्प के बदले-1

(Kunwari Ladki Ko Pela Padhai Mein Help Ke Badle-1)

यह बात दो साल पुरानी है जब में अपनी कॉलेज की पढ़ाई को पूरी करने के बाद बड़ी मुश्किल से मिली नौकरी को बड़ा खुश होकर कर रहा था। फिर मुझे अपने काम का पूरा पैसा और आराम भी बहुत मिलता और इसलिए में उस नौकरी से बड़ा खुश था, क्योंकि वो एक बहुत बड़ी प्राइवेट कंपनी थी और में उसी कंपनी में उन दिनों नौकरी करता था। फिर कुछ दिनों के बाद उसी कंपनी के किसी काम की वजह से मुझे कुछ दिनों के लिए दूसरे शहर में जाकर रहना पड़ा और मेरी कंपनी की तरफ से जो घर मुझे मिला था वो मेरे बहुत शुभ था। दोस्तों मेरा शरीर दिखने में बहुत अच्छा गठीला साथ ही मेरा गोरा रंग भी है, मेरे लंड का आकार पांच इंच है और अब में अपनी आज की कहानी को सुनाता हूँ जो एकदम सत्य घटना है। दोस्तों मेरे उसी मकान के पास वाले घर में एक बहुत अच्छा परिवार रहता था और उसी घर में एक लड़की भी रहती थी, जिसका नाम शायरा था। Kunwari Ladki Ko Pela Padhai Mein Help Ke Badle.

दोस्तों वो लड़की उस समय कॉलेज के पहले साल में अपनी पढ़ाई कर रही थी, उसकी उम्र उस समय 18 साल थी वो अभी अभी जवानी हुई थी, इसलिए उसका हर एक अंग उभरकर बाहर आने लगा था। दोस्तों उसके ऊपर चढ़ती जवानी का असर साफ साफ दिखने लगा था, वो लड़की शायरा दिखने में बहुत ही गोरी, सेक्सी लगती थी और उसके उभरे हुए गोलमटोल बूब्स मुझे बहुत ही अच्छे लगते थे। अब इसलिए में हर कभी मौका पाकर उसको घूरने लगता, मेरी नजर एक बार उसके कामुक गदराए हुए बदन पर पड़ने के बाद हटने को तैयार ही नहीं होती थी। दोस्तों वो मुझे एकदम सेक्सी लगती थी और इसलिए में उसका वो जिस्म देखकर हमेशा उसकी तरफ आकर्षित हुआ करता था।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Saree Pahna Pahli Chudai Ki Coaching Girl Ki

दोस्तों मेरी उसके घर के सभी लोगो और उसके साथ हमेशा बहुत बातें होती रहती, क्योंकि उसकी और हमारी छत एक ही थी उसके बीच में सिर्फ़ तीन फुट की एक दीवार थी। दोस्तों वो पढ़ाई में थोड़ी कमज़ोर थी और यह बात मुझे उसके घर वालों से कुछ दिनों बाद पता चली और अब कुछ ही दिनों के बाद उसके पेपर भी आने वाले थे। एक दिन उसकी मम्मी ने मुझसे कहा कि अब थोड़े दिनों के बाद शायरा के पेपर शुरू होने वाले है, लेकिन तुम अच्छी तरह से जानते हो कि वो अपनी पढ़ाई में कितनी कमज़ोर है और में अच्छी तरह से जानती हूँ कि तुम अपनी पढ़ाई पूरी कर चुके हो और उसी पढ़ाई को शायरा अब पढ़ रही है।

अब प्लीज तुम इसके ऊपर थोड़ा सा ध्यान देकर अपना थोड़ा सा समय निकालकर उसको कुछ घंटे पढ़ा दिया करो। फिर मैंने अपनी पड़ोसन आंटी के मुहं से वो बात सुनकर उनको तुरंत हाँ कह दिया और उसके बाद से में रोज रात को करीब आठ बजे उनके घर शायरा को पढ़ाने चला जाता। दोस्तों मेरा कमरा पहली मंजिल पर था, नीचे की तरफ मेरे मकानमालिक रहते थे और शायरा का भी वो कमरा जिसमे वो पढ़ाई करती रात को सोती थी, पहली मंजिल पर था। दोस्तों वो कमरा ज्यादातर समय बंद रहता था, क्योंकि उसकी मम्मी-पापा और उसका एक छोटा भाई भी था जो 15 साल का था, वो सभी मकान के नीचे वाले हिस्से में रहते थे। दोस्तों में शायरा को अब पढ़ाने उसके घर जाने लगा था, लेकिन मुझे सभी के होने की वजह से थोड़ी सी परेशानी होने लगी थी, पढ़ाई करते समय घर का कोई भी सदस्य कभी भी उस कमरे में चला आता, जिसकी वजह से शायरा का ध्यान अपनी पढ़ाई से हट जाता। फिर इसलिए दो दिन के बाद मैंने उसकी मम्मी से कहा कि भाभी नीचे हम दोनों किसी के भी आने जाने आपकी बातों की आवाज से बहुत परेशान है, पढ़ाई में यह सभी बातें बहुत रुकावट पैदा करती है हमे पढ़ाई के लिए बिल्कुल एकांत चाहिए क्या हम दोनों आपके ऊपर वाले कमरे में जाकर पढ़ाई कर सकते है? “Kunwari Ladki Ko Pela”

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  Sex Ki Pyasi Bahan KI Garam Chut Chodne Ka Maja

दोस्तों मुझे पहले से ही पता था कि मुझे उनकी तरफ से क्या जवाब मिलने वाला था? फिर भी, लेकिन अपने ऊपर कोई भी शक करने वाली बात में उनके मन में नहीं डालना चाहता था और इसलिए मैंने उनसे पूछना बिल्कुल उचित समझा और फिर उन्होंने मेरी बात पर तुरंत हाँ कर दिया। अब में हर रात को आठ बजे शायरा के घर जाता और उसके बाद में रात को दस बजे तक वहां पर रुककर वापस अपने घर आ जाता। दोस्तों वो पढ़ाई में बहुत कमज़ोर थी और इसलिए उसको अच्छे से कुछ भी याद नहीं होता था, इसके बारे में मैंने एक बार उसकी मम्मी से कहा। फिर उन्होंने मुझसे बोला कि अगर यह ठीक से मन लगाकर नहीं पढ़ती है तो तुम इसकी पिटाई भी कर सकते हो तुम्हे कोई कुछ भी नहीं कहने वाला। “Kunwari Ladki Ko Pela”

फिर मैंने एक दिन उसको पढ़ाई के विषय में ही उसकी मम्मी के सामने ही हल्का सा एक थप्पड़ मार दिया, तब उस दिन मैंने उसको पहली बार अपने हाथ से उसके मुलायम गाल पर छुआ था। अब मैंने महसूस किया कि उसका गाल एकदम गरम था और वो अपनी गलती पर थप्पड़ खाकर नीचे मुहं करके मुस्कुराने लगी थी, लेकिन उसने मुझसे बाद में कुछ भी नहीं कहा। फिर मैंने मन ही मन में सोचा था कि वो उस थप्पड़ की वजह से कहीं मुझसे नाराज ना हो जाए? फिर अगले दिन उसने एक जींस और शर्ट पहनी हुई थी, जिसमे सामने की तरफ बटन थे।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  रसभरे बूब्स की मालकिन का रस पीने का मौका मिला

अब में ठीक उसके सामने बैठकर उसको गणित के कुछ सवाल समझा रहा था, हम दोनों का मन उस समय पढ़ाई में लगा हुआ था, तभी अचानक से मेरी नजर उसकी छाती के ऊपर चली गई और मैंने देखा कि उसकी शर्ट का एक बटन टूटा हुआ था। दोस्तों उस समय शायरा का ध्यान अपनी पढ़ाई में था और अब मेरा ध्यान उसके टूटे हुए बटन से उसके बूब्स पर जा चुका था, नीचे झुककर बैठे होने की वजह से मुझे अब उसकी काली रंग की ब्रा और लटकते हुए गोरे बड़े आकार के बूब्स सामने की तरफ से एकदम साफ नजर आ रहे थे और उसकी गोरी उभरी हुई छाती को में अपनी चकित नजरो से घूर घूरकर देख रहा था।

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!