कुंवारी नौकरानी को साहब ने चोदा-3

Kunwari naukrani ko sahab ne choda-3

अब उसके मुहं से केवल सईईईईई की आवाज़ निकली थोड़ी देर बाद में अपनी जीभ को उसके मुहं में डालने की कोशिश करने लगा तो उसने बड़े आराम से अपना मुहं खोल दिया और मैंने तुरंत अपनी जीभ को उसके मुहं में डाल दिया और अब में उसके होठों को चूसने लगा.

उसने मेरी पीठ को सहलाना अब भी जारी रखा मैंने उसकी कमर को पकड़कर अपनी तरफ खींच लिया, जिसकी वजह से उसकी चूत मेरे लंड से और भी ज़्यादा सट गयी और मेरी हरकतों की वजह से वो भी अब जोश में आने लगी और उसने मेरे होठों को चूमना शुरू कर दिया था.

फिर थोड़ी देर बाद मैंने उससे कहा कि तुम्हारे बदन का साबुन मेरे बदन पर लग गया है चलो हम दोनों फिर से एक साथ अंदर चलकर नहा लेते है, इतना कहकर में उसे अपनी बाहों में जकड़े हुए ही फव्वारे के नीचे ले गया और पानी को चालू कर दिया. वो अब मुझसे और भी ज़्यादा चिपक गयी और थोड़ी देर बाद मैंने उसके निप्पल को मसलना शुरू कर दिया और में लगातार उसके नरम गुलाबी गीली होठों को चूमता रहा.

वो अब सिसकियाँ भरने लगी और तभी मैंने उसका एक हाथ पकड़कर अपने लंड पर रख दिया, तो उसने भी जोश की वजह से मेरा लंड कसकर अपनी मुट्ठी में पकड़ लिया. फिर मैंने उससे कहा कि में तुम्हारे बदन पर एक बार फिर से साबुन लगा देता हूँ, लेकिन वो कुछ नहीं बोली वो शरमाते हुए चुपचाप खड़ी रही और अब में उसके बदन पर दोबारा साबुन लगाने लगा. फिर कुछ देर बाद उसके सारे बदन पर साबुन लगाने के बाद में जैसे ही उसकी चूत पर साबुन लगाने लगा तो वो अब जोश में आकर सिसकियाँ भरने लगी.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  भूमि का भूमि पूजन

मैंने महसूस किया कि उसकी चूत एकदम चिकनी थी तो मैंने उससे पूछा क्यों तुम्हे अच्छा लग रहा है ना? तो वो बोली कि हाँ मुझे गुदगुदी हो रही है में उसकी चूत पर लगातार साबुन लगता रहा और वो सिसकियाँ भरती रही. उसके मुहं से उफ़फ्फ़फ्फ्फ ऑश आह्ह्ह्ह की आवाज़ निकलने लगी और करीब दो तीन मिनट में ही वो झड़ गयी और उसकी चूत बहुत गरम हो चुकी थी. फिर मैंने उसके हाथ में साबुन देते हुए उससे कहा कि क्या तुम मेरे बदन पर साबुन नहीं लगाओगी? तो वो कुछ नहीं बोली और चुपचाप मेरे बदन पर साबुन लगाने लगी. फिर वो मेरे सारे बदन पर साबुन लगा चुकी तो मैंने उसको अपने लंड की तरफ इशारा करते हुए कहा कि तुम इस पर भी साबुन लगा दो.

दोस्तों पहले तो वो थोड़ा सा शरमाई, लेकिन फिर वो मेरे सामने बैठ गयी और मेरे लंड पर धीरे धीरे साबुन लगाने लगी. उसका चेहरा ठीक मेरे लंड के सामने था और उसके साबुन लगाने से में बहुत ज़्यादा जोश में आ गया और मेरे लंड ने दो तीन मिनट में ही पिचकारी चला दी, जिसकी वजह से मेरे लंड का सारा जूस उसके चेहरे पर जा पहुंचा, लेकिन उसने अपना चेहरा नहीं हटाया और उसने साबुन लगाना बंद कर दिया था और अपनी नजर को नीचे कर लिया.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

फिर मैंने उससे कहा कि तुम्हारा चेहरा गंदा हो गया है, में इसको साबुन से साफ कर देता हूँ वो कहने लगी कि में खुद ही साफ कर लूँगी और उसने अपना चेहरा पानी से धो डाला उसके बाद वो मुझसे बोली कि बहुत देर हो चुकी है अब जल्दी से नहा लो.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  दोस्त की नई प्यासी दुल्हन की चुदाई-1

फिर मैंने उससे कहा कि तुम्हे इतनी जल्दी भी क्या है मेरी जान? वो बोली कि अभी घर का सारा काम अधूरा पड़ा है, अब मैंने कहा कि हाँ ठीक है हम नहा लेते है और उसके बाद हम दोनों नहाने लगे और नहाते समय मैंने उसके सारे बदन पर हाथ फेरते हुए उसके बदन के साबुन को साफ किया और उसने भी मेरे सारे बदन पर हाथ फेरते हुए मेरे बदन का साबुन साफ कर दिया और इस बार बिना कुछ कहे ही नीलू ने मेरे लंड पर लगा हुआ साबुन भी अपने हाथों से साफ कर दिया था और नहाने के बाद में उसको अपनी बाहों में उठाकर अपने बेडरूम में ले आया और उसको बेड पर लेटा दिया.

हम दोनों अभी तक भी पूरे नंगे ही थे. वो बोली कि घर का सारा काम पड़ा है अब तुम मुझे जाने दो ना. फिर मैंने कहा कि जल्दी क्या है नीलू घर का काम तो बाद में भी हो जाएगा? में उसके पास में लेट गया और उसके निप्पल को धीरे धीरे सहलाने लगा. फिर उसके बाद मैंने अपने होंठ उसके होठों पर रख दिए जिसकी वजह से वो भी अब गरम होकर मेरी पीठ को सहलाने लगी.

फिर थोड़ी देर बाद मैंने उसका एक हाथ अपने लंड पर रख दिया तो वो चुपचाप मेरा लंड सहलाने लगी और में उसकी चूत को सहलाने लगा. वो जोश में आकर सिसकियाँ भरने लगी और मुझसे चिपक गयी. में उसकी चूत को सहलाता रहा और वो मेरा लंड सहलाती रही.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  किराएदार भाभी को चोदकर बर्थडे सेलिब्रेट किया–4

फिर थोड़ी देर के बाद वो ज़्यादा ही जोश में आ गयी और उसकी चूत पूरी गीली हो गयी. मैंने अपनी जीभ को उसके मुहं में डाल दिया तो वो मेरी जीभ को चूसने लगी और में उसकी चूत को सहलाता रहा, लेकिन थोड़ी ही देर में वो ज़ोर ज़ोर से सिसकियाँ भरने लगी. फिर मैंने अपनी एक उंगली को उसकी चूत में डाल दिया, जिसकी वजह से उसने एक ज़ोर की आह भरी और मैंने महसूस किया कि मेरी उंगली उसकी कुंवारी चूत में एकदम टाइट थी. में अपनी उंगली को उसकी चूत में डालकर धीरे धीरे अंदर बाहर करने लगा तो वो ज़ोर ज़ोर से सिसकियाँ भरने लगी और करीब तीन चार मिनट के बाद ही वो झड़ गयी. अब में उसके ऊपर 69 की पोज़िशन में आ गया और मैंने नीलू से मेरा लंड मुहं में लेकर चूसने के लिए कहा तो उसने मना कर दिया.

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!