लंड चूसकर प्यार का सबूत दिया-3

Land chuskar pyar ka saboot diya-3

अब पंकज खड़ा होकर संगीता को पीछे से पकड़कर उसकी गांड पर लंड को रगड़ते हुए दोनों हाथ से उसके बूब्स को दबाते हुए बोला संगीता क्या तू सिर्फ़ पंकज-पंकज बोलेगी या आगे भी कुछ कहेगी? पंकज की इस हरकत से संगीता और ही मदहोश होकर आँखे बंद करके, बोली उउंम्म हाँ पंकज तू मुझे आज बहुत खुशी दे रहा है और ऐसा मज़ा तो पहले कभी नहीं मिला. अब वो अपना तगड़ा लंड संगीता की गांड पर घिसते हुए उसके बूब्स को ज़ोर से दबाने लगा.

फिर पंकज की हरकतो से संगीता को बहुत अच्छा लग रहा था और उसके जिस्म पर नशा चड़ रहा था. पंकज के लंड के छूने से उसके पूरे बदन में आग लगी थी और अब वो अपने बूब्स पर लगे पंकज के हाथ वहीं पर थामते हुए बोली पंकज मेरे दिल में सिर्फ़ तुम ही तुम हो और आज दुनिया में मेरे लिए तुमसे बढ़कर कोई नहीं है, लेकिन इस जवाब से पंकज का दिल नहीं भरा वो और ज़्यादा कुछ सुनना चाहता था, इसलिए अब पीछे से उसने संगीता की स्कर्ट को उठाकर पेंटी के ऊपर से अपना लंड संगीता की गांड पर रगड़ते हुए संगीता को और ही ज़्यादा गरम करते हुए सोचा कि साली कैसे तड़प रही है?

अब स्कर्ट को उठाने और पंकज का लंड पेंटी के ऊपर से गांड पर छूने से संगीता डरकर स्कर्ट को नीचे करते हुए घबराहट से बोली, पंकज यह क्या कर रहे हो? तुम मेरा स्कर्ट क्यों उठा रहे हो? प्लीज़ अब मुझे जाने दो. अब पंकज लंड रगड़ते हुए बोला तुझे मेरा प्यार दिखा रहा हूँ रानी, क्योंकि तू मुझे नहीं बता रही है कि तू मुझसे कितना प्यार करती है में दिखा रहा हूँ कि मुझे तुझसे कितना प्यार है.

फिर संगीता बार-बार अपनी स्कर्ट को नीचे करने की कोशिश कर रही थी, लेकिन पंकज उसको कामियाब नहीं होने दे रहा था और अब संगीता की कमर तक स्कर्ट को उठाकर पंकज संगीता की गांड पर लंड रगड़ने लगा, जिसकी वजह से अब संगीता आवाज धीमी करके बोली, उम्ममम्म नहीं पंकज स्कर्ट ऐसे ऊपर मत करो, तू बता में अपने प्यार का इज़हार कैसे करू? पंकज में सच में तुमको बहुत प्यार करती हूँ, लेकिन अब प्लीज़ ऐसा मत करो कोई आ जाएगा, मुझे बहुत डर लग रहा है.

फिर संगीता की गांड पर अपना तगड़ा लंड और ज़ोर से रगड़ते हुए पंकज बोला यह तू ही बता संगीता कि तू कैसे तेरे प्यार का इज़हार करेगी, क्या मैंने तेरे जिस्म से खेलने के पहले तेरी अनुमति ली थी? वैसे अब तू मुझे बता कि मुझे कितना प्यार करती है? संगीता अब मोटे लंड के छूने और निप्पल के दबाने से बहुत मचलती है, उसकी हालत बहुत ही खराब थी और वो सिसकियाँ भरते हुए बोली में क्या करूं पंकज? उम्म मत करो ना कोई आ जाएगा ना प्लीज.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  काली रात में चोदी लाल चूत

फिर यह बात सुनकर पंकज संगीता की पेंटी को थोड़ी नीचे करके अपनी ज़िप को खोलकर लंड को बहार निकालते हुए संगीता की कमसिन गांड पर रखकर धीरे धीरे रगड़ते हुए उसके बूब्स ज़्यादा ज़ोर से दबाकर बोला कि सुनो मेरी संगीता रानी अगर में कहूँ कि तू मेरा यह एक बार चूस यह कहते हुए पंकज संगीता का हाथ अपने नंगे लंड पर ले जाता है, तो क्या मेरा यह चूसकर तू मुझे भरोसा दिलाएगी कि तू मुझसे कितना प्यार करती है? बोल संगीता तेरा क्या जवाब है?

दोस्तों पहले पेंट के अंदर से रगड़ रहे लंड का स्पर्श संगीता को पूरा बेहाल बना चुका था और अब पंकज के नंगे लंड को छूकर संगीता अपना हाथ हटाती है, लेकिन पहले बार नंगे लंड को छूकर महसूस करना उसको अच्छा भी लगा और पंकज लंड को उसके जिस्म से मसलने लगा, संगीता को मज़ा आ रहा था. फिर पंकज के लंड से हाथ हटाते हुए अपनी स्कर्ट को नीचे करके बहुत डरकर बोली पंकज में तुमसे बोल रही हूँ ना कि में तुमसे बहुत प्यार करती हूँ, में तुमको किस भी करूँगी और अब मुझे जाने दो, देखो तुम ऐसे मुझे नंगी मत करो और प्लीज़ होश में आ जाओ.

फिर पंकज अब संगीता को झुकाना चाहता था, वो संगीता का हाथ दोबारा अपने लंड पर रखते हुए बोला हाँ चल अब किस कर. अब संगीता कैसे भी करके अपने आपको पंकज के हाथ से छुड़ाते हुए स्कर्ट को ठीक करने लगी, पंकज का नंगा लंड उसके सामने था और अब पंकज अपना लंड सहलाते हुए उसको देख रहा था, संगीता अपनी नज़र को लंड पर रखते हुए अपने बूब्स को ब्रा में डालकर पंकज का हाथ पकड़कर उसके गाल पर किस करके बोली देख पंकज मैंने अब तुझे किस भी दे दिया और अब मुझे जाने दे प्लीज़.

फिर पंकज ने एक बार फिर से संगीता के बूब्स को ब्रा से बाहर निकालते हुए उसको नीचे बैठाया और अपना लंड उसके चहेरे पर घुमाकर ज़रा रौब से बोला, संगीता अगर तू मुझसे सच्चा प्यार करती है तो मेरा लंड चूस रानी चल अब मुहं खोल और मेरा लंड चूसने लग जाओ.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

फिर चेहरे पर घूम रहे लंड को देखकर संगीता अंदर ही अंदर मचलने लगी, उसको बहुत मज़ा आ रहा था और वो अपना चेहरा पीछे लिए बिना एक बार लंड को किस करके बोली कि पंकज तुझे यह क्या हुआ है? तू ऐसे कैसा व्यहवार कर रहा है? देख अब मैंने किस किया ना अब मुझे जाने दे.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Gaon Ki Nakhare Wali Chori

अब पंकज किस से खुश होकर थोड़ी जबरदस्ती करके लंड को संगीता के मुहं पर दबाने लगा और लंड का टोपा संगीता के होंठो पर लगा और फिर संगीता की गर्दन को पकड़कर लंड उसके होंठो पर रगड़ते हुए उसके नंगे बूब्स को ज़ोर से मसलते हुए पंकज बोला कि अरे रानी सिर्फ़ किस नहीं मेरा पूरा लंड मुहं में लेकर चूसेगी तो ही में तुझे यहाँ से जाने दूँगा, पहले एक बार मेरा लंड चूस. फिर संगीता पंकज का लंड अपने हाथ में पकड़कर उसको देख रही थी, वो अब एकदम गरम हो गई थी और उसको यह पता था कि अब पंकज चोदना भी चाहे तो वो उससे अपनी चुदाई करवा लेगी और होंठो पर लगे लंड का टोपा अपनी जीभ से चाटकर वो बोली आह्ह्ह्ह नहीं पंकज यह तुम क्या कर रहे हो? तुमको भरोसा क्यों नहीं है? मैंने कहा ना में तुमसे प्यार करती हूँ.

फिर पंकज संगीता की कोई भी बात माने बिना अब संगीता का मुहं खोलकर लंड को उसके मुहं में डालकर सोचने लगा कि साली छिनाल बहनचोद आज तो में इससे अपना सभी काम करवाऊंगा. फिर पंकज बोला हाँ संगीता में जानता हूँ कि तू मुझे प्यार करती है, लेकिन तू मेरा लंड चूसकर मुझे उसका यकीन दिला दे मेरी रानी, देख अब लंड मुहं में घुस तो गया है, अब चूस ले मेरा लंड मेरी जान. अब संगीता लंड को मुहं से बाहर निकालकर शरमाकर बोली कि उम्म नहीं पंकज यह मुझे गंदा लग रहा है, मुझे शरम भी आती है और यह काम तुम मुझसे मत करवाओ.

फिर पंकज बोला अरे यार अब शरम कैसी? तू मेरी बीवी बनने वाली है और अपने होने वाले पति का लंड चूसने में कैसी शरम, चल मुहं खोलकर मेरा लंड चूस. अब और कोई रास्ता नहीं यह देखकर संगीता मुहं खोलकर पंकज का लंड मुहं में लेती है और पंकज का गरम सख्त लंड उसके मुहं में घुसता है और उसका स्वाद ज़रा खराब लगा है, लेकिन अब लंड चूसने के बिना उसके पास कोई रास्ता नहीं था और पंकज संगीता का सर पकड़कर लंड को उसके मुहं में डालते हुए बोला कि चूस मेरा लंड मेरी रानी क्यों कैसा है मेरा लंड संगीता? पंकज संगीता के छोटे-छोटे बूब्स को ज़ोर से दबा रहा था.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  अमेरिका में देसी लड़की की सील तोड़ी-2

फिर कुछ देर बाद संगीता के मुहं में बहुत दर्द हुआ, क्योंकि लंड बहुत मोटा और लंबा था, जब पंकज उसके बूब्स दबाता है तब संगीता उचक जाती है और लंड अच्छे से चूसने लगी और कुछ देर बाद लंड से पानी निकलकर उसके मुहं में गिरा तो वो लंड मुहं से बाहर निकालने की कोशिश करने लगी, लेकिन पंकज उससे लंड निकालने नहीं दे रहा था, वो उसके बूब्स को दबाकर लंड उसके मुहं में डाल रहा था और संगीता का सर पकड़कर उसका मुहं ज़ोर से चोदने लगा, पंकज अब झड़ने वाला था, इसलिए वो संगीता के मुहं में झड़ना चाहता था और वो बोला हाँ मेरी रानी और मस्ती से चूस मेरा लंड.

अब संगीता पंकज के हाथ से छूटने की कोशिश करने लगी, क्योंकि उसको बहुत दर्द हो रहा था, लेकिन पंकज बिल्कुल बेरहम बनकर उसको जाने नहीं दे रहा था और अब पंकज पूरा लंड संगीता के मुहं में डालकर अपनी गांड को आगे पीछे करके संगीता के मुहं में झड़ते हुए बोला, उफफफ्फ़ आअहह संगीता ले मेरा पानी ले, तेरा मुहं इतना गरम है तो तेरी चूत कैसी होगी मेरी रानी?

दोस्तों ज़िंदगी में पहली बार मुहं में लंड के झड़ने के बाद संगीता ने लंड को अपने मुहं से बाहर निकाल दिया और मुहं से बहुत सारा पानी संगीता के नंगे बूब्स पर गिर गया, मुहं में जितना पानी था उसको पास में थूकते हुए वो बोली, उम्म्म्म उफफफफ्फ़ ओहह्ह्ह पंकज यह क्या किया तुमने? मेरे मुहं में यह पानी कैसे आया? क्या तूने मेरे मुहं में पेशाब किया?

फिर संगीता के बूब्स पर वीर्य को रगड़ते हुए पंकज बोला संगीता यह पेशाब नहीं मेरा वीर्य है और आज यह वीर्य मैंने तेरे मुहं में डाला है, जब में तेरी चूत में इसको डालूँगा तब तू मेरे बच्चे पैदा करेगी. दोस्तों संगीता अभी भी बहुत गरम थी, लेकिन शरमा रही थी, वो पंकज से नज़र भी नहीं मिला पा रही थी. अब उन दोनों ने अपनी तरफ से कोई भी कसर बाकी नहीं छोड़ी और वो दोनों मिलकर एक दूसरे की प्यास को बुझाने लगे और अपनी अपनी शांति खोजने लगे और बड़े मज़े करने लगे.

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!