लक्ष्मी की चुदाई राँची में-1

Laxmi ki chudai ranchi me-1

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम विजय है और मेरी उम्र 26 साल और में राँची से हूँ. आज में आप सभी को अपनी एक सच्ची चुदाई की घटना सुनाने के लिए यहाँ पर आया हूँ, जिसमें मैंने अपनी एक गर्लफ्रेंड को बहुत मज़े लेकर चोदा और उसके थोड़ा सा विरोध करने के बाद भी मैंने उसको अपनी बातों में फंसाकर उसके साथ सेक्स किया.

दोस्तों मेरी उस लड़की से दोस्ती को करीब दो साल हो गई थी, वो लड़की जिससे मेरी दोस्ती थी और वो दिखने में बहुत ही सुंदर, गोरी उसके बड़े आकार में बूब्स उसका भरा हुआ और वो पूरा सेक्सी जिस्म मुझे हमेशा अपनी तरफ आकर्षित किया करता था, लेकिन फिर भी मेरी उसके ऊपर कोई गलत नजर नहीं थी. दोस्तों हमारे बीच यह रिश्ता बहुत अच्छी तरह से चल रहा था और हम दोनों बड़े खुश थे क्योंकि हम दोनों ही एक दूसरे को बहुत प्यार करते थे. हमें एक दूसरे से मिलना और घंटो समय एक साथ बिताना बातें, हंसी मजाक करना बहुत अच्छा लगता था, लेकिन मैंने उसको अब तक अपने इन दो सालों के बीच कभी छुआ तक भी नहीं था.

एक दिन जब हम दोनों पास के एक गार्डन में गये तो मैंने हिम्मत करके उस दिन पहली बार उसको सिर्फ़ एक किस ही किया और उसकी तरफ से कोई भी विरोध ना देखकर मेरी हिम्मत बढ़ गई और जब में आगे बढ़कर उसके बूब्स पर हाथ लगाने लगा, तो वो उस समय मेरे ऊपर बहुत गुस्सा करने लगी और फिर उसने कम से कम एक महीने तक मुझसे बात भी नहीं की, आख़िर मैंने भी उसको एक दिन में कैसे भी करके मना ही लिया और उसको कहा कि दोस्ती में यह सब तो चलता रहता है. फिर वो मुझसे बोली कि मुझे यह सब बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगता और फिर मैंने उससे कहा कि अच्छा नहीं लगता तो में अब ऐसा कुछ भी नहीं करूँगा और उस दिन के बाद हम दोनों मिलते तो जरुर, लेकिन हम किस तक ही सीमित रहे, लेकिन अब मुझसे से सब्र भी नहीं होता था और में उसकी चुदाई करने के विचार बनाने लगा था.

एक बार जब में उससे मिलने गया तो वो समय गर्मियों का समय था और वो मुझसे बोली कि आज तुम अपने ऑफिस से छुट्टी ले लो, आज हम दोनों बैठकर बहुत सारी बातें करेंगे और अब मैंने अपने ऑफिस में उसी समय फोन करके उनको बोल दिया कि आज में ऑफिस नहीं आ सकता, क्योंकि आज मेरी तबियत कुछ ठीक नहीं है और उसके बाद हम दोनों कुछ देर तक उसके कॉलेज में ही बैठे बातें करते रहे और फिर मैंने उसको कहा कि हम कहीं दूसरी जगह पर चलते है, तो वो भी मेरी बात को मान गई, लेकिन उस समय 12 बज रहे थे, इसलिए उस समय ना तो हमें किसी भी फिल्म का टिकिट मिलना था और ना ही हम किसी गार्डन में जा सकते थे, क्योंकि मुंबई में हमेशा 11:00 बजे तक सभी सिनेमा होल में शो शुरू हो जाते है और हम गार्डन में इसलिए नहीं जा सकते है क्योंकि वहाँ पर गर्मी भी बहुत ज्यादा होती है, इसलिए मैंने उससे कहा कि हम दोनों आज मेरे रूम पर चलते है, लेकिन वो मुझसे मना कर रही थी और वो कह रही थी कि मुझे डर लगता है कि कहीं कुछ हो गया तो, लेकिन मैंने उसको अपनी तरफ से समझा दिया और मैंने उससे कहा कि अगर तुम्हे मुझसे प्यार है और अगर तुम मुझ पर भरोसा करती हो तो तुम मेरे साथ मेरे कमरे पर चल सकती हो, नहीं तो में अपने ऑफिस चला जाता हूँ और तुम तुम्हारे घर पर चली जाओ. फिर मेरी इस बात पर वो मुझसे बोली कि तुम मेरी कसम खाओ कि तुम मेरे साथ ऐसा वैसा कुछ नहीं करोगे और फिर मैंने उसकी कसम खा ली उसके बाद वो मेरे साथ चलने के लिए तैयार हो गई.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Business Trip Pe Best Friend ko Choda

दोस्तों अब वो मेरे साथ पीछे मुझसे बिल्कुल सटकर बैठ गई उस वजह से उसके बड़े आकार के बूब्स मेरी कमर पर दबने लगे थे इसलिए मेरे अंदर एक अलग ही जोश नशा छाने लगा था और में उसके साथ जाते समय रास्ते में बस यही बात सोचता रहा कि उसके कहने पर कसम तो मैंने उसकी खा ली है, लेकिन अब में उसकी चुदाई कैसे करूंगा? फिर जब कुछ देर चलने के बाद हम दोनों मेरे रूम पर पहुंचे तब में हम दोनों के अंदर आते ही अपने कमरे का दरवाजा तुरंत बंद करने लगा था, तो वो थोड़ा सा चकित होकर मुझसे बोल पड़ी कि तुम दरवाजा क्यों बंद कर रहे हो?

तब मैंने उससे कहा कि अगर कोई बाहर वाला हम दोनों को एक साथ देख लेगा तो वो क्या सोचेगा और वो तुम्हारे बारे में क्या कहेगा कि तुम कौन हो और मेरे साथ मेरे कमरे में अकेली क्या कर रही हो? उसके मन में तुम्हारे लिए बहुत सारे गलत विचार बहुत सारी गलत आएगी और में नहीं चाहता कि तुम्हारे बारे में कोई भी कुछ गलत बात सोचे, जिसकी वजह से तुम्हारी इज्जत खराब हो में ऐसा काम नहीं कर सकता.

दोस्तों मैंने उसको अपनी बातों में इतनी अच्छी तरह से उलझा दिया कि उसका अब मेरे उस जाल से बाहर निकलना एकदम मुश्किल था और उसी समय मैंने दरवाजे को झट से बंद कर दिया, लेकिन उसने अब मुझसे कुछ भी नहीं कहा. दोस्तों उसको क्या पता था कि मैंने यह सब किस लिए किया था? फिर उसके बाद में बेड पर उसके साथ बैठ गया और अब में उससे इधर उधर की बातें करने लगा. वो बहुत खुश नजर आ रही थी, उससे कुछ देर बातें हंसी मजाक करते करते मैंने सही मौका देखकर उसके कंधे पर अपना एक हाथ रख दिया और फिर में उसके बाद उसके नरम गुलाबी होंठो पर किस करने लगा.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  गर्लफ्रेंड की रंडी माँ को खूब चोदा-2

हम दोनों कोई सेक्सी फिल्म की तरह यह काम करते रहे और वो भी मेरे साथ मुझे चुमते हुए मेरा पूरा पूरा साथ देने लगी थी, लेकिन उसने अब मेरा बिल्कुल भी विरोध नहीं किया, इसलिए हमारा यह काम करीब 15 मिनट तक लगातार चलता रहा और अब मैंने थोड़ी सी हिम्मत करके उसकी गोलमटोल छाती, उसके तने हुए निप्पल पर अपने हाथ को फेरना शुरू कर दिया, लेकिन उसने तब भी मेरा कोई विरोध नहीं किया और धीरे धीरे में उसकी छाती से उसके मुलायम पेट पर होता हुआ अब उसकी गरम चूत को सलवार के ऊपर से अपने एक हाथ से छूकर महसूस करने लगा. में उसको अपने हाथ से हल्के हल्के सहलाने लगा था और उस समय भी मेरे होंठ उसके होंठो पर किस कर रहे थे और मेरा एक हाथ उसके बूब्स पर और एक हाथ उसकी चूत पर था. में उसका पूरी तरह से मज़ा लेते हुए उसको गरम कर रहा था.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

अब में धीरे धीरे उसकी गर्दन और उसके बाद उसके बूब्स को उसकी कमीज़ के ऊपर से ही चूसने लगा. उसके बूब्स की गोलाइयों आकार जाँचने परखने लगा था. उस समय ज्यादा गरम होकर जोश में आने की वजह से उसके मुहं से अजीब सी आवाजे आने लगी थी. फिर में तुरंत समझ गया था कि अब वो पूरी तरह से गरम हो चुकी है और मेरे लिए यही एकदम सही समय था, जब में उस गरम लोहे पर चोट मार सकता था.

यह बात सोचकर मैंने उसके बाद धीरे धीरे अपने एक हाथ को उसकी कमीज़ के अंदर डाल दिया और अब में उसकी ब्रा के ऊपर से ही उसके गरम मुलायम बूब्स को दबाने लगा था, जिसकी वजह से वो सिसकियाँ लेने लगी थी और कुछ देर के बाद मैंने बिना देर किए उसकी कमीज़ को उतार दिया, लेकिन वो मुझसे कुछ नहीं बोली क्योंकि वो अब पूरी तरह से गरम हो चुकी थी. दोस्तों उस समय मैंने देखा कि उसने बहुत सेक्सी जालीदार काले रंग की ब्रा पहनी हुई थी और वो मेरे सामने पहली बार ब्रा में होने की वजह से शरम आने की वजह से उसने अपने बूब्स को अपने दोनों हाथों से छुपाने की वो नाकाम कोशिश करने लगी थी, क्योंकि उसके बूब्स आकार में ज्यादा बड़े थे और वो ब्रा से भी बाहर निकल रहे थे.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Virgin Girlfriend Ki Bayanak Chudai-2

अब मैंने ज्यादा समय खराब नहीं करते हुए उसको तुरंत दोबारा किस करना शुरू कर दिया और में कुछ देर तक उसकी ब्रा के ऊपर से उसके दोनों बूब्स को सहलाते हुए मज़े ले रहा था और उसके बाद मैंने उसकी कमर पर हाथ ले जाकर उसकी ब्रा के हुक को भी खोलकर उसकी ब्रा को उसके गोरे बदन से अलग कर दिया, जिसकी वजह से अब वो मेरे सामने ऊपर से बिल्कुल नंगी हो चुकी थी और उसके गोरे गोरे बूब्स काले रंग की ब्रा की केद से आजाद होकर अब खुली हवा में साँस ले रहे थे उसकी सांसे तेज चलने की वजह से उसकी छाती ऊपर नीचे होने की वजह से बड़ी ही सेक्सी अजब सा मज़ा दे रही थी और में उनको देखकर एकदम अपने होश खो बैठा था.

मैंने उसको अपने हाथ का सहारा देकर बेड पर लेटा दिया और में उसके बूब्स को चूसने लगा. फिर करीब बीस मिनट तक उसके बूब्स को चूसने के बाद मैंने उसकी सलवार की तरफ अपने हाथ को आगे बढ़ाया और उसका नाड़ा खोल दिया. तब भी में उसके बूब्स को लगातार चूसता रहा जिसकी वजह से उसके मुहं से अब अजीब अजीब सी आवाज़े आ रही थी.

फिर मैंने मन ही मन में सोचा कि उसकी यह सिसकियाँ कहीं मेरे पड़ोसी सुन लेंगे तो हम दोनों के लिए कोई समस्या खड़ी हो जाएगी और इसलिए मैंने उसके बूब्स सक करते समय ही थोड़ा सा उठकर सीडी का बटन चालू कर दिया, जिसकी वजह से अब ज़ोर ज़ोर से गाने बजने लगे थे और कमरे से बाहर किसी को कुछ भी सुनाई देने का तो काम ही नहीं था.

अब मैंने उसकी सलवार को धीरे धीरे नीचे उतारना शुरू कर दिया और उसकी सलवार को उतारने के बाद में उसकी कामुक उभरी हुई चूत को उसकी काले रंग की पेंटी के ऊपर से ही चूसने लगा, तो वो जोश में आकर अब और भी ज्यादा ज़ोर से सिसकियाँ लेने लगी थी मैंने उसके जोश हालत का अंदाजा तुरंत लगाकर, धीरे धीरे उसकी पेंटी को भी अब नीचे उतार दिया और अब में उसकी चूत को चूसने लगा था.

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!