लॉकडाउन में मोम की चुदाई-1

Lockdown me mom ki chudai-1

नमस्कार दोस्तो, मैं आपका दोस्त सन्नी सिंह, एक बार फिर आया हूँ एक और काल्पनिक, तथा पारिवारिक संभोग की कहानी लेकर, ये कहानी एक माँ और बेटे की चुदाई की कहानी है,

जैसा कि आप सभी जानते है गत वर्ष 2020 में कोरोना के कारण पूरी दुनिया मे जीवन थम गया था, और भारत मे भी ऐसा ही हुआ था, भारत मे लॉक डाउन तुरन्त प्रभाव से कर दिया गया, जो जंहा था वही रह गया, ऐसा ही मेरे पापा के साथ भी हुआ, वो किसी काम से हैदराबाद गए थे, लॉक डाउन के ठीक एक दिन पहले, और जैसे ही लॉक डाउन लगा वो वही फंस गए, और यहाँ राजस्थान में, मैं और मेरी मम्मी घर पर अकेले रह गए, मेरी आयु 19 वर्ष हो गई थी और मेरी मम्मी जिनका नाम सावनी है उनकी आयु 30 वर्ष थी, ये मेरी सगी मोम नही थी, मेरी सगी मोम मेरे जन्म से 3 साल बाद ही स्वर्ग सिधार गई, फिर पापा मेरी सगी मोम की मौसी की लड़की को ब्याह लाये, लेकिन मैं उन्हें मोम ही कहता हूँ,

मेरा गांव शहर से थोड़ी दूरी पर है, इसलिए पापा ने ये सोच कर लॉक डाउन के एक महीने पहले ही शहर में एक 2 बैडरूम का फ्लैट ले लिया था कि रोजाना उन्हें अपने काम काज के लिए गांव से आना जाना न पड़े, में और मम्मी भी उनके साथ आकर रहने लगे थे,

लॉक डाउन लग जाने के कारण सभी लोग घर पर ही बंद हो गए, हमारी बिल्डिंग में लोगो ने एक दूसरे के फ्लैटो में आना जाना बंद कर दिया, इसकी सबसे ज्यादा मुसीबत उन जवान लड़के और लड़कियों को हुई जिनकी माँ, भाई और बहन बहुत ही सेक्सी और हॉट है, मेरी मम्मी भी किसी से कम नही है, पूरी बिल्डिंग के मर्दो की नजर उस पर थी कि सब के सब उसको पटक कर चोद दे,

मेरी मोम कभी कभी सिगरेट भी पीती थी लेकिन तभी जब पापा साथ होते थे, अब घर पर हम दोनों ही थे, मैं जवान हो रहा था, और पोर्न देख देख कर मुठ मारने की आदत पड़ चुकी थी, क्योंकि घर पर हम दोनों में अलावा कोई दूसरा था नही इसलिए मैं कभी बिना बनियान के घूमता रहता, कभी मेरी मोम बिना साड़ी के घर की साफ करती रहती थी, मेरी मोम की शारीरिक बनावट देख देख के मेरा हाल खराब हो जाता, और फटाफट बाथरूम में जाके मुठ मार के आता,

हिंदी सेक्स स्टोरी :  माँ की चुदाई देख मज़ा आ गया: भाग 4

एक रात मै पानी पीने के लिए उठा, पानी पीकर रसोईघर से वापस आ रहा था तो देखा कि मेरी मोम एक उंगली को चूत में घुसा कर चुदाई कर रही थी, ये देखते ही मेरा लन्ड झन्नाटे से खड़ा हो गया, में वही जड़वत खड़ा होकर मेरे लन्ड को निक्कर से बाहर निकाल कर मोम को देखते हुवे मुठ मारने लगा, थोड़ी देर में मेरी मोम एक आह के साथ झड़ गई, ये देख कर मैं और जोर से मुठ मारने लगा और वही दरवाजे के सामने झड़ गया, फिर चुपचाप आकर सो गया,

सुबह उठ कर देखा तो मेरा निक्कर चिप चिप कर रहा था, इसका मतलब रात को सपने में मोम को चोदा होगा और निक्कर में झड़ गया होगा, तभी मोम ने आवाज लगाई,

मोम – सन्नी एक बार यहाँ पर आ जल्दी से,
मैं – क्या हुआ?
मोम – जल्दी से आ

मैं उठकर उनके कमरे की तरफ गया तो उसी जगह खड़ी थी जहाँ रात को उनको देखते हुवे मुठ मारी थी और मेरा माल वहीं पड़ा था, ये देखते हुवे मैंने आंखे नीचे करते हुवे पूछा,

मैं – क्या हुआ?
मोम – (मेरे माल की तरफ इशारा करते हुवे बोली) – देख तो सही ये क्या है और कहाँ से आया है, ऐसी गंदगी कोनसा जानवर करता है,?
मैं – (मन मे सोचते – ये तुम्हारी औलाद का फौलाद है,) – कहाँ, कोनसा, अरे ये, ये क्या है, इतना गाढ़ा और चिपचिपा,

मैंने चोर नजरो से मोम की तरफ देखा और सोचा – कैसी औरत है इसे नही पहचानती,

मोम – चल कुछ भी होगा, इसे साफ कर देती और तू पूरे घर में देख कही और भी ऐसा कुछ गिरा है क्या?
मै – ठीक है, देखता हूँ,

मेरी मोम का कद कुछ 5 फुट 2 इंच का रहा होगा. उसका फिगर एकदम टाइट था क्योंकि वो स्कूल और कॉलेज में स्काउट और NCC में भाग लेती थी,

अगले दिन जब वो सुबह मेरे कमरे में आयी, तो वो एक टाइट सी सफ़ेद टी-शर्ट पहने हुए थी, जिसमें से उसके चूचे बाहर आने के लिए मचल रहे थे.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  सौतेली माँ के पेटीकोट में घुसकर उसकी चुदाई कर डाली

वैसे तो मैं रोज़ाना एक बार सुबह उठ कर और एक बार सोने से पहले मुठ मारता हूँ. ये मेरी आदत सी बन गयी थी.

लेकिन उस दिन जब वो मेरे सामने आयी, उस दिन मैंने सुबह मुठ नहीं मारी थी. आप सब लड़के जानते हैं कि सुबह आपसे पहले आपका लंड उठ जाता है. मेरे साथ भी यही हुआ. लेकिन मुठ न मार पाने की वजह से मेरा लंड भकभका रहा था. फिर जैसे ही मैंने मोम को देखा, तो यही ख्याल आया कि जो होगा, सो देखा जाएगा; आज इसकी चूत लेकर ही मानूंगा.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

मेरी नज़रें केवल उसके मचलते चूचों पर ही टिकी थीं. मेरी इस भेड़िये सी भूखी नजर को उसने भी तीन से चार बार नोटिस कर लिया था लेकिन वो चुप थी.

मोम के कमरे के आगे वीर्य वाली घटना अब रोज होने लगी, रोज मोम उंगली करती और में दरवाजे के पास से उन्हें देखे कर मुठ मारता और रोज मेरा माल वहीँ डाल कर जाके सो जाता,

लॉक डाउन का पहला दौर समाप्त होने वाला था कि फिर से लॉक डाउन को आगे बढ़ा दिया, पहले लॉक डाउन में मैं और मोम एक दूसरे को अच्छी तरह से जान गए और दोनों में एक दोस्ती सी हो गई,
क्योंकि चुदाई की भूख दोनों तरफ थी बराबर,

दो दिन बाद शाम को मोम ने मुझसे बोला,
मोम – सन्नी क्या तुम बियर पीते हो, मैं थक गयी हूँ और बियर पीना चाहती हूँ.
मै – आप पापा को नही बताएंगी न,
मोम – हाँ, नही बताऊंगी
मैं – हाँ कभी कभी, दोस्तो के साथ, अकेला कभी नही,
मोम – तो आज कोई व्यवस्था कर, मैं भी तेरी दोस्त हु न अब,
मैं – (आश्चर्य से) आप पीती है बियर,
मोम – हाँ, जब कॉलेज में NCC के कैम्प होते थे, तब मै और मेरी सहेलियां,
मैं – अच्छा, देखता हूँ कोई व्यवस्था हो सकती है क्या, (क्योंकि उस समय तक सरकार ने ठेके खोलने की मंजूरी नही दी थी,)

फ़ोन जेब से निकाल कर दोस्तो को पूछा कि कोई व्यवस्था हो सकती है क्योंकि मेरे कुछ दोस्त ठेके पर काम करते थे, उनमे से एक नए कहा एक दो बोतल नही पूरा का पूरा बॉक्स लेना पड़ेगा, में उसे ओके करके मोम को बता दिया

हिंदी सेक्स स्टोरी :  माँ के साथ आगे की बात

एक घण्टे बात बिल्डिंग के बाहर एक गाडी आकर रुकी जिसपर दवाइयों की डिलीवरी का स्टीकर लगा था, उसमे से मेरे दोस्त ने एक बॉक्स उतार कर मेरे घर पर रख दिया और पैसे लेके चला गया,

फिर में और मोम दोनों बियर पीने लगे, मेरी मोम तो एक नम्बर की बेवड़ी निकली, मेरी एक बोतल खाली नही हुई उस से पहले उसने 2 खाली करके तीसरी मुंह को लगा ली,

मोम अब थोड़ी सी बह्नकने लगी थी, मैंने मन में सोचा कि मौका अच्छा है. बीते दिनों में मोम मुझे काफी हिंट दे चुकी थी,

मैं – रूम में चल कर साथ में पिएं, तो कैसा रहेगा?

मोम ने झट से हां कर दी.फिर बोली कि तू थोड़ी देर यहीं रुक, में बुलाऊ तो अंदर आना, दस मिनट बाद उसने मुझे बुलाया,

अब वो नहा चुकी थी और उसने पिंक टॉप पहन लिया था, जिसमें उसके गहरे गले से लाल ब्रा साफ़ दिख रही थी.

मैं उसको देख कर पगला सा गया. मैंने उसकी खूबसूरती के लिए एक बार उसकी तारीफ़ की,

मैं – मोम, आज तो आप बहुत सुंदर लग रही हो,
मोम – थैंक्स, पर आज ही क्यों? क्या मैं तुम्हे रोज सुंदर नही लगती,
मैं – आज आप ज्यादा सुंदर लग रही ही,

मैं अंदर आके कुर्सी पर बैठ गया और मोम पलंग पर, तब मैंने एक और बियर खोली और मोम को दे दी. दूसरी मैंने खोल ली. फिर हम दोनों ने चियर्स बोल कर बियर पीना शुरू किया. बीच बीच में हमारी बातें होने लगीं. मैंने सिगरेट की डिब्बी निकाली और उससे सिगरेट पीने की इजाजत लेते हुए उसे भी ऑफर की. उसने एक ही सिगरेट जलाने की बात कहते हुए मुझे इजाजत दे दी.

बाकि कहानी अगले भाग में-

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!