माँ की नई ब्रा खोल कर बूब्स चूसे-2

(Maa Ki Nai Bra Khol Kar Boobs Chuse-2)

शिल्पा- आआ… आआहह… और चूसो!

शिल्पा के चूचुक एकदम टाइट हो गये, वो अपने बेटे की हवस में पागल हो रही थी।
मैंने अब मां की पेंटी उतार दी, माँ अब मेरे सामने उसके ही पलंग पर बिल्कुल नंगी थी, चुदने के लिये तैयार थी।

शिल्पा मुझे नंगा करने लगी, मेरा 7 इंच का मोटा लंड देख कर उसके मुँह में पानी आ गया और बिना किसी देरी के उसे चूसने लगी। कई मर्दों से चुदी हुई औरत आज अपने बेटे का लंड चूस रही थी जैसे वो कोई लोलीपोप हो।

‘ओह माँ, तुम तो लंड चूसने में बहुत अच्छी हो…’ मैंने कहा तो शिल्पा ने उसे और ज़ोर से चूसना शुरू किया।अब मुझसे रहा नहीं गया, मैं तड़पने लगा- माँ… मैं झड़ने वाला हूँ!

लेकिन माँ ने लंड अपने मुँह से नहीं निकाला और मैंने अपना सारा पानी अपनी माँ के मुँह में ही छोड़ दिया, शिल्पा ने सारा का सारा पानी पी लिया, अपने बेटे का लंड चाट चाट कर साफ कर दिया और कहा- चलो बेटा, अब तुम्हारी बारी!
और अपनी टांगें फैला कर अपनी चूत सहलाने लगी।

मैं समझ गया कि माँ क्या चाहती है, मैंने अपना चेहरा अपनी माँ की चूत के सामने रख दिया और उसे सूंघने लगा और अपनी जुबान उसकी चूत के दाने पर रख दी।
शिल्पा एकदम कांप उठी, उसका बेटा अब उसकी चूत को चाटने लगा।                Maa Ki Nai Bra

शिल्पा अब रंडी की तरह मेरा साथ देने लगी, वो अब धीरे धीरे गर्म हो रही थी और मुझे अपनी सीत्कारों से और बढ़ावा दे रही थी।

अपनी माँ की चूत का स्वाद और उसकी सुगन्ध से मैं पागल हो गया और किसी आइसक्रीम की तरह उसे चाट रहा था।
‘ऊऊउ… आआअहह… ऐसे ही करो बेटा… आहह… ओह गॉड… चाट मेरे बच्चे… चाट अपनी माँ की चूत को… चाट ले… आज से ये आअहह… आज से ये चूत… आअहह… तेरी है बेटा… जो चाहे वो करना इसके साथ… उम्म… चाट!’ शिल्पा से अब रहा नहीं जा रहा था और ना ही मुझसे… दोनों अब चुदाई के लिये तड़प रहे थे।

वो अब झड़ चुकी थी और उसकी चूत एकदम गीली थी।
मैं- माँ!
शिल्पा- हाँ?
मैं- माँ, अब रहा नहीं जा रहा, मैं तुम्हें चोदना चाहता हूँ!

हिंदी सेक्स स्टोरी :  मम्मी की चूत का भोसड़ा बनवाया-1

शिल्पा- तो रोका किसने है बेटा, डाल दे मेरी चूत में अपना लंड!

यह सुनते ही मैंने अपना लंड अपनी माँ की चूत के ऊपर रखा और एक ज़ोर का धक्का लगाया। शिल्पा ना तो कोई कुवांरी औरत थी और ना ही उसने बिना लंड के सालों गुजारे थे, इसलिये मेरा लंड मेरी माँ की चूत में आधा घुस गया।

शिल्पा की एक हल्की सी चीख निकली। मैंने अपना लंड बाहर निकाला, एक बार फिर से पहले से जोर का धक्का दिया और अपना सारा का सारा लंड उसकी चूत में घुसा दिया।                              Maa Ki Nai Bra

इस बार शिल्पा की एक जोरदार चीख निकली- अवव! अबे मादरचोद!!!! इतनी ज़ोर से डालने के लिये किसने कहा था? हरामखोर मेरी चूत को फाड़ दिया हरामी…
मैं बिना कुछ बोले अपनी माँ के निप्पल चूसने लगा और अपना सात इंच का लंड अपनी माँ की चूत में आगे पीछे करने लगा।

धीरे धीरे चोदने के बाद अब शिल्पा भी मज़े लेने लगी, एक हाथ से मैं अपनी माँ का लेफ्ट बूब दबाता और राइट बूब को चूस रहा था।
उसने मेरे नीचे से ही अपनी चुदाई की स्पीड बढ़ा दी- आअहह… और ज़ोर… और ज़ोर… से चोद दे मुझे साले हरामी… अपनी माँ को बना दे अपनी रंडी… उमुऊऊ!

मैं- हाँ माँ, आज से तुम बाहर तो मेरी माँ हो लेकिन घर में मेरी रंडी हो और मेरी ही नहीं मेरे दोस्तो की भी रंडी बनाऊंगा तुम्हें!
शिल्पा- मादरचोद… अपनी माँ को अपने दोस्तों से चुदवायेगा!
मैं- रंडी को ऐसे ही चुदवाते हैं माँ!

शिल्पा- आअहह…चोद मेरे राजा… अपनी माँ की चूत का भोसड़ा बना दे!
मैं- आअहह माँ, मैं झड़ने वाला हूँ।
शिल्पा- मेरी चूत में ही झड़ना, अपना सारा पानी मेरी चूत में डाल दे… आअहह!

मैं आअहह… ऊऊओ…माआआ… ऊहह… फक… ओह फक माँ!
मैं अपनी माँ की चूत में झड़ गया और उसके उपर ही लेट गया।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

दस मिनट के बाद माँ मूतने के लिये टायलेट जाने लगी और थोड़ी देर में मैं भी टायलेट में घुस गया।
शिल्पा- तुम टायलेट में क्या कर रहे हो? तुम जाओ में मूत कर आती हूँ!                    Maa Ki Nai Bra
मैं- नहीं माँ, मैं तुम्हें मूतते हुये देखना चाहता हूँ!
शिल्पा- बेशर्म कहीं का!

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Apni teacher mummy ki chudai - real kahani-1

शिल्पा मूत कर जब खड़ी हुई तो मैंने कहा- माँ, मैं तुम्हारी गांड मारना चाहता हूँ।
शिल्पा- चल हट बेशर्म… चूत से प्यास नहीं बुझी क्या जो अपनी माँ की गांड भी माँग रहा है?
मैं- प्लीज़ माँ… गांड मारने दो ना! प्लीज़…

लेकिन शिल्पा बिना कुछ कहे बेडरूम में चली गई, मैं बाथरूम में उदास खड़ा रहा और लंड को सहलाते हुये बेडरूम में चला गया।
बेडरूम मे जाते ही मैं खुश हो गया, माँ बेड पर डॉगी स्टाइल में थी उसकी गांड दरवाजे की तरफ थी और उसकी गांड का सुराख मुझे साफ नज़र आ रहा था।

वो गांड को हल्के हल्के लहराते हुये अपने बेटे को अपनी गांड मारने के लिये आमन्त्रित कर रही थी।

शिल्पा- मादरचोद… ले मेरी गांड मारना चाहता है ना… ये ले अपनी रंडी माँ की गांड… कुत्ते घुसा दे अपना लंड इस कुतिया की गांड में और फाड़ दे मेरी गांड मेरे बच्चे!
मैं- ऐसी गांड में से तो में सारी जिंदगी अपना लंड ना निकालूँ!              Maa Ki Nai Bra
शिल्पा- बेशर्म!

मैं अपनी माँ की गांड मारने लगा। उस रात मैंने अपनी माँ को हर पोज़िशन में हर छेद में चोदा। हम माँ बेटे की चुदाई सुबह 4 बजे तक चलती रही। शिल्पा इस बीच कई बार झड़ गई थी और मैं भी।

हम दोनों अपनी हवस पूरी करने के लिये अपने माँ बेटे का रिश्ता भूलकर एक रंडी और रंडवे का रिश्ता बना चुके थे।
चुदाई करने के बाद दोनों थक गये और सोने की कोशिश करने लगे और बातें करने लगे।

मैं- माँ आई लव यू!
शिल्पा- बेटा आई लव यू टू… तो बताओ अपनी माँ को चोद कर कैसा लग रहा है मेरे बेटे को?
मैं- बहुत अच्छा माँ!

शिल्पा- मुझसे पहले किसी को चोदा है क्या?
मैं: नहीं माँ, मेरी मां की चूत मेरी जिंदगी की पहली चूत है!!!

हिंदी सेक्स स्टोरी :  मेरी ग़लती से मेरी मम्मी चुद गई-1

शिल्पा- रियली… मेरे बेटे ने अपनी इज्जत अपनी माँ पर लुटाई है? सच?
मैं- हाँ माँ, मैं तुमसे एक सवाल पूछूँ तुमसे?
शिल्पा- हाँ पूछो… एक क्या एक हजार पूछो!

मैं- मेरे और पापा के अलावा… तुम्हें और किसने चोदा है?
शिल्पा हंसती हुई- किसने? ऐसे पूछ कि किसने नहीं चोदा है?
मैं- मतलब तुम सच में एक… एक महा चुदक्कड़ औरत हो!
शिल्पा- बेशर्म, अपनी माँ से ऐसे बात करते हुए शर्म नहीं आती?                    Maa Ki Nai Bra

मैं- अपने बेटे से चुदते वक़्त अगर तुम्हें शर्म नहीं आई तो अपनी माँ को चुदक्कड़ कहते मुझे भला शर्म क्यों आयेगी? प्लीज़ माँ बताओ ना तुम्हें किसने किसने चोदा है?
शिल्पा- उम्म्म्म ज़रा सोचने दो… चलो शुरुआत से याद करती हूँ… जब कॉलेज में थी तब मेरे 2 दोस्तों ने… मेरे टीचर ने… फिर मेरे ऑफ़िस के 5 लड़के और 3 लड़कियां एक साथ ग्रुप सेक्स… फिर मेरे बॉस ने… शादी के बाद तुम्हारे पापा… तुम्हारे चाचा ने… मेरे जीजू ने.. तुम्हारे पापा के 3 दोस्तो ने… और फिर!!

मैं- और फिर? और किससे चुदी हो माँ?
शिल्पा- और फिर एक ग्रुप सेक्स में तुम्हारे 4 दोस्तों के साथ!

मैं- क्या? तुम्हें मेरे दोस्तों ने भी चोदा है?
शिल्पा- हाँ मेरे राजा… तुम्हें क्या लगता है, मैं हर शनिवार दोपहर को 3 बजे क्या फिल्म देखने जाती हूँ? नहीं… मैं तो हर शनिवार को अपनी चुदाई के लिये जाती हूँ कभी तुम्हारे दोस्तों से, कभी तुम्हारे पापा के दोस्तों से या फिर कभी अपने दोस्तों से… हाहहहः!

मैं- माँ तुम सच में रंडी हो… दुनिया की सबसे प्यारी रंडी माँ!
शिल्पा- थैंक्यू मेरे मादरचोद बेटा!

मैं- माँ, अपनी चुदाई की कहानियाँ सुनाओ ना प्लीज़?
शिल्पा- सुनाऊँगी सुनाऊँगी… लेकिन अभी नहीं, अभी हमें सोना चाहिये!
और मां बेटा दोनों नंगे वहीं पलंग पर नंगे सो गये।                        Maa Ki Nai Bra

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!