अपनी माँ को पूरी रात बारिश में चोदता रहा-1

Maa ko barsat mein choda-1

हेलो दोस्तो कैसे हो आप लोग मैं महेंद्र मेरा दूसरा नाम मनीष है पर सब मुझे महेंद्र ही बोलते है । आज मैं आप लोगो को अपनी सेक्स कहानी बताने जा रहा हूँ कि कैसे मैने अपनी सगी मा को चोदा । मेरा निवेदन है प्लीज कहानी पूरा पढ़ना । मेरी माँ को बरसात में चोदा कहानी पढ़ते हुए आप दो बार मुठ मार लोगे मेरी गारंटी है दोस्तो मैं उत्तर भारत से हूँ मेरे गांव का नाम ******** है यहाँ हम खेती करते है और हमारे परिवार में कुल 5 लोग है ये कहानी तब की है जब में 18 साल का था मैंने 12वी पास कर ली है अब मैं कॉलेज में हूँ मैं शरीर से लगभग 5.5 फुट का हूँ और मैं जिम करता हूँ जिससे मेरा शरीर मोस्क्युलर है मेरी दो बहने है एक छोटी और एक बड़ी बड़ी दीदी की शादी फिलहाल में ही हुई थी और वो दिल्ली में रहती है अपने पति के साथ उनकी शादी के 3 महीने बीत चुके थे अब घर पर बरसात का दिन था तो पापा बाहर जाने वाले थे पैसे कमाने के लिए और छोटी बहन मामा के यहां जाना चाहती थी तो एक दिन मैं पाप को स्टेशन छोड़ के आया और बहन को पहले ही मामा के यह गयी थी । जिस दिन पाप गए शाम को बहोत तेज बारिश होने लगी मेरे घर मे मैं और ममी दोनो अलग कमरे मे सोते थे । उस दिन भी ऐसा ही हुआ । दोस्तो मैं 18 साल का था, जवानी अंग अंग में बसी थी मैं नंगा होकर सोता था। उस दिन ममी के कमरे में पानी आने लगा बारिश का तो ममी मेरे कमरे मे आकर सो गई उन्होंने ध्यान नही दिया कि मैं नंगा हूँ

दोस्तो मेरी ममी का की गांड 42 की थी और चुचिया 38 की वो अब भी जवान जैसी लगती थी मेरे और मेरी ममी का रूम बगल में ही था और रोज रात को मेरा बाप ममी को चोदता था और इनकी आवाजे मुझे रोज सुनाई देती थी और मैं मुठ मारके सो जाता था और कार भी क्या सकता था ।
हा तो कहानि में आगे बढ़ते है मेरी माँ मेरे बगल में सो गई और कम्बल ओढ़ लिया कुछ देर बाद मेरी नींद खुली तो मैंने अपनी माँ को देखा मेरा मा सिरफ ब्लाउज और साया (एक वस्त्र जो साड़ी के नीचे पहनते हौ )में थी और साया कम्बल के कारण एक जगह समेत गया था मा की चुचिया साफ साफ़ दिखाई दे रही थी मैं उन्हें पूरी तरह से देख आ चाहता था तो मैंने एक बटन खोल दिया अब केवल एक बटन था जैसे ही मैन छूने की कोशिश की माँ काशमशै तो मैंने छोड़ दिया कि कही जग ना जाये ।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  मम्मी वकील की रखैल बन कर चुदी

अब उनके चुचिया बाहर निकलना चाहती थी उनके ब्लाउज फिर मा ने करवट बदली और अपनी एक टांग मेरे पेट पर डाल दिया और मुझे अपनी बाहों में भर लिया ये सब मेरी माँ नींद में कर रही थी उनको लगा मैं पापा हूँ क्योंकि पिछले 3-4 दिन से मेरे बाप ने मा को पूरी रात चोदा था आज भी मा शायद गर्म हो गयी थी मेरे जवान जिस्म का स्पर्श पाकर अब मेरी माँ लगभग मेरे ऊपर लेती थी उसकी चुचिया मेरे मुह पर आ गयी था मैं उन्हें किश कर रहा था क्या जिसम था मेरी माँ का तभी ब्लाउज का आखिरी बटन भी टूट गया और मेरी माँ के दोनों चिचिया मेरे मुंह पे थे ।

मैं दूध पीता तो किसके में से पिता दोनो बड़े बड़े थे मैं बारी बारी से दोनों को चूसता रहा फिर मेरा ध्यान मेरी माँ की टांगो की तरफ गया वो नीचे से पूरी नागी थी मैने अपना हाथ उनकी जांघो पे रखा क्या बताऊँ दोस्तो उतने मुलायम जांघ अब मेरा लुंड पूरा खड़ा हो चुका था फिर मैनी मा की गांड पे हाथ डाला क्या बताऊँ कितनी मुलायम थे मा के चुत्तर मैं उन्हें मसलन चाहता था मगर डर रहा था कही वो जग ना जाये। अब मैं उनके पूरे जिस्म को छू रहा था होठ से लेकर गांड तक मैन जीवन मे पहली बार किसी स्त्री को छुआ था मैं मजे लेते रहने चाहता था मैंने मा की चुचियो को चाट चाट के गिला कर दिया था अब मैं मा को चोदना चाहता था मैंने अपने लंड का टोपा हटाया तो वो भी गिला हो चुका था मा के स्पर्श से अब मैं उसे मा की चूत में डालना चाहता था लेकिन वो मा की चूत तक पहुच तो रहा था मगर मा बगल में थी तो घुसा नही पा रहा था ।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  नाना ने माँ को रंडी बनाया-1

अब अगर मैं मा को अगर नजदीक लाने की कोशिश करता तो वो जाग जाती और शायद दांट देती तो मैंने नही जगाया और सिर्फ चूत में उंगली का उसके अंदर रास ही रस था मैंने उसे लन्ड पे लगाया और थोड़ा थूक लगाया और माँ की चूत से लगाकर मुठ मारने लगा मैं पिछले आधे घंटे से मा को चोदने की कोशिश कर रहा था तो मैं जल्दी ही झाड़ गया अब मेरा सारा वीर्य मा की चूत पे गिर गया वो बहोत ज्यादा था ।
पूरी छूट और जांघ गिला हो क्या अब मुझे नींद आ रही थी मैं वैसे ही आलस के कारण वैसे ही सो गया सुबह मैं 8 बजे जगा मैं वैसे ही नंगा था अब मैं समझ गया था कि माँ से सब देख लिया ह मैं डर रहा था ,सामने जाने से मैं सोच रहा था क्या कारु । मैं चुपके से डरके गया और ब्रश नहाना वगैरा सब करके आया तो माँ ने देख लिया मगर मा ने कुछ कहा नही वो वैसे ही बोली आ गए नहाकर आओ खालो मैन ध्यान दिया उनका ब्लाउज के सिर्फ एक बटन बन्द था जिस्से उनके चुचिया दिखाई दे रही थी मैं आंगन में जाकर बैठ गया और अब मैं मा को घर रहा था । उनका बदन आज अलग ही लग रहा था

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

उन्होंने मुझे खाना दिया और खाने को कहा जब मैं खा रहा था तो वो नल पर चली गयी और कपड़े खोलने लगी मैं चकित रह गया ये क्या कर रही ह ममी अब वो सिर्फ साये और ब्लाउज में थी उनका बदन साफ साफ दिखाई दे रहा था वो अब पूरा पानी डालने लागू अपने बदन पर उनका पूरा कपड़ा भीग गया मम्मी के शरीर को रात को महसूस किया ही था अब द्वख भी रहा था मम्मी की चूत का नाप उनके भीगे हुए साये से नजर आ रहा था और चुचिया तो पहले ही बाहर आ गई थी जो लटक रही थी मेरी मा उन्हें साबुन लगा कर मालिश करने लगी मेरा लन्ड खड़ा होने साफ मैं बस मम्मी के बदन को घूरे जा रहा था उनकी 38 की चुचिया मानो आपस मे झगड़ रही हो वो अपने होठों को दांतों से काट रही थी मेरा मन कर रहा था अभी जाकर उनके बूब्स को हाथों में लालू मगर मैं दर रहा था कहि वो गुस्सा न हो जाये मैं बस चुप चाप देखता रहा अब उन्होंने बदन का साबुन साफ किया ।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  माँ ने मेरे लंड को रगड़ कर चुदवाया

साया थोड़ा ऊपर उठाया फिर उन्होंने अपनी चिकनी चिकनी टांगो पे सवून लगाया देखते ही देखते उन्होंने साया को कमर में लपेट लिया अब उनकी चूत नजर आने लगी क्या बताऊ दोस्तो उनकी छूट बिल्कुल गुलाबी थी चारो तरफ हल्के काले बाल थे अपन उन्होंने चूत पर भी साबुन लगा दिया और रगड़ने लगी और अचानक से आह कर मनमोहक आवाज निकल ये सुनकर मेरे लन्ड से पानी निकाल गया मम्मी ने देख लिया और वो मुस्करा गयी दोस्तो मुझे उनके सौन्दर्य का दर्शन आज हुआ था ऐसा लग रहा था वो अभी भी 25 की हो ऐसा कर उन्होंने मुझे दिन भर लुभाया मुझे डर भी लग रहा था कि कैसे बात करूं।

अब रात होने लगी थी मैं घरपे बैठ के कहने लगा अभी भी वो ब्लाउज का एक बटन खोले हुई थी मैन सोच लिया आज तो चोद कर ही रहूंगा मा को मैं अपने बिस्तर पे जाके लेट गया और सोचने लगा कैसे चोदू मा को तभी मा मेरे पास आई और कहा कि उनका बिस्तर बारिश के कारण भीग हुआ ह तो वो आज भी यही सोएंगी अब मेरे खुशियों का ठिकाना न रह मैन है कर दिया हम लेट के बाते करने लगे।

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!