मैडम की गांड मारकर लंड की आग शांत की– 1

Madam ki gaand markar lund ko shant ki- 1

Hotsexystory के सभी पाठकों को मेरा प्रणाम। मैं रोहित एक बार फिर से हाज़िर हूं चूत चुदाई के सफर में। मैं 26 साल का लौंडा हूं।मेरा लन्ड 7 इंच लम्बा है जो किसी भी चूत की गहराई में उतर कर उसकी बखिया उधेड़ बुन सकता है।

जब मैंने जवानी में कदम रखा तो मेरे लन्ड को बड़ी उम्र की औरतें ज्यादा भाने लगी। मैं उन्हें देख देखकर आहे भरता और लंड मसलता रहता रहा। खैर जब मैं क्लास 12 वी में पहुंचा तो मैंने कल्पना मैडम को चोदकर मेरे लन्ड की प्यास बुझा ली थी।फिर मैंने मैडम को तीन चार बार चोदकर उनकी मस्त चूत का भोसड़ा बना दिया था। अब मुझे उनकी गांड़ मारने की इच्छा हो रही थी। लेकिन कोई अच्छा सा चांस नहीं मिल पा रहा था। मैं कल्पना मैडम की गांड मारने के लिए तड़प रहा था।
कल्पना मैडम लगभग 35 साल की हॉट फिगर वाली सेक्सी कड़क माल है। उनके 32 साइज के बड़े बड़े बूब्स उनके ब्लाउज में उछलते कूदते रहते थे। मैंने मैडम के इन बूब्स को अच्छी तरह से कसकर चूसा था।मैडम की 30 साइज की गौरी चिकनी  कमर और 32 साइज की भारी भरकम गुद्देदार मजबूत गांड़ मेरे लन्ड की हालत खराब कर देती थी। जब कल्पना मैडम क्लास में पढ़ाते हुए इधर उधर चलती थी तो उनकी गांड मेरे लन्ड में आग लगा देती थी। साड़ी में  मैडम के चूतड़ों की गोलाईयो और शानदार कसावट का नज़ारा साफ साफ नजर आ जाता था। मैं मैडम की गांड में लंड पेलने के लिए तड़पा जा रहा था।

एक दिन जब कल्पना मैडम हॉल में एक्स्ट्रा क्लास लेे रही थी  तभी प्रिंसिपल मेम वहां आई और कल्पना मैडम से कहने लगी– मुझे अभी एक अर्जेंट मीटिंग में जाना है।जब क्लास ख़तम हो तो आप स्कूल बंद करके चाबी मेरे घर पर दे जाना।रोहित आपको घर पर छोड़ देगा।
प्रिंसिपल मैडम की बात सुनकर कल्पना मैडम ने झट से हां कर दी। मैडम के हां करते ही मेरे लन्ड की बांछे खिल उठी। अब मुझे कल्पना मैडम की गांड मारने की संभावनाएं नजर आने लगी। अब मै क्लास ख़तम होने का इंतजार करने लगा।तभी कुछ देर बाद कल्पना मैडम ने सब स्टूडेंट्स की छुट्टी  कर दी।
अब मेडम नीचे गई और स्कूल का मेन गेट अंदर से बंद करके ऊपर हॉल में आ गई।आज मैडम ने गुलाबी रंग की साड़ी पहना रखी थी जिसमे कल्पना मैडम गजब की माल लग रही थी।ऊपर से उनका बैकलेस ब्लाउज मेरे लन्ड पर कहर ढा रहा था।
तभी मैंने हॉल के बीचोबीच कल्पना मैडम को कसकर बाहों में जकड़ लिया और उनके रसीले गुलाबी होंठो पर टूट पड़ा। अब मै बेहताशा  मैडम की नंगी पीठ को सहलाते हुए मैडम की लिपस्टिक को चूसने लगा। अब मेडम भी भूखी शेरनी की तरह मेरे ऊपर टूट पड़ी और मेरी गर्दन पर बाहों का घेरा बनाकर पागलों की तरह मेरे होंठो को खाने लगी। अब हम दोनों एक दूसरे के जिस्म की नुमाइश करते हुए प्यास बुझाने लगे।हॉल का पूरा माहौल कामुक बन चुका था। अब पूरा हॉल चुंबनों की बारिश के साथ आह आउछ पूच आह्व पुच्छ पुच्छ पुच्छ पुच्छ की आवाज़ से गूंज उठा। हम दोनों एक दूसरे के होंठो को खाए जा रहे थे।
मैं– आह आह उह आउच पुच्छ आह उह ऊंह आह आउच आउच पुच्छ आह आह आऊंच।
मैडम– आह ओह आह आउंच आउच पुच्छ आउच पुच्छ आह उह उह आह आह।
तभी मै हाथ नीचे सरका कर मैडम की भारी भरकम गुद्देदार मजबूत गांड़ को मसलने लगा।मुझे मैडम के चूतड़ों की गोलाईया महसूस होने लगी। अब मै साड़ी के ऊपर से ही मैडम की गांड में उंगली घुसाने की कोशिश करने लगा। तभी मैडम गांड़ पर से मेरे हाथो को हटाने लगी। मैं फिर से मैडम की गांड मसलने लगा।
अब मैं मैडम
के सुंदर चिकने गले पर किस करने लगा। अब मेडम बहुत ज्यादा गर्म होने लगी।वो मेरे बालों को नोचने लगी।
मैडम– आह आह आह ओह ओह आउच आउच ओह आह ऊंह ऊंह ओह ओह ओहह।
मैं मैडम की गांड को मसलता हुआ उनके गले के पानी को पिए जा रहा था। अब मेडम गर्म गर्म सांसे लेने लगी। अब मैंने मैडम की साड़ी के पल्लू को नीचे गिर दिया और गले पर किस करता हुआ मैडम के बूब्स को मसलने लगा। अब मेडम बहुत ज्यादा बेचेने होने लगी। अब मैं मैडम ब्लाउज के ऊपर से ही मैडम के बूब्स के बीच बनी गहरी खाई में किस करता हुआ मैडम के मस्त नरम मुलायम बूब्स को दबाने लगा।मैडम बहुत ज्यादा पीछे की ओर झुक गई।
मैडम– आह आह आह ओह ओह आह आउच आउच ओह आह।
अब मेडम मेरे बालो को पकड़कर कर मेरे सिर को बूब्स पर दबाने लगी। मुझे इस तरह मैडम के बूब्स दबाने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था।मेरा लन्ड पेंट फाड़कर बाहर निकल आने के बाद तड़प उठा।
मैं– आह आह ओह ओह आह ऊंह ऊंह आह ओह ऊंह आह ऊंह।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  केमिस्ट्री टीचर के साथ चुदाई-2

अब तब मैडम बहुत ज्यादा गर्म हो चुकी थी।उनकी गरमा गर्म सांसों से उनकी बैचेनी का पता चल रहा था। तभी मैडम ने मुझे धक्का देकर बोर्ड के सहारे खड़ा कर दिया। अब मेडम ने मेरी टाई खोलकर मेरी शर्ट भी खोल दी। अब मेडम चुदासी होकर मेरी छाती से खेलने लगी।वो लपालप मेरी छाती को चूमने लगी। मैं– आह आह ओह मैडम आह ओह,आप बहुत ज्यादा सेक्सी हो।आह ओह।
तभी मैंने मैडम की पीठ को सहलाते हुए उन्हें मेरी छाती से चिपका लिया जिससे मेडम के मस्त नरम मुलायम बूब्स मेरी छाती से चिपक गए। अब मेडम फूल सेक्सी होकर मेरे होंठो को खाने लगी। मैं भी मैडम के होंठो को चूसने लगा।थोड़ी देर में हम दोनों पसीने पसीने हो गए। मैडम की साड़ी का लंबा सा पल्लू बेंचो के बीच में बनी गेलेरी में फैला हुआ था।

मैडम के जिस्म पर आज चुदाई का भयंकर नशा चढ़ा हुआ था।तभी मैंने पीछे से मैडम के ब्लाऊज की डोरी को खोल दिया। अब मैंने मैडम के ब्लाऊज को कंधे नीचे  सरका कर मैडम की बाजुओं में ला दिया।तभी मेडम ने ब्लाउज खोल दिया। अब मैंने मैडम के होंठो को छोड़ा और एक हाथ से मैडम की कमर को पकड़ कर उनकी लाल ब्रा के ऊपर से ही मैडम के लहलहाते हुए बूब्स को चूसने लगा। मैं चुदाई के नशे में धूत होकर एक हाथ से  मैडम के बूब्स को दबाता हुआ बूब्स को चूस रहा था। अब मेडम मेरे बालो में हाथ डालकर मुझे प्यार करने लगी।
मेडम– ओह आह ओह रोहित, आह ऐसे ही किस करता रह।आह ओह आह ओह आह आह।
मैं– ओह आह मैडम आह आप मख्खन की तरह हो।आह ओह बहुत अच्छा लग रहा है।आह आह ओह।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  चुदाई की सजा का मज़ा-1

मैडम  मेरी पीठ को सहला रही थी।तभी मैंने मैडम को खींचकर पलट लिया जिससे मेडम की पीठ और गांड़ ठीक मेरे लन्ड के सामने आ गई। अब मैंने पीछे से मैडम की ब्रा को भी खोल फेंका जिससे मैडम के बड़े बड़े बूब्स पूरे नंगे होकर मेरे हाथो में आ गए। अब मैं मैडम की गर्दन और कंधों को चूमता हुआ मैडम के नरम नरम बूब्स को ज़ोर ज़ोर से दबाने लगा। मुझे मैडम के नंगे बूब्स को दबाने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था। इधर मेरा लन्ड मैडम की गांड की दरार में घुसने के लिए लगातार वार कर रहा था।मेंने मैडम को बुरी तरह से भींच लिया था।मैडम हाथो को पीछे लाकर मेरे बालो को पकड़ने की कोशिश कर रही थी।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

मैडम– आऊ आह ओह ओह ओह आह ओह रोहित, आह आह ओह।
मैं– आह ओह आह ओह मैडम आज तो मैं आपके बूब्स को।
मैडम ज़ोर ज़ोर से सांसे भरते हुए मेरे हाथो और लंड का प्रहार सहन कर रही थी।अब तक मैडम बहुत ज्यादा गर्म हो चुकी थी।
तभी मैंने मैडम को वापस पलट कर सीधा कर लिया और मेडम के मस्त बूब्स को चूसने लगा।मैडम मेरे सिर को फिर से उनके बूब्स पर दबाने लगी। मैं बिना रुके मैडम के बूब्स को चूसे जा रहा था।मेरा लन्ड सीधा खड़ा होकर मेरी पैंट में तम्बू बना रहा था।
मैडम– आह आह ओह आह ओह रोहित, बस चूसता रहे, तूने तो आज मुझे जन्नत की सैर करा दी।आह आह ओह रोहित।
मैं लगातार मैडम के बूब्स को चूसे जा रहा था। अब तक मैंने मेडम के बूब्स को चूस चूस कर निचोड़ डाला था। मैडम बहुत ज़ोर ज़ोर से सिसकारियां भर रही थी।
तभी मैंने मैडम को फिर से पलट दिया।मैडम ब्लैकबोर्ड को पकड़कर खड़ी हो गई। अब मैं मैडम की नंगी मखमली पीठ को रस लेे लेकर चूमने लगा। मेडम की पीठ पर ब्लैकबोर्ड पर लिखा हुआ सब कुछ छप चुका था। मैं मैडम को ऐसे ही किस करने लगा फिर मैंने थोड़ी सी देर में ही मैडम की पूरी पीठ को किस करके थूक से गीला कर छपा हुआ मिटा  दिया।
अब मैं मैडम की गर्दन के पीछे किस करता हुआ मैडम के मखमल जैसे पेट को रगड़ने लगा। जिससे मैडम के हॉट सेक्सी जिस्म में अलग सा करंट दौड़ने लगा।पेट को मसलते ही मैडम सिहर उठी।मेरी इस हरकत से धीरे धीरे मैडम पागल सी होने लगी।उनकी पूरी हॉट सेक्सी बॉडी कांपने लगी।

अब मैंने मैडम के पेटीकोट में से साड़ी निकाल दी और पेटीकोट का नाड़ा खींच कर पेटीकोट को नीचे गिरा दिया। अब मेडम के सेक्सी हॉट फिगर पर एकमात्र पैंटी ही बाकी बची थी।तभी मैंने मैडम की पेंटी में हाथ घुसा दिया और मेडम की चूत को ज़ोर ज़ोर से मसलने लगा।मैडम एकदम से सिहर उठी।उनकी सिसकारी निकल पड़ी।वो मेरे हाथ को पकड़ने लगी लेकिन मै मैडम की चूत को मसलता रहा।मैडम ज़ोर ज़ोर से आह आह ओह आह करती हुई पागल होने लगी। अब मैंने मैडम की चूत में आग लगा दी थी।

मैं– आह आह ओह आह आह मैडम ओह आपकी चूत तो बहुत ज्यादा गर्म हो रही है।आह आह।
मैडम– रोहित, बस कर अब ज्यादा मत कुरेद।नहीं तो मैं मर जाऊंगी।
मैं– ओह मैडम क्या मस्त चूत है आपकी आह आह ओह मज़ा आ गया आज तो।
तभी मैंने मैडम की चूत में एक साथ तीन चार उंगलियां घुसा डाली।मैडम ज़ोर ज़ोर से चिल्लाने लगी।
मैडम– ओह आह आईईईई आईईईई रोहित मत कर प्लीज।
आज मै रुकने का नाम नहीं ले रहा था। मैं धड़ाधड़ मैडम की चूत में उंगलियां पेल रहा था।
मैडम– रोहित बस कर अब।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Teacher Ki Sexy Wife Ke Sath Porn Scene

मैं नहीं माना और मैडम की चूत को तेज गति से पिघलाने लगा।तभी मेडम का सेक्सी फिगर कांप उठा और उनकी चूत ने भट्टी में से गरमा गर्म लावा बाहर उड़ेल दिया। मैडम का पूरा लावा मेरे हाथ में आ गया।तभी मैंने मैडम के पूरे लावे को वहीं पैंटी में ही रगड़ दिया।मैडम की पूरी पैंटी उनके गरमा गर्म लावे से भर गई। मैडम पानी पानी होकर बोर्ड को पकड़कर चिपक गई।
अब मैंने तुरंत मेरी बेल्ट खोलकर पेंट खोल फेंकी। अब मेरा लन्ड मेरी वी शेप की अंडरवेयर में तम्बू बनाने लगा।तभी मैंने मैडम के बूब्स को पकड़कर कर उनकी नंगी पीठ को चूमना चालू कर दिया। अब मेरा लन्ड मैडम की गांड के छेद में दबाव बनाने लगा। अब मैं नीचे बैठ गया और मेडम की पैंटी को उतार दिया। अब मेडम ने पैंटी को टांगो में से बाहर निकाल दिया।
वाह क्या मस्त गांड़ थी मैडम की। कसम से मज़ा आ गया था यारो।मैडम के दोनो चूतड़ बहुत ज्यादा फुले हुए थे।उनके चूतड़ों की शानदार कसावट और गोलाईया मुझे पागल करने लगी।तभी मै मैडम की जांघो को पकड़कर कर मैडम के कसे हुए चूतड़ों को चूमने लगा।मुझे मैडम के चूतड़ों को किस करने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था।मैडम की सेक्सी फिगर में सिहरन फूटने लगी।
मैडम– ओह रोहित,पागल कर दिया आज तो तूने,ऐसा क्या खाकर आया है।
मैडम आह आज उह ओह आह करती हुई पागल हुई जा रही थी।
मैडम– ओह रोहित अब सब्र नहीं हो रहा है।प्लीज अब तो डाल दे ना।
मैडम वासना के सागर में डूबकर अजब गजब बड़बड़ाती जा रही थी। तभी मै मैडम के चूतड़ों को मारकर चूतड़ों को बजाने लगा।
मैडम– ओह रोहित,ऐसा मत कर ना।

मैं– ओह मैडम आपकी गांड ही इतनी मस्त है।आह ओह कसम से मै तो पागल हो गया हूं।
अब मैं मैडम के चूतड़ों को किस करता हुआ काटने लगा।मैडम ब्लैकबोर्ड को पकड़कर ज़ोर ज़ोर से सिसकारियां भरती जा रही थी। मैं चूमते,चाटते,मसलता हुआ मैडम की मोटी मजबूत गांड़ का पूरा मज़ा ले रहा था। तभी मैंने मैडम की मोटी गांड़ के सुराख में उंगली डाल दी।मैडम चिहुंक उठी।
मैडम– रोहित,प्लीज उसमे मत डाल ना।
मैं– ओह मैडम आज तो मैं इस छेद में लंड पेलकर ही रहूंगा।
मैडम– ओह रोहित आज तू पता नहीं क्या क्या कर डालेगा।
अब मैं मैडम की मोटी गांड़ के सुराख में उंगली करने लगा।मैडम ज़ोर ज़ोर से बहकने लगी।फिर मैंने बहुत देर तक मैडम की गांड के छेद को ढीला कर डाला।
कहानी जारी है आपको मेरी कहानी कैसी लगी मुझे मेल करके जरूर बताएं– [email protected]

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!