मामी के साथ बस का मस्ती भरा सफर-5

(Mami Ke Sath Masti Bhara Safar-5)

मैंने देखा कि मामी का मुंह उतर गया. मैंने उनको पकड़ कर अपनी ओर खींच लिया. उनके चूतड़ों को दबाते हुए उनकी चूत को अपनी ओर कर लिया और अपना मुंह मामी की चूत में लगा दिया.
मैं जोर से मामी की चूत को चूसने लगा.

जैसे ही मैंने मामी की चूत में जीभ से चूसना शुरू किया तो मामी के मुंह से सिसकारियां निकलने लगीं. वो आह्ह आह्ह की आवाज के साथ अपनी चूत को चुसवाने लगी. मैं भी जोर से मामी की चूत को चूसने लगा.

मैंने काफी देर तक मामी को चूत को चूसने का मजा दिया. फिर मैं नीचे फर्श पर लेट गया. मामी को मैंने लंड पर बैठने के लिए कहा. मामी बैठने लगी. उनकी चूत में भी चुदाई की खुजली हो रही थी.

मामी ने मेरे लंड पर बैठते हुए मेरे लंड को अपनी चूत में ले लिया. उनकी चूत में जैसे ही लंड गया तो मामी के मुंह से एकदम से सिसकारी निकल गयी. मैंने नीचे से मामी की चूत में धक्के देना शुरू किया तो मामी से बर्दाश्त नहीं हुआ.

वो तभी वापस से उठ गयी.
मैंने कहा- क्या हुआ?
वो बोली- बीती रात में ही तो तुमने मेरी चूत को चोदा है. मेरी चूत में जलन हो रही है. मुझसे अब लंड न लिया जायेगा. बहुत दुख रही है.

मामी बोली- ऐसा कर कि तू मुंह से ही कर दे.
मैंने दोबारा से मामी की चूत में मुंह लगा दिया और उसकी चूत में जीभ से ही चोदने लगा. मामी ने अपनी टांगों को चौड़ी कर लिया. उसको मजा आने लगा.
वो मस्त होने लगी. थोड़ी ही देर के बाद उनकी चूत ने मेरे मुंह में पानी छोड़ दिया.
मैंने मामी की चूत का सारा पानी चाट लिया. पहली बार मुझे चूत के कामरस का स्वाद इतना पसंद आया था.

उसके बाद मामी ने मुझे नहलाया. मेरे बदन को पोंछ दिया. उसके बाद हम दोनों बाथरूम से बाहर आ गये. मेरा लंड अभी तना हुआ था.

बाहर आने के बाद मैंने मामी की गांड देखी. मेरा मन मामी की चुदाई करने के लिए करने लगा. मुझसे कंट्रोल नहीं हुआ और मैंने मामी को बेड पर गिरा लिया. उनके ऊपर चढ़ गया.

उसके बाद मैंने उसकी चूत में हाथ से सहलाना शुरू कर दिया. मामी भी मदहोश होने लगी. मैं मामी के बूब्स को सहलाने लगा. उसकी चूचियां एकदम से कड़क हो गयी थीं. मैंने उनको दबा दिया और फिर पीने लगा मामी फिर से चुदासी हो गयी थी.

कुछ देर तक मैं मामी के बूब्स के साथ खेलता रहा और उसकी चूचियों को सहलाता रहा. हम दोनों के जिस्म गर्म हो चुके थे. फिर मैंने मामी के पैरों को मोड़ दिया. दोनों तरफ उसके पैरों को फैला दिया.

मामी की चूत पर मैंने अपना लंड लगा दिया और मैंने एक ही झटके में मामी की चूत में अपना लंड पेल दिया. मामी एकदम से तड़प उठी.

लंड अंदर जाते ही मामी तड़पने लगी. उसके मुंह से दर्द भरी आवाजें आने लगी. मैंने उनके स्तनों को दबाना शुरू कर दिया. मुझे सेक्स चढ़ गया था. लंड को मामी की चूत से बाहर निकालने का मन ही नहीं किया.

मैंने उनके स्तनों को दबाना जारी रखा. दस मिनट के बाद मैंने उसकी चूत में धीरे धीरे लंड को चलाना शुरू किया. मैंने मामी की चूत चोदनी शुरू कर दी. मामी अब मेरे लंड को बर्दाश्त कर पा रही थी. वो चुदाई का मजा लेने लगी.

तेजी के साथ मैं उसकी चूत में लंड को पेलने लगा. फिर मैंने अपनी रफ्तार बढ़ा दी और मामी की चूत में वीर्य छोड़ दिया. वीर्य निकलने के बाद मैं मामी के ऊपर ही ढेर हो गया. मैंने सारा माल मामी की चूत में भर दिया. फिर मैं उनके ऊपर ऐसे ही सो गया.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

घंटे भर के बाद मेरी आंख खुली. मैं मामी के ऊपर ही पड़ा हुआ था. मैंने देखा कि मेरा लंड अभी भी मामी की चूत में ही था. वो भी गहरी नींद में सो रही थी. फिर मैंने धीरे से लंड को बाहर कर लिया.

उसके बाद मैं बाथरूम में गया. अपने लंड को साफ करके वापस आ गया. मैंने देखा कि मामी बेड पर नंगी पड़ी हुई थी. सोते हुए उसकी चूचियां बहुत ही मस्त लग रही थीं. उसकी चूत भी नंगी थी

मैंने अपना फोन निकाला और चाची की नंगी फोटो ले ली.

वैसे तो मुझे डर भी लग रहा था लेकिन मैंने सोचा कि अगर मामी ने भोपाल जाने के बाद मुझे अपने साथ सोने नहीं दिया तो मामी की नंगी फोटो मेरे काम आ जायेंगी. नंगी पिक्स लेने के बाद मैं भी चाची के बगल में ही लेट गया और मुझे नींद लग गयी.

दो घंटे के बाद फिर मामी की नींद खुली. मामी ने पाया कि मैं उनकी बगल में ही सोया हुआ हूं. उनकी आवाज से मेरी नींद भी जैसे टूट सी गयी.

जब मैंने आंखें खोलीं तो मामी मेरे बालों में हाथ फिरा रही थी. मैं भी उठ कर बैठ गया. फिर मैं अपने काम में लग गया. हमें शादी में जाने की तैयारी करनी थी. मैं फिर तैयार हो गया और मामी भी रेडी हो गयी. फिर शादी के लिए मैं और चाची निकल चले.

दोस्तो, चाची के साथ चुदाई की शुरूआत हो गयी थी.
अगर कहानी आपको पसंद आ रही हो तो मैं आपके लिए आगे की कहानी भी लिखूंगा. इसके लिए अपनी राय मुझे जरूर भेजें.

मुझसे संपर्क करने के लिए नीचे दिए गए पाते पर मेल करे

[email protected]